News That Matters

Tag: कारगर

ब्रेन ट्यूमर में सबसे कारगर थेरेपी है गामा नाइफ, लेकिन ये हर जगह उपलब्‍ध नहीं

India
हर ट्यूमर कैंसर हो ये जरूरी नहीं होता है, लेकिन कैंसर में ट्यूमर हो ये होता है। लिहाजा ट्यूमर कितना खतरनाक है य‍ह इस बात पर डिपेंड करता है कि यह कैंसरस तो नहीं है। Jagran Hindi News - news:national
कैंसर से लड़ने में लाल खजूर कारगर

कैंसर से लड़ने में लाल खजूर कारगर

Health
एशियाई क्षेत्रों में मिलने वाला लाल खजूर कई गुणों की खान है। अब एक अध्ययन में दावा किया गया है कि खजूर में मौजूद तत्व कैंसर का खात्मा करने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। यह देखने में मध्यपूर्व देशों... Live Hindustan Rss feed

कर्ज वसूलने में कारगर साबित हो रहा दिवालियेपन पर नया कानून

India
इस कानून के लागू होने के बाद विश्व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स पर भारत की रैंकिंग में बड़ा उछाल आया है। Jagran Hindi News - news:national
रोबोटिक स्पाइनल सर्जरी है कारगर

रोबोटिक स्पाइनल सर्जरी है कारगर

Health
आजकल रीढ़ की हड्डी से जुड़ी बीमारियों से ग्रसित मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। जिसमें कमर और गर्दन में दर्द के मामले सबसे ज्यादा देखे जा रहे हैं। कुछ समय पहले इसे बढ़ती उम्र से जुड़ी समस्या मानते थे, लेकिन यह परेशानी आज युवाओं में ज्यादा देखी जा रही है। खासतौर पर 24-28 साल के आयुवर्ग के बीच के लोगों में यह कॉमन है। साथ ही ऐसे लोग जिन्हें कभी रीढ़ की हड्डी से जुड़ी दुर्घटना हुई हो, उन्हें रोबोटिक स्पाइनल सर्जरी राहत पहुंचा सकती है। अंतिम विकल्प सर्जरी रीढ़ की हड्डी के रोग के उपचार के लिए कई मेडिकल प्रक्रियाओं का प्रयोग किया जाता है। जैसे फिजियोथैरेपी, दर्द निवारक दवाएं, इंजेक्शन आदि। कई मामलों में ये उपाय कारगर साबित नहीं होते। ऐसी में सर्जरी ही अंतिम विकल्प बचती है। ओपन सर्जरी या पारंपरिक स्पाइन सर्जरी यूं तो मरीज की हालत में सुधार लाती है, पर इसमें कई जोखिम भी होते हैं। जैसे इंफे
ब्रेन ट्यूमर में भी कारगर मिर्गी की दवा

ब्रेन ट्यूमर में भी कारगर मिर्गी की दवा

Health
ग्लूकोमा, मिर्गी व हार्ट फेल्योर के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा तेजी से बढ़ते दिमागी ट्यूमर के पीड़ितों के लिए सहायक हो सकती है, वह ज्यादा समय तक जी सकते हैं। दिमागी ट्यूमर को... Live Hindustan Rss feed
आनुवांशिक विकारों का पता लगाने में कारगर है जेनेटिक टेस्टिंग

आनुवांशिक विकारों का पता लगाने में कारगर है जेनेटिक टेस्टिंग

Health
जेनेटिक टेस्टिंग (आनुवांशिक परीक्षण) की मदद से इस बात का पता चलता है कि आपकी जीन में कुछ खास किस्म की असमान्यताओं एवं विकारों से ग्रस्त होने का खतरा कितना अधिक है। इस परीक्षण के जरिए आनुवांशिक विकारों की पहचान करने के लिए रक्त या शरीर के कुछ ऊतकों के छोटे नमूने का विश्लेषण करके गुणसूत्र, जीन और प्रोटीन की संरचना में परिवर्तन की पहचान की जा सकती है। पिछले दो से तीन वर्षों से जेनेटिक टेस्टिंग का क्रेज बढ़ रहा है। अब अधिक से अधिक लोग जीन परीक्षण कराने के लिए आगे आ रहे हैं। इस तकनीक में यदि परीक्षणों से प्राप्त परिणाम निगेटिव आते हैं तो यह रोगियों के लिए एक बड़ी राहत है। लेकिन, अगर कम उम्र में ही आनुवांशिक अंतर की पहचान की जाती है, तो जांच के परिणाम के आधार पर आगामी स्थिति की रोकथाम के लिए निर्णय लेने के लिए लोगों के पास पर्याप्त समय होता है। जांच के परिणाम से शुरुआती उपचार विकल्पों का चयन करन
लो डोज से ब्रेन स्ट्रोक के क्लॉट का कारगर इलाज

लो डोज से ब्रेन स्ट्रोक के क्लॉट का कारगर इलाज

Health
ब्रेन न में रक्त ले जाने वाली धमनियों में ब्लड सर्कुलेशन का बाधित होना या थक्का जमना बे्रन स्ट्रोक कहलाता है। यह हाई बीपी, हार्ट अटैक, कोलेस्ट्रॉल बढऩा या तनाव जैसे करणों से हो सकता है। 3 हजार मरीजों पर हुआ ट्रायल ब्रेन स्ट्रोक में दी जाने वाली दवा की लो (कम) डोज ज्यादा असरदार हो सकती है। यह बात ‘द जॉर्ज इंस्टीट्यूट ऑफ ग्लोबल हैल्थ’ के एक शोध में निकलकर आई है। यह रिसर्च विश्व के १०० अस्पतालों के ३ हजार से अधिक स्ट्रोक के मरीजों पर की गई है। तीन महीने तक मरीजों को आरटीपीए की लो डोज देकर असर देखा गया। यह काफी हद तक ब्रेन हैमरेज का खतरा भी कम करती है। आरटीपीए की देते हैं डोज विश्व में ब्रेन स्ट्रोक (स्केमिक स्ट्रोक) के दौरान आरटीपीए इंट्रावीनस इंजेक्शन लगाया जाता है। यह क्लॉटिंग (थक्का) को खत्म कर ऑक्सीजन फ्लो को सुचारू करता है। एक तिहाई कम डोज असरदार बे्रन स्ट्रोक में आरटीपीए की
टिप्स: ये हैं गर्मी दूर भगाने के कारगर तरीके

टिप्स: ये हैं गर्मी दूर भगाने के कारगर तरीके

Health
गर्मी के मौसम में तेज धूप की वजह से तापमान बढ़ने लगता है जिससे लोग डिहाइड्रेशन और लू के शिकार होते है। इससे बचने के लिए लोग कुछ ना कुछ ठंडा खाते-पीते है साथ ही इस बचने के लिए आप कुछ टिप्स भी अपना... Live Hindustan Rss feed
नई तकनीकें साबित हो रही हैं मिर्गी के इलाज में कारगर

नई तकनीकें साबित हो रही हैं मिर्गी के इलाज में कारगर

Health
मिर्गी का सटीक इलाज प्रत्यक्षदर्शी द्वारा बताए गए विवरण व हिस्ट्री पर निर्भर करता है, लेकिन कुछ मामले ऐसे होते हैं जिनमें यह पहचानना मुश्किल होता है कि यह ट्रू सीजर (मिर्गी) है या फिर स्यूडो सीजर (हिस्टीरिया)। इसमें तकनीक अहम भूमिका निभा सकती है। ऐसी ही एक तकनीक है मोबाइल फोन जिससे डॉक्टर मिर्गी रोग की पहचान आसानी से कर सकते हैं। अगर किसी मरीज को दौरा पड़े तो तुरंत मोबाइल पर उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग कर लेने से इलाज में सहूलियत हो जाती है। मिर्गी पूरी तरह ठीक हो सकती है बशर्ते इसकी पहचान समय पर हो व मरीज डॉक्टर द्वारा बताई दवाइयां नियमित लेते रहें। जयपुर स्थित सवाई मानसिंह अस्पताल में न्यूरोलॉजी के वरिष्ठ आचार्य व यूनिट हैड डॉ. आर. एस. जैन रोग से जुड़े विभिन्न पहलुओं के बारे में बता रहे हैं-   क्या है मिर्गी मस्तिष्क में सूूचनाओं के आदान-प्रदान के दौरान विद्युत प्रवाह अचानक असामान्य रूप
भास्कर ब्रेकिंग: प्रदूषण रोकने के कारगर उपाय अपनाने तक जोधपुर के सभी उद्योग बंद करने की सिफारिश

भास्कर ब्रेकिंग: प्रदूषण रोकने के कारगर उपाय अपनाने तक जोधपुर के सभी उद्योग बंद करने की सिफारिश

Rajasthan
जोधपुर के सभी उद्योगों पर बंद होने की तलवार लटक गई है। जोजरी नदी में हो रहे प्रदूषण की शिकायतों की वस्तु स्थिति जानने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की ओर से नियुक्त कोर्ट कमिश्नर ने अपनी रिपोर्ट में ऐसी अनुशंषा की है। इस कोर्ट कमिश्नर ने एनजीटी को जोधपुर के उद्योगों का गहन निरीक्षण कर 185 पेज की तथ्यात्मक रिपोर्ट सौंपी है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें दैनिक भास्कर