News That Matters

Tag: कमजाेरी

मां बनने के बाद की कमजाेरी जड़ से दूर करता है ये पौष्टिक आहार

मां बनने के बाद की कमजाेरी जड़ से दूर करता है ये पौष्टिक आहार

Health
डिलीवरी के बाद मांओं को कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कब्ज, कमजोरी, शरीर में दर्द आदि से बचने और सेहत को बेहतर बनाने के लिए दादी-नानी प्रसूता को कई तरह की पोषक चीजें खिलाती हैं।आइए जानते हैं इनके बारे में - खजूर के लड्डू :खजूर में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो कब्ज को दूर करता है। इसमें मौजूद आयरन खून बढ़ाने में मददगार है। इसे खाने से थकान व कमजोरी कम होती है। सौंफ का पानी :प्रसव के बाद पाचन प्रक्रिया सही रखने के लिए सौंफ का पानी फायदेमंद है। गोंद के लड्डू :खाने वाली गोंद, मूंग की दाल, सोयाबीन का आटा और ड्राईफ्रूट्स को मिलाकर लड्डू बनाएं। इनसे मां के शरीर को प्रोटीन व अन्य पोषक तत्त्व मिलेंगे। अजवाइन का परांठा : गेहूं से बना अजवाइन का परांठा फाइबर का अच्छा स्रोत है। इससे गर्भाशय की समस्याएं ठीक होती हैं साथ ही पाचनक्रिया दुरुस्त रहती है। व्यायाम जरूर
एक्सपर्ट से जानिए कमजाेरी, याददाश्त आैर जोड़ दर्द जैसी समस्या से जुड़े सवालों के जवाब

एक्सपर्ट से जानिए कमजाेरी, याददाश्त आैर जोड़ दर्द जैसी समस्या से जुड़े सवालों के जवाब

Health
सवाल - कुछ दिनाें से कमजाेरी महसूस हाे रही है। इलाज कराने पर काेर्इ फायदा नहीं हुआ ताे डाॅॅॅक्टर बदल लिया। फिर भी अच्छा महसूस नहीं कर रहा हूं।काेर्इ उपाय बताएं। - पवन जवाब - कमजाेरी का संबंध कर्इ वजहाें से हाेता है।यदि बुखार के बाद की कमजाेरी है ताे यूनानी में खमीरा मरमरीज या खमीरा राउजबान सादा ले सकते हैं। ये दाेनाें खमीरे कमजाेरी दूर करने में बहुत अच्छा काम करते हैं।इसके साथ अलावा उन्नाब का शरबत लेना भी फायदेमंद रहता है। सवाल - अच्छी तरह से पढ़ार्इ हाे इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए?- दर्शक जवाब- दिमागी ताैर पर काम करने वालाें आैर पढ़ार्इ करने वालाें की याददाश्त अच्छी हाेनी चाहिए। याददाश्त बढ़ाने के लिए अखराेट का हलावा, बादाम का हलवा, काजू, खसखास(अफीम के बीज)लाभदायक हाेते हैं। अगर आपकाे अपनी याददाश्त तेज करनी है ताे ये नुस्खा आजमा सकते हैं:-एक चम्मच खसखास,दाे चम्मच गेंहू, तीन बादाम, काजू
पोषक तत्वों से भरपूर डाइट आैर नींद देती है कैंसर की कमजाेरी से राहत

पोषक तत्वों से भरपूर डाइट आैर नींद देती है कैंसर की कमजाेरी से राहत

Health
दवाइयों, सर्जरी और थैरेपी की सहायता से अब ब्रेस्ट कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, फेफड़े, पेट और गले के कैंसर में मरीजों को राहत मिल रही है। कैंसर से पूरी तरह से छुटकारा मिल सके इसके लिए शोध जारी हैं। ब्रेस्ट कैंसर40 साल से अधिक उम्र की हर महिला को साल में एक बार क्लिनिकल ब्रेस्ट एग्जामिनेशन कराना चाहिए। समय-समय पर खुद ब्रेस्ट की जांच करनी चाहिए।कब हो सकता है : फैमिली हिस्ट्री होने पर, बच्चा ना होना या 30 वर्ष के बाद होना, 55 साल के बाद मेनोपॉज, हार्मोंस का इलाज लेना।लक्षण : स्तन में गांठ या स्राव, त्वचा व बनावट में बदलाव। इलाज : इसकी जांच मैमोग्राफी और सोनोग्राफी की मदद से की जाती है। स्टेज पता लगने के बाद मेस्टेक्टॉमी, ब्रेस्ट कंजरवेटिव सर्जरी, कीमोथैरेपी और रेडियोथैरेपी से इलाज होता है।हालिया शोध : अब 100 में से 10 महिलाओं को ही ब्रेस्ट रिमूव कराना पड़ रहा है। स्किन स्पेयरिंग मेस्टेक्टॉमी और टार
डेंगू के बाद अपनाएं ये तरीका, कुछ ही दिनाें में बनेगी सेहत, दूर हाेगी कमजाेरी

डेंगू के बाद अपनाएं ये तरीका, कुछ ही दिनाें में बनेगी सेहत, दूर हाेगी कमजाेरी

Health
आज कल पूरे भारत में डेंगू का बुखार बड़ी तेजी से फैल रहा है। यदि समय रहते इसका इलाज नहीं लिया जाए तो ये बुखार जान लेवा साबित हाे सकता हैं। अगर किसी व्यक्ति का डेंगू का टेस्‍ट पॉजिटिव आता है तो उसे तुरंत डाॅक्टर से इलाज शुरू करा देना चाहिए। आमतौर पर देखा गया है कि डेंगू के रोगी को हॉस्‍पिटल से निकलने के बाद भी कमजोरी बनी रहती है। इसलिए जरूरी है की मरीज अपने आप को मजबूत बनाए रखने के लिए अपनी दिनचर्या में परिवर्तन करें आैर अपने खानपान का खास ध्यान रखें। यह बहुत जरुरी है कि आप अच्‍छा खाएं और समय-समय पर दवाइयां लें, जिससे डेंगू के वायरस आप पर फिर से हमला ना पाएं। अगर आपको पानी पीने की ज्‍यादा आदत नहीं है तो, उसे अब अपनी आदत में शामिल कर लें क्‍योंकि इससे शरीर की गंदगी बाहर निकलेगी। तो आइये अब जानते हैं डेंगू के रोगी को क्‍या-क्‍या उपाय आजमाने की जरुरत है:- फलाें से कर