News That Matters

Tag: कहते

बेटी खेलती तो लोग पिता से कहते- बच्ची खेल कर क्या करेगी, खेलने में कुछ नहीं रखा, उसको ससुराल ही जाना है इसलिए इसकी शादी करवा दो, अब वही लोग लड़की की जमकर करते हैं तारीफ

बेटी खेलती तो लोग पिता से कहते- बच्ची खेल कर क्या करेगी, खेलने में कुछ नहीं रखा, उसको ससुराल ही जाना है इसलिए इसकी शादी करवा दो, अब वही लोग लड़की की जमकर करते हैं तारीफ

Rajasthan
भीलवाड़ा (राजस्थान)।52वां नेशनल सीनियर खो-खो टूर्नामेंट 24 से 28 मार्च तक चौगान स्टेडियम जयपुर में होगा। इसमें जिले की कनकलता खारोल को राजस्थान सीनियर वर्ग टीम का कप्तान बनाया गया हैं।कनकलता के खो-खो खेल से जुड़ने की कहानी भी बड़ी दिलचस्प और संघर्ष भरी है। बचपन में जब कनकलता खेलने जातीं तो गांव के लोग उसके पिता जी से कहते थे, लड़की है, खेलने में कुछ नहीं रखा, ससुराल ही जाना है इसलिए इसकी शादी करवा दो। तब पिता गोकुल खारोल कहते थे कि कनकलता बेटे के समान हैं। ये तो खेलेंगी ।कनकलता ने बताया कि गांव के प्राथमिक स्कूल में प्रधानाध्यापक लादूलाल शर्मा खो-खो खेलते थे। उन्होंने बच्चों को प्रेरित किया। तब लड़कियां खेलने के लिए कम आती थीं तो लड़कों के साथ अभ्यास किया। वर्ष 2010 में कनकलता पहली बार भोपाल में ओपन नेशनल खेलकर आईं तो उसे एक लाख रुपए प्रोत्साहन राशि मिली थी फिर कनकलता ने मुड़
योगी का राहुल पर तंज- नामदार कहते हैं हमारी सरकार आई तो एक फीट का आलू उगवा देंगे

योगी का राहुल पर तंज- नामदार कहते हैं हमारी सरकार आई तो एक फीट का आलू उगवा देंगे

India
सहारनपुर. उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चुनाव अभियान की शुरुआत सहारनपुर के शाकंभरी पीठ से की। योगी ने यहां दर्शन-पूजन किया। यहां विजय संकल्पसभा के दौरान योगी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज कसा। उन्होंने कहा"नामदारों के कुलदीपक कहते हैं कि हमारी सरकार आएगी तो एक फीट का आलू उगवा देंगे। जैसे आम का फल आता है। उन्हें लगता है, आलू का भी आता होगा।"आदित्यनाथ ने कहा, आलू पेड़ पर नहीं लटकते। इसीलिए जब वे (राहुल) गन्ना किसानों की बात कर रहे थे तो अमेठी के लोगों ने कहा- भैया अमेठी के लोगों को सस्ती में चीनी मिले तो उन्होंने (राहुल) कहा- हम यहां चीनी के पेड़ लगा देंगे। मिल की क्या जरूरत है? एक बार किसानों से कहा कि इतना विकास करेंगे कि खेतों में टायर लगा देंगे। इनकी सरकारों ने किसानों की दुर्गति कर दी थी।आज मोदी का नाम और काम दोनों हमारे सामने हैं- योगीउन्होंने कहा
डॉक्टर खाली पेट या खाने के बाद दवा लेने को क्यों कहते हैं?

डॉक्टर खाली पेट या खाने के बाद दवा लेने को क्यों कहते हैं?

Health
क्या आपने कभी सोचा कि डॉक्टर दवाएं खाली पेट या कुछ खाने के बाद लेने के लिए क्यों कहते हैं? इसके फायदे और नुकसान क्या हैं? चिकित्सक रोग की प्रकृति व साल्ट के आधार पर दवा लेने की सलाह देते हैं, क्योंकि हर दवा की शरीर में घुलने की क्षमता अलग होती है। इसीलिए चिकित्सक किसी दवा को खाना खाने से पहले, किसी को खाने के दौरान तो किसी को खाना खाने के बाद लेने की सलाह देते हैं। घुलनशील दवाएं खाली पेट खाने के बाद पेट में एसिड बनते हैं। कुछ दवाएं जो पानी में जल्द घुलने वाली होती हैं उन्हें खाली पेट लेनी होती हैं। बाद में लेने से इनका असर कम होता है। खाने से आधा घंटा पहले : पेट की गतिविध तेज करने वाली दवाएं खाने से आधे घंटे पहले लेते हैं। खाने के बाद : ऐसी दवाएं (पेनकिलर) जो पेट में एसिडिटी, अल्सर जैसी बीमारियों का कारण बनती हैं। खाने के कुछ समय बाद लेने की सलाह दी जाती है। इसलिए शेक करना जरूरी सिरप में ल
बाहर बैठे लोग क्या कहते हैं यह सोचने लगा तो घर पर ही बैठा रहूंगा, गंभीर के बयान पर विराट

बाहर बैठे लोग क्या कहते हैं यह सोचने लगा तो घर पर ही बैठा रहूंगा, गंभीर के बयान पर विराट

Indian Sports
चेन्नई. इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में विराट कोहली की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाने वाले गौतम गंभीर को भारतीय कप्तान ने जवाब दिया है। विराट का कहना है कि यदि वे यह सोचते कि बाहर बैठे लोग क्या कह रहे हैं तो आज घर पर बैठे होते। गंभीर ने हाल ही में कहा था कि विराट पिछले 8 साल से रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) को आईपीएल का खिताब नहीं दिला पाए हैं। इसके बावजूद वे कप्तान बने हुए हैं, भाग्यशाली हैं।गंभीर की अगुआई में कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) दो बार आईपीएल की चैम्पियन रही है।मैं भी आईपीएल जीतना चाहता हूं : विराटगंभीर के बयान पर विराट ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर का नाम लिए बिना कहा, ‘निश्चित तौर पर, आप आईपीएल जीतना चाहते हैं। मैं वही कर रहा हूं, जैसी मुझसे उम्मीद की जाती है। मैं इसकी परवाह नहीं करता कि मेरे आईपीएल जीतने या नहीं जीतने पर मेरी आलोचना होगी। आप किसी भी तरह की सी
जानिए आखिर क्यों कहते हैं दिमाग को पावर हाउस

जानिए आखिर क्यों कहते हैं दिमाग को पावर हाउस

Health
इंसानी दिमाग रहस्यों से भरा है। दुनियाभर में दिमाग के काम करने के तरीकों के बारे में शोध होते रहते हैं। जानते हैं दिमाग को लेकर दुनिया में हो रहे नए अध्ययनों के बारे में। क्या आप जानते हैं कि आपकी मैमोरी की गति स्वाभाविक रूप से हर दशक में लगभग दो फीसदी कम हो जाती है? ऐसा 20 वर्ष की उम्र के बाद से होना शुरू हो जाता है। लेकिन कुछ शोध आधारित ऐसी बातें हैं, जिनको ध्यान में रखकर आप अपने दिमाग को हमेशा चुस्त-दुरुस्त बनाए रख सकते हैं। जानते हैं इनके बारे में। भावनाओं से याददाश्त कमजोर -कई बार किसी अपराध का चश्मदीद गवाह सारी बातें जानकर भी उन्हें रिकॉल नहीं कर पाता क्योंकि वह काफी डरा हुआ होता है। लोवा स्टेट यूनिवर्सिटी की साइकोलॉजिस्ट गैरी वैल्स कहती हैं कि डर सर्वाइवल रेस्पॉन्स पैदा करता है, जो कॉग्निटिव रिसोर्स इस्तेमाल करता है। ऐसे में भावनाएं आपकी मेमोरी एनकोडिंग को खराब कर सकती हैं। यही कारण
अशोक गहलोत बोले- मोदी जी मन की बात कहते नहीं थोपते हैं, वे घमंडी

अशोक गहलोत बोले- मोदी जी मन की बात कहते नहीं थोपते हैं, वे घमंडी

Rajasthan
बीकानेर. लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस में जनसभाओं का दौर शुरू हो चुका है। बुधवार को फैसला हुआ कि नामांकन से पूर्व प्रत्येक विधानसभा स्तर पर पार्टी की जनसभाएं हों। जिसके चलते शुक्रवार को सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट श्रीडूंगरगढ़ में सभा करने पहुंचे। इस दौरान अशोक गहलोत ने कहा कि मोदी जी मन की बात कहते नहीं थोपते हैं। राहुल गांधी कहते हैं कि जनता की बात सुनों। लोगों से मिलें।गहलोत ने कहा कि एक दिन के नोटिस पर इतनी बड़ी संख्या में जनसभा में आने के लिए आप सही धन्यवाद। हमने पिछली सरकार में भी अच्छे काम किए थे। जिसे वसुंधरा सरकार ने रोक दिए।उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए। हमे गर्व है कि हमारी सेनाओं ने सर्जिकल स्ट्राइक की। आपने सर्जिकल स्ट्राइक की 15 मिनट वहां जा के आ गए। इंदिरा गांधी ने तो बांग्लादेश आजाद करा दिया। वहां के जनरल कर्
जानिए किडनी को क्यों कहते हैं बॉडी का फिल्टर

जानिए किडनी को क्यों कहते हैं बॉडी का फिल्टर

Health
किडनी शरीर का अहम अंग है जिसे फंक्शन यूनिट भी कहते हैं। शरीर में दो किडनी (गुर्दे) होती है। किडनी लिवर के ठीक नीचे होती है। आंतरिक अंगों में सबसे बड़ी होती है। बाएं तरफ की किडनी दाहिनी की अपेक्षा छोटी होती है। किडनी में करीब 11 लाख नेफ्रॉन (रक्त को फिल्टर करने वाली जाली) होते हैं। किडनी की सेहत को लेकर प्रतिवर्ष मार्च के दूसरे गुरुवार को विश्व किडनी दिवस मनाते हैं। इस बार 14 मार्च यानी आज है। इसकी थीम ''दुनिया के हर कोने में सबकी किडनी रहे स्वस्थ'' रखी है। ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखती किडनी ब्लड प्रेशर नियंत्रित, सोडियम और पोटैशियम को संतुलित रखती है। विटामिन डी को सक्रिय कर हड्डियों को मजबूत, लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद करती है। मोटापा, डायबिटीज व हाई ब्लड प्रेशर से नेफ्रॉन्स खराब होने लगते हैं जिससे किडनी की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। खून बनाने की प्रक्रिया तेज करती किडनी खून में मौ
जानिए किडनी को क्यों कहते हैं बॉडी का फिल्टर

जानिए किडनी को क्यों कहते हैं बॉडी का फिल्टर

Health
किडनी शरीर का अहम अंग है जिसे फंक्शन यूनिट भी कहते हैं। शरीर में दो किडनी (गुर्दे) होती है। किडनी लिवर के ठीक नीचे होती है। आंतरिक अंगों में सबसे बड़ी होती है। बाएं तरफ की किडनी दाहिनी की अपेक्षा छोटी होती है। किडनी में करीब 11 लाख नेफ्रॉन (रक्त को फिल्टर करने वाली जाली) होते हैं। किडनी की सेहत को लेकर प्रतिवर्ष मार्च के दूसरे गुरुवार को विश्व किडनी दिवस मनाते हैं। इस बार 14 मार्च यानी आज है। इसकी थीम ''दुनिया के हर कोने में सबकी किडनी रहे स्वस्थ'' रखी है। ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखती किडनी ब्लड प्रेशर नियंत्रित, सोडियम और पोटैशियम को संतुलित रखती है। विटामिन डी को सक्रिय कर हड्डियों को मजबूत, लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद करती है। मोटापा, डायबिटीज व हाई ब्लड प्रेशर से नेफ्रॉन्स खराब होने लगते हैं जिससे किडनी की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। खून बनाने की प्रक्रिया तेज करती किडनी खून में मौ
जानिए किडनी को क्यों कहते हैं बॉडी का फिल्टर

जानिए किडनी को क्यों कहते हैं बॉडी का फिल्टर

Health
किडनी शरीर का अहम अंग है जिसे फंक्शन यूनिट भी कहते हैं। शरीर में दो किडनी (गुर्दे) होती है। किडनी लिवर के ठीक नीचे होती है। आंतरिक अंगों में सबसे बड़ी होती है। बाएं तरफ की किडनी दाहिनी की अपेक्षा छोटी होती है। किडनी में करीब 11 लाख नेफ्रॉन (रक्त को फिल्टर करने वाली जाली) होते हैं। किडनी की सेहत को लेकर प्रतिवर्ष मार्च के दूसरे गुरुवार को विश्व किडनी दिवस मनाते हैं। इस बार 14 मार्च यानी आज है। इसकी थीम ''दुनिया के हर कोने में सबकी किडनी रहे स्वस्थ'' रखी है। ब्लड प्रेशर नियंत्रित रखती किडनी ब्लड प्रेशर नियंत्रित, सोडियम और पोटैशियम को संतुलित रखती है। विटामिन डी को सक्रिय कर हड्डियों को मजबूत, लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद करती है। मोटापा, डायबिटीज व हाई ब्लड प्रेशर से नेफ्रॉन्स खराब होने लगते हैं जिससे किडनी की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। खून बनाने की प्रक्रिया तेज करती किडनी खून में मौ
बलगम में खून आए, सीने में दर्द हो तो टीबी की जांच कराएं, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

बलगम में खून आए, सीने में दर्द हो तो टीबी की जांच कराएं, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Health
टीबी के मरीजों को इलाज के दौरान दवा के कोर्स को लेकर सतर्क और सजग रहना चाहिए। अगर बीच में ही दवा का कोर्स लेना बंद कर दिया है तो दोबारा टीबी होने की आशंका प्रबल हो जाती है। दोबारा टीबी होने... Live Hindustan Rss feed