News That Matters

Tag: इस्तेमाल

Text Neck: अगर आप गैजेट्स का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं तो जानें ‘टेक्स्ट नेक’ के बारे में

Text Neck: अगर आप गैजेट्स का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं तो जानें ‘टेक्स्ट नेक’ के बारे में

Health
टेक्स्ट नेक क्या है ? Text Neck: Text Neck: 'टेक्स्ट नेक' गर्दन में होने वाले दर्द और झुकाव को कहते हैं। इस बीमारी के होने पर गर्दन का झुकाव आगे की तरफ होने के कारण रीढ़ की हड्डी का उभार ज्यादा होने लगता है। ऐसे में रीढ़ की हड्डी की बनावट में बदलाव आने से सिर, गर्दन, कंधे और पीठ में दर्द बना रहता है व मांसपेशियां अकड़ जाती हैं। बचाव : गैजेट्स का इस्तेमाल करते हुए सावधानी बरतें क्योंकि इनके अधिक इस्तेमाल से कुछ खास हार्मोन भी अनियमित हो जाते हैं। ऐसे में इसका सीमित इस्तेमाल ही समाधान है। जैसे जोड़ों व मांसपेशियों में तनाव महसूस हो तो शरीर की पोजीशन बदलें। पूरे दिन सिर झुकाकर नीचे देखना नुकसानदायक हो सकता है, इससे बचें। घर या ऑफिस में, कम्प्यूटर पर काम करते हुए थोड़े-थोड़े अंतराल पर 10 से 15 मिनट का ब्रेक लें। टेबल और कुर्सी की ऊंचाई का अनुपात ठीक हो ताकि कमर सीधी रह सके। केस-1अविनाश को गर्द
पाक खुफिया एजेंसियों से खतरा: सैन्य अधिकारियों को सावधानी से वॉट्सऐप के इस्तेमाल का निर्देश

पाक खुफिया एजेंसियों से खतरा: सैन्य अधिकारियों को सावधानी से वॉट्सऐप के इस्तेमाल का निर्देश

India
नई दिल्ली. भारतीय खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियां सेना के अधिकारियों के प्रोफाइल की मॉनीटरिंग कर रही हैं। इन सूचनाओं के मद्देनजर सेना ने अपने अधिकािरयों और उनके परिवारों को वॉट्सऐप का संभलकर इस्तेमाल करने के निर्देश जारी किए हैं।न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सेना ने वॉट्सऐप के इस्तेमाल के लिए गाइडलाइन जारी की हैं और अधिकारियों व उनके परिवार से कहा है कि वे बेहद सावधानी से वॉट्सऐप का इस्तेमाल करें।अफसरों की बातचीत पर नजर रख रही हैं पाक की खुफिया एजेंसियां- सूत्रन्यूज एजेंसी ने आर्मी के सूत्रों के हवाले से बताया कि दुश्मन की खुफिया एजेंसियां वॉट्सऐप ग्रुपों पर बेहद करीब से निगरानी रख रही हैं। वे सैन्य अधिकािरयों और उनके परिवार के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश कर रही हैं। एजेंसियों ने कुछ ग्रुपों में घुसपैठ भी कर ली है और वे अफसरों के बीच की
एक्टिवा सवार से मिले 544 नशे में इस्तेमाल होने वाले कैप्सूल

एक्टिवा सवार से मिले 544 नशे में इस्तेमाल होने वाले कैप्सूल

Haryana
यमुनानगर। फर्कपुर पुलिस ने प्रतिबंधित नशीले कैप्सूल का जखीरा पकड़ा है। थाना प्रबंधक दिनेश सिंह चौहान ने बताया कि एएसआई बलदेव के नेतृत्व में पुलिस टीम ने विष्णु नगर चुंगी पर नाका बंदी की हुई थी। इस दौरान एक एक्टिवा सवार व्यक्ति की जांच की। उसकी डिग्गी से 544 कैप्सूल कारवोन स्पास प्लस मिले। इसकी सूचना ड्रग इंस्पेक्टर को दी गई, जिसने मौका किया, उसी की रिपोर्ट के आधार पर मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि यह एक्टिवा ओम पंजेटा की है। वह गाबा पैलेस के पास रिपेयर की दुकान करता है। जल्द ही उसे गिरफ्तार किया जाएगा। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
राष्ट्रपति ने कहा- अमेरिकी सेना को हमारे बंदरगाहों के इस्तेमाल की मंजूरी नहीं, ये संप्रभुता के लिए घातक

राष्ट्रपति ने कहा- अमेरिकी सेना को हमारे बंदरगाहों के इस्तेमाल की मंजूरी नहीं, ये संप्रभुता के लिए घातक

India
कोलम्बो. श्रीलंका ने साफ कर दिया है कि वो अमेरिकी सेना को अपने बंदरगाहों के इस्तेमाल की इजाजत नहीं देगा। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने कहा- मैं ऐसे किसी समझौते पर सहमति नहीं दूंगा, जिससे हमारी स्वतंत्रता और संप्रभुता प्रभावित होती हो। अमेरिका और श्रीलंका स्टेटस ऑफ फोर्सेज एग्रीमेंट (सोफा) पर बातचीत कर रहे हैं लेकिन अब सिरिसेना ने साफ कर दिया है कि वो इस समझौते को मंजूर नहीं करेंगे। हालांकि, दोनों देश सैन्य रिश्तों को मजबूत बनाने पर बातचीत जारी रखेंगे।सिरीसेना ने कहा- मैं देश के लिए घातक सोफा समझौते पर सहमति नहीं दूंगा। कुछ विदेशी सेनाएं श्रीलंका को अपना ठिकाना बनाना चाहती है। मैं उन्हें देश में आने और हमारी संप्रभुता को चुनौती देने की अनुमति नहीं दूंगा। सोफा समझौते से श्रीलंका के बंदरगाह तक अमेरिकी सेना की पहुंच आसान हो सकती थी और वह मुक्त रूप से आवागमन कर सकते थे।
श्वेत प्रदर व पौरुष दुर्बलता के लिए फायदेमंद है बथुआ, एेसे करें इस्तेमाल

श्वेत प्रदर व पौरुष दुर्बलता के लिए फायदेमंद है बथुआ, एेसे करें इस्तेमाल

Health
पोषक तत्त्वों के आधार पर आयुर्वेद में बथुए को सभी के लिए हितकर माना गया है। अथर्ववेद में इसे बवासीर रोग में लाभकारी और कृमिनाशक (पेट के कीड़ों को नष्ट करने वाला) बताया गया है। आहार के साथ इसमें कई औषधीय गुण भी पाए जाते हैं। जानिए इसके फायदे- कैंसर रोकने में प्रभावी-एक शोध के मुताबिक बथुए की पत्तियों से निकले रस का प्रयोग एंटी-बे्रस्ट कैंसर में बायो एजेंट के रूप में किया जाता है। यह कैंसर की कोशिकाओं की वृद्धि को रोकता है। पथरी में लाभदायक -जोड़दर्द की समस्या होने पर इसके बीजों का काढ़ा बनाकर पीने से काफी राहत मिलती है। इसके अलावा पथरी की समस्या में इसके पत्तों को उबालकर छानें व पीएं। पेट के रोगों, आंतों में संक्रमण और यूरिक एसिड बढऩे की स्थिति में बथुए के साग का प्रयोग फायदेमंद रहता है। पीलिया होने पर बथुए के रस को गिलोय के रस के साथ मिलाकर पीने से स्थिति सामान्य होती है। महिलाओं में अनियम

अंतरिक्ष ताकत का कमर्शियल इस्तेमाल करेगा भारत, न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड को मिली जिम्मेदारी

Indian Technology
वित्त मंत्री ने कहा कि प्रौद्योगिकी और उपग्रह प्रक्षेपित करने की क्षमता एवं वैश्विक कम लागत पर अंतरिक्ष उत्पादों के साथ भारत प्रमुख अंतरिक्ष शक्ति के रूप में उभरा है। अब समय आ गया है कि इस क्षमता का वाणिज्यिक उपयोग हो। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
10 ग्राम स्मैक व नशे में इस्तेमाल होनी वाली दवाओं समेत दो काबू

10 ग्राम स्मैक व नशे में इस्तेमाल होनी वाली दवाओं समेत दो काबू

Haryana
सीआईए वन और प्रतापनगर पुलिस की टीम ने दो लोगों को नशा तस्करी के आरोप में दबोचा है। सीआईए वन की टीम ने 10 ग्राम स्मैक के साथ एक को दबोचा है और प्रताप नगर पुलिस ने नशे में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों के साथ एक आरोपी को काबू किया है। दोनों को कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। सीआईए वन के इंचार्ज महावीर सिंह ने बताया कि टीम को सूचना मिली थी कि कपाल मोचन के पास एक आरोपी नशीले पदार्थ के साथ घूम रहा है। एएसआई सुखदेव सिंह, जसवीर, अमरजीत, मनजीत व रणधीर की टीम का गठन किया गया। टीम ने मौके पर जाकर वहां घूम रहे आरोपी को गिरफ्तार किया। जब उसकी तलाशी ली तो उसके पास से 10 ग्राम स्मैक बरामद हुई। आरोपी की पहचान खिजराबाद निवासी नवाब उर्फ तोता के नाम से हुई। 200 कैप्सूल और 18 सिरप मिले| थाना प्रतापनगर के प्रभारी देवेंद्र कुमार ने बताया कि टीम को सूचना मिली थी कि प्रतापनगर
आरोपी गिरफ्तार, वारदात में इस्तेमाल की गई बाइक और पिस्तौल बरामद

आरोपी गिरफ्तार, वारदात में इस्तेमाल की गई बाइक और पिस्तौल बरामद

Haryana
जुआं गांव के मंदिर में प्रसाद बांटने के दाैरान युवक संजीत की गोली मारकर हत्या करने वाले आरोपी संदीप व दीपांशु निवासी जुआं से सीआईए ने रिमांड के दौरान घटना में प्रयोग की गई बाइक व पिस्तौल बरामद कर ली है। इसके साथ इस मामले में मोहाना के एक नाबालिग आरोपी को भी गिरफ्तार किया है। आरोपी वारदात के समय बाइक पर मुख्य आरोपियों के साथ था। 23 जून को मंजीत निवासी जुआं ने थाना मोहाना में शिकायत दी थी कि उसके भाई संजीत की संदीप निवासी जुआं व उसके साथियों ने रंजिश के चले गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने शिकायत पर केस दर्ज कर लिया था। मामले में जांच अधिकारी प्रेम कुमार ने अपनी पुलिस टीम के साथ आरोपी संदीप व दीपांशु को गिरफ्तार कर लिया था। पूछताछ करने पर आरोपी संदीप ने बताया था कि रंजिश के चलते उसे यह सब किया। एक महीने पहले संजीत ने झगड़ा करके उसे थप्पड़ मार दिया था। इस बात से वह संजीत से

सेहत के लिए ‘वरदान’ है WhatsApp का इस्तेमाल, शोध में किया गया दावा

Indian Technology
WhatsApp पर अधिक समय बिताना सेहत के लिए अच्छा है। यह शोध इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ह्यूमन कंप्यूटर स्टडीज में प्रकाशित की गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि टेक्स्ट मैसेजिंग एप पर ग्रुप में अधिक चैटिंग करने से सकारात्मक मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
कांग्रेस और नेकां कश्मीर के विशेष दर्जे का इस्तेमाल अपनी सहूलियत से करते हैं: जितेंद्र सिंह

कांग्रेस और नेकां कश्मीर के विशेष दर्जे का इस्तेमाल अपनी सहूलियत से करते हैं: जितेंद्र सिंह

India
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा- नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) और कांग्रेस जम्मू-कश्मीर को मिलेविशेष दर्जे का इस्तेमाल अपनी सहूलियत के हिसाब से करतीहैं। विशेष दर्जानेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस की देन है। इन दोनों पार्टियों को जब ठीक लगता है तो वे इसका इस्तेमाल करते हैं, जब नहीं लगता तो नहीं करते।उन्होंने बताया- आपातकाल के दौरान देशभर की विधानसभाओं के कार्यकाल को छह साल किया गया था।जम्मू-कश्मीर के तत्कालीन मुख्यमंत्री शेख अब्दुल्ला ने विशेष दर्जे की बात को अनदेखा कर खुशी से स्वीकार किया था। मगर 3 साल बाद जब मोरारजी सरकार ने इस नियम को हटाया तो अब्दुल्ला ने यह कहकर मना कर दिया कि हमारे पास विशेष दर्जा है। इसका नतीजा यह हुआ कि आज 40 साल बाद केवल जम्मू-कश्मीर विधानसभा 6 साल चलती है।राज्यों का इतिहास ही अलग होता- सिंहसिंह के मुताबिक, ‘‘पंड