News That Matters

खराब खानपान से यूरेटर में पथरी

इन दिनों किडनी स्टोन की बजाय यूरेटर में पथरी के मामले ज्यादा सामने आ रहे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि खानपान की गलत आदतों के कारण किडनी स्टोन के प्रारूप में परिवर्तन आने से इस तरह की समस्याएं बढ़ रही हैं ।

कोल काता के वेलव्यू अस्पताल में यूरो लॉजी विभाग के प्रमुख व इंडियन मेडिकल एसो सिएशन की कोलकाता शाखा के सचिव डॉ. अमित अग्रवाल के अनुसार इन दिनों ऐसा स्टोन देखने में आ रहा है जो बनता तो किडनी में है लेकिन फिर यूरेटर में चला जाता है । इससे मरीज को तेज दर्द के साथ उल्टी की समस्या हो जाती है ।

खानपान है जिम्मे दार

कार्बोने टेड ड्रिंक, जंकफूड, वसा और अल्को हल की अधिक मात्रा इसकी मुख्य वजह हैं । इन चीजों में पाया जाने वाला यूरिक एसिड शरीर में स्टोन का निर्माण करता है । यूरेट्रिक स्टोन सामान्य किडनी स्टोन से आकार में 5-8 एमएम या उससे भी छोटे होते हैं और तेज व असह नीय दर्द का कारण बनते हैं जिसे ‘यूरेट्रिक पेन’ या ‘यूरेट्रिक कॉलिक’ भी कहते हैं । एक साथ कई स्टोन भी बन सकते हैं ।

किडनी स्टोन के मामले पहले के समय में अधिक थे जो नमक इकट् ठा होने की वज ह से होते थे । ज्यादा तर ऐसा गर्मियों में होता था क्योंकि पे शाब कम आनेे पर मौजूद नमक जम जाता था ।

इलाज: यूरे ट्रिक स्टोन का इलाज दो चरणों में होता है । पहले दर्द की रोकथाम करते हैं फिर दर्द में राहत मिलने पर यूरिन टैस्ट, अल्ट्रासोनो ग्राफी व सीटी स्कैन किया जाता है । इससे स्टोन की लोकेशन का पता चलता है जिसे लेजर बीम या होलमियम लेजर से नष्ट करते हैं ।

साव धानी: रोजाना कम से कम पांच लीटर पानी पिएं व पालक, नट्स, डेयरी प्रोडक्ट आदि से परहेज करें ।

Patrika : India’s Leading Hindi News Portal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *