News That Matters

ट्रैक मेंटेनर ने मौत को तीन मीटर दूर से देखा और होश खो बैठा



कोटा. पैंथर मूवमेंट को लेकर स्टेशन एरिया में मामला शांत है, लेकिन 8 फरवरी को अटवालनगर में रेलवे लाइन एरिया में पैंथर साइटिंग के बाद क्षेत्र में दहशत बनी है। दो दिन बाद इसकी पुष्टि ट्रेकमेंटेनर विनोद शर्मा ने की। उन्होंने बताया कि वो शुक्रवार रात को किमी 915 के 18 खंबे के ट्रैक पर ड्यूटी कर रहा था। इस दौरान 9 बजे अचानक पीछे से किसी वन्यजीव कूदने की आवाज आई तो मैं सहम गया।

सर्दी से मेरा साथी ट्रैक के एक ओर लकड़ियां बीनने गया था, लेकिन अचानक सामने करीब 3 मीटर दूरी पर पैंथर दिखा तो स्थिति गंभीर हो गई। मैं एक हाथ में टॉर्च, दूसरे में गिट्टी भींचे हुए थे। वो मेरी तरफ घूरते हुए बढ़ रहा था, लेकिन मैं उल्टे पैरों से धीरे-धीरे चल रहा था।

चार-पांच मिनट पीछे की ओर से टॉर्च जलाते हुए चल रहा था। अचानक मेरे साथी भी आ गए। उन्होंने भी दूरी से पैंथर देखा। जोर-जाेर से चिल्लाया बचाओ-बचाओ। आरपीएफ एवं होम गार्ड भी आवाज सुनकर मौके पर आए तो वो भाग गया। उन्होंने बताया कि मेरी स्थिति गंभीर हो गई थी। कुछ देर के लिए होश तक नहीं रहा। बाद में साथियों ने पानी पिलाया और मैं सामान्य हुआ। रेल प्रशासन को इस संबंध में जानकारी दी। शर्मा ने बताया कि सुबह तक कोई रिलीवर नही आया।

जान जोखिम में डाल करते हैं नौकरी

उन्होंने बताया कि जान जोखिम में डालकर रात में डयूटी करते हैं, सुरक्षा का कोई प्रबंध नहीं है। दिन में यूनिट में आने पर पता चला कि मेरी उस दिन की छुट्टी भी लगा दी, जबकि मैं पूरी रात्रि डयूटी पर था। इस संबंध में यूनिट जमादार सेक्शन रेल पथ इंजीनियर एवं इंचार्ज रेल पथ इंजीनियर को छुट्टी के बारे में शिकायत की तो वे एक दूसरे पर थोपते रहे।

टीमें ट्रैकिंग कर रही हैं

टेरिटोरियल डीसीएफ जोधराजसिंह हाड़ा ने बताया कि उन्हें पैंथर को लेकर किसी भी तरह की शिकायत नहीं मिली है। अभी दो दिन से किसी भी तरह की सूचना नहीं मिली है। पैंथर आबादी वाले एरिया में इंसानी आदतों को समझने लगा है। शिकार के बाद वो झाड़ियों में चला जाता है। विभाग की ओर से टीमें ट्रैकिंग कर रही है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


track maintainer saw death three meters away and lost consciousness

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *