News That Matters

Tag: असर

आंखों पर भी असर डालता है मानसून, बारिश में ऐसे रखें इनका खास ख्याल

आंखों पर भी असर डालता है मानसून, बारिश में ऐसे रखें इनका खास ख्याल

Health
मानसून में बारिश बच्चों व युवाओं के चेहरे पर खुशी ही नहीं, वायरल और बैक्टीरियल संक्रमण की आशंकाएं भी साथ लाती है। इस तरह मानसून हमारे शरीर के सबसे संवेदनशील हिस्से 'आंखों' में कुछ हानिकारक... Live Hindustan Rss feed

RBI ने बढ़ाया रेपो रेट, सिर्फ 5 प्वाइंट में पढ़ें आप पर इसका क्या असर पड़ेगा…

India
चलिए कुछ प्वाइंट में समझते हैं रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में बढ़ोतरी का आप पर क्या असर पड़ेगा। Jagran Hindi News - news:national

हो रहा है ‘स्त्री’ का असर, पोस्टर और ट्रेलर की सौगात

Entertainment
हॉरर कॉमेडी फिल्म स्त्री' का पहला पोस्टर सामने आया है जिसमें राजकुमार और श्रद्धा कपूर नज़र आ रहे हैं। मेकर्स फिल्म का ट्रेलर रिलीज़ कर दर्शकों को दूसरा तोहफा देने के लिए भी तैयार हैं। मनोरंजन
मुल्तानी मिट्टी से कम होता गर्मी का असर

मुल्तानी मिट्टी से कम होता गर्मी का असर

Health
नीम की पत्तियों का पाउडर, नींबू का रस, दही, मेथी पाउडर, गुलाबजल, हल्दी व शहद के साथ या अकेले भी मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग करते है। जानें इसके फायदे- दूर होंगी घमौरियां अत्यधिक गर्मी के कारण शरीर का तापमान बढऩे से त्वचा पर छोटी-छोटी फुंसियां उभरने लगती हैं। थोड़े पानी या दूध में थोड़ी मुल्तानी मिट्टी के पाउडर को भिगोकर फुला लें। प्रभावित हिस्से पर सूखने तक पतले लेप के रूप में लगा लें। इससे घमौरियों में होने वाली जलन और खुजली नहीं होगी। ताजगी का अहसास धूप में निकलने से आधा घंटा पहले मुल्तानी मिट्टी का लेप चेहरे, हाथ, गर्दन और पैरों पर लगाकर धो लें। इससे गर्मी का असर कम होने के साथ तरोताजा महसूस करेंगी। तैलीय त्वचा कुछ लोगों को तैलीय त्वचा की समस्या होती है। ऐसे में धूप सामान्य से ज्यादा त्वचा पर असर करने लगती है। मुल्तानी मिट्टी त्वचा से अतिरिक्त तेल को सोखकर चमक बढ़ाने और ताजगी का काम करती
अब नहीं दिखेगा बुढ़ापे का असर, गायब होंगी झुर्रियां और बाल रहेंगे काले : शोधकर्ताओं का दावा

अब नहीं दिखेगा बुढ़ापे का असर, गायब होंगी झुर्रियां और बाल रहेंगे काले : शोधकर्ताओं का दावा

Health
आदमी अपनी जवानी बरकरार रखने के लिए सौ-सौ जतन करता है। मगर उम्र का असर हर हाल में नजर आने लगता है। लेकिन वैज्ञानिकों ने ऐसी एंटीबायोटिक दवा बनाने का दावा किया है, जिसकी मदद से उम्र का असर कम किया जा... Live Hindustan Rss feed
बच्चों पर तापमान का असर ऐसे करें बेअसर

बच्चों पर तापमान का असर ऐसे करें बेअसर

Health
गर्मी बड़ों को ही नहीं बच्चों को भी प्रभावित करती है। धूप में खेलने और मार्केट की तलीभुनी चीजें खाने से कई दिक्कतें होती हैं। जानते हैं बच्चों की कुछ सामान्य परेशानियों और उनसे बचाव के लिए क्या करें। पानी की कमी अक्सर बच्चे खेलते समय पानी पीना भूल जाते हैं। ऐसे में डिहाइडे्रशन के साथ थकावट की समस्या रहती है। ये करें: पैरेंट्स बच्चे को पानी की बोतल ले जाने के लिए कहें। यदि वे साथ हैं तो नारियल पानी, जूस या छाछ आदि पिलाते रहें। सनबर्न ज्यादा देर धूप में खेलने से कई बार बच्चों के शरीर पर लाल निशान हो जाते हैं जिनमें खुजली भी होती है। ये करें: पूरी बाजू के सूती कपड़े व सिर पर हैट पहनाकर ही बच्चे को खेलने भेजें। उनके शरीर पर सनस्क्रीन लोशन लगाएं। दस्त मार्केट में खुले में बिक रही चीजों को खाने से बच्चों में उल्टी और दस्त की समस्या ज्यादा होती है। ये करें: जितना हो सके बाहरी चीजों से बच्चों को द
कम वक्त में असर दिखाती है मुद्रा चिकित्सा

कम वक्त में असर दिखाती है मुद्रा चिकित्सा

Health
मुद्रा चिकित्सा क्या है? संतों के अनुसार स्वस्थ रहने के लिए हमारे शरीर में सभी जरूरी तत्त्वों के स्त्रोत हैं जिन्हें अंगुलियों के माध्यम से नियंत्रित किया जा सकता है। मुद्रा-चिकित्सा का आधार यही है जिसमें कुछ मुद्राएं 45 मिनट में शरीर के तत्त्वों को बदल देती हैं और कुछ मिनट में ही असर दिखाने लगती हैं। घर बैठकर भी लगभग 45 मिनट इसे रोजाना करने से पुराने रोगों में राहत मिलती है। कई मुद्राएं बना सकते हैं चारों अंगुलियों को बारी-बारी से अंगूठे के साथ मिलाने से चार व बारी-बारी से मोडऩे से जो कुल आठ मुद्राएं बनती हैं, उन्हें तत्त्व मुद्राएं कहते हैं। हमारे शरीर में पांच प्राण होते हैं जिनमें असंतुलन होने से कई रोग जन्म लेने लगते है। इन पांच प्राणों के आधार पर पांच प्राणिक मुद्राएं बनती हैं। कुछ मुद्राएं प्राणिक व तत्व मुद्राओं को मिलाकर बनती हैं। लगभग ८० प्रकार की मुद्राएं हैं जो दोनों हाथों में
बढ़ती उम्र के असर को ऐसे करें कम

बढ़ती उम्र के असर को ऐसे करें कम

Health
उम्र का असर सबसे पहले चेहरे पर दिखाई देता है । उम्र बढऩे के साथ शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं। ऐसे में त्वचा का कसाव घटने से वह ढीली पड़ जाती है । इसे सैगिंग कहते हैं । यह इस बात का संकेत है कि त्वचा की मांसपेशियां लचीलापन खो रही हैं । त्वचा की सही देखभाल से उम्र के दिखने वाले दुष्प्रभाव को कम किया जा सकता है । खूब पानी पीएं इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन के मुताबिक, महिलाओं को रोजाना 2-7 लीटर व पुरुषों को 3-7 लीटर पानी पीना चाहिए। इससे त्वचा को पोषण मिलने के साथ कसावट बनी रहेगी । तेज धूप से बचें लंबे समय तक सूर्य की किरणों के सीधे संपर्क में रहने से त्वचा की नमी घटने के साथ कसाव कम होता है। सूर्य की पराबैंगनी किरणों में अधिक वक्त रहने से त्वचा के कैंसर का खतरा बढ़ता है । धूप में निकलें तो सनग्लास व सनस्क्रीन लगाएं । हैल्दी फूड्स लें विटामिन वाले खाद्य पदार्थ भोजन में लें। फल, सब्जियां, नट्स, स
सावधान! तनाव का असर आपकी नाजुक आंखों पर

सावधान! तनाव का असर आपकी नाजुक आंखों पर

Health
जर्मनी में मैग्डेबर्ग की ओटो वॉन गुरिके यूनिवर्सिटी में हुए एक ताजा अध्ययन में पता चला है कि निरंतर तनाव और कोर्टिसोल के बढ़े हुए स्तर से ऑटोनोमिक नर्वस सिस्टम में असंतुलन और वास्कुलर डिरेगुलेशन के कारण आंखों और दिमाग पर खराब असर पड़ता है। रिसर्च में सामने आया कि इंट्राओकुलर प्रेशर में वृद्धि, एंडोथेलियल डिसफंक्शन (फ्लैमर सिंड्रोम) और सूजन तनाव के कुछ ऐसे नतीजे हैं जिससे और नुकसान होता है। दरअसल पुराने तनाव से एक लंबे समय तक भावनात्मक दबाव का सामना करना पड़ता है, जिसमें व्यक्ति को लगता है कि उसके पास बहुत कम या कोई नियंत्रण नहीं है। हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल कहते हैं, ‘शरीर की तनाव-प्रतिक्रिया प्रणाली आमतौर पर आत्म-सीमित होती है। खतरे या तनाव के तहत माना जाता है कि शरीर के हार्मोन का स्तर बढ़ता है और अनुमानित खतरा बीत जाने के बाद सामान्य हो जा

Jio का असर, वोडाफोन रेड पोस्टपेड प्लान में अब ज्यादा डेटा

Indian Technology
वोडाफोन ने रिलायंस जियो को चुनौती देने के लिए अपने रेड पोस्टपेड प्लान अपडेट कर दिए हैं। इसके अलावा, टेलिकॉम ऑपरेट अपने सभी कंपनी सभी वोडाफोन रेड पोस्टपेड प्लान के साथ ऐमज़ॉन प्राइम मेंबरशिप ऑफर कर रही है। टेक न्यूज़: Latest Tech News in Hindi, Tech Reviews in Hindi,Tech Samachar,Tech Tips & Tricks, PC and Gadgets News, Mobile News, Gadgets News in Hindi