News That Matters

अब अलग ही रूप में नजर आएगा जयपुर का डॉल्स म्यूजियम

जयपुर। राजस्थान की राजधानी जयपुर में सेठ आनन्दीलाल पोद्दार मूक-बधिर संस्थान में विश्वविख्यात सविता-रणजीत सिंह भण्डारी डॉल्स म्यूजियम अब अलग रूस में दिखाई देगा।

गुलाबी नगर जयपुर में बने इस डॉल्स म्यूजियम में अब गुडियाएं नए सजे-संवरे रूप में देखने को मिलेगी, जो लोगों के लिए विशेष आकर्षण का केन्द्र होगी। ये डॉल्स इस म्यूजियम में मूक होकर भी अपनी भाव-भंगिमाओं से देशी-विदेशी संस्कृति, वेषभूषा, रहन-सहन आदि की झलक दिखाती नजर आने वाली है।

वसुंधरा सरकार की गलत नीतियों और बढ़ते अपराध से प्रदेश में घटा निवेशः पायलट

केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु शनिवार को जयपुर में सेठ आनन्दीलाल पोद्दार मूक-बधिर संस्थान में स्थित इस डॉल्स म्यूजियम का लोकार्पण करेंगे। लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता राज्य की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे करेंगी।

इस म्यूजियम में अभी विश्व के कई देशों तथा भारत के विभिन्न प्रान्तों से यहां लाई गई देश-विदेश की लगभग तीन सौ गुडियाएं हैं। अब यहां पर नए कक्ष बनाने के साथ ही अब लगभग चार सौ नई डॉल्स को और जगह दी गई है।

राजस्थान सरकार के इस एमओयू से किसानों को होगा फायदा और बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

भण्डारी मेमोरियल फाउण्डेशन के प्रबंध न्यासी एसएस भण्डारी एफसीए ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि सेठ आनंदीलाल मूक-बधिर संस्थान में साल 1980 में सेकसरिया डॉल्स म्यूजियम बनाया गया था। भगवानी बाई चेरिटेबल ट्रस्ट ने इसका निर्माण करवाया था। उन्होंने बताया कि ये डॉल्स मूक-बधिर बच्चों का एक स्वरूप है।

क्या आमेर किले में बंद होगी हाथी सवारी?

उन्होंने आगे जानकारी देते हुए कहा कि डॉल्स म्यूजियम का क्षेत्रफल अब नए कक्ष बनाने के बाद बढ़ गया है। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु द्वारा शनिवार को इस डॉल्स म्यूजियम के लोकार्पण किए जाने के समय फाउण्डेशन के संरक्षक पद्मश्री डॉ. एसआर मेहता, पद्मभूषण डीआर मेहता, पद्मश्री डॉ. गोवर्धन मेहता के अलावा फाउण्डेशन के कई गणमान्य लोग उपलस्थित रहेंगे।

राजस्थान विधानसभा चुनावों में फिर खिलेगा 'कमल': ओम माथुर

Rajasthan-news – rajasthankhabre.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *