News That Matters

Tag: क्षमता

बच्चे में किस खेल की क्षमता, यह परख बचपन में ही संभव; लेकिन पैरेंट्स में अवेयरनेस की कमी

बच्चे में किस खेल की क्षमता, यह परख बचपन में ही संभव; लेकिन पैरेंट्स में अवेयरनेस की कमी

Indian Sports
नई दिल्ली. आपका बच्चा किस खेल में अच्छा कर सकता है, यह बात पहले ही पता चल सकती है। विदेश में ऐसा दशकों से हो रहा है, लेकिन भारत में यह ट्रेंड अभी नया है। दिल्ली में सरकार ने फार्मास्यूटिकल साइंसेज एंड रिसर्च यूनिवर्सिटी में दो साल पहले एकेडमी ऑफ स्पोर्ट्स साइंस रिसर्च एंड मैनेजमेंट (एएसएसआरएम) शुरू की थी। इसके अलावा देशभर में कई प्राइवेट इंस्टीट्यूट खुल चुके हैं।इन इंस्टीट्यूट में बच्चों में खेल प्रतिभा की परख तो होती ही है, साथ ही यह भी पता लगाया जा सकता है कि बच्चा शारीरिक रूप से किस खेल के लिए बना है। या यूं कहें कि वह किस खेल में करियर बना सकता है।अब तक सिर्फ 170 पैरेंट्स ने ही कराई बच्चों की जांचहालांकि, अवेयरनेस की कमी की वजह से ज्यादातर पेरेंट्स इन सुविधाओं का फायदा नहीं ले पाए हैं। दिल्ली की सरकारी एकेडमी में कुल 170 पैरेंट्स ही बच्चों को परखने के लिए लेकर आए है
इस तरह बढ़ा सकते हैं दिमागी क्षमता, जानें ये खास बातें

इस तरह बढ़ा सकते हैं दिमागी क्षमता, जानें ये खास बातें

Health
हालांकि बुद्धिमान होना कुदरत की नियामत होती है लेकिन कुछ खास चीजों पर ध्यान दें तो आप भी बच्चों की दिमागी क्षमता को बढ़ा सकते हैं।अगर आप अपने बच्चे की ब्रेन पावर बढ़ाना चाहते हैं तो उसके खानपान, दिनचर्या और आसपास के माहौल पर ध्यान दें। विशेषज्ञों के अनुसार जो बच्चे घर का बना ताजा भोजन करते हैं और पर्याप्त पानी पीते हैं, उनकी एकाग्रता क्षमता बनी रहती है और वे क्लास में अच्छा प्रदर्शन करते हैं। पारंपरिक हो नाश्ता - 'ब्रेन बायो सेंटर' के न्यूट्रीशनल थैरेपिस्ट डेबोरा कॉल्सन के मुताबिक ज्यादा शुगर और कार्बोहाइड्रेट्स युक्त भोजन शरीर मेें थकावट व एकाग्रता की कमी का कारण बनता है इसलिए इनसे बचना चाहिए। बच्चों को नाश्ते में लापसी, राबड़ी जैसी पारंपरिक चीजें देनी चाहिए। ये चीजें बच्चों के रक्त में धीरे-धीरे शुगर घोलती हैं जिससे उन्हें आवश्यकतानुसार ऊर्जा मिलती रहती है। इसके अलावा बच्चे के नाश्ते, लं
2020 तक 100 गीगावाट सौर ऊर्जा की उत्पादन क्षमता का लक्ष्य पाना मुश्किल

2020 तक 100 गीगावाट सौर ऊर्जा की उत्पादन क्षमता का लक्ष्य पाना मुश्किल

Delhi
भारत के लिए 2022 तक 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता का लक्ष्य हासिल करना मुश्किल हो सकता है। इसके पीछे सोलर प्रोडक्ट्स पर विभिन्न टैक्स लगने, टेंडर रद्द होने और दरें घटाने को लेकर दबाव जैसे कारण जिम्मेदार हैं। इनसे शॉर्ट टर्म के लिए अनिश्चितता की स्थिति पैदा हुई है। रिसर्च व कंसल्टेंसी फर्म वुड मैकेंजी ने एक रिपोर्ट में यह अंदेशा जताया है। रिपोर्ट के मुताबिक सौर ऊर्जा की उत्पादन क्षमता 2017 में 63% बढ़ी थी। लेकिन 2018 में इसकी क्षमता महज 1% बढ़ने का अनुमान है। 2019 में इसमें 12% बढ़ोतरी के आसार हैं। रिपोर्ट के अनुसार 2018 में जनवरी से अक्टूबर के बीच देश में ग्रिड-कनेक्टेड बिजली की उत्पादन क्षमता 4% बढ़कर 347 गीगावॉट पहुंच गई। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
तेज आवाज से रहेंगे दूर ताे अच्छी रहेगी सुनने की क्षमता

तेज आवाज से रहेंगे दूर ताे अच्छी रहेगी सुनने की क्षमता

Health
व्यक्ति की उम्र बढ़ने के साथ-साथ उसके शरीर के विभिन्न अंगों की काम करने की क्षमता कम होने लगती है। इसके परिणामस्वरूप व्यक्ति अपने इन अंगों के प्रति उपेक्षित व्यवहार करने लगता है। इन उपेक्षित अंगो में से एक है कान। कान से संबंधित रोगों में बधिरता यानी सुनाई न देना वृद्धावस्था में काफी दुखदायी होता है। हमारे कान दो काम करते हैं। पहला, सुनने का और दूसरा, शरीर को संतुलित रखने का। बहरेपन का इलाजयदि सुनाई न देने की समस्या सामान्य से ज्यादा है तो वह पारिवारिक, सामाजिक और कार्यस्थल पर बाधक हो सकती है। एक बधिर व्यक्ति परिवार और समाज से धीरे-धीरे अलग हो जाता है व अवसाद का शिकार हो जाता है। इन्हें दूर करने का एक ही उपाय है कि बधिर व्यक्ति की सुनने की क्षमता का इलाज श्रवण यंत्र (हियरिंग एड) द्वारा किया जाए। ऐसे व्यक्ति जिनकी सुनने की क्षमता परीक्षण के दौरान 40 डेसिबल या उससे ज्यादा हो तो उन्हें श्रवण
राहुल ने कहा- कांग्रेस फ्रंटफुट पर खेलेगी, तेजस्वी बोले- आपके अंदर प्रधानमंत्री बनने की क्षमता

राहुल ने कहा- कांग्रेस फ्रंटफुट पर खेलेगी, तेजस्वी बोले- आपके अंदर प्रधानमंत्री बनने की क्षमता

India
पटना. कांग्रेस ने 28 साल बाद रविवार को पटना के गांधी मैदान में जन आकांक्षा रैली की। इसमें राहुल गांधी नेकांग्रेस के साथ विपक्ष की एकजुटता और बिहार में महागठबंधन की तस्वीर दिखाने की कोशिश की। राहुल ने कहा कि मोदीजी ने जनता से बड़े-बड़े वादे किए हैं। चौकीदार जहां जाता है, चोरी करता है। इसलिए यहां मौजूद गठबंधन के सभी नेता बिहार से भाजपा और नीतीश कुमार को हटाने जा रहे हैं। रैली में राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा किराहुल गांधी में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता है। कांग्रेस पर साथियों को एकजुट करने की जिम्मेदारी है।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ''मोदीजी ने बजट में किसानों को रोजाना 17 रुपए दिए, लेकिन विजय माल्या को 10 हजार करोड़ रुपए देते हो। मोदीजी अचानक टीवी पर आए और कहा कि कालाधन खत्म करना है इसलिए बड़े नोट नहीं चलेंगे। 2000 का नोट चलेगा। लोगों को बैंक के सामने खड़ा कर दिया। महिला
आलू के सेवन से बढ़ती है रोग प्रतिरोधक क्षमता, जानें इसके अन्य फायदे

आलू के सेवन से बढ़ती है रोग प्रतिरोधक क्षमता, जानें इसके अन्य फायदे

Health
आयुर्वेद के अनुसार आलू ठंडा और पचने में भारी होता है। इसे खाने से कम समय में ज्यादा ऊर्जा मिलती है। स्पेन के शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया कि जो लोग रोजाना आलू खाते हैं, उनमें रोगों से लड़ने की क्षमता में वृद्धि होती है। आलू में विटामिन सी, बी कॉम्पलेक्स, आयरन, कैल्शियम, मैंगनीज और फॉस्फोरस जैसे तत्त्व होते हैं।100 ग्राम आलू में 1.6 प्रतिशत प्रोटीन, 22.6 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट, 0.1 प्रतिशत वसा, 0.4 प्रतिशत खनिज और 97 प्रतिशत कैलोरी होती है। जलने पर कच्चा आलू कद्दूकस करके लगाने से जलन में आराम मिलता है।कच्चे आलू का रस रोजाना पीने से एसिडिटी में लाभ होता है।आलू के रस में नीबू के रस की कुछ बूंदें मिलाकर लगाने से चेहरे के दाग-धब्बे दूर होते हैं।ब्रेस्ट फीड कराने वाली मांओं को आलू रोजाना खाना चाहिए। इसके टुकड़ों को गर्दन और कोहनियों पर रगडऩे से कालापन दूर होता है व त्वचा मुलायम होती है। आल
पीसीओएस नहीं करेगा महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित

पीसीओएस नहीं करेगा महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित

Health
बढ़ते तनाव, खराब जीवनशैली व मोटापे से महिलाओं की प्रजनन आयु कम होती जा रही है और वे पोलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) से ग्रसित होने लगी हैं। पीसीओएस क्या है?यदि महिलाओं में हार्मोन असंतुलित हो जाएं या सामान्य से ज्यादा बनने लगे तो अंडाशय में गांठें बनने लगती हैं, जिसे पीसीओएस कहते हैं। प्रमुख लक्षण - अनियमित माहवारी, माहवारी न होना, बांझपन, गर्भधारण ना होना, मुंहासे, मोटापा, बार-बार मूड में बदलाव होना, मुंह पर ज्यादा बाल होना, नींद के दौरान सांस लेने में दिक्कत होना आदि। बांझपन का इलाज -पीसीओएस के कारण बांझपन की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है, जिसे आधुनिक तकनीकों जैसे कि इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) को अपनाकर दूर किया जा सकता है। आईवीएफ में अंडे को सर्जरी से महिला की ओवरी से अलग करके प्रयोगशाला में पुरुष के शुक्राणुओं के साथ मिलान कराया जाता है। इसके बाद भू्रण को महिला के गर्भाशय मे
Health Tips: शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर कई बीमारियों से लड़ने में मदद करती है मूंग दाल

Health Tips: शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर कई बीमारियों से लड़ने में मदद करती है मूंग दाल

Health
जरूरी नहीं कि स्‍वाद में जो अच्‍छा हो, वो स्‍वास्‍थ्‍यवर्द्धक भी हो। अक्‍सर ऐसा ही होता है, जो चीज खाने में बिल्‍कुल अच्‍छी नहीं लगती है वो गुणों से भरपूर ही होती है।... Live Hindustan Rss feed
अपनी क्षमता पहचान कर उसे विकसित करें तो सफलता अवश्य मिलेगी : साध्वी बलजिंदर भारती

अपनी क्षमता पहचान कर उसे विकसित करें तो सफलता अवश्य मिलेगी : साध्वी बलजिंदर भारती

Punjabi Politics
भास्कर संवाददाता | कोटकपूरा दिव्य ज्योति जागृति संस्थान द्वारा एक दिवसीय सत्संग कार्यक्रम का आयोजन प्रेम नगर कोटकपूरा में किया गया। इसमें संस्थान की प्रचारक साध्वी बलजिंदर भारती ने प्रवचन करते हुए कहा कि संसार के प्रत्येक मनुष्य में कोई न कोई विशेष योग्यता होती है। जरूरत उस योग्यता को पहचान कर उसे सदुपयोग में लाने की है। यदि हम अपनी क्षमताओं को समझ लें और विद्या से विकसित करें तो उत्थान का मार्ग सरल हो जाएगा। मनोबल का मूल स्रोत व्यक्ति की अंतरात्मा से होता है। स्वयं की शक्ति को पहचानना और उसका वरण कर मनोबल बढ़ाना ही आध्यात्म ज्ञान का मार्ग है लेकिन इस मार्ग की खोज व प्राप्ति ब्रह्म ज्ञान से ही संभव है। जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है मानसिक बल के लिए विचार जरूरी है। ऐसे ही मनुष्य के लिए ब्रह्म ज्ञान की साधना भी जरूरी है। दिव्य ज्योति जागृति संस्थान कोटकपूरा द्वारा प्रे
महिलाएं समाज की हर बुराई को दूर करने की क्षमता रखती हैं : रम्मा गुप्ता

महिलाएं समाज की हर बुराई को दूर करने की क्षमता रखती हैं : रम्मा गुप्ता

Punjab
महिला अग्रवाल सभा की ओर से प्रधान डिंपल गर्ग की अगुवाई में नववर्ष व लोहड़ी को समर्पित सभ्याचारक समारोह करवाया गया। समारोह में अनिता गोयल ने मुख्य मेहमान, रम्मी गुप्ता ने मुख्य वक्ता, रेवा छाहड़िया, नरेंद्र बांसल, रवि कमल गोयल ने विशेष तौर पर शिरकत की। समारोह की शुरूआत डिंपल गर्ग ने ज्योति प्रचण्ड कर व झंडा लहरा कर राष्ट्रीय गीत गाकर की गई। समारोह में सभा की सभी सदस्यों ने बड़ी संख्या में भाग लिया। समारोह दौरान बाल भारती हाई स्कूल, मॉडल बेसिक हाई स्कूल, दी मिलेनियम स्कूल के बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। समारोह को संबोधित करते रम्मा गुप्ता, नरेंद्र बांसल, जितेंद्र जैन ने कहा कि वर्तमान समय में अग्रवाल समाज को एकत्रित होने की जरूरत है। जिसमें अग्रवाल महिलाओं का योगदान काफी महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अग्रवाल महिलाएं समाज की हर बुराई को दूर करने की क्षमता रख