News That Matters

केंद्र सरकार की स्कीम : हर साल इस स्कीम में जमा करें इतने रु., 15 साल बाद आपको एक साथ मिलेंगे 44 लाख; सरकार ने फिर इसमें बढ़ा दिया ब्याज



न्यूज डेस्क। कुछ ही दिनों पहले सरकार ने पीपीएफ पर इंटरेस्ट रेट बढ़ाया है। यह सरकार की बड़ा फायदा पहुंचाने वाली स्कीम है। पीपीएफ पर मिलने वाले कंपाउंड इंटरेस्ट की गणना सालाना आधार पर होती है। अगर आप अपने अकाउंट में 1.5 लाख रुपए हर साल जमा करते हैं तो 8 फीसदी ब्याज के हिसाब से 15 साल के बाद आपके अकाउंट में करीब 44 लाख रुपए का फंड इकट्‌ठा हो जाएगा। इसमें प्रिंसिपल अमाउंट के 22.5 लाख रुपए होंगे। इस राशि पर ब्याज की राशि 21.48 लाख रुपए होगी। केंद्र सरकार की स्कीम होने के कारण इसमें रिस्क फैक्टर बहुत कम होता है।

ऐसे खुलवाया जा सकता है पीपीएफ अकाउंट
पीपीएफ अकाउंट सरकारी और निजी बैंक की किसी भी शाखा में या बैंक की वेबसाइट के माध्यम से खुलवाया जा सकता है। इसके अलावा पोस्ट ऑफिस में भी पीपीएफ अकाउंट ओपन करवाने की सुविधा मिलती है। कोई भी भारतीय नागरिक पीपीएफ अकाउंट ओपन करवा सकता है। अकाउंट ओपन करवाने के लिए आईडी, एड्रेस प्रूफ, दो पासपोर्ट साइज की फोटो और पे स्लिप की जरूरत पड़ेगी।

क्या हैं पीपीएफ में निवेश करने के फायदे

– पीपीएफ 15 वर्षों की स्कीम है। 15 वर्ष पूरे होने पर निवेश को पांच-पांच साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। इसमें जब आप निवेश करते हैं, तो यह रकम नेशनल स्मॉल सेविंग्स फंड में जमा होती है और इसे सरकार द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो इसके डूबने का कोई जोखिम नहीं होता है।

– ईपीएफ और सुकन्या समृद्धि योजना को छोड़ दें तो पीपीएफ निवेश का एकमात्र ऐसा विकल्प है, जिसमें जमा, निकासी और मिलने वाले ब्याज पर टैक्स नहीं देना होता है। मतलब साफ है, इस योजना में इनवेस्टमेंट, एक्यूम्युलेशन और विड्रॉअल तीनों टैक्स फ्री हैं। साथ ही 80C के तहत पीपीएफ के लिए सालाना जमा की गई अधिकतम 1.5 लाख रुपए की रकम भी टैक्स के दायरे में नहीं है। बशर्ते आप अपने आयकर रिटर्न में इसका विवरण दें।

– अगर आपने लगातार पांच वित्त वर्ष तक अपने पीपीएफ अकाउंट में पैसे जमा किए हों तो इसके बाद आप खुद, पत्नी, बच्चे अथवा माता पिता की किसी गंभीर बीमारी के इलाज और बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए अकाउंट बंद कर राशि निकाल सकते हैं।

– पीपीएफ पर मिलने वाले कंपाउंड इंटरेस्ट की गणना सालाना आधार पर होती है। अगर आप अपने अकाउंट में 1.5 लाख रुपए हर वर्ष जमा करते हैं तो 8 फीसदी ब्याज के हिसाब से 15 वर्ष के बाद आपके अकाउंट में 43.98 लाख रुपए का फंड इकट्‌ठा हो जाएगा। इसमें प्रिंसिपल अमाउंट के 22.5 लाख रुपए होंगे। इस राशि पर ब्याज की राशि 21.48 लाख रुपए होगी।

– आप अकाउंट खोलने के बाद सातवें वित्त वर्ष में उससे रकम निकाल सकते हैं। जहां तक लोन का सवाल है तो अकाउंट खुलने के बाद तीसरे और छठे वित्त वर्ष के बीच में ले सकते हैं। यानी लोन लेने के लिए आपके अकांउट के दो वित्त वर्ष पूरे होने जरूरी हैं।

– सरकार के पास अभी भी पीपीएफ सहित अन्य छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों में 50 बेसिस प्वाइंट यानी 0.50 फीसदी तक की बढ़ोतरी की गुंजाइश है। इकोनॉमी के मौजूदा हालात भी ब्याज दरों में बढ़ोतरी के माफिक हैं। मतलब सरकार मौजूदा वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही यानी जनवरी-मार्च के लिए ब्याज दरों में फिर से बढ़ोतरी कर सकती है। जहां तक ब्याज दरों में कटौती का सवाल है, इसकी संभावना तो फिलहाल न के बराबर है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


things you should know about PPF

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *