News That Matters

Tag: चीफ

बीसीसीआई के चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद के नाम पर लाखों की ठगी, शिकायत दर्ज

बीसीसीआई के चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद के नाम पर लाखों की ठगी, शिकायत दर्ज

Indian Sports
हैदराबाद. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद ने उनके नाम का गलत इस्तेमाल कर लाखों रुपए की धोखाधड़ी होने का दावा किया है। प्रसाद के मुताबिक, आरोपी युवक की पहचान बुदुमुरी नागाराजु के तौर पर हुई। वह आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले का रहने वाला है। उसने प्रसाद के नाम पर कई बड़े बिजनेसमैन से लाखों रुपए की ठगी की है। प्रसाद ने आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।प्रसाद के मुताबिक, कई बड़े बिजनेसमैन ने उनसे शिकायत की है कि कोई शख्स है, जो उनका नाम लेकर फोन करता है।प्रसाद ने बुधवार को विशाखापट्टनम में दिव्यांग बच्चों के साथ अपना जन्मदिन मनाने पहुंचे थे, तभी मीडिया के सामनेउन्होंने इस बात का खुलासा किया।प्रसाद ने कहा, नागाराजु ने ट्रूकॉलर एप पर अपना मोबाइल नंबर एमएसके प्रसाद के नाम से रजिस्टर्ड करा रखा है। इसी के चलते भोले-भाले उद्योगपति उसकी चा
चीफ जस्टिस के खिलाफ यौन शोषण के आरोपों की जांच करेंगे जस्टिस बोबडे

चीफ जस्टिस के खिलाफ यौन शोषण के आरोपों की जांच करेंगे जस्टिस बोबडे

India
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के खिलाफ यौन शोषण के आरोपों की जांच जस्टिस एसए बोबडे करेंगे। चीफ जस्टिस ने अपने खिलाफ जांच के लिए मंगलवार को जस्टिस बोबडे की नियुक्ति की। सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठता के मामले में जस्टिस बोबडे चीफ जस्टिस के बाद नंबर दो पर हैं।जस्टिस बोबडे ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट का वरिष्ठतम जज होने की वजह से सीजेआई ने अपने खिलाफ जांच के लिए उन्हें नियुक्त किया है। जस्टिस बोबडे ने एक पैनल बनाने का फैसला किया है। इस पैनल में जस्टिस एनवी रमना और जस्टिस इंदिरा बनर्जी को शामिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जस्टिस रमना वरिष्ठता में उनके बाद आते हैं इसलिए उन्हें पैनल में शामिल किया जाएगा। जस्टिस इंदिरा को इस पैनल में इसलिए शामिल किया जा रहा है, क्योंकि वे एक महिला हैं।आरोपों में साजिश का दावा करने वाले वकील को पेश होने के निर्देशसुप्रीम कोर्ट न
उत्पीड़न के आरोप लगने के बाद चीफ जस्टिस ने विशेष बेंच बनाई, कहा- न्यायपालिका की आजादी पर खतरा

उत्पीड़न के आरोप लगने के बाद चीफ जस्टिस ने विशेष बेंच बनाई, कहा- न्यायपालिका की आजादी पर खतरा

India
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में एक असाधारण घटना के तहत चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने खुद पर आरोप लगने के बाद एक विशेष बेंच गठित की। सीजेआई गोगोई पर 35 वर्षीय महिला ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। यह महिला 2018 में जस्टिस गोगोई के आवास पर बतौर जूनियर कोर्ट असिस्टेंट पदस्थ थी। महिला का दावा है कि बाद में उसे नौकरी से हटा दिया गया। इस महिला ने अपने एफिडेविट की कॉपी 22 जजों को भेजी। इसी आधार पर चार वेब पोर्टल्स ने चीफ जस्टिस के बारे में खबर प्रकाशित की। इसके बाद चीफ जस्टिस ने शनिवार होने के बावजूद विशेष सुनवाई की और कहा, ‘‘मैंने आज कोर्ट में बैठने का यह असामान्य और असाधारण कदम उठाया है क्योंकि चीजें हद से ज्यादा बढ़ गई हैं।’’विशेष बेंच सुबह ही गठित हुईसॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट के पदाधिकारियों के समक्ष यह उल्लेख किया कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के खिलाफ आरो
प्रमोशन से पहले दी थी चार्जशीट, रिटायरमेंट के आठ महीने बाद चीफ इंजीनियर बने कुमावत

प्रमोशन से पहले दी थी चार्जशीट, रिटायरमेंट के आठ महीने बाद चीफ इंजीनियर बने कुमावत

Rajasthan
जयपुर.जयपुर डिस्कॉम में एडिशनल चीफ इंजीनियर आरएन कुमावत को रिटायरमेंट के आठ महीने बाद चीफ इंजीनियर पोस्ट पर प्रमोशन मिला है। कुमावत की डेढ़ साल पहले डीपीसी होने के बाद चीफ इंजीनियर प्रमोशन से पहले कुछ शिकायतों के आधार पर तीन चार्जशीट दी गई थी और जवाब देने के बावजूद चार्जशीट को पेडिंग रखा गया।कुमावत को उस समय डिस्कॉम में बोर्ड में डायरेक्टर का प्रबल दावेदार माना जा रहा था। तभी प्रमोशन व रिटायरमेंट से पहले हुई शिकायतों की जांच में कुमावत को क्लीनचिट दे दी।मामले मेंजांच पूरी होने पर मौजूदा प्रबंधन ने मामले को निष्क्षता से से देखते हुए सभी चार्जशीटों को गलत मानते हुए मेरिट पर खत्म किया है। हालांकि कुमावत रिटायरमेंट होने से इन्हे पोस्ट का फायदा नहीं मिलेगा, लेकिन परिलाभ व पेंशन अब चीफ इंजीनियर पोस्ट के ही मिलेंगे। इसके साथ ही बिजली कंपनियों के प्रबंधन में अब कुमावत को महत्वपू
माई-लॉर्ड, मेरे सरेंडर की तारीख बढ़ा दें, जेल गई तो कोई शादी नहीं करेगा, चीफ जस्टिस बोले- तुमने हमें तो न्योता दिया ही नहीं 

माई-लॉर्ड, मेरे सरेंडर की तारीख बढ़ा दें, जेल गई तो कोई शादी नहीं करेगा, चीफ जस्टिस बोले- तुमने हमें तो न्योता दिया ही नहीं 

Delhi
पवन कुमार, नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को दहेज प्रताड़ना के एक मामले में आरोपी महिला ने अपनी शादी को आधार बनाते हुए सरेंडर के लिए और समय मांगा। मगर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने महिला की मांग को खारिज कर दिया।सुप्रीम कोर्ट में मेंशनिंग के दौरान दहेज प्रताड़ना के मामले में आरोपी एक महिला ने बताया, मैं 30 साल की हूं। मुझे दहेज प्रताड़ना के एक मामले में अदालत ने पुलिस के समक्ष सरेंडर करने को बोला है। मेरी सगाई आगामी 22 अप्रैल को है और उसके बाद शादी है। ऐसे में सरेंडर करने की अवधि को बढ़ाया जाए। अगर जेल चली गई तो कोई शादी नहीं करेगा। शेष | पेज 9 परये सवाल-जवाब हुएचीफ जस्टिस - तो आप शादी के बाद सरेंडर करना चाहती हैं?महिला- जी हां, मैं यही चाहती हूं।चीफ जस्टिस - हम इसकी अनुमति नहीं देंगे। जिससे कि दूसरा पक्ष अचंभित न हो।चीफ जस्टिस (अंत म
चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट तेज प्रताप सिंह रंधावा को किया सम्मानित

चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट तेज प्रताप सिंह रंधावा को किया सम्मानित

Punjab
चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट तेज प्रताप सिंह रंधावा की बदली फरीदकोट हो जाने पर शहर के विभिन्न संगठनों की ओर से नशामुक्ति केन्द्र में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। संगठनों के प्रतिनिधियों ने तेज प्रताप सिंह रंधावा व उनकी प|ी रवनीत कौर को सम्मानित किया गया। नशामुक्ति केन्द्र के प्रोजेक्ट डायरेक्टर मोहन शर्मा ने कहा कि तेज प्रताप सिंह रंधावा ने हमेशा ही लोगों को निष्पक्ष व दयालु भाव से इंसाफ दिया है। उन्होंने कानूनी सेवाएं अथाॅरिटी के सचिव के तौर पर बिछड़े परिवारों को जोड़ने में अहम भूमिका निभाई है। इस मौके पर केन्द्र के काउंसलर नायब सिंह, डॉ. चरणजीत उडारी, सुखविंदर सिंह फुल्ल, पाला मल्ल सिंगला, डॉ. एएस मान, एपी सिंह, राज कुमार अरोड़ा, मलकीत सिंह खटड़ा, बलदेव सिंह गौशल, एडवोकेट ललित गर्ग, एडवोकेट सुरजीत ग्रेवाल, पवित्र कौर ग्रेवाल, प्रहलाद सिंह, ओपी अरोड़ा ने रंधावा द्वारा किए
करमबीर सिंह को अगला नेवी चीफ बनाए जाने के खिलाफ कोर्ट पहुंचे वाइस एडमिरल बिमल वर्मा

करमबीर सिंह को अगला नेवी चीफ बनाए जाने के खिलाफ कोर्ट पहुंचे वाइस एडमिरल बिमल वर्मा

India
नई दिल्ली. वाइस एडमिरल बिमल वर्मा ने वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगला नेवी चीफ बनाए जाने के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की है। वर्मा का आरोप है कि अगले नेवी चीफ की नियुक्ति के वक्त उनकी वरिष्ठता को अनदेखा किया गया है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें मौजूदा नेवी चीफ सुनील लांबा के साथ वाइस एडमिरल बिमल वर्मा। (फाइल) Dainik Bhaskar
अमृतसर के एयर मार्शल ढिल्लों स्ट्रैटेजिक फोर्स कमांड के चीफ बने

अमृतसर के एयर मार्शल ढिल्लों स्ट्रैटेजिक फोर्स कमांड के चीफ बने

Punjabi Politics
नई दिल्ली | अमृतसर के रहने वाले फाइटर पायलट एयर मार्शल एनएस ढिल्लों स्ट्रैटेजिक फोर्स कमांड चीफ के रूप में नियुक्त किए गए हैं। शनिवार को उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी गई। वह देश के सामरिक परमाणु शस्त्रागारों की जिम्मेदारी संभालेंगे। गौर हो कि सामरिक बल कमान को देश के परमाणु शस्त्रागार का कार्य देखना होता है। रणनीति बल कमान देश के परमाणु शस्त्रागारों का काम देखती है। एयर मार्शल एनएस ढिल्लो की पढ़ाई भी अमृतसर में हुई है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Amritsar News - air marshal dhillon of amritsar became chief of strategic force command Dainik Bhaskar
वकीलों के केसाें की मेंशनिंग करने पर गुस्साए सुप्रीम काेर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गाेगाेई

वकीलों के केसाें की मेंशनिंग करने पर गुस्साए सुप्रीम काेर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गाेगाेई

Delhi
नई दिल्ली (पवन कुमार).सुप्रीम कोर्ट में विभिन्न मामलों की जल्द सुनवाई के लिए मेंशनिंग के जरिये वकीलों द्वारा की जाने वाली मांग पर शुक्रवार काे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने नाराजगी जताई। उन्हाेंने एक बार फिर मेंशनिंग सुनने से इनकार करते हुए कहा कि जब तक जीवन-मृत्यु का सवाल न हो, तब तक किसी केस की जल्द सुनवाई की मांग न करें। याचिका”ं पर तय समय पर ही सुनवाई होगी।हुआयूं कि शुक्रवार को चीफ जस्टिस की बेंच के समक्ष विभिन्न मामलों की जल्द सुनवाई की मांग को लेकर मेंशनिंग के लिए काफी वकील पहुंचे थे। साढ़े 10 बजते ही वकील अपने-अपने मामलों की मेंशनिंग करने लगे। कुछ वकीलों का आवेदन अस्वीकार करने के बावजूद लगातार हाे रही मेंशनिंग पर चीफ जस्टिस गुस्सा हाे गए।उन्हाेंने कहा, “हमने कितनी बार कहा है कि जब तक जीवन-मृत्यु का सवाल न हाे, जल्द सुनवाई की मांग न करें। रोज 500 केस लगते हैं। इतने जज ह
डीओरडीओ के पूर्व चीफ ने कहा- मोदी में मिशन को मंजूरी देने की हिम्मत थी

डीओरडीओ के पूर्व चीफ ने कहा- मोदी में मिशन को मंजूरी देने की हिम्मत थी

India
नई दिल्ली. डीओरडीओ के पूर्व चीफ वीके सारस्वत ने मिशन शक्ति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की। उन्होंने बताया, डॉ सतीश रेड्डी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जब यह प्रस्ताव प्रधानमंत्री मोदी के सामने रखा था, उनके अंदर हिम्मत थी इसलिए उन्होंने इसे मंजूरी दी। हमें यूपीए सरकार से सकारात्मक जवाब नहीं मिला। अगर 2012-2013 में मिशन की मंजूरी मिल जाती तो यह 2014-15 में ही लॉन्च हो जाता।इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को राष्ट्र के नाम संबोधन दिया। उन्होंने बताया, "भारत ने तीन मिनट में अंतरिक्ष में लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) में सैटेलाइट को मार गिराया। यह उपलब्धि हासिल करने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बन गया है।'' हालांकि, मोदी के इस संबोधन को लेकर विपक्षी दलों ने निशाना साधा।राहुल ने मोदी पर कसा तंजकांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मिशन शक्ति की सफलता पर डीआर