News That Matters

Tag: कहते

7 साल का यह बच्चा है परिवार की पहचान, पिता कहते हैं- बच्चों के लिए वक्त निकालें

7 साल का यह बच्चा है परिवार की पहचान, पिता कहते हैं- बच्चों के लिए वक्त निकालें

Punjabi Politics
अमृतसर. अमृतसर का दूसरी क्लास में पढ़ने वाला नैतिक सरपाल आए दिन नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। स्केटिंग, फैंसी ड्रेस और डांस वगैरह में वह 20 से ज्यादा गोल्ड मेडल जीत चुका है। रूपहले पर्दे पर भी आ चुका है।आज फादर्स डे के मौके पर दैनिक भास्कर प्लस आपको बता रहा है किस तरह एक ट्रांसपोर्टर पिता ने अपने कारोबार के साथ-साथ परिवार के लिए वक्त निकाला। बेटे के सपनों को पर लगाने के लिए उसे भरपूर सहयोग दिया। आज उसी का नतीजा है कि लोग नैतिक के परिवार को उसी के नाम से जानते हैं।अमृतसर के रानी का बाग के रहने वाले विशाल सरपाल के बेटे नैतिक की उम्र महज 7 साल है। विशाल के बड़े भाई रवि यूएसए में सरकारी नौकरी में कार्यरत हैं, वहीं यहां वह (विशाल) अपने माता-पिता, पत्नी और बेटे के साथ रहते हैं। उनका अमृतसर में ट्रांसपोर्ट का कारोबार है। लगभग 8 साल पहले विशाल और पायल की शादी हुई थी, जिसके बाद
World Blood Donor Day 2019: यूं ही नहीं कहते रक्तदान महादान

World Blood Donor Day 2019: यूं ही नहीं कहते रक्तदान महादान

Health
रक्तदान की है जरूरतभारत में हर साल करीब 10 हजार बच्चे थैलिसिमिया जैसी बीमारी के साथ पैदा होते हैं। इनमें से कई बच्चों की समय पर खून न मिलने की वजह से मौत हो जाती है। भारत में एक लाख से ज्यादा थैलिसिमिया के मरीज हैं, जिन्हें बार-बार खून बदलने की जरूरत पड़ती है। रक्त की जरूरत पड़ने पर इसकी कमी किसी दवा या थैरेपी से दूर नहीं की जा सकती है। 1997 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 100 फीसद स्वैच्छिक रक्तदान की शुरुआत की थी।विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 124 प्रमुख देशों को अभियान में शामिल कर स्वैच्छिक रक्तदान की अपील की थी। जानें रक्तदान से जुड़ी बातें एक सामान्य व्यक्ति के शरीर में 10 यूनिट (तकरीबन 5-6 लीटर) रक्त होता है। 18 से 68 वर्ष की आयु के लोगों को जिनका वजन 45 किलो से ज्यादा हो रक्तदान कर सकता है। रक्तदान में केवल एक यूनिट रक्त ही लिया जाता है। रक्तदान की प्रक्रिया काफी सरल है और इसमें किसी तरह की

हारकर जो जीते उसे ‘युवराज’ कहते हैं, जानिए चैंपियन युवी के बारे में 12 खास बातें

Indian Sports
अंडर-19 विश्‍व कप, 2007 वर्ल्‍ड टी-20 और 2011 विश्‍व कप में टीम इंडिया की जीत के हीरो रहे युवराज सिंह ने आखिरकार 10 जून 2019 को अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी अलग पहचान बनाई और अपने दम पर ... खेल-संसार
विश्लेषण: यूपी में बसपा के वोट सपा को नहीं मिले, जानिए क्या कहते हैं आंकड़े

विश्लेषण: यूपी में बसपा के वोट सपा को नहीं मिले, जानिए क्या कहते हैं आंकड़े

India
बसपा (BSP) का दावा है कि लोकसभा चुनावों (Lok Sabha Elections 2019) में उसे सपा (SP) के मत (Votes) नहीं मिले लेकिन चुनाव आयोग (Elections Commission) के अंतरिम आंकड़े बताते हैं कि बसपा को सपा के मत मिले... Live Hindustan Rss feed
क्या कहते हैं आईसीसी के नियम, इंग्लैंड के मोईन अली कार्रवाई झेल चुके

