News That Matters

Health

एक चम्मच शहद के साथ जल्द माेटापा घटाती हैं ये चीज

एक चम्मच शहद के साथ जल्द माेटापा घटाती हैं ये चीज

Health
माेटापा कम करने में शहद एक बेदह गुणकारी आैषधी के रूप में काम करता है।शहद में ग्लूकोज व अन्य शर्कराएं तथा विटामिन, खनिज और अमीनो अम्ल भी होता है जिससे कई पौष्टिक तत्व मिलते हैं।प्राचीन काल से ही शहद को एक जीवाणु-रोधी के रूप में जाना जाता रहा है।इसके साथ ही शहद में शरीर का माेटापा घटाने के प्राक्रतिक गुण भी हाेते हैं। शहद काे लहसुन, दूछ, छाछ आदि के साथ सेवन करने से चर्बी घटती है। ताे आइए जानते हैं शहद के साथ किन चीजाें के प्रयाेग से कम हाेगा माेटापा:- लहसुनएक चम्‍मच शहद में लहसुन की दो से तीन कलियों को पीसकर मिक्‍स कर लें। इसके बाद एक ग्‍लास गुनगुने पानी में मिलाकर पी जाएं। इसमें मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट्स पेट कम करने में मदद करता है। दूधएक ग्‍लास दूध में एक चम्‍मच शहद मिलाकर पीएं, इससे शरीर का मेटाबॉलिज्‍म बढ़ेगा और टमी कम होगा। छाछछाछ में शहद मिलाकर पीने से शरीर का
अमेरिकी युवाओं में ‘महामारी’ की तरह फैल रही है ये ‘लत’

अमेरिकी युवाओं में ‘महामारी’ की तरह फैल रही है ये ‘लत’

Health
अमेरिका के शिकागो शहर के युवाओं में ई-सिगरेट की लत की इतनी तेजी से फैल रही है अब इसे महामारी तक नाम दिया जाने लगा है। युवकों को अवैध तरीके से ई-सिगरेट बेचने के मामले में आठ ऑनलाइन खुदरा विक्रेताओं को... Live Hindustan Rss feed
भृंगराज, आंवला से करें बालों की देखभाल, चमक रहेगी बरकरार

भृंगराज, आंवला से करें बालों की देखभाल, चमक रहेगी बरकरार

Health
लम्बे स्वस्थ्य घने बाल हर किसी की सुंदरता में चार चांद लगाते देते हैं। लेकिन आज के प्रदूषण भरे माहाैल में बालाें की खूबसूरती बनाएं बनाए रखना एक मुश्किल काम हाे गया है। इसलिए आज हम आपकाे बताने जा रहे हैं कुछ खास हर्बल चीजाें के बारे में जिनके नियमित इस्तेमाल से आप अपने बालाें की खूबसूरती काे बरकारार रख सकते हैं।ताे अाइए जानते है क्या हैं वाे चीज :- भृंगराजइसे कई जादुई गुणों के कारण बालों के राजा के रूप में जाना जाता है। बालों को ठंडा रखने, बालों के विकास को बढ़ावा देने, प्रारंभिक ग्रेइंग को रोकने के साथ-साथ उनकी चमक बनाए रखने के लिए भृंगराज पुराने समय से उपयाेग में ला जाता रहा है। आंवलाविटामिन सी से भरपूर आंवला में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण भी हाेते हैं जाे बालाें काे प्राकृतिक रूप से मजबूत बनाए रखने में सहायक हैं। ब्राह्मीबालों के झड़ने की रोकथाम में मदद करता है और सिर में परिसंचरण सुधार करता है।
सर्दियाें में इस तरह रखेंगे अपना ध्यान ताे नहीं सताएगी खुजली

