News That Matters

राजस्थान सरकार के इस एमओयू से किसानों को होगा फायदा और बढ़ेंगे रोजगार के अवसर 

जयपुर। राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार ने एक पहल की है। जिसके तहत राज्य के एक हजार से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के अवसर तो प्राप्त होंगे ही इसके साथ ही किसानों की आय भी दोगुनी हो जाएगी।

11 जुलाई: एक क्लिक में पढ़ें 5 बड़ी खबरें

इस पहल के तहत राज्य सरकार ने किनोवा प्रसंस्करण लगाने के लिए एक एमओयू किया गया है। ये एमओयू राजस्थान के कृषि विभाग और ऑर्गनिक वन टू वन कंपनी के बीच किया गया है।

राजस्थान के कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी की मौजूदगी में हुए इस एमओयू के तहत ऑर्गनिक वन टू वन कंपनी द्वारा उदयपुर और टोंक में प्रसंसकरण इकाइयां स्थापित की जाएगी।

राजस्थान विधानसभा चुनावों में फिर खिलेगा 'कमल': ओम माथुर

इन इकाइयों की स्थापना के लिए कंपनी की ओर से करीब 20 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा। इससे से प्रदेश के लगभग 270 लोगों को प्रत्यक्ष और 1000 लोगों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार प्राप्त हो सकेगा।
इस एमओयू पर कृषि विभाग की ओर से अतिरिक्त मुख्य सचिव नीलकमल दरबारी और ऑर्गनिक वन टू वन कंपनी के राज्य प्रभारी राकेश सैनी द्वारा हस्ताक्षर किए गए।

अब राजस्थान का श्रीगंगानगर भी जुड़ा हवाई सेवा से

इस मौके पर राज्य के कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि कृषि क्षेत्र में नवाचार अपनाकर ही किसानों की आमदनी को दो गुणा किया जा सकता है। यह एमओयू किसानों की आमदनी बढ़ाने में कारगर साबित होगा। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि ऑर्गनिक वन टू वन कंपनी राज्य में उत्पादित होने वाले किनोवा का किसानों से बायबैक करेगी।

उन्होंने बताया कि अभी राजस्थान में कोई प्रसंस्करण इकाई नहीं होने से किनोवा को बेचने के लिए किसानों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ रहा था। अब राजस्थान में इन इकाइयों के लगने के बाद, किसानों को किनोवा के अच्छे दाम मिल सकेंगे।

लोगों को योजनाओं का मिले फायदा, सरकार इसके लिए प्रयासरतः राजे

उन्होंने आगे इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि यह परियोजना एक साल में पूरी हो जाएगी और आगामी तीन महीनों में ऑर्गनिक वन टू वन कंपनी द्वारा लघु प्रसंस्करण इकाई स्थापित कर दी जाएगी।

Rajasthan-news – rajasthankhabre.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *