News That Matters

Tag: खानपान

जानें हमारे खानपान से जुड़ी कुछ भ्रांतियां और सच्चाइयां

जानें हमारे खानपान से जुड़ी कुछ भ्रांतियां और सच्चाइयां

Health
हमारी शारीरिक फिटनेस खानपान और रहन-सहन की आदतों पर निर्भर करती है। क्या खाते हैं, क्या पीते हैं, जीवनशैली और दिनचर्या क्या है, इसका असर हमारी सेहत पर पड़ता है। लेकिन खानपान से जुड़ी इतनी भ्रांतियां हैं कि हम कई बीमारियों को जानबूझकर गले लगा रहे हैं। आयुर्वेद के माध्यम से जानें इससे जुड़ी सच्चाई - शेक में दूध का उपयोग - हम अक्सर आम या केले से बना शेक पीना पसंद करते हैं। लेकिन आयुर्वेद के अनुसार दूध के साथ आम, केला, नारियल, बेर, अखरोट, अनार, कटहल व आंवले का प्रयोग नहीं करना चाहिए। आयुर्वेद के ग्रंथों में इसे विरुद्ध आहार कहा गया है। इन्हें खाने से बेहोशी, आफरा, जलोदर यानी पेट में पानी भर जाना, खून की कमी (एनीमिया), कुष्ठ, बुखार, कमजोरी, पुराना जुकाम, नपुंसकता व अंधापन जैसी समस्या हो सकती हैं। ज्यादा पानी पीने से शरीर की सफाई - आयुर्वेद के अनुसार केवल गर्मी का मौसम ही एक ऐसा मौसम है, जिसमें इ
सही खानपान व व्यायाम न होने के कारण युवा हो रहे बीमार : डॉ. भंडारी

सही खानपान व व्यायाम न होने के कारण युवा हो रहे बीमार : डॉ. भंडारी

Punjab
संगरूर |इंटरनेशनल नैचुरोपैथी आर्गेनाइजेशन द्वारा रविवार को किशनपुरा कॉलोनी में सेहत जागरूकता सेमिनार कराया गया। इसमें नैच्युरोपैथी डॉ. हरप्रीत भंडारी ने मुख्य प्रवक्ता के तौर पर शिरकत की। उन्होंने कहा कि आधुनिक जीवन शैली ने नौजवानों को भी बीमारी की चपेट में ले लिया है। 30 से 35 वर्ष तक के नौजवान भी दिल की बीमारी का शिकार हो रहे है, जोकि पंजाब के लिए चिंता का विषय है। सही खानपान न होने व शारीरिक व्यायाम न होने के कारण युवा बीमारी की चपेट में आ रहे है। उन्होंने कहा कि जो लोग हाई ब्लड प्रेशर दिल के रोग, शुगर, दमा आदि से पीड़ित है उन्हें समय समय पर डॉक्टर से चेकअप जरूर करवाना चाहिए। सुबह की सैर इन बीमारियों से हमेशा के लिए निजात दिलवा सकती है। अंत में आर्गेनाइजेशन के प्रतिनिधियों द्वारा डॉ हरप्रीत भंडारी को सम्मानित भी किया। इस मौके पर राजविंदर सिंह, लक्क चौपड़ा, जगदीश सिंह
जानिए, सर्दी में कैंसर मरीजों के खानपान पर विशेष ध्यान रखना क्यों जरूरी है

जानिए, सर्दी में कैंसर मरीजों के खानपान पर विशेष ध्यान रखना क्यों जरूरी है

Health
सर्दी का मौसम कैंसर रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। इसकी वजह इस मौसम में नमी अधिक होती है और कैंसर के मरीजों में कीमोथैरेपी या दूसरी दवाइयों के कारण इम्युनिटी घट जाती है। जिससे उनमें संक्रमण का खतरा अधिक हो जाता है। सावधानी बरतने की जरूरत अधिक रहती है। सामान्य लोगों की तुलना में कैंसर मरीजों के शरीर को अधिक गर्म रखने की जरूरत रहती है। इसके लिए ऊनी कपड़े पहनें। सिर, हाथ, पैरों को ढककर रखें। ठंडी हवाओं से खुद का बचाव करें। ठंडी चीजें जैसे आइसक्रीम, कुल्फी आदि से परहेज रखेंं। आप मरीज नहीं तो बरतें ये सावधानी भोजन को दोबारा गर्म करने और रेड मीट खाने से बचें। पोषण युक्त आहार से खतरा कम किया जा सकता है। सब्जियां, फल, फली, साबुत अनाज खानपान में शामिल करें। एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स कैंसर कोशिकाओं को बढऩे से रोकते हैं। शक्कर कम लें। खानपान में हमेशा रखें : आहार में टमाटर, ब्रोकली, पत्तागोभी, लह
सेहतमंद रहने के लिए वसंत के मौसम में ऐसे बदलें अपना खानपान

सेहतमंद रहने के लिए वसंत के मौसम में ऐसे बदलें अपना खानपान

Health
वसंत ऋतु के आगमन पर सर्दी का मौसम जाने काे हाेता है और तापमान में परिवर्तन होने लगता है इसलिए हमें अपने खानपान में भी बदलाव कर लेना चाहिए। नेचुरोपैथी के अनुसार मौसम बदलते ही हमें बाजरा और तिल जैसी गर्म तासीर वाली चीजों का उपयोग बंद कर देना चाहिए। वसंत ऋतु में गरिष्ठ भोजन करते रहने से हमारे शरीर में वात, पित्त और कफ का संतुलन बिगड़ जाता हैै। वसंत ऋतु में सूरज की रोशनी पपीता, सरसों, बेर, अमरूद और कद्दू जैसी पीली चीजों पर पड़ने से इनके पोषक तत्वों में इजाफा हो जाता है। वैसे क्रोमोथैरेपी में पीले रंग को आशावादी माना गया है। आइए जानते हैं पीले रंगों से युक्त फल और सब्जियों की उपयोगिता के बारे में। पपीता : इसे खाने से पेट की सफाई होती है। यह शरीर में विटामिन ए की कमी को पूरा कर त्वचा व आंखों के रोगों को दूर करता है। कद्दू : यह डायबिटीज और मोटापा कम करने के लिए फायदेमंद होता है। विटामिन ए से भरपू
Fitness samachar – वर्कआउट के बाद एेसा रखें खानपान, हाेगा दाेगुना फायदा

Fitness samachar – वर्कआउट के बाद एेसा रखें खानपान, हाेगा दाेगुना फायदा

Health
स्वस्थ शरीर के लिए वर्कआउट के साथ उचित खानपान भी जरूरी है। ज्यादातर लोग वर्कआउट के बाद लगने वाली भूख को कंट्रोल नहीं कर पाते और न चाहते हुए भी ओवरईटिंग कर लेते हैं। यहां कुछ ऐसे तरीके हैं जिनसे आप इस आदत पर काबू पा सकते हैं :- जरूरी है कार्ब-प्रोटीनअल्पाहार में ऐसी चीजें शामिल करें जिनमें कार्बोहाइड्रेट व प्रोटीन हो। मूंगफली, बटर या जैम सैंडविच स्वस्थ विकल्प हो सकते हैं। वर्कआउट के दौरान पसीने से निकलने वाले फ्लूड को पानी पीकर पूरा किया जा सकता है। वर्कआउट के बाद तुरंत कुछ खाने की बजाय 15-20 मिनट रुककर खाएं। दूध है जरूरीकुछ हल्का खाने की बजाय कम फैट वाला दूध पीना बेहतर है। प्रोटीन होने से आपको एनर्जी मिलेगी और वर्कआउट के बाद लगने वाली भूख भी कम होगी। खाने से पहले वर्कआउटवर्कआउट करने के तुरंत बाद भूख लगने पर ज्यादातर लोग फास्ट फूड पर टूट पड़ते हैं, जो हैल्थ के लिए सही नहीं रहता। ऐसे फूड से
प्रोस्टेट के लिए जरूरी है संयमित खानपान

प्रोस्टेट के लिए जरूरी है संयमित खानपान

Health
अधेड़ावस्था मे प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ना एवं इससे संबंधित अन्य समस्याओं का सही समय पर इलाज न होने से स्थिति बिगडऩे पर कैंसर भी हो सकता है। पुरुषों को होने वाले विभिन्न प्रकार के कैंसर में प्रोस्टेट कैंसर का दूसरा स्थान है। वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट के मुताबिक सही जीवनशैली व खानपान से इसकी रोकथाम संभव है। डेयरी प्रोडक्ट कम लें - वसायुक्त भोजन विशेषतौर पर ऐसे डेयरी उत्पाद जो कि पाश्चुरीकृत हों, उन्हें न खाएं। इस प्रकार का फूड प्रोस्टेट कैंसर के साथ-साथ हृदय संबंधित बीमारियों का कारण भी बन सकता है। जरूरी है वर्क आउट - नियमित एक्सरसाइज करने की आदत बनाएं। भोजन जीभ के स्वाद के लिए नहीं ब्लकि अपनी सेहत के लिए करें। मांसाहार से बचें क्योंकि रेड मीट का ज्यादा मात्रा में सेवन प्रोस्टेट के लिए हानिकारक हो सकता है। शराब या बीयर का सेवन न करें। अधिक चाय-कॉफी न पिएं क्योंकि इनसे डिहाइड्रेशन होता है और ब्लैडर म
सर्दियों में एेसे करें स्किन की देखभाल, एेसा रखें खानपान

सर्दियों में एेसे करें स्किन की देखभाल, एेसा रखें खानपान

Health
सर्दियों में त्वचा को चमकदार बनाए रखना आसान काम नहीं। लोशन, कोल्ड क्रीम और न जाने कितने तरह के उपाय करने पड़ते हैं। ऐसे में कुछ खास बातों का ध्यान रखकर त्वचा को खूबसूरत बनाया जा सकता है। पानी पिएं भरपूरसर्दियों में भी त्वचा को हाइड्रेट रखना बेहद जरूरी है। इसलिए पर्याप्त पानी पिएं। हर्बल या ग्रीन टी भी अच्छा विकल्प हो सकते हैं। गुनगुना पानी पीना हो तो पहले उसे अच्छी तरह से उबालें और फिर ठंडा होने पर ही पिएं क्योंकि हल्का गर्म करने पर पानी में मौजूद बैक्टीरिया पूरी तरह से नष्ट नहीं हो पाते। त्वचा की नमी बनी रहेऐसा मॉश्चराइजर चुनें जो आपकी त्वचा को अच्छी तरह से नमी दे। एक अच्छा लिप बाम भी साथ रखें। साथ ही सनस्क्रीन लोशन भी जरूर लगाएं। सनस्क्रीन सिर्फ गर्मियों में ही नहीं बल्कि सर्दियों में भी बेहद जरूरी है। रोजाना एक्सरसाइज भी करें। सही मॉश्चराइजर चुनेंऐसा मॉश्चराइजर चुनें जो आपकी त्वचा को अच
गैस की समस्या दूर करनी है तो पहले अपना खानपान सुधारें

गैस की समस्या दूर करनी है तो पहले अपना खानपान सुधारें

Health
भोजन का ठीक तरह से न पचना गैस बनने का प्रमुख कारण है। कई लोगों के पाचन मार्ग में गैस जमा हो जाती है। कुछ लोगों के साथ दिन में कई बार ऐसा होता है। उम्र बढ़ने के साथ शरीर में एंजाइम का स्तर कम हो जाता... Live Hindustan Rss feed
हिन्दुस्तान तनमन: गैस की समस्या दूर करनी है तो पहले खानपान सुधारे, क्लिक कर पढ़ें हेल्थ से जुड़ी खबरें

हिन्दुस्तान तनमन: गैस की समस्या दूर करनी है तो पहले खानपान सुधारे, क्लिक कर पढ़ें हेल्थ से जुड़ी खबरें

Health
भोजन का ठीक तरह से न पचना गैस बनने का प्रमुख कारण है। कई लोगों के पाचन मार्ग में गैस जमा हो जाती है। कुछ लोगों के साथ दिन में कई बार ऐसा होता है। उम्र बढ़ने के साथ शरीर में एंजाइम का स्तर कम हो जाता... Live Hindustan Rss feed
आपकाे सालभर बीमारी से दूर रखेगा सर्दियाें का ये विशेष खानपान, जानिए क्या

आपकाे सालभर बीमारी से दूर रखेगा सर्दियाें का ये विशेष खानपान, जानिए क्या

Health
सर्दियों में आमतौर पर कार्बोहाइड्रेट्स का सेवन बढ़ जाता है और पानी पीना कम हो जाता है जोकि स्वास्थ्य की दृष्टि से हानिकारक है। चिकित्सकों का कहना है कि ठंड के मौसम में कुछ आसान चीजों को अपनाकर अच्छे स्वास्थ्य को सुनिश्चित किया जा सकता है। वरिष्ठ आहार विशेषज्ञ मंजरी चंद्रा का कहना है, ''शारीरिक श्रम की कमी व अस्वस्थ जंक फूड का सेवन करने की वजह से सर्दियों में वजन का बढ़ना बहुत आम बात है। लोगों को अखरोट, हरे पत्तेदार सब्जियां, मौसमी फलों, शकरकंद और अंडे खाना चाहिए।" उन्होंने कहा, ''नमक और चीनी का सेवन घटाना और इसके स्थान पर सेंधा नमक, गुड़, शहद आदि लेना बहुत आवश्यक है। साथ ही ठंड में प्रतिदिन के खाने में कम से कम तेल का प्रयोग लोगों और उनके परिवारों के अच्छे स्वास्थ्य को सुनिश्चित करता है।" वजन न बढ़े इसके लिए दूसरा विकल्प आयुर्वेदिक जीवनशैली अपनाना है। आयुर्वेद के हिसाब से रोग प्रतिकारक क्ष