News That Matters

दर्द से तड़प रही प्रसूताओं की चीख निकलने पर पड़ती हैं गालियां, चिल्लाकर नर्स कहती है- गुस्सा आ गया तो मार डालूंगी, रात 1 बजे अपने आप फट जाएगी सा$%



जयपुर. 7 जनवरी को जैसलमेर में डिलीवरी करा रहे कंपाउंडर ने नवजात को इतनी बेरहमी से खींचा कि उसके दो हिस्से हो गए। इसके बाद दैनिक भास्कर की टीम ने 28 दिन तक 13 जिलों के 98 अस्पतालों के लेबर रूम्स का सच जाना। पड़ताल में सामने आया कि जब-जब प्रसूताओं की चीख निकली, तब-तब उन्हें नर्स व डॉक्टरों की गालियां सुनने को मिली हैं। उनसे ऐसी भाषा में बातें करते हैं, जिसकी पुरुष कल्पना भी नहीं कर सकते। चीख दबाने के लिए नर्स प्रसूताओं के बाल खींचती हैं, यहां तक कि चांटें भी मारती हैं।

कई जगह दर्द से कराहती प्रसूताएं टीम भास्कर की तारा अहलुवालिया को ही अस्पताल का स्टाफ समझ बैठी। प्रसव से पहले व बाद में महिला वार्डों में 24-24 घंटे तक प्रसूताओं की सुध लेने वाला कोई नहीं था। बांसवाड़ा में शराब के नशे में धुत सफाई कर्मचारी रामा मिला। बोला- हजारों डिलीवरी करा चुका हूं। अंदर जो डिलीवरी करा रहा है वो हीरालाल क्या जानता है। वो तो पैसों के लालच में डिलीवरी कराता है। वहीं, उदयपुर में वार्ड ब्वॉय रमेश चंद्र एक महिला का प्रसव करा रहा रहा था। महिला चीख रही थी तो नर्स ने जोर से डांट दिया। भास्कर की टीम पहुंची तो रमेश एक तरफ खड़ा हो गया। लेबर रूम के बाहर नर्स मधु व नंद मीणा मोबाइल देख रही थी।आइए जानते हैं लेबर रूम के खौफनाक सच के बारे में।

दिन- 24 जनवरी
समय- रात 11.05 मिनट
जगह- महाराणा भूपाल अस्पताल, उदयपुर
दिन- 23 जनवरी
समय- रात साढ़े 8 बजे
जगह- महात्मा गांधी अस्पताल, भीलवाड़ा
दिन- 22 जनवरी
समय- रात साढ़े 8 बजे
जगह- भीलवाड़ा का राजकीय चिकित्सालय
प्रसूता का चीखना-चिल्लाना अचानक बढ़ जाता है। नर्स झल्लाते हुए कहती है, गुस्सा आ गया तो मार डालूंगी सा$ % को। डर से प्रसूता दोनों हाथों से अपना मुंह बंद कर लेती है। लेकिन आंसू बहते रहते हैं। नर्स साथ आई परिजन को डपटते हुए करती है, यहीं पड़े रहने दो इसको। रात 1 बजे अपने आप फट जाएगी सा$ %।यहां नर्स प्रसूता के पेट पर दोनों हाथों से जोर से धक्का लगा रही थी। जब भास्कर टीम की तारा ने नर्स को कुछ बताना चाहा, तो बोली- डिलीवरी कैसे करानी है, मुझे मत सिखा। प्रसूता चीखी, तो नर्स ने उससे कहा- जितना चीखने में जोर लगा रही है उतना बच्चे को धकेलने में लगा। नहीं हो रहा तो पति को बुला ले, वह आकर जोर लगा देगा।प्रसूता दर्द से चीख रही है। डिलीवरी के लिए नर्स पेट पर चढ़ी हुई ताकि दबाव बनाकर प्रसव करा सके। ये नर्स के अनप्रोफेशनल होने का सबूत है। जब हमने गायनेकॉलोजिस्ट डॉ. नीलम बाफना से बात की, तो उन्होंने कहा- बच्चा फंस जाने पर अनट्रेंड स्टाफ अगर ऐसा करता है, तो उससे बच्चादानी फट सकती है या नीचे आ सकती है। ऐसी बातें अमूमन वहां होती हैं, जहां ट्रेंड स्टाफ या उपकरण की कमी होती है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Rajasthan Jaipur news in hindi: Terrifying truth of delivery in labor room by Nurses in Rajasthan

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *