News That Matters

Tag: काे

कुछ लाेग मुझे गालियां देकर चाैकीदाराें का अपमान कर रहे, अाज पूरा देश चाैकीदार बनने काे अातुर: पीएम

कुछ लाेग मुझे गालियां देकर चाैकीदाराें का अपमान कर रहे, अाज पूरा देश चाैकीदार बनने काे अातुर: पीएम

Delhi
प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने बुधवार काे देशभर के चौकीदारों से �’डियो के जरिए संवाद किया। उनके सवालों के जवाब दिए। पीएम मोदी ने कहा कि मैं इस बात के लिए माफी मांगना चाहता हूं कि कुछ लोगों ने अपने स्वार्थ के लिए चौकीदारों के खिलाफ गलत सूचना�”ं का कैंपेन चलाया। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इन लोगों की भाषा�”ं ने आपको चोट पहुंचाई है। माेदी ने कहा कि कुछ लाेगाें ने चाैकीदार चाेर है का नारा देकर देशभर के वाॅचमैन का अपमान किया। मैं आप सभी चौकीदारों से माफी मांगता हूं, क्योंकि कुछ लोगों ने अपने निजी स्वार्थ के लिए बिना कुछ सोचे-समझे गाली-गलौच करना शुरू कर दिया है और चौकीदार को चोर कह दिया और चौकीदारों की तपस्या के सामने सवालिया निशान खड़ा कर दिया। उन्हाेंने कहा कि आजकल हर जगह चौकीदारों की ही चर्चा है, चाहे टीवी हो या िट्वटर, देश हो या विदेश, गांव हो या शहर हर जगह चौकीदार शब्द की ही
अारटीअाई एक्ट से छूट की अाड़ में उत्पीड़न केस की जानकारी नहीं देने पर ईडी काे फटकार

अारटीअाई एक्ट से छूट की अाड़ में उत्पीड़न केस की जानकारी नहीं देने पर ईडी काे फटकार

Delhi
नई दिल्ली | अारटीअाई कानून से छूट के नियमाें की अाड़ में याैन उत्पीड़न से जुड़े मामले की जानकारी देने से इनकार करने पर केंद्रीय सूचना अायाेग (सीअाईसी) ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) काे फटकार लगाई है। साथ ही निर्देश दिया कि पीड़िता काे मांगी गई सारी जानकारी 15 दिन में मुहैया करवाएं। ईडी की एक कानूनी सलाहकार की याचिका पर सुनवाई के दाैरान सूचना अायुक्त बिमल जुल्का ने कहा, ‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अावेदक द्वारा मांगी गई जानकारी की प्रकृति जांचे बिना प्रतिवादी लगातार धारा 24 के प्रावधानाें का सहारा ले रहा है।’ ईडी काे मानवाधिकार उल्लंघन अाैर भ्रष्टाचार के मामलाें के अलावा अारटीअाई के तहत जानकारी देने से छूट मिली हुई है। कानूनी सलाहकार ने वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ उत्पीड़न की शिकायत पर कार्रवाई की जानकारी मांगी थी। पर अारटीअाई एक्ट की धारा 24 के तहत छूट का हवाला देकर ईडी ने जानका
459 करोड़ रु. चुकाकर जेल जाने से बचे अनिल, भाई मुकेश काे कहा- शुक्रिया

459 करोड़ रु. चुकाकर जेल जाने से बचे अनिल, भाई मुकेश काे कहा- शुक्रिया

Delhi
अनिल को बचाने के पीछे मुकेश का यह बिजनेस प्लान तो नहीं? बीएसएनएल के 700 करोड़ चुकाकर 10,000 करोड़ में आरकॉम खरीद सकते हैं मुकेश, 15,000 करोड़ बचेंगे एरिक्सन के बाद अब बीएसएनएल भी आरकॉम से 700 करोड़ रुपए बकाया वसूलने के लिए इसी हफ्ते नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में याचिका लगाएगी। बीएसएनएल भुगतान में चूक के लिए आरकॉम द्वारा जमा की गई 100 करोड़ रुपए की बैंक गारंटी पहले ही भुना चुकी है। इसमें भी मुकेश मदद कर सकते हैं। दिसंबर 2017 में आरकॉम ने स्पेक्ट्रम, टावर और दूसरे एसेट बेचने के लिए जियो के साथ डील की थी। उसके मुताबिक जियो को करीब 25,000 करोड़ रुपए देने थे। अब यह डील खत्म कर दी गई है। चर्चा है कि छोटे भाई पर बकाया 700 करोड़ रुपए चुकाकर मुकेश अंबानी एनसीएलटी से 10,000 करोड़ रुपए में आरकॉम को खरीद सकते हैं। जियो-आरकॉम में 25000 करोड़ की डील खत्म | पढ़ें बिजनेस पेज आरकॉ
सेहत काे नहीं लगता उबाला हुआ दूध, ये है सही तरीका

सेहत काे नहीं लगता उबाला हुआ दूध, ये है सही तरीका

Health
आमतौर पर हम दूध को उबाल आने तक गर्म करते हैं लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि पूरी तरह उबाला गया दूध सेहत के लिहाज से उतना फायदेमंद नहीं होता। इसके पूरा लाभ के लिए इसे पाश्च्युरीकृत करके पीना चाहिए। वजह : दूध में 'केसीन' एवं 'वे' दो तरह के प्रोटीन, विटामिन (ए, डी, ई, के) और कैल्शियम होते हैं। जब हम दूध को उबाल आने तक गर्म करते हैं तो इससे विटामिन व कैल्शियम की मात्रा नष्ट हो जाती है। साथ ही दोनों प्रोटीन अवस्था बदल लेते हैं। इससे दूध में इनका असर घट जाता है। ऐसे करें पाश्च्युरीकृत :दूध निकलने के बाद उसे 72 डिग्री सेल्सियस पर करीब 15 सेकंड तक गर्म करना चाहिए यानी दूध में उबाल आने के कुछ मिनट पहले ही उसे उतार लें और तुरंत किसी ठंडे स्थान पर रखें। गर्म करके ठंडा कर देने से दूध पाश्च्युरीकृत हो जाता है। पाश्च्युरीकृत दूध में उसके पौष्टिक गुण तो रहते ही हैं, सूक्ष्माणु (जीवाणु-कीटाणु) भी नहीं पन
पाकिस्तान में हाफिज सईद के संगठनाें के मुख्यालयाें काे सरकार ने कब्जे में लिया

पाकिस्तान में हाफिज सईद के संगठनाें के मुख्यालयाें काे सरकार ने कब्जे में लिया

Delhi
नई दिल्ली | यूएन ने 2008 के मुंबई हमले के मास्टरमाइंड अातंकी हाफिज सईद की प्रतिबंधित आतंकियों की सूची से हटाए जाने की अर्जी खारिज कर दी है। वहीं पाकिस्तान ने हाफिज के संगठन जमात-उद-दावा अाैर उसके मुखौटा संगठन फलाह-ए-इनसानियत के मुख्यालयाें काे पंजाब सरकार ने कब्जे में ले लिया है। लाहौर के चौबुर्जी में बनी जमात-उद-दावा की मस्जिद और मदरसे को भी सरकार अपने कब्जे में ले सकती है। यूएन के प्रतिबंध हटाने की अर्जी नामंजूर करने के बाद सईद पर सख्ती बढ़ गई है। अर्जी पर हाफिज का पक्ष सुनने के लिए यूएन टीम पाकिस्तान अाना चाह रही थी लेकिन पाक ने वीसा जारी करने से इनकार कर दिया था। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
एंटीऑक्सीडेंट के लिए करें इन चीजों काे सेवन

एंटीऑक्सीडेंट के लिए करें इन चीजों काे सेवन

Health
एंटीऑक्सीडेंट एक ऐसा तत्व होता है जो शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने और उनके नकारात्मक प्रभाव को कम करता है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को मजबूत बनाता है। यह विटामिन-सी,ए व ई, सेलेनियम और बीटा कैरोटीन जैसे तत्वों के रूप में शरीर में मौजूद रहता है। एंटीऑक्सीडेंट कैंसर, हृदय रोगों, ब्लड प्रेशर, अल्जाइमर और दृष्टिहीनता के खतरे को कम कर बढ़ती उम्र के प्रभाव को रोकता है। यह विषाक्त पदार्थों को नष्ट कर कोशिकाओं को मृत होने से भी बचाता है। जानते हैं यह किनमें भरपूर मात्रा में पाया जाता है। लहसुन : यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो कैंसर और हृदय रोगों से लड़ने में मददगार है।टमाटर : इसमें मौजूद ग्लूटाथियोन एंटीऑक्सीडेंट रोग प्रतिरोधी तंत्र को मजबूत करता है।लौंग : वर्ष 2009 में हुए शोध के अनुसार लौंग को एंटीऑक्सीडेंट का सबसे बढि़या स्रोत माना गया क्योंकि यह अम्लता की अधिकता को कम करन
कान काे संक्रमण का शिकार बना सकती है नमी

कान काे संक्रमण का शिकार बना सकती है नमी

Health
वातावरण में मौजूद नमी कान में फंगल इंफेक्शन (ऑटोमाइकोसिस) का कारण बनती है। इस रोग में कान की नलिका के बाहरी भाग में संक्रमण होता है। संक्रमण की वजह एस्पर्गिलस व कैंडिडा नामक जीवाणु होते हैं जो नमी में तेजी से फैलते हैं। लक्षण :इसमें कान में भारीपन, दर्द व खुजली के साथ रिसाव होने लगता है। कई बार व्यक्तिको कान बंद होने का अहसास भी होता है। स्थिति गंभीर होने पर कान के पर्दे में छेद भी हो सकता है। इलाज : इस रोग में विशेषज्ञ से संपर्क करना जरूरी होता है क्योंकि वे कान की सफाई कर फंगल को बाहर निकालते हैं और जरूरत पड़ने पर एंटीफंगल ईयर ड्रॉप व मलहम का प्रयोग भी करते हैं। ध्यान रखें :खुजली या कोई तकलीफ होने पर तीली या ईयरबड का प्रयोग न करें। तेल या लहसुन का रस न डालें इससे संक्रमण बढ़ सकता है। जिन्हें कान बहने की समस्या हो वे नहाते समय ध्यान रखें कि कान में पानी न जाए। Patrika : India's Leading H
घर व ऑफिस के बीच महिलाआें काे घेर रही है ये बीमारी

घर व ऑफिस के बीच महिलाआें काे घेर रही है ये बीमारी

Health
पुरुषों की तुलना में महिलाएं कोरोनरी हार्ट डिजीज (सीएचडी), कोरोनरी माइक्रो वैस्क्यूलर डिजीज (सीएमवीडी) और ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम (बीएचएस) का अधिक शिकार हो रही हैं। घर व ऑफिस के बीच तालमेल बिठाने में पनपा तनाव इसका प्रमुख कारण है। जानते हैं इनके बारे में :- सीएचडी :इसमें कोरोनरी धमनी की अंदरूनी दीवार में प्लाक (कोलेस्ट्रॉल, कैल्शियम, वसा व अन्य कारकों से बनी परत) जमा हो जाती है। इससे हृदय में ऑक्सीजनयुक्तरक्त पहुंचने में बाधा आने लगती है। लिहाजा हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन जीवनशैली में सुधार से इस रोग के खतरे को कम किया जा सकता है। सीएमवीडी :हृदय की छोटी धमनियों की दीवारें क्षतिग्रस्त होने से ऐसा होता है। हालांकि पिछले 30 वर्षों में इसकी मृत्यु दर में कमी आई है। बीएचएस : इसमें मानसिक तनाव के कारण हृदय की मांसपेशियां काम करना बंद कर देती हैं। इसके लक्षण व जांच की रिपोर्ट हार्ट अटैक
स्वस्थ जीवनशैली से दिल काे बनाएं मजबूत

स्वस्थ जीवनशैली से दिल काे बनाएं मजबूत

Health
जीवनशैली में थोड़ा बदलाव कर हम खुद को व परिवार को हृदय रोगों से बचा सकते हैं। दरअसल हमारी नौ खराब आदतें हैं जो दिल को बीमार बनाती हैं। ये आदतें धूम्रपान, डिस्लिपडेमिया, हाइपरटेंशन, डायबिटीज, पेट का मोटापा, साइकोसोशल फैक्टर, शराब का सेवन, आहार में फल और सब्जियों की कमी व एक जगह बैठे रहना हैं। इन वजहों से 90 फीसदी लोगों को दिल का दौरा पड़ता है। हार्ट विशेषज्ञ के अनुसार बच्चों को शुरू से धूम्रपान के बुरे प्रभावों व सेहतमंद आहार और व्यायाम के फायदों के बारे में बताना चाहिए। इसमें माता-पिता की भूमिका अहम हो सकती है। इन बातों का ध्यान रखकर हम दिल के लिए सेहतमंद माहौल बना सकते हैं। क्या करें- ताजा फल और सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें। मीठा खाने की इच्छा को मीठे फल खाकर पूरी करें।- जंक व पैकेटबंद खाने में अधिक चीनी, वसा व नमक होते हैं, इसे खाने से परहेज करें।- बच्चों के टिफिन में सेहतमंद व स
लोक साहित्य और गीत-संगीत काे बचाने के लिए दस्तावेजीकरण होना जरूरी : प्रो. राजबीर

लोक साहित्य और गीत-संगीत काे बचाने के लिए दस्तावेजीकरण होना जरूरी : प्रो. राजबीर

Haryana
लोक साहित्य, लोक प्रदर्शन कला तथा लोक संस्कृति के संरक्षण के लिए सामूहिक प्रयासों की जरूरत है। लोक संस्कृति को जन-जन में जीवंत रखने के लिए सतत प्रयास की आवश्यकता है। ये विचार गुरुवार को एमडीयू के सूर्यकवि पं लख्मी चंद शोध पीठ व छात्र कल्याण कार्यालय व स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ परफार्मिंग एंड विजुअल आर्ट्स की ओर से आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में विद्वानों व लोक संस्कृति विशेषज्ञों ने व्यक्त किए। एमडीयू के कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने इस राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारंभ किया। एमडीयू कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने कहा कि लोक साहित्य व लोक गीत-संगीत का दस्तावेजीकरण जरूरी है ताकि ये विलुप्त न हो पाए। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थानों, विशेष रूप से विश्वविद्यालयों की लोक साहित्य तथा संस्कृति को प्रोत्साहन देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका है। रोहतक की एमडीयू में राष्ट्रीय संगोष्ठी में लोक संस्क