क्या कहते हैं आईसीसी के नियम, इंग्लैंड के मोईन अली कार्रवाई झेल चुके

Indian Sports
टिम विगमोर, द टेलिग्राफ. क्रिकेट वर्ल्ड कप के अपने पहले मैच में द. अफ्रीका के खिलाफ खेलते हुए एमएस धोनी को ग्लव्स पर सेना का बलिदान बैज लगाना भारी पड़ सकता है। आईसीसी के अनुसार, खेल के दौरान सेना और राजनीतिक पार्टियों के प्रतीकों का इस्तेमाल नियमों के खिलाफ है। आईसीसी ने बीसीसीआई से स्पष्ट कहा है कि धोनी ने नियम तोड़े हैं। इससे पहले जिन्होंने भी ऐसा किया है, उन्हें जुर्माना या बैन झेलना पड़ा है। हालांकि, आईसीसी ने अभी जुर्माने की बात नहीं कही है। इस पर आईसीसी जल्द ही फैसला करेगी।ग्लव्स को लेकर नियम और कार्रवाईग्लव्स पर सिर्फ निर्माता कंपनी के दो लोगो लगाए जा सकते हैं। पहला लोगो 12.9 वर्ग सेमी और दूसरा 38.71 वर्ग सेमी का होता है। यदि कोई खिलाड़ी पहली गलती करता है, तो उसे नियमानुसार चेतावनी मिलती है या जुर्माने के तौर पर 25% मैच फीस चुकानी पड़ती है। उसके बाद हर गलती पर जुर्मा

गंभीर हो सकता है कूल्हे में दर्द को नजरअंदाज करना, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Health
दर्द कैसा भी हो, दैनिक जीवन में बाधा डालता है। कूल्हों का दर्द भी ऐसा ही है, जिसके होने से रोजमर्रा के काम करने में परेशानी सामने आने लगती है। कई बार कूल्हे में दर्द का कारण शरीर में कहीं और आई कोई... Live Hindustan Rss feed
वो कहते हैं सीटें नहीं मिली तो इस्तीफा देंगे, बेअदबी करने वालों को सजा नहीं दी तो इस्तीफा सिद्धू देगा

वो कहते हैं सीटें नहीं मिली तो इस्तीफा देंगे, बेअदबी करने वालों को सजा नहीं दी तो इस्तीफा सिद्धू देगा

Punjabi Politics
बठिंडा.बठिंडा में शुक्रवार को राजा वड़िंग के हक में चुनाव प्रचार करने आए नवजोत सिंह सिद्धू ने एक तीर से दो निशाने लगाए। उन्होंने अपनी हर बात में बादलों के साथ-साथ अप्रत्यक्ष तौर पर कैप्टन को भी घेरा। बिना नाम लिए वह बार-बार बेअदबी और चुनाव में मिलकर 75-25 का मैच खेलने की बात कर लोगों को इस बार इन्हें मजा चखाने की बात कहते रहे।बेअदबी पर अपनी ही सरकार के खिलाफ बोलते हुए सिद्धू ने कहा कि सिखों पर जिन्होंने गोलियां चलवाईं उन पर एफआईआर तक नहीं की गई। क्या जस्टिस रणजीत आयोग से एसआईटी बड़ी हो गई। जब जस्टिस रणजीत ने रिपोर्ट में सब कह दिया था तो फिर एफआईआर क्यों नहीं दी, क्योंकि बेअदबी में किसी का 75% तो किसी का 25% हिस्सा है।सिद्धू ने कहा कि कुछ लोग कहते हैं सीटें न मिलीं तो इस्तीफा दे देंगे, मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि सिद्धू तो पहले ही राज्यसभा छोड़कर बैठा है, बेअदबी करने वालो
दादा कहते थे कि कभी कमजोर से टक्कर न लो, तभी हुड्डा और कौशिक से टक्कर लेने आया हूं: दिग्विजय

दादा कहते थे कि कभी कमजोर से टक्कर न लो, तभी हुड्डा और कौशिक से टक्कर लेने आया हूं: दिग्विजय

Haryana
गोहाना (मनोज कौशिक). हरियाणा की सबसे हॉट सोनीपत सीट पर कांग्रेस नेता भूपेंद्र हुड्डा और भाजपा नेता रमेश कौशिक को चुनौती देरहे दिग्विजय चौटाला ने मुकाबले को रोचक बना दिया है। उनका कहना है कि चौधरी देवीलाल कहते थे कि कभी अपने से कमजोर से टक्कर नहीं लेनी चाहिए, बल्कि कमजोर को गले लगाओ और बड़े से टक्कर लो तभी आज भूपेंद्र हुड्डा और कौशिक से टक्कर लेने आया हूं।दैनिक भास्कर प्लस नेदिग्विजय चौटाला सेविशेष बातचीत की। पेश हैं प्रमुख अंश...जवाबः कोई भी चुनाव मुद्दों पर लड़ा जाता है। मुद्दे पहले आते हैं, चेहरे बाद में। मुद्दों की वजह से चेहरे होते हैं। कोई हेमा मालिनी या सन्नी देओल को लड़ा दे तो अलग बात है। राजनीति में गरीब, किसान और कमेरे के जो मुद्दे हैं उसी से चेहरे बनते हैं। हम मुद्दों से बने चेहरे हैं, फिल्मी पर्दे से बने चेहरे नहीं।जवाबः देश में पूंजीवाद इतना हावी है कि जब बड
कांग्रेसी खुद कहते हैं राहुल के नाम से वोट न मांग लेना, जो मिलने होंगे वे भी बंद हो जाएंगे

कांग्रेसी खुद कहते हैं राहुल के नाम से वोट न मांग लेना, जो मिलने होंगे वे भी बंद हो जाएंगे

Haryana
पंचकूला। सीएम मनोहर लाल खट्टर ने एक बार फिर कांग्रेस पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लोग तो खुद कहते हैं कि कांग्रेस के नाम पर वोट मांग लेना, प्रत्याशी के नाम पर वोट मांग लेना लेकिन राहुल गांधी के नाम पर वोट न मांगना। जो वोट मिलने होंगे वे भी बंद हो जाएंगे। सीएम मंगलवार को पंचकूला में अम्बाला लोकसभा सीट के प्रत्याशी रत्नलाल कटारिया के पक्ष में वोट मांगने आए थे।सीएम मनोहर लाल ने कहा कि 12 मई को बैलेट मशीन पर वन साइडेड कमल का बटन दबाना है। इतने बटन दब जाए की ईवीएम भी सोचने पर मजबूर हो जाए कि ये तो वन वे ट्रैफिक निकल पड़ा है। जीत पर चुटकी लेते हुए मनोहर लाल बोले कि इतने वोट डाल दो की सुबह 11 बजे की बजाए 9 बजे भाजपा की जीत घोषित हो जाए।इसके बाद कांग्रेस अपनी रटी-रटाई बात कहने वाली है कि ईवीएम में गड़बड़ी है। मनोहर लाल बोले कि हमने कांग्रेस वालों से पूछा कि आरोप क
वीके सिंह बोले- राहुल गांधी कई बार ऐसी बातें कहते हैं जिनका आधार नहीं होता

वीके सिंह बोले- राहुल गांधी कई बार ऐसी बातें कहते हैं जिनका आधार नहीं होता

Rajasthan
उदयपुर. लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह बुधवार सुबह उदयपुर पहुंचे। उन्होंने पार्टी कार्यालय पर सुबह 10.30 बजे भाजपा की विचारधारा से जुड़े हुए प्रबुद्धजन के साथ बैठक ली। जिसके बाद एक प्रेस वार्ता को भी संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि राहुल क्या कहते हैं क्या नहीं कहते हैं इस पर टिप्पणी नहीं करूंगा। वे कई बार ऐसी बातें कहते हैं जिनका आधार नहीं होता।वीके सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक के सवाल पर कहा कि लाइन ऑफ कंट्रोल के ऊपर बहुत सी चीजें होती हैं। जो फौज अपने आप करती है। अपने रिस्क पर करती है। अगर उसमें गलती हो जाए तो किसी न किसा का करियर खत्म हो जाता है। उनके बारे में सेना कभी बात नहीं करती। न ही किसी को पता है। दूसरा होता है जब सरकार सेना के साथ खड़ी होती है। कहती है कि अगर आपसे को गलती हो गई, जाने या अनजाने में। हम आपके समर्थन में खड़