News That Matters

Tag: दूध

नाग पंचमी विशेष: जानिए, इस दिन नाग देवता को क्यों चढ़ाते हैं दूध

India
सनातन धर्म की परंपराओं वाले अपने देश में श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी पर नाग पूजन का विधान है। इसलिए इस तिथि नाग पंचमी कहलाती है। Jagran Hindi News - news:national
Breastfeeding Week : मां का दूध बढ़ाता है शिशु में प्रतिरक्षा क्षमता

Breastfeeding Week : मां का दूध बढ़ाता है शिशु में प्रतिरक्षा क्षमता

Health
पहली बार मां बनने वाली महिलाओं को अपने शिशु को स्तनपान कराने में अपूर्व सुखद अनुभूति होती है और यह शिशु के लिए भी एक अनमोल उपहार है। मां का दूध शिशु में प्रतिरक्षा क्षमता, यानी रोगों से लडऩे की ताकत बढ़ाता है। महिलाओं को शिशु को स्तनपान कराने के सही तरीके और यह अच्छी तरह पता होना चाहिए कि बच्चे को कैसे, कब और कितना स्तनपान कराना है। मिथकों के अलावा आधुनिक जीवनशैली की वास्तविकताएं नई माताओं में अक्सर उलझन पैदा करती रहती है, इसलिए उन्हें स्तनपान से जुड़ी भ्रांतियों को नजरअंदाज करना चाहिए। स्तनपान एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। घर की बुजुर्ग महिलाओं को चाहिए कि वे नई माताओं को स्तनपान के लिए प्रेरित करें और उन्हें स्तनपान के सही तरीके बताएं। स्तनपान कराने के लिए माताओं को कुछ महत्वपूर्ण चीजों को ध्यान का रखना चाहिए, जैसे कि शिशु के जीवन के पहले घंटे के भीतर स्तनपान कराने की शुरुआत हो और छह महीने
इसलिए दूध होता है संपूर्ण आहार

इसलिए दूध होता है संपूर्ण आहार

Health
दूध न केवल कैल्शियम का भंडार है, बल्कि इसमें लैक्टिक एसिड भी होता है, जो त्वचा को मुलायम बनाता है। इसे पीने से शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन का स्राव होता है, जिससे दिमाग शांत रहता है। किस उम्र में कितना दूध जरूरी?आम तौर पर डॉक्टर सलाह देते हैं कि अगर मां से बच्चे की जरूरत पूरी हो जाती है, तो साल भर तक बच्चों को मां का ही दूध पिलाना चाहिए। सालभर बाद ही बच्चे को ऊपर का दूध देना चाहिए क्योंकि तब तक बच्चे की जरूरत बढ़ जाती है। इस दौरान बच्चों को गाय का दूध पिलाने की सलाह दी जाती है। 12 महीने तक बच्चे को मां का ही दूध दें।1-2 सालसालभर से बड़े बच्चों को ऊपर का दूध देना चाहिए। दिमाग के विकास के लिए इस उम्र के बच्चों को फैट से भरपूर डाइट की जरूरत होती है। अमरीकन एकेडमी ऑफ पीडिएट्रिक्स इस उम्र में हर रोज तीन से चार कप दूध पीने की सलाह देती है। साथ ही ऐसे बच्चों को फुलक्रीम दूध देना चाहिए। 2 से 8 साल

सावधान! दूध और आइसक्रीम से इंसानों में फैल रही जानवरों की जानलेवा टीबी

India
बर्ड फ्लू, स्वाइन फ्लू के बाद जानवरों से मनुष्यों में पैरा टीबी फैल रही है। इंसानों में पैरा टीबी का बैक्टीरिया संक्रमण फैला रहा है। Jagran Hindi News - news:national
world breastfeeding week 2018 : मां के दूध से कम होती है एलर्जी की आशंका

world breastfeeding week 2018 : मां के दूध से कम होती है एलर्जी की आशंका

Health
अमरीकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अनुसार, मां को कम से कम छह माह तक स्तनपान अवश्य कराना चाहिए। नवजात शिशु को शुरुआती छह माह मां का दूध मिले तो उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। उन्हें कई स्वास्थ्य रक्षक विटामिन व पोषक तत्त्व मिल जाते हैं। नवजात शिशु को स्तनपान करवाने से मां भी स्वस्थ रहती है। रोगों से बचाव चिकित्सकीय अनुसंधान का निष्कर्ष है कि जिन बच्चों को मां का दूध मिलता है, उनके आमाशय में वायरस, श्वसन संबंधी रोग, कान के इंफेक्शन और मेनिनजाइटिस जैसे रोगों का खतरा घट जाता है। वयस्क होने पर ऐसे बच्चे डायबिटीज, उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर और पेट के रोगों से भी बचते हैं। एलर्जी से बचाव नवजात शिशु के लिए वरदान है मां का दूध। जिन बच्चों को जन्म के बाद बाहर का दूध मिलता है, उनके एलर्जिक होने का खतरा ज्यादा रहता है। मां के दूध से शिशु के इंटेस्टाइन का बचाव होता है और वे कई किस्म की एलर्जी से बच
विश्व स्तनपान सप्ताह: स्वस्थ जीवन की बुनियाद है मॉं का दूध, अवश्य कराएं

विश्व स्तनपान सप्ताह: स्वस्थ जीवन की बुनियाद है मॉं का दूध, अवश्य कराएं

Health
1 से 7 अगस्त तक पूरी दुनिया में विश्व स्तनपान दिवस मनाया जाता है जिसकी शुरूआत हो चुकी है। नवजात शिशु के लिए मॉं का दूध अमृत समान माना गया है। जिस बच्चे के बचपन में मॉं का दूध भरपूर प्राप्त हो जाता है उसमें रोग प्रतिरोध क्षमता सुदृढ़ होने समेत उसका संपूर्ण विकास भी होता है। आज के समय में एक मॉं का दूध ही है जो बच्चों के लिए सबसे शुद्ध और पौष्टिक का काम करता है। इसी वजह से मॉंग के दूध को स्वस्थ जीवन की बुनियाद और शिशु के लिए सर्वोत्तम आहार माना गया है। शिशु के लिए सर्वोत्तम आहार है मॉं का दूधशिशु के लिए मॉं का दूध सर्वोत्तम आहार माना गया है इसमें सभी पौष्टिक तत्व होने के साथ ही रोग प्रतिरोध क्षमता, बुद्धि, बल और शरीर का भी विकास होता है— — शिशु के जन्म के 1 घंटे के अंदर स्तनपान जरूर शुरू करें। शिशु जन्म के बाद मॉं का पहला पीला और गाढ़ा दूध अमृत के समान काम करता है। — मॉं का
विश्व स्तनपान सप्ताह: 5 में से 3 नवजातों को जन्म के समय नहीं मिल पाता मां का दूध

विश्व स्तनपान सप्ताह: 5 में से 3 नवजातों को जन्म के समय नहीं मिल पाता मां का दूध

India
यूनिसेफ और विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक रिपोर्ट से यह बात सामने आई है कि करीब 7.8 करोड़ यानी पांच में से तीन नवजातों को जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान नसीब नहीं हो पाता। इससे उनके बचने... Live Hindustan Rss feed
VIDEO: बिकिनी में दिखीं ये मशहूर मॉडल, रैम्पवॉक करते हुए बच्चे को पिलाया दूध

VIDEO: बिकिनी में दिखीं ये मशहूर मॉडल, रैम्पवॉक करते हुए बच्चे को पिलाया दूध

Entertainment
मशहूर मॉडल मारा मार्टिन ने स्पोर्ट्स इलस्ट्रेटेड स्विमसूट फैशन शो के दौरान ब्रेस्टफीड करवाते हुए रैंप वॉक किया है। 30 वर्षीय इस मॉडल ने अपने 5 महीने की बच्ची अरिया को ब्रेस्टफीड करवाते हुए बिकिनी में... Live Hindustan Rss feed
मलाई वाले दूध से दिल को नहीं होता कोेई खतरा

मलाई वाले दूध से दिल को नहीं होता कोेई खतरा

Health
मलाई वाले दूध से दिल को कोई खतरा नहीं है। एक नए शोध के अनुसार, पूरी तरह वसा युक्त दूध और उससे बने उत्पाद दिल की बीमारी या दिल का दौरा पड़ने के कारण असमय होने वाली मृत्यु के जोखिम को नहीं बढ़ाते... Live Hindustan Rss feed