News That Matters

4 माह बाद निगम कर्मी आज से फिर 3 दिन की हड़ताल पर आधे शहर में सफाई होगी प्रभावित, काउंटर बंद रहने के आसार




रोहतक में गांधी जयंती पर भाजपाइयों की जागरूकता रैली के पीछे-पीछे सफाई कर्मचारी कचरा उठाने को चले।

लोगों से अपील- सड़काें पर न फेंकंे कूड़ा, कलेक्शन सेंटर या गाड़ियों में ही डालें या घर पर गीला-सूखा कूड़ा अलग कर स्टोर करें

भास्कर न्यूज | रोहतक

नगर निगम कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर बुधवार से 3 दिवसीय हड़ताल पर जाएंगे। इस दौरान शहर की सफाई व्यवस्था संभालना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती हो सकती है। लगभग 4 माह पहले 16 दिन तक चली हड़ताल के कारण शहर में सफाई व्यवस्था का बुरा हाल हो गया था। बाद में पुलिस पहरे में सफाई करवाई गई थी। वहीं, नगर निगम में भी हाउस टैक्स, जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र आदि का काम ठप हो गया था। पिछली बार से सबक लेते हुए नगर निगम ने वैकल्पिक इंतजाम का दावा किया है। सबसे ज्यादा दिक्कत शहर की कॉलोनियों के अंदर सफाई की है क्योंकि मुख्य सड़कों का सफाई ठेके पर हो रही है और बाकी शहर की सफाई का जिम्मा निगम कर्मचारियों पर है। डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन भी ठेके पर हो रहा है। निगम अधिकारियों ने शहरवासियों से अपील की है कि वे घर का कूड़ा कलेक्शन सेंटर तक छोड़कर जाएं या फिर कूड़ा गाड़ियों में ही डालें। वे एक-दो दिन का कूड़ा स्टोर भी कर सकते हैं। वहीं, कर्मचारी सुबह 9 बजे नगर निगम कार्यालय के गेट पर एकत्र होंगे।

हड़ताल से ये भी काम हो सकते हैं प्रभावित

अंबेडकर चौक स्थित नगर निगम कार्यालय में हड़ताल के चलते हाउस टैक्स जमा करने के अलावा डोमिसाइल, जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, मैरिज रजिस्ट्रेशन आदि का भी काम ठप हो सकता है। साथ ही मकानों के पास हुए नक्शों की डिलीवरी और लाइट की शिकायत का काम भी अटक सकता है। मई में हुई 16 दिन की हड़ताल के चलते 700 आय प्रमाणपत्र, 750 डोमिसाइल, 125 विवाह पंजीकरण आदि का काम रुक गया था। अब नगरपालिका कर्मचारी संघ के नेतृत्व में 3 अक्टूबर से तीन दिवसीय हड़ताल शुरू हो रही है। फिर से इन कामों के बाधित होने की आशंका है।

मांगे नहीं माने जाने पर बेमियादी हड़ताल करेंगे : संघ

यदि सरकार ने 24 मई को हुए समझौते को लागू नहीं किया तो हड़ताल अनिश्चितकालीन हो जाएगी। हड़ताल में सफाई व्यवस्था ठप रहेगी। ठेके पर काम करने वाले सफाई कर्मचारियों से भी अपील की गई है कि वे हड़ताल में सहयोग दें क्योंकि यह सबके अधिकार की लड़ाई है। फिलहाल त्योहारों का समय है। सफाई कर्मचारी भी चाहते हैं कि शहर की सफाई व्यवस्था ठीक रहे, लेकिन सरकार की गलत नीतियों के चलते सफाई कर्मचारियों को हड़ताल पर जाना पड़ रहा है। -संजय बिड़लान, अध्यक्ष, नगर पालिका कर्मचारी संघ।

जागरूक बनें… आज शायद खाली बोतलें सड़क से उठाने को सफाई कर्मी न मिलंे… भाजपाइयों ने स्वच्छता के नारे लगा गांधी जयंती पर निकाली रैली, पानी पीकर बोतलें सड़क पर फेंकते गए

सफाई के वैकल्पिक इंतजाम पूरे, लोग सहयोग करें : निगम

सफाई कर्मचारियों का कोई भी मुद्दा हमारे स्तर से रुका हुआ नहीं है। 3 अक्टूबर से उनकी हड़ताल के दौरान शहर की सफाई व्यवस्था के लिए वैकल्पिक इंतजाम किए गए हैं। ठेके पर सफाई करने वालों को निर्देश भी जारी किया गया है। शहरवासियों से अपील है कि वे घर से निकले कूड़े को कलेक्शन प्वाइंट तक छोड़ने में हमारा सहयोग करें ताकि कूड़े को लिफ्टिंग कर सॉलिड वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचाया जा सके। -आरएस वर्मा, कमिश्नर, नगर निगम।

डोर टू डोर कूड़ा लिफ्टिंग व मुख्य सड़कों की सफाई रहेगी जारी

सफाई कर्मचारियों की हड़ताल को देखते हुए ठेके पर लगे सभी कर्मचारियों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि वह इस दौरान ड्यूटी पर तैनात रहेंगे। कोशिश रहेगी कि डोर टू डोर कूड़ा लिफ्टिंग और मुख्य सड़कों व डंपिंग प्वाइंट की सफाई नियमित कराई जा सके। इस संबंध में नगर निगम कमिश्नर की ओर से भी निर्देश प्राप्त हो चुका है कि शहर की सफाई व्यवस्था को प्राथमिकता देना है। -रवि नांदल, मैनेजर, ठेका कंपनी।

एक नजर में सफाई

350 नगर निगम के पक्के कर्मचारी

496 कच्चे सफाई कर्मचारी तैनात

700 कर्मचारी ठेके की सफाई में लगे

45 वाहन डोर टू डोर कूड़ा लिफ्टिंग के लिए, गलियों के लिए हाथ रिक्शा भी लगाईं

130 टन कचरा हररोज शहर से निकलता है

वित्त विभाग में अटकी है निगम की फाइल

सफाई कर्मचारियों की मांगों पर हुए समझौते की फाइल फाइनेंस डिपार्टमेंट के पास गई हुई है। कर्मचारियों को किसी बात की गलतफहमी नहीं होनी चाहिए। उनके हित का भी ध्यान रखा जाएगा। फिलहाल सफाई कर्मचारियों की हड़ताल जल्दबाजी में उठाया जा रहा कदम है। हड़ताल के दौरान शहर की सफाई व्यवस्था पर नजर रखी जाएगी। -मनीष ग्रोवर, सहकारिता मंत्री।

ओडीएफ डबल प्लस हुए, शहरी एरिया से डस्टबिन हटाए

रोहतक । महात्मा गांधी की जयंती के मौके पर शहर को ओडीएफ प्लस ही नहीं, ओडीएफ यानी खुले में शौच मुक्त को लेकर डबल प्लस घोषित कर दिया गया है। अब अगला लक्ष्य दीपावली महोत्सव तक स्टार रेटिंग फॉर गारबेज फ्री सिटी का है। रोहतक ऐसा करने वाला देश का पहला शहर बन गया है। इस पर प्रशासन ने 15 दिन में आमजन से आपत्तियां व सुझाव मांगे हैं। अब स्वतन्त्र जांच एजेंसी से सत्यापन कराने के ओपन चैलेंज का पत्र प्रदेश सरकार के जरिये केन्द्र सरकार को भेजा जाएगा। मंगलवार को नगर निगम की ओर से आयोजित स्वच्छता कार्यक्रम में निगम आयुक्त आरएस वर्मा ने रिहायशी एरिया को डस्टबिन मुक्त भी करने की घोषणा की। कहा कि कमर्शियल एरिया में सूखे व गीले कचरे के लिए अलग-अलग डस्टबिन रखे गए हैं। उन्होंने शहर को गारबेज वनरेबल प्वाइंट फ्री घोषित किया कर दिया।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *