News That Matters

Tag: अस्पताल

गंभीर हालत में मिले व्यक्ति की अस्पताल में मौत, नहीं हुई शिनाख्त

गंभीर हालत में मिले व्यक्ति की अस्पताल में मौत, नहीं हुई शिनाख्त

Haryana
सरस्वतीनगर निवासी जसकीरत सिंह ने बताया कि उनकी गांव मघरपुर में आसरे दा आसरा नाम से संस्था है। 14 अप्रैल को वैशाखी वाले दिन गुरुद्वारा से लंगर एकत्रित कर आ रहे थे। जब वह अम्बाला कैंट गेट के पास बस अड्डे पर पहुंचे, तो वहां पर एक व्यक्ति उल्टियां कर रहा था। उसकी हालत खराब थी। वहां से वह उस व्यक्ति को साथ लेकर सरस्वतीनगर के अस्पताल में आ गए। यहां पर उसे दवाई दिलवाई। अगले दिन डॉक्टरों ने उस व्यक्ति को यमुनानगर के लिए रेफर कर दिया। रविवार को उनके पास अस्पताल से फोन आया कि उक्त व्यक्ति की मौत हो गई है। इसका नाम व पता भी हमें मालूम नहीं है। अस्पताल से रूक्का मिलने के बाद पुलिस ने शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम हाउस में रखवा दिया। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
रेडियोग्राफर का पद रिक्त, अस्पताल में सिर्फ 2 दिन होते हैं एक्स-रे, मरीजों को होती है परेशानी

रेडियोग्राफर का पद रिक्त, अस्पताल में सिर्फ 2 दिन होते हैं एक्स-रे, मरीजों को होती है परेशानी

Haryana
नागरिक अस्पताल में नई मशीन आने के बाद यहां पर रेडियोग्रॉफर का पद रिक्त होने से भी इस मशीन का फायदा लोगों को नहीं मिल रहा है। जींद से दो दिन सोमवार, मंगलवार को ही यहां रेडियोग्रॉफर आता और एक्सरे होते हैं। इससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मरीज यहां पर रेडियोग्राफर की नियुक्ति करने की मांग कर चुके है। लेकिन इसके बाद भी इस समस्या का कोई समाधान नहीं हो पाया। ग्रामीण सुनील, राकेश, बलवान, पवन ने कहा कि नागरिक अस्पताल में डॉक्टरों के पद तो रिक्त है ही रेडियोग्रॉफर का पद भी रिक्त होने से जिन मरीजों को एक्सरे उतरवाना होता है उसे प्राइवेट अस्पतालों में जाना पड़ता है। यहां पर नई मशीन बार-बार मांग के बाद आ चुकी है लेकिन सोमवार, मंगलवार को छोड़ कर एक्सरे यहां पर नहीं किया जाता है। स्वास्थ्य सेवाओं का फायदा मरीजों को नहीं मिल रहा क्यों यहां पर स्वीकृत अधिकांश पद रिक्
ससुराल में आए मनीमाजरा के व्यक्ति ने निगला जहर, अस्पताल में तोड़ा दम

ससुराल में आए मनीमाजरा के व्यक्ति ने निगला जहर, अस्पताल में तोड़ा दम

Haryana
40 वर्षीय आशीष का प|ी से बताया जा रहा विवाद, दंपती के पास दो बच्चे भास्कर न्यूज | यमुनानगर ससुराल में आए व्यक्ति ने जहरीला पदार्थ निगल लिया। इससे उसकी हालत खराब हो गई। परिजन उसे ट्रॉमा सेंटर में लेकर पहुंचे। यहां पर उसकी हालत गंभीर देखते हुए पीजीआई रेफर दिया। जहां उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस के अनुसार 40 वर्षीय आशीष मनीमाजरा का रहने वाला था। उसकी साल 2012 में गांधी नगर निवासी महिला से शादी हुई थी। शादी के बाद उनके पास दो बच्चे हुए थे। उसकी प|ी अपने मायके आई हुई थी। वह भी यहां पर आ गया। उसने यहां पर किसी बात से परेशान होकर जहरीला पदार्थ निगल लिया और उसकी मौत हो गई। गांधी नगर चौकी इंचार्ज ने बताया कि इस मामले में पुलिस ने मृतक के परिजनों ने किसी पर कोई आरोप नहीं लगाया है। इसलिए 174 की कार्रवाई की। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Toda
डॉक्टर से मारपीट पर अस्पताल को दर्ज करानी होगी एफआईआर

डॉक्टर से मारपीट पर अस्पताल को दर्ज करानी होगी एफआईआर

Delhi
नई दिल्ली| दिल्ली के सरकारी अस्पताल परिसर में डॉक्टर के साथ मारपीट होने पर चिकित्सा अधिकारी/प्रबंधन को एफआईआर दर्ज कराना होगा। अस्पताल डॉक्टर को एफआईआर दर्ज कराने नहीं भेज सकेंगे। इस संबंध में मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव संजीव खिरवार ने निर्देश जारी कर दिए है। इस आदेश में सभी अस्पताल और इंस्टीट्यूशन के एचओडी को निर्देश दिए गए हैं कि अस्पताल परिसर में डॉक्टर या स्टाफ के साथ मरीज या उसके परिजनों द्वारा मारपीट या दुर्व्यवहार पर एफआईआर दर्ज कराने की जिम्मेदारी संबंधित अस्पताल के एचओडी की होगी। इसमें साफ लिखा है कि अस्पताल प्रबंधन डॉक्टर/पैरामेडिकल स्टाफ/नर्सिंग या प्रशासनिक स्टाफ को अकेले एफआईआर या शिकायत देने नहीं भेज सकता। आदेश के अनुसार कार्रवाई नहीं होने पर संबंधित अस्पताल के एचओडी/एमएस जिम्मेदार होंगे। वहीं, आदेश का दिल्ली मेडिकल काउंसिल के अध्यक्ष डॉ. अर
यूएई में डॉ. दहिया ने बताया- हमने सिविल अस्पताल में न्यू बोर्न केयर यूनिट खोल बचाई 4500 बच्चों की जान

यूएई में डॉ. दहिया ने बताया- हमने सिविल अस्पताल में न्यू बोर्न केयर यूनिट खोल बचाई 4500 बच्चों की जान

Haryana
सिविल अस्पताल के एमएस एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. विजय दहिया आबुधाबी (यूएई) में हुई इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेकर लौट आए। देश से इस कॉन्फ्रेंस में डॉ. विजय दहिया ही गए थे। उन्होंने बताया कि कॉन्फ्रेंस में उन्होंने समय पूर्व जन्में नवजात बच्चों की मृत्यु दर को कम करने के संबंधित विषय पर अपना व्याख्यान किया। उन्होंने बताया कि समय पूर्व जन्में नवजात शिशुओं के जीवित रहने में एक बड़ा जोखिम होता है। हमने सिविल अस्पताल यमुनानगर में स्पेशल स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट को बनाई। आठ साल में यहां पर करीब 4867 नवजात एडमिट हुए। इनमें से 3412 का यहां पर इलाज किया गया। वहीं 1247 को रेफर करना पड़ा। वहीं इन आठ साल में यहां पर भर्ती 208 नवजात की मौत हुई है। जिला स्तर पर इस तरह की यूनिट और इतनी संख्या में बच्चों के ट्रीटमेंट की बात सुनकर विदेशी डॉक्टर भी हैरान हुए। डॉ. दहिया ने बताया क
उचाना अस्पताल में 1 साल से नहीं है महिला डॉक्टर

उचाना अस्पताल में 1 साल से नहीं है महिला डॉक्टर

Haryana
बीते एक साल से नागरिक अस्पताल में महिला डॉक्टर न होने के चलते मरीजों को परेशानी हो रही है। महिलाओं को जींद, नरवाना नागरिक अस्पताल के अलावा प्राइवेट क्लीनिकों में जाना पड़ रहा है। महिलाओं ने स्वास्थ्य विभाग से मांग की है कि नागरिक अस्पताल में महिला डॉक्टर की नियुक्ति की जाए। ताकि जींद, नरवाना महिलाओं को न जाना पड़े। महिला डॉक्टर जाने के बाद यहां पर गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी की संख्या भी कम हो रही है। हर रोज 150 से अधिक ओपीडी अस्पताल में महिलाओं की होती है। यहां पर महिला मरीजों को डॉक्टर न होने से जींद, नरवाना जाना पड़ रहा है। नवंबर 2017 से लेकर मार्च 2018 तक यहां पर महिला डॉक्टर की नियुक्ति हुई थी। हर महीने 150 के आसपास गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी होने लगी थी। महिला डॉक्टर के जाने के बाद यहां पर अब 30 से 35 गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी हो रही है। बबीता, संतरो, रामरति अाैर
सिविल अस्पताल कैंप में 20 यूनिट खून जुटाया

सिविल अस्पताल कैंप में 20 यूनिट खून जुटाया

Punjab
तरनतारन | इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी की ओर से सिविल अस्पताल तरनतारन में खूनदान कैंप लगाया गया। इसमें नौजवानों ने बड़े उत्साह के साथ हिस्सा लिया। इस मौके पर डॉ. शाम सुंदर डायरेक्टर नेहरू युवा केंद्र जम्मू-कश्मीर और नेहरू युवा केंद्र तरनतारन के यूथ को-आर्डिनेटर करम सिंह गिल ने मुख्य मेहमान के रूप में शिरकत की। उन्होंने कहा कि खूनदान सबसे उत्तम दान है, क्योंकि जरूरत पड़ने पर दान किए खून से कई इंसानों की जिंदगियां बचाई जा सकती हैं। इसलिए लोगों को खूनदान कैंप में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए। इस दौरान ब्लड बैंक तरनतारन की इंचार्ज डॉ. रेखा राणा ने जानकारी दी। कैंप में दानियों की तरफ से 20 यूनिट खून एकत्रित किया गया। इसी के चलते खूनदान करने वाले दानियों को सर्टिफिकेट दिए गए। इस मौके पर सुरजीत सिंह, संजय राणा, मनदीप सिंह, पवनप्रीत कौर, मुनीश कुमार के अलावा अन्य मेंबर मौजूद थे। D
गोहाना अस्पताल में 18 बेड की बनेगी एसएनसीयू

गोहाना अस्पताल में 18 बेड की बनेगी एसएनसीयू

Haryana
स्वास्थ्य सुविधाओं से जुड़ी मरीजों के लिए दो राहत की खबर हैं। नागरिक अस्पताल सोनीपत में री-विजिट के लिए अब डेढ़ घंटा लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। इसका समाधान कर दिया गया है। अस्पताल में इसके लिए अलग से काउंटर बनाया गया है। अब मरीज इस काउंटर पर जाकर अपनी रजिस्ट्रेशन पर्ची पर नंबर लगवा सकेगा। इसके साथ गोहाना के अस्पताल में 18 बेड की एसएनसीयू की प्लानिंग को भी हरी झंडी मिल गई है। अब गोहाना के बच्चों को नर्सरी की सुविधा व आईसीयू के लिए सोनीपत नागरिक अस्पताल में या फिर मेडिकल काॅलेज की तरफ नहीं दौड़ना पड़ेगा। यह मिलेगी सुविधा अस्पताल में मरीज इलाज के लिए आता है तो वह रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद ही ओपीडी में डाॅक्टर को दिखा पाता है और दवा ले पाता है। दवा लेने के अगले दिन मरीज को आराम नहीं लगा और उसे दोबारा अस्पताल आना पड़ जाए तो अभी तक लंबी लाइन में लगना पड़ता था। इसके कारण मरीज काे
3 माह में एसएमएस अस्पताल में खुलेगा स्किन बैंक, बर्न केसों में बचेगी जान

3 माह में एसएमएस अस्पताल में खुलेगा स्किन बैंक, बर्न केसों में बचेगी जान

Rajasthan
जयपुर (संदीप शर्मा).आर्गन बैंक यानि खुशियों का बैंक...। ये बैंक उन अंगों के लिए हैं जो किसी को नई जिंदगी देने में मददगार होंगे। अभी प्रदेश में ब्लड और आई बैंक ही हैं। जल्द ही यहां स्किन बैंक भी खुल जाएगा जो बर्न केस में जिंदगी बचाने में मदद करेगा। उम्मीद है तीन महीने में एसएमएस अस्पताल में स्किन बैंक खुल जाएगा। इसके लिए नौ माह से तैयारी चल रही है। यहां डोनेट की हुई स्किन रखी जा सकेगी। हालांकि, सरकार और चिकित्सा विभाग की लापरवाही तथा एसएमएस मेडिकल कॉलेज की अनदेखी के चलते स्टेम सेल बैंक पहले बंद हो चुका है। ऑर्गन बैंक पर भास्कर की विशेष रिपोर्ट...।1. जिंदगी बचाएगा स्किन बैंकबर्न केसेज में स्किन बैंक जीवनदाता बनेगा। सरकार की कोशिश है तीन माह में एसएमएस अस्पताल में स्किन बैंक बना दिया जाए। इसके लिए जगह और वर्क प्लान भी तैयार है। प्लास्टिक सर्जरी विभाग के यूनिट हेड एवं सीनिय
दो अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत, एक घायल अस्पताल में भर्ती

दो अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत, एक घायल अस्पताल में भर्ती

Rajasthan
अजमेर. यहां ब्यावर के पास हुए दो अलग-अलग हादसों में तीन लोगों की मौत हो गई। वहीं, एक घायल बताया जा रहा है। पहला हादसा सुबह नाहरपुरा चौराहे के पास हुआ। जहां एक ट्रक और वैन की टक्कर में दो लोगों की मौत हो गई। दूसरा हादसा झाला की चोकी के पास हुआ। जिसमें बाइक सवार एक पति-पत्नी को डंपर ने अपनी चपेट में ले लिया। जिससे पति की मौके पर ही मौत हो गई।जानकारी अनुसार, सुबह ब्यावर के नेशनल हाइवे पर नाहरपुरा चौराहे के पास एक वैन में सवार दो लोगों को ट्रक ने टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भीषण थी की दोनों वैन के अंदर ही फंस गए। काफी मेहनत के बाद दोनों को वैन से बाहर निकाला गया, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। मृतकों के नाम नहारपुरा निवासी नर्मदा देवी (25) और फतेहसिंह(28) बताए जा रहे हैं।वहीं, दूसरा हादसा शहर से दूर झाला की चोकी के पास हुआ। जिसमें बाइक सवार दंपत्ति को एक ड्ंपर ने अपनी चपेट म