News That Matters

गरीब नवाज के 807 वे उर्स के कुल की रस्म में उमड़े अकीदतमंद



आरिफ कुरेशी. अजमेर.महान सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के 807 में सालाना उर्स के मौके पर गुरुवार को कुल की रस्म अदा की गई। इस रस्म में जायरीन की भीड़ उमड़ी। आस्ताना शरीफ की दरों दीवार को आशिका ने ख्वाजा ने केवड़ा और गुलाब जल से धुलाई कर अकीदत का इजहार किया। अंजुमन सैयदजादगान ने चादर पेश की और खादिमों ने आस्ताना शरीफ में जियारत कर एक दूसरे की दस्तारबंदी की। उर्स में आए जायरीन शुक्रवार को जुमे की नमाज अदा करेंगे।

सालाना उर्स मैं शिरकत करने के लिए देश भर से और बांग्लादेश के विभिन्न हिस्सों से गरीब नवाज के अकीदत मंद पहुंचे। आज सुबह 8:00 बजे से ही आस्ताना शरीफ में जायरीन का जियारत के लिए सिलसिला रोक दिया गया। आस्ताना शरीफ में केवल खादिम परिवार मौजूद रहे। खादिमों ने आस्ताना शरीफ में देश में अमन और खुशहाली के लिए दुआ की। साल में एक बार सालाना उर्स के मौके पर खादिभ जियारत करते हैं और अपने दुआगो और वकील से दस्तारबंदी कराकर नजराना पेश करते हैं । आज खादिम परिवारों का दिन था।

धूमधाम से पेश की चादर
इधर खादिमों की प्रमुख संस्था अंजुमन सैयद जादगान ने गरीब नवाज के उर्स के मौके पर शान और शौकत से चादर पेश की । अंजुमन सदर मोइन हुसैन चिश्ती, सचिव वाहिद हुसैन अंगारा शाह, उपाध्यक्ष तौफीक चिश्ती, संयुक्त सचिव मुसब्बिर हुसैन, सैयद आले बदर समेत सभी सदस्य मौजूद थे । शाही कव्वाल असरार हुसैन और साथियों ने सूफियाना कलाम पेश किए। इसके बाद यह चादर गरीब नवाज की मजार पर पेश कर अमन और खुशहाली के लिए दुआ की गई। सुबह 9:00 बजे खुद्दाम ए ख्वाजा ने छठी शरीफ की रस्म अदा कराई। शिजरा ख्वानी के बाद सलातो सलाम पेश किया गया। दौरान ए दुआ अनेक अकीदतमंद भावुक हो गए और उनकी आंखों से आंसू जारी हुए। नियाज दिलाकर कर तबर्रुक तकसीम किया गया।

कुल की महफिल
इधर दरगाह के महफिल खाना में दरगाह दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान की सदारत में कुल की महफिल शुरू हुई। शाही कव्वाल असरार हुसैन और साथियों ने बधावा और रंग पेश किया। उसके बाद दीवान आबेदीन जन्नती दरवाजे होते हुए आस्ताना शरीफ में कुल की रस्म अदा करने पहुंचे। उनके जन्नती दरवाजे से दाखिल होते ही दरवाजा मामूल कर दिया गया। कुल की रस्म अदायगी के दौरान बड़े पीर साहब की पहाड़ी से तोप के गोले दागे गए । शादियाने बजाए गए और शहनाई वादन किया गया। कुल की रस्म में शामिल होने के लिए जायरीन का हुजूम दरगाह परिसर और दरगाह के बाहर तक फैला हुआ था।

जुमे की नमाज कल
इधर गरीब नवाज के सालाना उर्स के बड़े कुल की रस्म खुद्दाम ए ख्वाजा की ओर से रविवार को अदा कराई जाएगी। इसके साथ ही गरीब नवाज का सालाना उर्स मुकम्मल हो जाएगा। इससे पूर्व शुक्रवार को अकीदतमंद जुमे की नमाज अदा करेंगे। उर्स के दौरान यह दूसरा जुमा की नमाज अदा की जाएगी।

फोटो- आरिफ कुरेशी

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Urs celebration at ajmer dargah 2019


Urs celebration at ajmer dargah 2019

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *