News That Matters

Tag: अध्यात्म

दीर्घायु होते हैं अध्यात्म में आस्था रखने वाले

दीर्घायु होते हैं अध्यात्म में आस्था रखने वाले

Health
शास्त्रों में कहा गया है, जो लोग नियमित पूजा-पाठ करते हैं वे दीर्घायु होते हैं। यह बात अब वैज्ञानिक रूप से भी सिद्ध हो चुकी है। हैल्थ जर्नल जेएएमए इंटरनल मेडिसिन, अमरीका के मुताबिक जो महिलाएं नियमित धार्मिक स्थानों पर जाती हैं उनकी आयु अन्य की तुलना में अधिक होती है। तर्क : आशावादी होती हैं महिलाएं अध्यात्म से जुड़ी महिलाएं आशावादी होती हैं। इन पर अवसाद या तनाव का असर कम पड़ता है। धूम्रपान और शराब से दूर रहने के कारण इन्हें कार्डियोवस्कुलर डिजीज व कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा २७ फीसदी तक घट जाता है। यह शोध १६ साल तक ७५ हजार महिलाओं (मध्यम व अधिक उम्र की) पर हुआ है। परिणाम : खुश रहने से दूर होते रोग शोध के मुताबिक, धार्मिक जगहों पर जाने से इनकी सहभागिता बढ़ती है। ऐसी में वे ज्यादा खुश रहती हैं। इस कारण बीमारियां होने का खतरा काफी कम हो जाता है। मंत्रोच्चारण से बढ़ती एकाग्रता वातावरण का सीधा
अध्यात्म पर आधारित शासन का पालन करेंगे रजनीकांत

अध्यात्म पर आधारित शासन का पालन करेंगे रजनीकांत

Rajasthan
चेन्नई। सुपरस्टार रजीनकांत ने अन्नाद्रमुक संस्थापक एम जी रामाचंद्रन की विरासत को याद करते हुए कहा कि उन्हें विश्वास है कि वह बीते जमाने के अभिनेता एमजीआर की तरह ही अच्छा शासन देंगे। उन्होंने सत्तारूढ़ पार्टी की उस आलोचना का हवाला दिया जिसमें पार्टी ने कहा था कि कोई भी पूर्व मुख्यमंत्री की राजनीति में सफलता की बराबरी नहीं कर सकता। रजनीकांत ने कहा, मैं या कोई अन्य व्यक्ति एमजीआर जैसा1,000 वर्षों में भी नहीं हो सकता है। रामाचंद्रन, एमजीआर के नाम से लोकप्रिय हैं और उन्हें तमिलनाडु की राजनीति में खास तौर पर एक अभिनेता के लिए सफलता का मानदंड माना जाता है। सिनेमा से जुड़े अन्य कलाकार भी उन जैसा बनने की कोशिश करते रहते हैं। 67 वर्षीय अभिनेता रजनीकांत ने कहा कि वह शासन चलाने के लिए विशेषज्ञों और प्रौद्योगिकी के जानकारों से सहायता लेने के साथ ही तकनीक का भी सहारा लेंगे उन्होंने कहा कि वह अध