News That Matters

Health

सावधान! भारत में तेजी से बढ़ रहा स्ट्रोक का खतरा

सावधान! भारत में तेजी से बढ़ रहा स्ट्रोक का खतरा

Health
भारत में हर साल एक अनुमान के मुताबिक 18 लाख से ज्यादा स्ट्रोक के मामले सामने आते हैं। इनमें से लगभग 15 प्रतिशत मामले 30 और 40 वर्ष से ऊपर के लोगों को प्रभावित करते हैं। स्ट्रोक या सेरेब्रो... Live Hindustan Rss feed
बेहद घातक साबित हो सकता है कुर्सी से चिपककर काम करना

बेहद घातक साबित हो सकता है कुर्सी से चिपककर काम करना

Health
लंबे समय तक एक जगह बैठे रहने से डायबिटीज का खतरा बढ़ता है। आप भोजन, रीडिंग, ड्राइविंग, फोन पर बात करते वक्त, कंप्यूटर व मोबाइल पर काम करते हुए या फिर टीवी देखते हुए, हर समय बैठे रहते हैं। ये सब चीजें... Live Hindustan Rss feed
रोज 4 कप कॉफी आपके दिल का यूं रखेगी ख्याल

रोज 4 कप कॉफी आपके दिल का यूं रखेगी ख्याल

Health
अगर आप रोज एक कप कॉफी पीते हैं तो आपके लिए एक अच्छी खबर है। एक स्टडी के मुताबिक अगर आप रोज चार कप कॉफी पीते हैं तो ये आपके दिल के लिए बहुत फायदेमंद है। साथ ही इससे टाइप 2 डायबिटीज होने का ख़तरा भी कम... Live Hindustan Rss feed
कृत्रिम अंगों में भी दर्द का अहसास कराएगी ई-त्वचा

कृत्रिम अंगों में भी दर्द का अहसास कराएगी ई-त्वचा

Health
वैज्ञानिकों ने इलेक्ट्रॉनिक तकनीक से ऐसी त्वचा विकसित की है जिसे कृत्रिम या रोबोटिक अंगों पर लगाने से इसमें हर तरह की संवेदना महसूस की जा सकेगी। तंत्रिका तंत्र की नकल करने के लिए सेंसर के साथ कपड़े... Live Hindustan Rss feed
पानी-पोषक तत्त्वों की कमी पूरी कर एनर्जी देती हैं देसी ड्रिंक्स

पानी-पोषक तत्त्वों की कमी पूरी कर एनर्जी देती हैं देसी ड्रिंक्स

Health
तापमान बढ़ता जा रहा है। तेज धूप और उमस के कारण शरीर में पानी की कमी हो रही है। पानी की कमी न सिर्फ ऊर्जा में कमी लाती है बल्कि शरीर के जरूरी अंगों की कार्यक्षमता को भी प्रभावित करती है। विशेषज्ञों के अनुसार गर्मी में मौसम में सिर्फ पानी की कमी को पूरा करना ही काफी नहीं है। पसीने के कारण शरीर में मिनिरल्स की कमी को पूरा करना भी जरूरी है। साथ ही डाइट में ऐसी चीजों को शामिल करें जो शरीर को ठंडक पहुंचाएं ताकि गर्मी का मुकाबला कर सकें। जानते हैं कुछ ऐसी ही देसी ड्रिंक्स के बारे में- नमकीन सत्तूसामग्री : चने का सत्तू आधा कप, पुदीने के पत्ते 10, नींबू का रस 2 छोटे चम्मच, हरी मिर्च आधी, भुना जीरा आधा छोटा चम्मच, काला नमक आधा छोटा चम्मच, सादा नमक एक-चौथाई छोटा चम्मचबनाने का तरीका: पुदीना के पत्ते धोएं। 2 पत्ते साबुत छोड़ कर, सारे पत्ते बारीक काट लें। हरी मिर्च को बारीक काट लें। सत्तू में थोड़ा-सा ठ
जिम जाने से पहले इन बातों का ध्यान रखना जरूरी

जिम जाने से पहले इन बातों का ध्यान रखना जरूरी

Health
इन दिनों ज्यादातर युवा सिक्स पैक एब्स बनाना चाहते हैं। ऐसे में बच्चे भी पीछे नहीं है। कम उम्र के बावजूद उनमें भी अपने फेवरेट एक्टर्स के जैसा बनने की चाहत उनके शरीर के लिए हानिकारक साबित हो रही है। ऐसे में जानना जरूरी है जिम जाने की सही उम्र क्या है और कौन से वर्कआउट रूटीन में शामिल होने चाहिए। इसके अलावा यह जानना भी अहम है कि जिम जाने के फायदे क्या-क्या हैं। जानते हैं इसके बारे में... किस उम्र में कितना वर्कआउटबच्चों को भी बड़ों की तरह वर्कआउट करना जरूरी है। लेकिन इनका स्तर अलग होता है। बच्चों को रोजाना 30—४० मिनट वर्कआउट करने की सलाह दी जाती है। 2 से 3 साल के बच्चों को रनिंग, जंपिंग और उछल-कूद जैसे खेल खिलाएं। ध्यान रहे रनिंग और उछल-कूद तनाव भरा न हो। इसके अलावा बच्चों को स्विमिंग भी करा सकते हैं। इसके साथ ही साथ बच्चों को पूरे शरीर के बारे में भी बताएं। 2 से 3 साल के बच्चों को स्ट्
आप ये आदतें अपनाएंगे तो बने रहेंगे हैल्दी और हैप्पी

आप ये आदतें अपनाएंगे तो बने रहेंगे हैल्दी और हैप्पी

Health
अगर आप हैल्दी और हैप्पी रहना चाहते हैं तो डेली वर्कआउट व संयमित खानपान के साथ-साथ कुछ और आदतें अपने रूटीन में जोड़ लें- दिमाग को रखें हैप्पीशोध बताते हैं कि हमारा दिमाग उस वक्त सबसे ज्यादा एक्टिव रहता है जब हम खुश रहते हैं। हम अपने काम और वर्तमान में आनंद ढूंढऩे की आदत डाल लें तो खुश रह सकते हैं। अपनी पुस्तक ‘द हैप्पीनेस एडवांटेज’ में पॉजिटिव साइकोलॉजी के शोधकर्ता शॉन एकर ने लिखा है कि खुशी अक्सर सफलता का भी सबब बनती है। खुशी और आशा आपके परफॉरमेंस को इम्प्रूव करते हैं और जाहिर है इससे आपको हरदम कुछ नया अचीव करने में सफलता मिलती है, नतीजतन फिर से खुशी आपकी झोली में आ जाती है। साल में एक बार हैल्थ चेकअप कराएंयूं तो हर आयुवर्ग के लोगों को शुरू से ही सेहत के प्रति सचेत रहना चाहिए मगर 35 प्लस की उम्र में आते ही अतिरिक्त सावधानी की जरूरत है। बेहतर होगा कि हर साल आप हीमोग्लोबिन, कोलेस
अमेरिका में आज से आयुर्वेद की धूम

अमेरिका में आज से आयुर्वेद की धूम

Health
नई दिल्ली। अमेरिका में योग के बाद अब आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा के प्रति भी दिलचस्पी बढ़ रही है। कैलिफोर्निया में 22 जून से शुरू हो रहे इंडो-यूएस वेलनेस कांक्लेव में बड़ी संख्या में भारतीय संस्थान, कंपनियां एवं विशेषज्ञ हिस्सा लेने जा रहे हैं। यहां ये आयुर्वेद, हर्बल, प्राकृतिक चिकित्सा से जुड़े अपने उत्पादों को प्रदर्शित करेंगे। यह आयोजन अमेरिकी एजेंसियों की तरफ से किया गया है और केंद्रीय आयुष मंत्रालय भी इसमें साझेदार है। इसी तरह भारत की केरल आयुर्वेद, डाबर तथा एमिल फार्मास्युटिकल जैसी नामी कंपनियां भी इसमें हिस्सा ले रही हैं। यह कार्यक्रम 22 से 24 जून को कैलिफोर्निया के सेंट क्लारा कन्वेंसन सेंटर में होगा। अमेरिका के वेलनेस व्यवसाय से जुड़ी कंपनियां भी इसमें हिस्सा लेंगी। आम तौर पर मधुमेह की दवाएं अमेरिका या अन्य विकसित देशों में खोजी जाती हैं और फिर भारत में बिकती हैं। लेकिन यह पहल
सावधान! लौकी का जूस पीने से पुणे में महिला की मौत

सावधान! लौकी का जूस पीने से पुणे में महिला की मौत

Health
पुणे में लौकी का जूस पीने से 41 साल की स्वस्थ महिला की मौत होने की सनसनीखेज खबर सामने आई। महिला कोई बीमारी नहीं और न किसी बीमारी पहले से इलाज चल रहा था। लौकी का जूस पीने से महिला की मौत के बाद लोग... Live Hindustan Rss feed