News That Matters

Tag: दूध

यूनानी में ‘जुब्न’ यानी दूध का महत्व

यूनानी में ‘जुब्न’ यानी दूध का महत्व

Health
यूनानी चिकित्सा में दूध यानी ‘जुब्न’ को कई रोगों में प्रयोग किया जाता है। दूध से हड्डियां व मांसपेशियां मजबूत होती हैं। दूध एक संतुलित आहार है जिससे शरीर में ठंडक व तरावट रहती है और तनाव दूर होकर स्फूर्ति बढ़ती है। जानते हैं इसके बारे में- बकरी का दूध : शरीर में किसी भी प्रकार की सूजन या जलन की समस्या में इसे पीने से लाभ होता है। टीबी के इलाज के लिए इसे पीने की सलाह दी जाती है। ऊंटनी का दूध : इसमें लौह तत्व और विटामिन-सी अधिक मात्रा में होते है। साथ ही अन्य विटामिन और मिनरल्स होने से यह रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाता है। डायबिटीज के मरीजों को इसे नियमित रूप से पीना चाहिए। टीबी, आंखों के अल्सर, कैंसर, एलर्जी और ऑटिज्म के इलाज में भी इसका प्रयोग किया जाता है। लाभ : दूध में कैल्शियम, प्रोटीन, पोटेशियम, फॉस्फोरस और विटामिन-ए, बी-१२, डी जैसे तत्व मौजूद होते हैं। यूनानी चिकित्सा में
सुबह और शाम बेचते हैं दूध और बाकी समय लगाते हैं दिव्यांगों की मदद में,

सुबह और शाम बेचते हैं दूध और बाकी समय लगाते हैं दिव्यांगों की मदद में,

Punjab
कई दिव्यांगों को सरकारी विभागों में मिली नौकरी। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें दैनिक भास्कर
1 घंटे रेस्क्यू कर बिल्ली को कुएं से निकाला, सवा महीने से फंसी थी यहां, बचाने को गांव वाले रोज पिला रहे दूध

1 घंटे रेस्क्यू कर बिल्ली को कुएं से निकाला, सवा महीने से फंसी थी यहां, बचाने को गांव वाले रोज पिला रहे दूध

Rajasthan
बारां (कोटा). जिले के छोटा बाजार बालापुरा मोहल्ला के कुएं में सवा महीने से एक बिल्ली गिरी हुई थी। गांव के लोग उसे बचाने के लिए रोजाना उसे कुएं के अंदर दूध रोटी और पानी पहुंचाकर उसको जिंदा रखे हुए थे। ताकि बिल्ली की मौत होने के बाद कुएं का पानी खराब ना हो। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें दैनिक भास्कर
7 साल में 6% बढ़ गई दूध में मिलावट, पहले 19% नमूने थे मिलावटी, अब साल का आंकड़ा 25% पहुंचा

7 साल में 6% बढ़ गई दूध में मिलावट, पहले 19% नमूने थे मिलावटी, अब साल का आंकड़ा 25% पहुंचा

Rajasthan
प्रदेश में दूध में मिलावट रोकने का कड़ा कानून नहीं होने से दूध के कारोबारी बेखौफ होकर मिलावट कर रहे हैं। मिलावट पर सख्ती बरतते हुए इसे रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को गाइडलाइन जारी की थी। इसके बावजूद अफसरों की लापरवाही के कारण मामले थम नहीं पा रहे हैं। जिस साल सुप्रीम कोर्ट ने यह गाइडलाइन जारी की, उस साल 2011 में प्रदेशभर में लिए गए नमूनों में से 19 फीसदी में मिलावट पाई गई थी। लेकिन पिछले साल के आंकड़े देखें तो हैरान करने वाले हैं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें दैनिक भास्कर
जानिए दूध के बाद किन चीजों का सेवन करना होता है खतरनाक

जानिए दूध के बाद किन चीजों का सेवन करना होता है खतरनाक

Health
दूध में कईं मिनरल व विटामिन होते हैं। जो कि शरीर और दिमाग के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं। लेकिन हमारे आयुर्वेद के अनुसार दूध के बाद कुछ चीजों का सेवन करना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। इसलिए दूध... Live Hindustan Rss feed
गांव में आया पैंथर शावक, लोगों ने खिंचवाई फोटो तो वनकर्मियों ने बोतल से पिलाया दूध

गांव में आया पैंथर शावक, लोगों ने खिंचवाई फोटो तो वनकर्मियों ने बोतल से पिलाया दूध

Rajasthan
घाटोल के गांगजी का खेड़ा गांव में रविवार को पिल्लों के संग एक महीने का पैंथर शावक आबादी इलाके में घुस आया। गांव का ही एक युवक शावक को अपने घर ले आया। शावक मिलने की खबर मिलते ही युवक के घर ग्रामीण इकट्ठा होने लगे। शावक के साथ ग्रामीणों ने फोटो खिंचवाए। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें दैनिक भास्कर
अब प्रदेश के लोगों को आसानी से मिल सकेगा ऊंटनी का दूध

अब प्रदेश के लोगों को आसानी से मिल सकेगा ऊंटनी का दूध

Rajasthan
जयपुर। प्रदेश में अब शीघ्र ही सरस डेयरी बूथ की तरह ऊंटनी के दूध के मिनी प्लांट खोले जाने की कवायद शुरू हो गई है। अब गाय-भैंस और बकरी के दूध की तरह ऊंटनी का दूध भी लोगों को आसानी से मिल सकेगा। सरकार की ओर से इसकी तैयारियां जोर शोर से शुरू कर दी गई है, बताया जा रहा है कि जनवरी 2018 तक यह मिनी प्लांट प्रदेश के संभाग स्तर पर लगाए जा सकेंगे। यह कहना है कि राजस्थान राज्य पशुपालक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष (राज्यमंत्री दर्जा) गोरधन राईका का। उन्होंने समाचार जगत को दिए एक विशेष साक्षात्कार में बताया कि यह प्लांट सर्वप्रथम जयपुर में लगाए जाने का प्रस्ताव है। इसकी सफलता के बाद बीकानेर में खोला जाएगा। उन्होंने बताया कि नवम्बर 2016 में सरकार की ओर से उन्हें पशु कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उन्होंने बताया कि मेरा प्रथम प्रयास ऊंट पालन और ऊंटनी के दूध को बढ़ावा देने का था जिसके

दूध देने गया था मासूम ‘कान्हा’, उसका हाल देखकर रोने लगे घरवाले

Rajasthan
वह बीती शाम को घर से दूध देने के लिए पास ही एक फैक्ट्री में गया था। इसके बाद घर नहीं लौटा। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

गोशाला का एप, आॅर्डर कर मंगवा सकते हैं ताजा दूध और शुद्ध डेयरी प्रोडक्ट

Rajasthan
मिलावट के इस दौर में अब घरों में गाय का शुद्ध ताजा दूध और उससे बने दही, मक्खन,पनीर मंगाना और भी आसान होगा। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

Doctor’s Strike: इलाज नहीं तो दूध नहीं, डेयरी फेडरेशन का ऐलान

Rajasthan
हड़ताल पर गए डॉक्टरों के खिलाफ अब दूध विक्रेताओं ने मोर्चा खोल दिया है और उनके घरों में दूधबंदी का ऐलान करते हुए चेतावनी जारी की है। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala