News That Matters

नकली सामान से भारत को सालाना एक लाख करोड़ रु. का नुकसान




कई सेक्टर में नकली उत्पादों से देश को हर साल कुल एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान होता है। ऐसे में इसके बारे में पर्याप्त जागरुकता फैलाने, निगरानी करने और इसके खिलाफ समाधान विकसित करने की जरूरत है। यह बात प्रमाणन उद्योग संगठन एएसपीए ने कही। इस संगठन के 60 सदस्य हैं।

संघ ने ब्रांड, आय और दस्तावेजों की सुरक्षा के लिए सर्टिफिकेशन टेक्नोलॉजी और समाधान अपनाने पर जोर दिया। एएसपीए के अध्यक्ष नकुल पासरिचा ने कहा, ‘मौजूदा समय में नकली उत्पादों से देश को हर साल करीब 1.05 लाख करोड़ रुपए का नुकसान होता है। सर्टिफिकेशन सॉल्यूशन, जागरुकता और निगरानी का सही तरीके से पालन करके यदि नकली उत्पादों पर 50 फीसदी भी रोक लगा दी जाए जो देश को हर साल 50 हजार करोड़ रुपए की बचत हो सकती है।’

नकली उत्पादों का नुकसान झेलने वालों में दवा क्षेत्र प्रमुख है। इस बारे में पासरिचा ने कहा कि सरकार को इस संबंध में पर्याप्त कदम उठाने की जरूरत है क्योंकि नकली दवाइयां आम लोगों के स्वास्थ्य के लिए भी खतरा है। पासरिचा ने कहा कि पिछले कुछ सालों में दुनियाभर में होने वाले व्यापार में नकली सामानों की हिस्सेदारी बढ़ी है। अब इसकी हिस्सेदारी 3.3% है। उन्होंने कहा कि इस समय पर नकली उत्पादों पर रोक लगाने के लिए कई तरह की टेक्नोलॉजी उपलब्ध हैं। इनका पर्याप्त इस्तेमाल किया जाना चाहिए। जो टेक्नोलॉजी अभी भारत में नहीं है उसे जल्द से जल्द भारत लाया जाना चाहिए।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Dainik Bhaskar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *