News That Matters

Tag: कैंसर

कैंसर से बचा सकती हैं ये आदतें, जानें इनके बारे में

कैंसर से बचा सकती हैं ये आदतें, जानें इनके बारे में

Health
कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसके पूरी तरह ठीक होने की संभावना कम ही होती है। साथ ही एक बार उपचार के बाद भी इसके दोबारा होने का खतरा रहता है। ऐसे में कुछ आदतों को अपनाकर इसके खतरे को कम करने में मदद मिल सकती है- फल व सब्जी खाएं -इनमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर व अन्य पोषक तत्त्व पाए जाते हैं। फाइबर कैंसर पैदा करने वाले फ्री-रेडिकल्स को गेस्ट्रोइन्टेस्टाइनल ट्रैक तक नहीं पहुंचने देते जिससे इसके होने की आशंका कम हो जाती है। पर्याप्त मात्रा में फल, हरी सब्जियां खाने से आहार नली में कैंसर का खतरा घटता है। कार्बोहाइड्रेट फूड्स कम लें -कार्बोहाइड्रेट फूड्स जैसे सफेद चावल, पास्ता व शक्कर शरीर में ऊर्जा व ग्लूकोज के स्त्रोत होते हैं, लेकिन इन्हें ज्यादा खाने से बचना चाहिए। ये खाद्य पदार्थ शरीर में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ाने के साथ ब्रेस्ट कैंसर का खतरा भी बढ़ाते हैं। वजन नियंत्रित रखें - अत्यधिक वजन से प
कैंसर मरीज की मौत हादसे में दिखा लेते थे बीमा क्लेम, सरगना समेत 3 लोग गिरफ्तार

कैंसर मरीज की मौत हादसे में दिखा लेते थे बीमा क्लेम, सरगना समेत 3 लोग गिरफ्तार

Haryana
सोनीपत.एसटीएफ ने एक ऐसे गैंग का पर्दाफार्श किया है, जो कैंसर की अंतिम स्टेज के मरीजों की मौत को सड़क हादसे में दिखाकर बीमा का क्लेम लेता था। एसटीएफ के डीएसपी राहुल देव ने इसके मास्टरमाइंड पवन भाैरिया समेत तीन लोगों को गुरुवार देर शाम सोनीपत-रोहतक मार्ग से गिरफ्तार किया है।इस गैंग मंे 15 लोग काम करते हैं। भारती एक्सा बीमा कंपनी के पास पिछले चार माह में ऐसे 8 मामले सामने आए, जिनमें क्लेम लेने के लिए कहानी का प्लॉट एक जैसा था। इसमें कैंसर के लास्ट स्टेज के मरीज को हादसे में मौत का शिकार दिखाया जाता था, फिर कंपनी से 30 लाख रुपए प्रति मरीज क्लेम मांगा गया।बीमा कंपनी ने इसकी शिकायत डीजीपी क्राइम से की। एसटीएफ ने मामले की जांच शुरू कर दी है। शुक्रवार देर रात दो बीमा कंपनियों बजाज बीमा और एचडीएफसी लाइस इंश्योरेंस कंपनी के अधिकारी एसटीएफ थाना सोनीपत पहुंचे। इन्होंने कई केसों की ज

इंजेक्‍शन से नहीं बल्कि सांस से दी जाएगी कीमोथेरेपी, लंग कैंसर के लिए नया प्रयोग

India
वैज्ञानिक नजरुल इस्लाम ने कहा ‘हम इनहेलर के जरिये चिटोसन के नैनोपार्टिकल की मदद से दवा को सांस के रास्ते सीधे फेफड़े तक पहुंचाने की दिशा में कार्य कर रहे हैं।’ Jagran Hindi News - news:national
तंबाकू से मुंह-फेफड़ों के कैंसर और कई दूसरे रोगों का खतरा

तंबाकू से मुंह-फेफड़ों के कैंसर और कई दूसरे रोगों का खतरा

Punjab
लोगों को जागरूक करते सेहत अधिकारी। तरनतारन | गांव घरियाला में लोगों को तंबाकू के प्रति जागरूक किया गया। मेडिकल अधिकारी डॉ. गुरकिरपाल सिंह ने कहा कि तंबाकू का सेवन करने से व्यक्ति को मुंह का कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, दांतों के रोग, दिल की बीमारियों आदि कई तरह की बीमारियों का शिकार होना पड़ता है। उन्होंने गांव निवासियों को अपील करते हुए कहा कि वह अपने आसपास के लोगों को जागरूकता मुहिम के बारे में जानकारी दें। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Tarantaran News - tobacco to mouth and lung cancers and many other diseases Dainik Bhaskar

मिठास ही नहीं, कैंसर जैसे रोगों से लड़ने की ताकत भी देगा यह आम, पढ़िए पूरी खबर

India
दशहरी की नई प्रजाति 51 कैंसर से बनने वाले लिवर कार्सीनोजिन को कम करेगा। इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है और कैंसर के सेल खत्म होने लगते हैं। Jagran Hindi News - news:national
कैंसर के इलाज के बाद काम पर लौटे इरफान खान, पत्नी ने लिखी ये इमोशनल बात

कैंसर के इलाज के बाद काम पर लौटे इरफान खान, पत्नी ने लिखी ये इमोशनल बात

Entertainment
इरफान खान को कैंसर की वजह से काफी समय तक फिल्मों से दूर रहना पड़ा। अब वो अपना इलाज कराकर वापस भारत आ गए हैं और उन्होंने अपनी फिल्म की शूटिंग भी शुरू कर दी है। इरफान खान इन दिनों अपनी फिल्म हिंदी... Live Hindustan Rss feed
तंबाकू के सेवन से कैंसर और दिल की बीमारियों का ज्यादा खतरा : डॉ. गिल्ल

तंबाकू के सेवन से कैंसर और दिल की बीमारियों का ज्यादा खतरा : डॉ. गिल्ल

Punjabi Politics
सेहत विभाग द्वारा तंबाकू संबंधी कोटपा कानून के बारे में जिला प्रबंधकीय कांप्लेक्स में वर्कशाप का आयोजन किया गया। इस दौरान एडीसी राजेश त्रिपाठी ने विशेष तौर पर शिरकत की। एडीसी ने कहा कि समूह विभागों को कोटपा की पालना को यकीनी बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिले में यकीनी बनाया जाए कि जनतक स्थानों पर तंबाकूनोशी न की जाए और होटलों व रेस्टोरेंट में स्मोकिंग जोन व हुक्का बार आदि सबंधी विशेष तौर पर चैकिंग की जाए। इस मौके टीबी अफसर डॉ. विकास धीर ने सिगरेट व तंबाकू एक्ट 2003(कोटपा) सबंधी जानकारी देते बताया कि इस कानून की धारा-4 के अनुसार कोई भी व्यक्ति जनतक स्थान पर सिगनेटनोशी नहीं कर सकता। इसकी उल्लंघना करने पर 200 रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। उन्होंने बताया कि धारना-5 के तहत तंबाकू उत्पाद की बोर्ड, टीवी, फिल्म, पर्चे या होर्डिंग के जरिए विज्ञापन की मनाही की गई है। इस मौके पर
कैंसर के इलाज के लिए कारगर हैं तिल और काली मिर्च

कैंसर के इलाज के लिए कारगर हैं तिल और काली मिर्च

Health
कैंसर जैसी असाध्य बीमारी से लड़ने में तिल और काली मिर्च कारगर साबित हो सकते हैं। हाल ही ये बात शोध में सामने आयी है। मद्रास के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के वैज्ञानिकों के मुताबिक काली मिर्च में उपस्थित तीखा पाइपेरिन तत्त्व प्रॉस्टेट ग्रंथि में कैंसर की कोशिकाओं को मारने में सक्षम है। यह तत्त्व कोशिकाओं की मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया सुचारू कर कैंसर सेल्स के विकास को रोकता है। वहीं एक अन्य शोध के अनुसार तिल में एंटी कैंसर गुण पाए जाते हैं जिसकी वजह से ये फेफड़ों, ब्रेस्ट और आमाशय के कैंसर से सुरक्षा प्रदान करता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर में न सिर्फ कैंसर सेल्स बनने से रोकता है, बल्कि कैंसर बढ़ाने वाले कैमिकल्स से भी बचाता है। आयुर्वेद विशेषज्ञ के अनुसार आयुर्वेद में तेल से बनने वाली सभी औषधियों व भोजन में तिल के तेल का प्रयोग सर्वश्रेष्ठ है। यह शरीर के विकास के लिए जरूरी कोशिकाओं के वि
कैंसर से जूझ रहे ‘फंडी’ पर पिता के कत्ल का आरोप

कैंसर से जूझ रहे ‘फंडी’ पर पिता के कत्ल का आरोप

Punjabi Politics
पटियाला | एनजेडसीसी में मर्सी किलिंग के कानून पर आधारित नाटक ‘फंडी’ का मंचन किया गया। शंकर शेष के लिखे नाटक का निर्देशन जगजीत के. सरीन ने किया। ट्रक ड्राइवर फंडी पर कैंसर की अंतिम स्टेज से जूझ रहे पिता के कत्ल का आरोप है। वकील कोर्ट में सवाल करता है कि जब बीमार जानवर को मारने को कोर्ट मर्सी किलिंग मानता है, तो कैंसर से पीड़ित इंसान पर यह कानून क्यों लागू नहीं किया जा सकता है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Patiala News - father39s murder on 39fundamental39 cancer fight Dainik Bhaskar
तैयारी के दौरान पता चला एक बार फिर से पिता जी को कैंसर ने जकड़ लिया है…इसके बाद भी कमजोर नहीं पड़ा इनका मनोबल, क्रैक किया UPSC इंटरव्यू-अब बनेंगी IAS

तैयारी के दौरान पता चला एक बार फिर से पिता जी को कैंसर ने जकड़ लिया है…इसके बाद भी कमजोर नहीं पड़ा इनका मनोबल, क्रैक किया UPSC इंटरव्यू-अब बनेंगी IAS

Punjabi Politics
मोगा (पंजाब). तमाम परेशानियों के बावजूद मोगा की रितिका ने आईएएस की परीक्षा में 88वीं रैंक हासिल की है। दरअसल,रितिका के पिता लंग कैंसर से जूझ रहे हैं। पिता की देखभाल के साथ ही वो अपनी तैयारियां भी कर रही थीं। चार साल की मेहनत में उन्हें ये कामयाबी मिली है। दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट रितिका ने दूसरे अटेम्प्ट में ये सफलता हासिल की है। इस सफलता के बाद रितिका मानती हैं कि अब उनके पापा जल्दी ठीक हो जाएंगे। पिता बेटी की इस सफलता से बेहद खुश हैं।पढ़ाई में होशियार रही हैं रितिका- 12वीं बोर्ड के रिजल्ट में रितिका की ऑल इंडिया चौथी रैंक आई थी। वहीं, ग्रैजुएशन में उन्होंने तीसरी रैंक हासिल की थी।इस दौरान उनके पास कई प्लेसमेंट ऑफर आए, लेकिन आईएएस बनने की इच्छा के चलते उन्होंने सब ठुकरा दिया। रितिका के अनुसार, पापा का सपना है कि वो एक अच्छी आईएएस ऑफिसर बने और कुछ अच्छा काम करें।