News That Matters

Tag: गर्मी

गर्मी और मिलमैन को काबू कर जोकोविच यूएस ओपन के सेमीफाइनल में

Indian Sports
न्यूयॉर्क। विंबलडन चैंपियन सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने 20 बार के ग्रैंडस्लैम चैंपियन रोजर फेडरर को हराने वाले ऑस्ट्रेलिया के जॉन मिलमैन को तेज गर्मी में 6-3, 6-4, 6-4 से काबू कर साल के आखिरी ग्रैंडस्लैम यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में ... खेल-संसार
उफ! ये तेज गर्मी और ये पसीना

उफ! ये तेज गर्मी और ये पसीना

Health
गर्मियों के मौसम में पसीने की प्रॉब्लम आमतौर पर सबसे बड़ी है। पसीने की दुर्गंध ना सिर्फ खुद के लिए बल्कि दूसरों के लिए भी परेशानी का सबब बन जाती है। कई बार अंडर आर्म, पैरों, हथेली में पसीने की दुर्गंध से शर्मिदगी झेलनी पड़ जाती है। मानसिक तनाव, शारीरिक परिश्रम भावनात्मक उत्तेजनाए, आहार-विहार, आनुवांशिक हार्मोन असंतुलन तथा वातावरण में उच्च तापमान गार्मियों में पसीने का मुख्य कारण माना जा सकता है। पसीने से शरीर में फंगल इन्फेक्शन भी हो सकते हैं। गर्मियों में पसीना आना आम बात है तथा पसीने से मोटापा कम होता है तथा कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है। यूं तो पसीना पूरी तरह गंधरहित होता है लेकिन जब पसीना त्वचा के स्तर पर विद्यमान बैक्टीरिया से मिलता है तो पसीने से बदबू आना शुरू हो जाती है। सौंदर्य विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे में नींबू के पानी, गुलाबजल, दही, बेंकिग सोडा, ताजे पानी जैसे आसान घरेलू उ
गर्मी में वायरस और बैक्टीरिया ज्यादा तेजी से पनपते हैं

गर्मी में वायरस और बैक्टीरिया ज्यादा तेजी से पनपते हैं

Health
गर्मी में पेट से जुड़ी कई परेशानियां सामने आती हैं। जैसे-जैसे मौसम गर्म होता है, हमारी लाइफस्टाइल और खानपान की आदतें बदलने लगती हैं। मौसम के बढ़े हुए तापमान से न केवल हमें पसीना ज्यादा होता है, बल्कि इससे हमारी प्रतिरक्षा शक्ति भी कमजोर होती है। ऐसे में दूसरे किसी मौसम की तुलना में हमारे शरीर पर बैक्टिरिया और वायरस का अधिक आक्रमण होता है। दूसरे किसी मौसम की तुलना में गर्मी में खाना जल्दी खराब और होता है और बीमारी की वजह बनता है। चिकित्सकों का कहना है कि जैसे-जैसे गर्मी बढ़ती है, पेट के संक्रमण और अन्य परेशानियों के मामले करीब 45 प्रतिशत तक बढ़ जाते हैं। गर्मियों में पेट की परेशानियों के सबसे ज्यादा शिकार ऐसे बच्चे या युवा होते हैं जो भोजन से पहले अपने हाथों को सही से साफ नहीं करते या बाहर का खाना खाते हैं, जो अनचाहे ही संक्रमित हो सकता है। पाचन से जुड़ी अनियमितताओं के कुछ लक्षण गैस्ट्रोइंट
मुल्तानी मिट्टी से कम होता गर्मी का असर

मुल्तानी मिट्टी से कम होता गर्मी का असर

Health
नीम की पत्तियों का पाउडर, नींबू का रस, दही, मेथी पाउडर, गुलाबजल, हल्दी व शहद के साथ या अकेले भी मुल्तानी मिट्टी का प्रयोग करते है। जानें इसके फायदे- दूर होंगी घमौरियां अत्यधिक गर्मी के कारण शरीर का तापमान बढऩे से त्वचा पर छोटी-छोटी फुंसियां उभरने लगती हैं। थोड़े पानी या दूध में थोड़ी मुल्तानी मिट्टी के पाउडर को भिगोकर फुला लें। प्रभावित हिस्से पर सूखने तक पतले लेप के रूप में लगा लें। इससे घमौरियों में होने वाली जलन और खुजली नहीं होगी। ताजगी का अहसास धूप में निकलने से आधा घंटा पहले मुल्तानी मिट्टी का लेप चेहरे, हाथ, गर्दन और पैरों पर लगाकर धो लें। इससे गर्मी का असर कम होने के साथ तरोताजा महसूस करेंगी। तैलीय त्वचा कुछ लोगों को तैलीय त्वचा की समस्या होती है। ऐसे में धूप सामान्य से ज्यादा त्वचा पर असर करने लगती है। मुल्तानी मिट्टी त्वचा से अतिरिक्त तेल को सोखकर चमक बढ़ाने और ताजगी का काम करती
सावधान! गर्मी में हो सकती है चर्म रोग की परेशानी

सावधान! गर्मी में हो सकती है चर्म रोग की परेशानी

Health
बढ़ती गर्मी, प्रदूषण और रहन सहन के तौर तरीकों में आए बदलाव के कारण चर्म रोगियों की तादाद में लगातार इजाफा हो रहा है। एक अध्ययन के मुताबिक तो आज शहरी और ग्रामीण इलाकों में 10 में से 7 लोग चर्म रोगों से परेशान दिखाई देंगे। पसीना गर्मियों में स्किन के अधिकतर रोग पसीने से संबंधित होते हैं। चिपकी हुए जगह (जांघ, बगल आदि) में पसीने के एकत्र होने और गंदगी जमा होने से फफूंद पनपने लगती है। शुरुआत में कालापन, लालपन, फुंसियां या फिर चकत्ते बन सकते हैं। ध्यान न देने पर खुजली, एलर्जी या फिर जलन हो सकती है। छोटे बच्चों , दूध पीते नवजात में ज्यादा पसीना आने से घमोरी या फिर फोड़े फुंसी हो सकते हैं। क्या करें?पसीने से छुटकारे के लिए ढीले ढाले साफ सुथरे कपडे पहनें। हो सके तो दो बार स्नान करें। पूरी तरह सूखने के बाद ही अंत:वस्त्र पहनें। अपना साबुन तोलिया अलग रखें। घर में किसी को चर्म रोग है तो उनके कपड़े धोन
गर्मी में बालों और स्किन की देखभाल कैसे करें, जानें यहां

गर्मी में बालों और स्किन की देखभाल कैसे करें, जानें यहां

Health
गर्मी का मौसम यानी बालों और त्वचा की शामत! एक तो झुलसाती हुई धूप, ऊपर से गर्म हवा के थपेड़े। हवा में आद्र्रता और उमस के कारण बैक्टीरिया की भी मानो बन आती है। सूरज की परा बैंगनी किरणें स्किन के इलैस्टीन और कोलाजेन टिशू को नष्ट करके इसका लचीलापन खत्म कर देती हैं। नतीजतन स्किन रूसी, बेजान, ढीली और झुर्रियों की शिकार हो जाती है। इसी तरह बालों के ड्राई होने से ये कमजोर हो जाते हैं और ज्यादा पसीना आने से सिर में खुजली, रैशेज आदि समस्याएं हो जाती हैं। यही हाल स्किन का होता है। इसलिए इस मौसम में आपकी स्किन और बालों को चाहिए खास देखभाल- बॉडीकेयरइन दिनों ऑयली स्किन में कील मुंहासे खूब हो जाते हैं। खासकर चेहरे, पीठ, नितंबों पर। शरीर के ऐसे हिस्सों की सफाई का समुचित ध्यान रखें।ऐसी कॉस्मेटिक सामग्री का इस्तेमाल करें जिससे रोमछिद्र बंद न हों।ऐसे क्लींजर का इस्तेमाल करें जिनमें सैलीसिलिक व ग्लाइकोलिक एसि
गर्मी के दिनों में ऐसे बढ़ेगी आपकी कार्य क्षमता

गर्मी के दिनों में ऐसे बढ़ेगी आपकी कार्य क्षमता

Health
गर्मी के दिनों में हम अक्सर जल्दी ही निढ़ाल हो जाते हैं और कोई काम करने का मन नहीं करता। तेजी से चमकते सूरज और गर्म हवाएं मानो हमारी सारी ऊर्जा को खींच लेते हैं। ऐसे में अगर आपको अपनी कार्यक्षमता को बरकरार रखना है और साथ साथ बढ़ाना भी है, तो आजमाएं ये आसान उपाय। दिन भर पीते रहें ठंडा पानीगर्मियों में हमारे शरीर का डिहाइड्रेशन बहुत तेजी से होता है। शरीर में पानी की मात्रा कम होते ही इसकी ऊर्जा कम होने लगती है। इसलिए दिन भर घड़े का ठंडा पानी, फलों के रस व अन्य पेय पदार्थ नियमित रूप से पीते रहें। इससे आपको ताजगी का अहसास होगा और शरीर में ऊर्जा भी बनी रहेगी। दिन में दो-तीन बार चेहरा धोएंठंडे पानी से चेहरा धोने पर मुरझाई हुई, पसीने से चिपचिपी हुई स्किन को राहत मिलती है। सुस्त चेहरा और अलसाई आंखें खिल उठती हैं। कहीं भी बाहर से लौटें और थकान महसूस करें तो सबसे पहले पसीना सुखाएं और फिर हाथ पैर औऱ
गर्मी में संभल कर करें एक्सरसाइज

गर्मी में संभल कर करें एक्सरसाइज

Health
गर्मी के साथ अब ऊमस भी बढ़ गई है। इस मौसम में एक्सरसाइज के दौरान पसीना अधिक आता है। एक्सरसाइज के कारण निकलने वाला पसीना शरीर के विषैले तत्त्वों को बाहर निकालता है। ऐसे में शरीर में पानी की कमी होती है जिससे डिहाइड्रेशन की आशंका रहती है। ज्यादातर लोग इस कारण व्यायााम से दूरी बना लेते हैं। लेकिन इस दौरान हर १५-२० मिनट बाद पानी की दो-तीन घूंट ली जा सकती हैं। इससे शरीर में पानी की पूर्ति होगी और डिहाइडे्रशन का खतरा भी कम होगा। इस गर्मी के मौसम में वर्कआउट के दौरान कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरूरी है। जानें क्या बरतें सावधानी- पहनावे का खयाल इस मौसम में व्यायाम के दौरान कपड़ों का खास खयाल रखें। चुस्त और पॉलिस्टर के कपड़ों से दूरी बनाएं। हल्के रंग के कॉटन फैब्रिक्स का चुनाव करें। ये गर्मी से बचाने के साथ पसीना भी आसानी से सोखते हैं। साथ ही ये काफी आरामदायक होते हैं। ज्यादा ताकत न लगाएं एक्सरसाइ

आ गया एसी वाला हैलमेट, गर्मी और धूल से भी मिलेगी राहत

Indian Technology
बैंगलोर की हैलमेट निर्माता कम्पनी ब्लू आरमर ने एक अनोखा हैलमेट बनाया है। ये हैलमेट आपको गर्मी और धूल से राहत देगा। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

बारिश ने दी भीषण गर्मी से राहत, आज दिल्ली-एनसीआर समेत कई इलाकों में पहुंचेगा मानसून

India
मानसून उत्तर भारत के ज्यादातर राज्यों में दस्तक दे चुका है। आज मानसून दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बाकी हिस्सों में भी पहुंच जाएगा। Jagran Hindi News - news:national