News That Matters

Tag: आैर

रखेंगे इन बाताें का ध्यान ताे त्वचा रहेगी खूबसूरत आैर जवान

रखेंगे इन बाताें का ध्यान ताे त्वचा रहेगी खूबसूरत आैर जवान

Health
अनियमित दिनचर्या, गड़बड़ खानपान आैर उचित देखभाल के कारण कर्इ बार हमारी त्वचा बेजान हाे जाती है। जिसकी वजह से हम उम्र से पहले ही उम्रदराज दिखने लगते हैं। अगर हम चाहे ताे इस पर काबू पा सकते हैं। इसके लिए हमें डेली रूटीन में कुछ खास बाताें का ध्यान रखना हाेगा।आइए जानते क्या हैं वाे बातें जिनका ध्यान रखकर हम अपनी त्वचा की खूबसूरती काे बरकरार रख सकते है:- - तय करें कि आप हमेशा साेने से पहले अपना मेकअप को हटा दें। हमारी त्वचा को रात भर सांस लेने की जरूरत हाेती है इसलिए जरूरी है कि त्वचा के राेमछिद्र खुले रहें। अगर आप रात काे मेकअप नहीं हटाएंगे ताे रोम छिद्र बंद रहेंगे जिससे ब्लैकहेड्स हो सकते हैं। मेकअप हटाने के लिए आपकाे रिमूवर की जरूरत नहीं हैं। बस एक कपास पैड पर जैतून के तेल की कुछ बूंद डालें और अपने चेहरे पर धीरे से तेल की मालिश करें। इससे चेहरे का मेकअप और गंदगी उतर जाएगी। - सप्ताह में कम स
अदरक खाएं, डायबिटीज आैर बदहजमी से छुटकारा पाएं

अदरक खाएं, डायबिटीज आैर बदहजमी से छुटकारा पाएं

Health
डायबिटीज में सबसे बड़ी परेशानी ये होती है कि कोशिकाएं खाना पचने के बाद शरीर में बनने वाली शुगर को अवशोषित नहीं कर पाती। इससे शरीर में इंसुलिन की कमी होती है। सिडनी यूनिवर्सिटी के शोध में पाया गया है कि अदरक शरीर में शुगर को अवशोषित करने में मदद करती है। मोतियाबिंद से बचावडायबिटीज के रोगियों के साथ एक बड़ा खतरा आंखों की रोशनी जाने का भी होता है। ऐसे रोगी मोतियाबिंद के शिकार हो सकते हैं व धीरे-धीरे भी उनकी आंखों की रोशनी जा सकती है। लेकिन डायबिटीज व अदरक पर हुए शोध के मुताबिक अदरक के अर्क का सेवन न सिर्फ मोतियाबिंद रोकता है बल्कि इससे पीडि़त मरीजों में इस रोग को बढऩे नहीं देता। पाचन दुरुस्त करता हैटाइप-2 डायबिटीज में पेंक्रियाज शरीर की जरूरत के मुताबिक इंसुलिन नहीं बना पाता। इंसुलिन बनाने के अलावा पेंक्रियाज का पाचन में भी अहम रोल होता है। अदरक न सिर्फ डायबिटीज को काबू में रखता है बल्कि पाचन
एक्सपर्ट से जानिए कमजाेरी, याददाश्त आैर जोड़ दर्द जैसी समस्या से जुड़े सवालों के जवाब

एक्सपर्ट से जानिए कमजाेरी, याददाश्त आैर जोड़ दर्द जैसी समस्या से जुड़े सवालों के जवाब

Health
सवाल - कुछ दिनाें से कमजाेरी महसूस हाे रही है। इलाज कराने पर काेर्इ फायदा नहीं हुआ ताे डाॅॅॅक्टर बदल लिया। फिर भी अच्छा महसूस नहीं कर रहा हूं।काेर्इ उपाय बताएं। - पवन जवाब - कमजाेरी का संबंध कर्इ वजहाें से हाेता है।यदि बुखार के बाद की कमजाेरी है ताे यूनानी में खमीरा मरमरीज या खमीरा राउजबान सादा ले सकते हैं। ये दाेनाें खमीरे कमजाेरी दूर करने में बहुत अच्छा काम करते हैं।इसके साथ अलावा उन्नाब का शरबत लेना भी फायदेमंद रहता है। सवाल - अच्छी तरह से पढ़ार्इ हाे इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए?- दर्शक जवाब- दिमागी ताैर पर काम करने वालाें आैर पढ़ार्इ करने वालाें की याददाश्त अच्छी हाेनी चाहिए। याददाश्त बढ़ाने के लिए अखराेट का हलावा, बादाम का हलवा, काजू, खसखास(अफीम के बीज)लाभदायक हाेते हैं। अगर आपकाे अपनी याददाश्त तेज करनी है ताे ये नुस्खा आजमा सकते हैं:-एक चम्मच खसखास,दाे चम्मच गेंहू, तीन बादाम, काजू
तिरंगा डाइट खाएं आैर सिर से पांव तक अच्छी सेहत पाएं

तिरंगा डाइट खाएं आैर सिर से पांव तक अच्छी सेहत पाएं

Health
हेल्दी डाइट को लेकर हम सभी काफी फिक्रमंद रहते हैं। उसके लिए रोजमर्रा में तरह-तरह की चीजों को भोजन में शामिल करते हैं, लेकिन उनके गुणों व फायदों की हमें पूरी जानकारी नहीं होती। जैसे हमारे ध्वज के तीन रंग देश की सेहत समृद्धि के प्रतीक हैं, वैसे ही ये हमारे शरीर के लिए भी अहम हैं।आइए जानते हैं इनके बारे में :- गुणों से भरपूर हरा रंग लौकी : हल्की व सुपाच्य लौकी ज्यादा यूरिन बनाने वाली होती है इसलिए इसे किडनी के रोगियों के लिए लाभकारी माना जाता है। यह खून को शुद्ध व पतला करने का काम करती है। हृदय रोग व उच्च रक्तचाप के लिए फायदेमंद है। करेला :सेरेनपिन नामक पदार्थ से भरपूर करेला खून को शुद्ध करने के साथ डायबिटीज के मरीजों के लिए अच्छा रहता है। धनिया : इसकी पत्तियों में फेरीपिन नामक तत्व होता है जो आयरन का स्रोत है। एनीमिया व किडनी के मरीजों के लिए यह गुणकारी है। पोदीना : ठंडी प्रकृति का होने के क
ये 6 तरीके आजमाएं आैर खूबसूरत मुलायम होंठ पाएं

ये 6 तरीके आजमाएं आैर खूबसूरत मुलायम होंठ पाएं

Health
खूबसूरत आैर मुलायम हाेंठ किसी की भी खूबसूरती में चारचांद लगाते हैं। वहीं काले, सूखे या जकड़े हुए होंठ आपकी खूबसूरती बिगाड़ सकते हैं।इसलिए जरूरी है कि हाेठाें की सही तरीके से देखभाल की जाए। आज हम आपकाे बताते हैं हाेठाें की खूबसूरती बनाए रखने वाले घरेलू उपायाें के बारे में। ताे आइए जानते है कैसे बढ़ाएं हाेंठाें की खूबसूरती :- घरेलू लिप स्क्रब- 50 ग्राम शहद, 4 चम्मच चीनी, 5 मिली लीटर गुलाब जल, 5 मिली वनीला एसेंस लें और एक एयर-टाइट कंटेनर में स्टोर करें।इन्हें अच्छी तरह से मिलाएं और लगभग आधा चम्मच लें और लिप स्क्रब के रूप में उपयोग करें।शहद प्रकृति के सबसे शक्तिशाली मॉइस्चराइजर्स में से एक है। चीनी त्वचा को एक्सफोलिएट और मुलायम बनाने में मदद करेगी और गुलाब जल आपके होंठों को कोमल और टोंड रखने में मदद करेगा। साथ में यह अद्भुत संयोजन आपके होंठों को चिकना, साफ और मुलायम करेगा। चॉप्ड लिप्स के लिएकई
शहद निकालना हुआ आसान, टूटी खोलो आैर िनकालो

शहद निकालना हुआ आसान, टूटी खोलो आैर िनकालो

Punjabi Politics
प्रदेश के किसानों में शहद के बिजनेस को बढ़ाने के लिए पहली बार शहद पालन का नया बॉक्स ऑस्ट्रेलिया से पटियाला के किसानों ने मंगवाया है। इस बॉक्स की खूबिया बताते हुए कर्मबीर सिंह कहते हैं कि यह पहली बार है कि बॉक्स में कितनी मात्रा में शहद बन चुका है, का भी पता लगेगा। इसकी जानकारी बॉक्स मंे लगे शीशे में मिलेगी। इसके अलावा बॉक्स में चार टैब लगी हंै। इन्हें अाम टैब की तरह खोलने पर शहद जार में भरा जा सकता है। यह बॉक्स किसानों से लेकर कोई भी अपने घर की छत पर रख सकता है। बड़ी बात यह है कि जब भी शुद्ध शहद चाहिए टैब खोल निकाल लें। खासियत
सौंफ खाएं, आखाें आैर पेट की तकलीफों से छुटकारा पाएं

सौंफ खाएं, आखाें आैर पेट की तकलीफों से छुटकारा पाएं

Health
खाने के बाद अक्सर सौंफ खाई जाती है। ये सौंफ के दाने अपने में कितने गुण समेटे हुए हैं इसे कम ही लोग जानते होंगे। गर्म तासीर वाली सौंफ पेट के अनेक रोगों में फायदेमंद मानी जाती है- आंंखों की बीमारियों को दूर करने में सौंफ एक अच्छी औषधि है। जिन्हें रतौंधी की शिकायत है उन्हें सौंफ रोजाना खानी चाहिए।आइए जानते हैं साैंफ खाने के अन्य फायदाें के बारे में :- - सौंफ (150 ग्राम), मिश्री (300 ग्राम) और बादाम (150 ग्राम) को मिक्स करके पाउडर बना लें। इससे आंखों की रोशनी तेज होकर शारीरिक कमजोरी दूर होती है। - खांसी, उल्टी, पेटदर्द, कफ आदि के लिए सौंफ खाएं। - आधा गिलास पानी में सौंफ का चूर्ण मिलाकर दिन में दो-तीन दिन बार पीने से पेशाब की जलन दूर होती है। - अगर आपके मुंह से दुर्गंध आती है तो नियमित रूप से दिन में तीन से चार बार आधा चम्मच सौंफ चबाएं। ऐसा करने से मुंह से बदबू आना बंद हो जाएगी। - अनियमित पीरिय
वजन कम करने का अचूक नुस्खा है दाैड़ना, आैर भी हैं फायदे

वजन कम करने का अचूक नुस्खा है दाैड़ना, आैर भी हैं फायदे

Health
वजन कम करने के लिए दौड़ना एक बेहद लोकप्रिय शारीरिक एक्टिविटी है। यह न केवल एक अच्छा कार्डियो व्यायाम है, बल्कि कई स्वास्थ्य लाभों से भी जुड़ा हुआ है।दाैड़ने की अपनी ही एक खूबी है, इसके लिए आपकाे किसी उपकरण की जरूरत नहीं हैं आैर ना ही काेर्इ समय की पांबदी। जब मन करें तक दाैड़ लगा लाे।दाैड़ने के लिए आप अपनी सुविधानुसार बेस रन, लाॅॅॅग रन, इंटरवेल रन जैसी अलग-अलग शैलियाें अपना सकते हैं।आइए जानते हैं कि दाैड़ना वजन कम करने के लिए कितना उपयाेगी है :- इससे अधिक कैलोरी बर्न होती हैअगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो आप जितनी कैलाेरी का उपभोग करते हैं उससे अधिक कैलोरी जलाने की जरूरत है और इसके लिए दौड़ना एक परफेक्ट एक्टिविटी है। दौड़ना किसी भी अन्य प्रकार के व्यायाम से अधिक कैलोरी जलता है, क्योंकि जब आप दौड़ते हैं तो विभिन्न प्रकार की मांसपेशियां एक साथ काम करती हैं। हार्वर्ड विश्वविद्यालय द्वारा
इस तरह की स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं आैर राेगाें काे दूर भगाए

इस तरह की स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं आैर राेगाें काे दूर भगाए

Health
अगर आप भी कम उम्र में बीमारियों से पीड़ित हैं तो इसकी एक वजह आपकी खराब जीवनशैली भी हो सकती है।आज की युवा पीढ़ी हाइपर टेंशन, मानसिक तनाव, एसिडिटी आदि कई समस्याओं से परेशान है। पहले ये समस्याएं 40 साल की उम्र के बाद होती थीं लेकिन अब खराब जीवनशैली के कारण ये समस्याएं 20 वर्ष के युवाओं में भी नजर आने लगी है। क्या आपकी उम्र 20 वर्ष है? या बेटे या बेटी की उम्र 20 वर्ष के करीब है? ऐसे में आप सबसे ज्यादा टेंशन बच्चे के कॅरियर के बारे में करते हैं। हो सकता है कि आप सही हों लेकिन आपको अपने बच्चे के कॅरियर के साथ-साथ उसकी सेहत पर भी ध्यान देना चाहिए। अब 20 वर्ष की उम्र में कदम रखने वाले युवाओं को ऐसी बीमारियां और समस्याएं हो रही हैं जो पहले 40 वर्ष की उम्र के लोगों को हुआ करती थीं। अब डॉक्टरों के पास जाने वाले लोगों में युवाओं की संख्या बढ़ रही है। गलत खानपान का असर आज के युवा स्वाद के चक्कर में पोष
हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाएं आैर हाइपरटेंशन से छुटकारा पाएं

हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाएं आैर हाइपरटेंशन से छुटकारा पाएं

Health
आज हर तीन में से एक व्यक्ति हाई ब्लडप्रेशर यानी हाइपरटेंशन से परेशान है। इसे साइलेंट किलर भी कहते हैं। अन्य रोगों की तरह इसके लक्षण दिखाई नहीं देते। व्यक्ति को जब अन्य समस्या होती है तो पता चलता है कि वह तो हाई ब्लडप्रेशर का भी रोगी है। हाई ब्लडप्रेशर से बचने के लिए अपने खानपान और नियमित व्यायाम पर पूरा ध्यान दें। ब्लडप्रेशर वह दबाव है जिससे रक्त धमनियों की दीवारों से टकराता है। जब दिल धड़कता है तो धमनियों में रक्त को पंप कर देता है। ब्लड प्रेशर में दो संख्याएं होती हैं। पहली को हाई सिस्टोलिक कहते हैं। यह धमनियों का वह दाब है जब दिल के धड़कने से धमनियां रक्त से भर जाती हैं। दूसरी संख्या डायसिस्टोलिक प्रेशर कहलाती है। यह वह दाब है जब हृदय दो धड़कनों के बीच आराम करता है। भले ही काम का दबाव मानें या समय की जरूरत लेकिन लोगों में हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर के मरीज ज्यादा नजर आने लगे हैं। क