News That Matters

लकड़ी चोरी के मामले में गिरफ्तारी से गुस्साए ग्रामीणों ने बची लकड़ी उठाने आए वन विभाग के कर्मियों को घेरा




सादिक के नजदीक गांव काउणी के सुए के किनारे लगे सफेदे की चोरी व अधिकारियों के दुर्व्यवहार के मामले में नामजद किसान की गिरफ्तारी के बाद आज घटनास्थल से बची हुई लकड़ी समेटने ट्रैक्टर-ट्राली लेकर अाए वन्य विभाग के एक गार्ड व दो बेलदारों को आज गांववासियों ने करीब दो घंटे तक बंधक बनाए रखा। जानकारी के अनुसार गांव काउणी वासी जसकरन सिंह के खेत में लगा सफेदे का एक पेड़ गत 2 जून को गिर पड़ा था। वन गार्ड रेणु बाला ने अपने दौरे के दौरान उक्त सफेदे के हिस्से देखे। उन्होंने थाना सादिक में जसकरन सिंह के विरुद्ध पेड़ काटने, इसकी लकड़ी चुराने और रोकने की शिकायत कर जसकरन सिंह व उसके साथी पर मामला दर्ज करवा दिया जबकि उक्त सफेदा जसकरण सिंह ने ही अपने लिए अपने खेत में लगाया था। आज जब वन गार्ड रेणु बाला व दो बेलदार घटनास्थल पर आकर पेड के अवशेष काट कर ट्राली में डालने लगे तो गांववासियों ने बड़ी संख्या में आकर उन्हें घेर लिया। गांववासी पंच गुरसेवक सिंह खालसा, ब्लाॅक समिति के पूर्व सदस्य जसवंत सिंह, पूर्व पंच नवतेज सिंह, पूर्व सरपंच रजिन्दर सिंह पप्पू, हरजीत सिंह कलेर, सतपाल सिंह, सुखदेव सिंह, सुरजीत सिंह, मलकीत सिंह, सतप्रीत सिंह ने बताया कि वन अधिकारियों ने ब्लाॅक अधिकारी और राजनैतिक नेता के बहकावे में आकर जसकरण को झूठे मामले में फंसाया है। उन्होंने बताया कि विभाग अब सफेदे को थाने ले जाकर चोरी के माल की बरामदगी के तौर पर दिखाकर अपने को सच सिद्ध करने की फिराक में है। थाना प्रभारी सादिक वकील सिंह ने वन गार्ड रेणु बाला को वहां से निकालने की कोशिश की लेकिन गांव की महिलाओं ने उनकी एक नहीं चलने दी। गांववासियों की मांग थी कि अगर अपना ही सफेदा काटने के आरोप में जसकरण पर मामला दर्ज किया जा सकता है तो फिर जसकरण की शिकायत पर वन्य विभाग के अधिकारियों पर उसके खेत का सफेदा चोरी करने का मामला भी दर्ज किया जाए। इस दौरान गांव वासियों ने यातायात जाम करने की कोशिश की लेकिन गांव के गणमान्यों के हस्तक्षेप कर उन्हें रोक लिया। इसी दौरान जब पुलिस ने वन गार्ड रेणु बाला को निकाल ले जाने की कोशिश की तो लोग उनके वाहनों के सामने लेट गए। मामला बिगड़ता देख डीएसपी यादविन्दर सिंह और तहसीलदार परमजीत सिंह मौके पर पहुंचे और लोगों शांत कर वन अधिकारी को वहां से निकाला। वन गार्ड रेणु बाला ने कहा कि थाना प्रमुख के कहने पर ही हम सफेदे की बची लकड़ी को उठाने आए थे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *