News That Matters

Tag: आसन

गरीबों को मुफ्त में रसोई गैस देने की उज्जवला योजना का तीसरा साल, दोबारा सिलेंडर लेना हुआ आसन

India
पेट्रोलियम मंत्रालय का दावा है कि उज्जवला योजना के तहत कनेक्शन लेने वालों में से 80 फीसद से ज्यादा लोगों ने दोबारा रीफिल करवाया। Jagran Hindi News - news:national
बीमारी के बाद की कमजोरी दूर करे राजा रानी आसन

बीमारी के बाद की कमजोरी दूर करे राजा रानी आसन

Health
किसी भी प्रकार की चोट, रोग या सर्जरी के कुछ दिनों बाद विशेषज्ञ मरीज को हल्का योग करने की सलाह देते हैं जिससे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़कर स्फूर्ति आए। जानते हैं ऐसे ही योगासन के बारे में:- राजा रानी आसन :सीधे लेटकर पैरों के तलवों को जमीन पर टिकाएं व दोनों हाथ कंधों के बराबर ऊंचाई में फैलाएं। इसके बाद गर्दन को बाएं घुमाकर घुटनों को दायीं ओर ले जाएं। 10-15 सेकंड के लिए इसी अवस्था में रहें। अब यही प्रक्रिया दूसरे पैर से दोहराएं। इसे 5-6 बार करें। लाभ : रीढ़ को लचीला बनाकर स्फूर्ति प्रदान करता है। गोमुखासन :कमर को सीधा कर बैठें। बाएं पैर को मोड़कर दाएं पैर के कूल्हे के नीचे व दाएं पैर को बाएं पैर के ऊपर रखकर पीछे की ओर ले जाएं। अब दाएं हाथ को कोहनी से मोड़ते हुए गर्दन से पीठ की तरफ लाएं। बांए हाथ को कमर के पीछे से घुमाते हुए दाएं हाथ को पकड़ने की कोशिश करें। पुन: दूसरे हाथ से इसका प्रया
मोटापा कम करने, कंधों में अकड़न और कमरदर्द के लिए लाभदायक है ये आसन

मोटापा कम करने, कंधों में अकड़न और कमरदर्द के लिए लाभदायक है ये आसन

Health
अगर आप कंधों में दर्द या सर्वाइकल की समस्या से परेशान हैं तो ऊष्ट्रासन लाभकारी हो सकता है। जानिए इसके बारे में। लाभ : कंधों में अकड़न, कमरदर्द, अस्थमा, सांस संबंधी अन्य रोग, और मोटापा कम करने में यह आसन लाभकारी है। ऐसे करें : सबसे पहले वज्रासन में बैठें फिर घुटनों के बल खड़े हो जाएं। सांस भरते हुए दाएं हाथ को ऊपर की ओर उठाएं। सांस छोड़ते हुए पीछे की तरफ मुड़ें व हथेली से दाएं पैर की एड़ी को पकड़ें। यही क्रम दूसरे हाथ के साथ दोहराएं। दोनों हाथों से पैरों की एडिय़ों को पकड़े होने की स्थिति में क्षमतानुसार रुकें। फिर वापस सामान्य मुद्रा में आ जाएं। अभ्यास : इसे 4-5 बार दोहराएं। दोनों एड़ियों को पकड़ने की स्थिति में 30 सेकंड से 3 मिनट तक रुकने का प्रयास करें। सही समय : यह आसन सुबह के समय खाली पेट या भोजन के 3 घंटे बाद किया जा सकता है। ध्यान रहे : जोड़ों में दर्द होने पर इसे करते समय घुटनों के
अगर आप भी रहते हैं उदासी और तनाव में तो करें ये आसन

अगर आप भी रहते हैं उदासी और तनाव में तो करें ये आसन

Health
रोजाना चिड़चिड़े, उदास या तनाव में रहते हैं और हार्मोंस संबंधी समस्या भी है तो ऐसे में विपरीतकरणी मुद्रासन लाभकारी हो सकता है। आइए जानते हैं इसके बारे में। लाभ : यह आसन निम्न रक्तचाप, पैरों में सूजन, नाड़ी के रोग, ग्रंथि की सक्रियता में कमी, पेट व किडनी संबंधी रोगों में आराम पहुंचाकर ऊर्जा और रक्त संचार को बढ़ाता है। ऐसे करें : पीठ के बल सीधे लेटें। दोनों हाथों को सीधा रखें। सांस लेते हुए घुटनों को ऊपर की ओर मोड़ें। दोनों हाथों को कूल्हों के नीचे लाएं व कोहनी को फर्श पर टिका कर रखें। अब हाथों की सहायता से पैरों को ऊपर की तरफ सीधा उठाएं। सामान्य सांस लेते हुए क्षमतानुसार रुकें। सांस छोड़ते हुए घुटनों को माथे की ओर मोड़ें व धीरे-धीरे सामान्य मुद्रा में आ जाएं। इसे 2-3 बार दोहराएं। सावधानी : 14 साल से कम उम्र के बच्चे ये अभ्यास न करें। इसे सुबह खाली पेट करें। ध्यान रहे : उच्च रक्तचाप, चक्कर आ
कमरदर्द के लिए फायदेमंद है ये आसन

कमरदर्द के लिए फायदेमंद है ये आसन

Health
अगर आप रोज-रोज के कमरदर्द से परेशान हैं तो सेतुबंधासन आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। जानते हैं इसके बारे में। लाभ : कमरदर्द, पीठ में अकडऩ, थायरॉइड, पेट के निचले हिस्से में दर्द और गर्भवती महिलाओं के लिए यह आसन लाभकारी है। ऐसे करें : सबसे पहले पीठ के बल सीधे होकर लेट जाएं। घुटनों को मोड़ लें। दोनों हाथों को सीधा रखकर हथेलियों को जमीन पर टिकाएं। अब कमर के निचले हिस्से को सांस भरते हुए ऊपर की तरफ उठाएं। क्षमतानुसार थोड़ा रुकें व सांस को रोककर रखें। फिर सांस को छोड़ते हुए धीरे-धीरे वापस मुद्रा में आ जाएं। इस क्रम को 2-5 बार दोहराएं। सावधानी : नौ साल से कम उम्र के बच्चे इसे न करें। आमतौर पर इसे सुबह खाली पेट करना बेहतर है। अधिक परेशानी होने पर दिन में दो बार भी किया जा सकता है। इसे दूसरी बार खाने के करीब तीन घंटे बाद ही करें। ध्यान रहे : सर्वाइकल की समस्या व चक्कर आने की स्थिति में अभ्यास
पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए इस आसन में बैठें

पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए इस आसन में बैठें

Health
वज्रासन एक ऐसा आसन है जो किसी भी समय किया जा सकता है। लेकिन इसका सबसे ज्यादा लाभ खाना खाने के बाद होता है। यह आसन, पाचनक्रिया के साथ-साथ सांस संबंधी, मोटापे और मानसिक रोगों में उपयोगी होता है। साथ ही इससे कमरदर्द में भी आराम मिलता है। ऐसे करें यह आसन - घुटनों को मोड़कर पंजों के बल सीधा बैठें। दोनों पैरों के अंगूठे आपस में मिलने चाहिए और एडिय़ों में थोड़ी दूरी होनी चाहिए। शरीर का सारा भार पैरों पर रखें और दोनों हाथों को जांघों पर रखें। कमर से ऊपर का हिस्सा बिल्कुल सीधा हो और इस अवस्था में लंबी सांस लें। यह आसन 10 मिनट तक कर सकते हैं। कौन न करें - खाने के तुरंत बाद वज्रासन की मुद्रा में बैठने से पाचनक्रिया सही रहती है। इससे हृदय पर दबाव नहीं रहता और रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है। लेकिन जिन लोगों को जोड़ों का दर्द, गठिया रोग या पैर का किसी भी प्रकार का ऑपरेशन हुआ हो, वे ये आसन न करें। Patrika :
Baba Ramdev Yoga Tips : डायबिटीज और पेट की बीमारियों को दूर रखने में मदद करेंगे ये 2 आसन, देखें Video

Baba Ramdev Yoga Tips : डायबिटीज और पेट की बीमारियों को दूर रखने में मदद करेंगे ये 2 आसन, देखें Video

Health
डायबिटीज और पेट की बीमारी एक दूसरे से जुड़े हुए तो नहीं हैं, मगर बड़ी संख्या में लोग इनसे जूझ रहे हैं। डायबिटीज एक गंभीर समस्या है और इससे बड़ी पैमान पर लोग प्रभावित हैं। पेट की बीमारियों का जहां तक... Live Hindustan Rss feed
Baba Ramdev Yoga Tips : भुजंगासन से कम होगी बाहर निकली तोंद, Video में देखिए आसन करने का सही तरीका

Baba Ramdev Yoga Tips : भुजंगासन से कम होगी बाहर निकली तोंद, Video में देखिए आसन करने का सही तरीका

Health
योग न सिर्फ व्यायाम की प्राचीन पद्धति है बल्कि यह कई बीमारियों का समाधान भी है। इन्हें करने से हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है और लचीलापन भी बढ़ता है। कई प्रमुख योगासनों में से एक है भुजंगासन। इसे करने... Live Hindustan Rss feed
Health Tips : बाबा रामदेव के Video में देखें ये 5 आसन, गायब हो जाएगा बाहर निकला पेट

Health Tips : बाबा रामदेव के Video में देखें ये 5 आसन, गायब हो जाएगा बाहर निकला पेट

Health
हमारी लाइफस्टाइल जैसी है, उसका सबसे ज्यादा असर पेट पर पड़ रहा है। इसकी वजह से ज्यादातर लोगों का पेट निकला रहता है। इस समस्या से निपटने के लिए योग गुरु बाबा रामदेव के बताए योगा के ये 5 आसन आपकी मदद कर... Live Hindustan Rss feed

आसन एक लेकिन इसके फायदे अनेक हैं, जी हां यही हैं पर्यंकासन की खूबियां…

India
इस आसन से पीठ में खिंचाव के कारण फेफड़े सशक्त होते हैं। इस कारण सांस संबंधी रोग दूर करने में मदद मिलती है। अधिक ऑक्सीजन मिलने के कारण फेफड़े स्वस्थ रहते हैं। Jagran Hindi News - news:national