सर्दियाें में इस तरह रखेंगे अपना ध्यान ताे नहीं सताएगी खुजली

Health
खुजली की समस्या से कमोबेश सभी का कभी न कभी वास्ता पड़ता ही है। सबसे पहले जानना जरूरी है कि आखिर खुजली है क्या? दरअसल यह हमारी त्वचा की दर्द तंत्रिकाओं की उत्तेजना है।जब हमारी तंत्रिकाएं उत्तेजित होती हैं, तो हमें खुजलाहट का अनुभव होता है, इसमें दर्द का अहसास नहीं होता। त्वचा की दर्द तंत्रिकाएं उत्तेजित क्यों हो जाती हैं? इसके कई कारण हो सकते हैं और कई बार तो खुजली के विचार से ही खुजलाहट होने लगती है। आइए जानते हैं इसके प्रमुख कारणों के बारे में- कारणकिसी खाद्य पदार्थ या दवा से एलर्जी, त्वचा का रूखा होना, ठीक से न नहाना, गंदे कपड़े पहनना, किसी विष का प्रभाव, रंगों से किसी तरह की एलर्जी, गुर्दे की कोई बीमारी, कैंसर, छपाकी ( शरीर पर लाल धब्बे उभरना ), मच्छर या अन्य कीट के काटने पर, कोई चर्म रोग या पेट में कीड़े होने पर खुजली की समस्या हो सकती है। प्रभावकई बार एक स्थान पर खुजलाने से थोड़ी सी र
सर्दियाें में एेसे करें मॉर्निंग वॉक की तैयारी, नहीं हाेगी काेर्इ परेशानी

सर्दियाें में एेसे करें मॉर्निंग वॉक की तैयारी, नहीं हाेगी काेर्इ परेशानी

Health
सर्दी के इस मौसम में मॉर्निंग वॉक और रनिंग करने के साथ-साथ सेहत को फिट बनाए रखना एक चुनौती बन जाता है। फिटनेस एक्सपर्ट किरन साहनी के अनुसार कुछ चीजों का ख्याल रखकर हम इस मौसम में सर्दी को आसानी से मात दे सकते हैं। ज्यादा कपड़े न पहनेंअधिकतर लोग सर्दी से बचने के लिए एक के ऊपर एक गर्म कपड़े पहन लेते हैं और जब रनिंग शुरू करते हैं तो गर्मी लगते ही परेशान हो जाते हैं। इसलिए एक अच्छा गर्म इनर वियर और ट्रैक सूट पहनें, गले को पूरी तरह कवर करें, कैप और ग्लव्स पहनकर ही बाहर निकलें। वॉर्म अप जरूर करें अब कम कपडों के साथ बाहर निकलेंगे तो सर्दी लगने का डर बना रहेगा। इसलिए घर में ही थोड़ा वॉर्म अप कर शरीर को गर्म कर लें, इससे शरीर की अकडऩ भी दूर हो जाएगी। घास या मैदान में दौड़ेंबेहतर ग्रिप वाले और कुशनिंग स्पोट्र्स शू पहनें क्योंकि साधारण शूज रनिंग के दौरान बॉडी वेट को झेल नहीं पाते, जिससे नी जोइंटस मेे
हरी पत्तियां चबाएं, लहसुन की बदबू भगाएं

हरी पत्तियां चबाएं, लहसुन की बदबू भगाएं

Health
लहसुन खाने के बाद इसकी गंध से लोग अक्सर परेशान होते हैं। दरअसल लहसुन में मौजूद सल्फर कंपाउंड सिर्फ मुंह में ही नहीं घुलते बल्कि पेट में जाकर फेफड़ों व त्वचा में भी घुस जाते हैं, जिससे व्यक्ति के शरीर से गंध आने लगती है। इससे बचने के लिए अपनाएं ये उपाय। हरी पत्तियां चबाएं:लहसुन खाने के बाद अजवाइन, तुलसी, पुदीना या धनिए की पत्तियां चबा कर खाएं। इनमें मौजूद क्लोरोफिल व पोलीफेनॉल्स सल्फर कंपाउंड की गंध को खत्म करते हैं। दूध पीएं: खाने से पहले या बाद में दूध पीने से लहसुन की गंध दूर होती है। दूध में मौजूद पानी माउथ वॉश का काम करता है। ग्रीन टी लें:ग्रीन टी पीएं इसमें मौजूद पोलीफेनॉल लहसुन की गंध को दूर करने में मदद करते हैं। मशरुम खाएं:अपने टमाटर सॉस में मशरुम पीस कर डालें। मशरुम में मौजूद पोलीफेनॉल किसी भी दूसरे तत्व से ज्यादा प्रभावशाली तरीके से लहसुन की गंध को दबाने की क्षमता रखते हैं। Patr
पोषक तत्वों से भरी हाे आपकी डाइट, तभी हाेगा सेहत का संपूर्ण विकास

पोषक तत्वों से भरी हाे आपकी डाइट, तभी हाेगा सेहत का संपूर्ण विकास

Health
अच्छी सेहत के लिए खानपान की बात की जाएं ताे आपके लिए ये जरूरी हाे जाता है कि आपके भाेजन में सभी पाेषक तत्वाें का समावेश हाे। आपकी डार्इट फाॅॅॅलिक एसिड, मैगनीशियम, जिंक आैर अन्य पाेषक तत्व सही मात्रा में हाेने चाहिए।ताे आइए जानते है आपके लिए क्या खाना जरूरी आैर क्याें:- फॉलिक एसिड क्यों जरूरी : नई कोशिकाओं और लाल रक्तकोशिकाओं के निर्माण के लिए। नवजात शिशुओं में इसकी कमी से स्पाइनल कॉर्ड की परेशानी हो सकती है। कितना जरूरी मल्टी विटामिन, जिनमें 0.0004 ग्राम फॉलिक एसिड होता है। अधिकतम 0.0001 ग्राम फॉलिक एसिड ले सकते हैं। कहां मिलेगा हरी पत्तेदार सब्जियां,ब्रेड, राजमा, दालें और अनाज। मैगनीशियम क्यों जरूरी मैगनीशियम शरीर में 300 से ज्यादा बायोकैमिकल प्रतिक्रियाएं करता है, जिनमें सबसे अहम है कि हम जो भोजन करते हैं, उससे ऊर्जा का उत्पादन। कितना जरूरी महिलाओं के लिए करीब 0.3 ग्राम और पुरुषों के लिए
बच्चों के लिए फायदेमंद हाेता है पार्क में खेलना

बच्चों के लिए फायदेमंद हाेता है पार्क में खेलना

Health
बालरोग विशेषज्ञों के अनुसार ज्यादातर माता-पिता 'गंदा' या अस्वस्थ होने के डर से अपने बच्चों को पार्क या बगीचे में खेलने से रोकते हैं, लेकिन उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए। आउटडोर गेम बच्चों के शरीर को मजबूत बनाने के साथ-साथ उनकी रचनात्मक शक्ति को भी बढ़ाते हैं।साथ ही मिट्टी में सिर्फ संक्रमण फैलाने ही नहीं बल्कि हैल्थ-फ्रैंडली बैक्टीरिया भी होते हैं, जो बच्चों के तन और मन को फायदा पहुंचाते हैं। मिट्टी और खुली जगह में मस्ती के साथ खेलने वाले बच्चों का इम्यून सिस्टम मजबूत हो जाता है और वे बीमारियों से लड़ने की अधिक क्षमता रखते हैं। डॉक्टरी रायकई बार माता-पिता देखभाल के नाम पर ओवर प्रोटेक्ट करने लगते हैं जैसे बच्चे का चम्मच बार-बार धोना, जमीन पर न खेलने देना इससे बच्चे का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। जमीन पर चलने, बगीचे और खुले वातावरण में खेलने से बच्चे का शारीरिक व मानसिक विकास होता है। Patrika
टखनों, पैरों, पेट में सूजन व लगातार थकान तो कराएं डायबिटीज की जांच

टखनों, पैरों, पेट में सूजन व लगातार थकान तो कराएं डायबिटीज की जांच

Health
डायबिटीज में मरीजों को टखनों, पैरों और पेट में सूजन, लगातार थकान महसूस होना, अनियांत्रिक ग्लूकोज स्तर, सांसों की कमी जैसे लक्षणों को लेकर सजग रहना चाहिए। देश में करीब 7.20 करोड़ लोग डायबिटीज से पीडि़त हैं। टाइप-2 डायबिटीज के 70 फीसदी से ज्यादा मरीज की मौत हृदयधमनी रोगों के कारण होती है। वैश्विक मेडिकल पत्रिका, लांसेट में प्रकाशित एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार भारतीय लोगों के कार्डियो वस्कुलर डिजीज (सीवीडी) में 50 फीसदी की वृद्धि हुई है। डायबिटीज के मरीजों में अक्सर हार्ट फेलियर के लक्षण पता नहीं चल पाते क्योंकि डायबिटीज के उपचार के कारण ये लक्षण दब जाते हैं। इसके चलते निदान में विलम्ब हो सकता है और डॉक्टर से मिलते-मिलते हार्ट फेलियर का रोग उन्नत अवस्था में पहुंच सकता है। ऐसी स्थिति में अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है। विश्व मधुमेह दिवस (14 नवंबर) के अवसर पर मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल ते इ
Weight loss : एक गोली छह महीने में छह किलो वजन करेगी कम

Weight loss : एक गोली छह महीने में छह किलो वजन करेगी कम

Health
वजन घटाने की कोशिशों में जुटे लोगों के लिए एक खुशखबरी है। मोटापे पर काबू पाने के लिए अब आपको न तो जिम में घंटों पसीना बहाना होगा, न ही पसंदीदा मिठाई या फास्टफूड से दूरी बनाने की जरूरत पड़ेगी। खाने से... Live Hindustan Rss feed