News That Matters

Tag: जोड़

TV के इस राम को देख हाथ जोड़ लेते हैं लोग, फिल्मों में भी किया है काम

Entertainment
मुंबई. अरुण गोविल एक ऐसे अभिनेता हैं, जो साल 1986 से अब तक भगवान राम की छवि से बाहर नहीं निकल पाए हैं। टीवी के फेमस शो 'रामायण' को करीब 27 साल हो चुके हैं, लेकिन आज भी अरुण गोविल टीवी के राम के रूप में ही पहचाने जाते हैं। एक इंटरव्यू के दौरान खुद अरुण ने यह खुलासा किया था कि आज भी कई जगह उन्हें देखकर लोग हाथ जोड़ने लगते हैं। ऐसा नहीं है कि अरुण ने 'रामायण' के अलावा किसी अन्य टीवी सीरियल या फिल्मों में काम नहीं किया है, लेकिन जितनी लोकप्रियता उन्हें राम बनकर मिली वह किसी अन्य टीवी सीरियल या फिल्म से नहीं मिल सकी। जानते हैं उनके बारे में कुछ बातें :राम नगर में जन्मे थे टीवी के रामटीवी के राम यानी अरुण गोविल का जन्म 12 जनवरी 1958 को राम नगर (मेरठ) उत्तर प्रदेश में हुआ था। जब वे मेरठ यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहे थे, तब उन्होंने कुछ नाटकों में काम किया था। टीने
एक्सपर्ट से जानिए कमजाेरी, याददाश्त आैर जोड़ दर्द जैसी समस्या से जुड़े सवालों के जवाब

एक्सपर्ट से जानिए कमजाेरी, याददाश्त आैर जोड़ दर्द जैसी समस्या से जुड़े सवालों के जवाब

Health
सवाल - कुछ दिनाें से कमजाेरी महसूस हाे रही है। इलाज कराने पर काेर्इ फायदा नहीं हुआ ताे डाॅॅॅक्टर बदल लिया। फिर भी अच्छा महसूस नहीं कर रहा हूं।काेर्इ उपाय बताएं। - पवन जवाब - कमजाेरी का संबंध कर्इ वजहाें से हाेता है।यदि बुखार के बाद की कमजाेरी है ताे यूनानी में खमीरा मरमरीज या खमीरा राउजबान सादा ले सकते हैं। ये दाेनाें खमीरे कमजाेरी दूर करने में बहुत अच्छा काम करते हैं।इसके साथ अलावा उन्नाब का शरबत लेना भी फायदेमंद रहता है। सवाल - अच्छी तरह से पढ़ार्इ हाे इसके लिए मुझे क्या करना चाहिए?- दर्शक जवाब- दिमागी ताैर पर काम करने वालाें आैर पढ़ार्इ करने वालाें की याददाश्त अच्छी हाेनी चाहिए। याददाश्त बढ़ाने के लिए अखराेट का हलावा, बादाम का हलवा, काजू, खसखास(अफीम के बीज)लाभदायक हाेते हैं। अगर आपकाे अपनी याददाश्त तेज करनी है ताे ये नुस्खा आजमा सकते हैं:-एक चम्मच खसखास,दाे चम्मच गेंहू, तीन बादाम, काजू
जोड़ मेले को लेकर नगर कीर्तन सजाया

जोड़ मेले को लेकर नगर कीर्तन सजाया

Punjabi Politics
बुढलाडा|गांव बोड़ावाल के गुरुद्वारा साहिब शहीद बाबा धर्म सिंह की प्रबंधक कमेटी की ओर से नगर निवासियों के सहयोग से मनाए जा रहे तीन दिवसीय जोड़ मेले दौरान श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की छत्र छाया और पंज प्यारों के नेतृत्व में नगर कीर्तन सजाया गया। प्रबंधक कमेटी प्रधान नछत्तर सिंह ने बताया कि शहीद बाबा धर्म सिंह के जन्म दिवस संबंधित हर साल मनाए जाते जोड़ मेले दौरान कविश्री व ढाडी जत्थे संगत को ऐतिहासिक प्रसंग सुनाकर निहाल करेंगे। नगर कीर्तन दौरान जहां गांव के हर मोहल्ले में लोगों ने सुंदर रंगोलिया सजाकर नगर कीर्तन का स्वागत किया वही संगत के लिए चाय, दूध और पकौड़ों के लंगर लगाए गए। इस मौके पर जगसीर सिंह, वीर सिंह, सुखजिंदर सिंह, जसपिंदर सिंह, जगदीप सिंह, हरमन सिंह मौजूद थे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
सझमौता जोड़: पाक ने रोकी समझौता एक्सप्रेस तो भारत ने भी रद्द कर दी दिल्ली-अटारी ट्रेन

सझमौता जोड़: पाक ने रोकी समझौता एक्सप्रेस तो भारत ने भी रद्द कर दी दिल्ली-अटारी ट्रेन

Punjabi Politics
अमृतसर (पंजाब)।पाकिस्तान के आतंकी कैंप पर भारत की कार्रवाई के बाद पाकिस्तान द्वारा समझौता एक्सप्रेस को बंद किए जाने के बाद भारत ने भी दिल्ली से अटारी के बीच चलने वाली अटारी स्पेशल एक्सप्रेस को रद्द कर दिया है। फिलहाल अगले सोमवार यानी कि 4 मार्च को यह ट्रेन दिल्ली से अटारी नहीं आएगी।दोनों ट्रेनों की आवाजाही होगी या नहीं यह सोमवार के बाद ही पता चलेगाजानकारी के लिए बताते चलें कि कैंप पर कार्रवाई के बाद दोनों मुल्कों के बीच तल्खी बढ़ी और पाकिस्तान ने वीरवार को अपनी तरफ से आने वाली समझौता एक्सप्रेस को रद्द कर दिया था। हालांकि भारत की तरफ से अटारी स्पेशल एक्सप्रेस 42 यात्रियों को लेकर अटारी रेलवे स्टेशन पर पहुंची। समझौता के न आने के कारण यात्रियों को इमीग्रेशन की बस में सरहद पार भेजा गया। खैर, इधर रेल मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी करते हुए अटारी स्पेशल को सोमवार के लिए निरस्त क
जोड़ प्रत्यारोपण होने के बाद शुरुआत में जोड़ों पर न दें जोर

जोड़ प्रत्यारोपण होने के बाद शुरुआत में जोड़ों पर न दें जोर

Health
जमीन पर बैठने से बचेंजोड़ प्रत्यारोपण के बाद नियमित रूप से बैठकर काम करने के लिए कुर्सी का इस्तेमाल ही ठीक रहता है। जमीन पर बैठने, सीढिय़ांं चढऩे से बचें। शुरू में एक किलोमीटर घूमें। इसके बाद हर सप्ताह 250 मीटर की बढ़ोत्तरी करें। घूमना डायबिटीज व ब्लड प्रेशर में भी फायदेमंद होता है। वजन नियंत्रित रखेंजोड़ प्रत्यारोपण करवा चुके मरीज को दांतों का इलाज, पेशाब में जलन, फोड़े-फुंसी होने पर तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। मरीज को साल में एक बार सर्जन को दिखाना चाहिए। समस्या होने पर सर्जन से मिलें। सिगरेट और शराब पीने वाले लोगों के घुटने और दूसरे जोड़ में तकलीफ का खतरा अधिक रहता है। उन्हें एवैस्कुलर नेक्रोसिस की समस्या होती है जिससे कार्टिलेज खराब होती है। स्पोट्र्स पर ध्यान दें ऑपरेशन के बाद तैरना, साइकिल चलाना, गोल्फ व डबल्स बैडमिन्टन खेलने की अनुमति होती है, लेकिन फुटबाल, वॉलीबॉल, बास्केटब
यदि करवा चुके हैं जोड़ प्रत्यारोपण तो इन बातों का ध्यान रखें

यदि करवा चुके हैं जोड़ प्रत्यारोपण तो इन बातों का ध्यान रखें

Health
घुटनों का जोड़ प्रत्यारोपण मरीज को जिन्दगी में एक उमंग और आशा की किरण प्रदान करता है। आमतौर पर देखा जाता है कि मरीजों को जोड़ प्रत्यारोपण से पूर्व की तो सभी जानकारी होती है लेकिन सर्जरी के बाद का ज्ञान कम होता है। हम उस अवस्था की बात कर रहे हैं जब जोड़-प्रत्यारोपण का ऑपरेशन कराए 4-6 हफ्ते गुजर चुके हों। घुटने मोड़ने आदि क्रियाएं - ऑपरेशन के बाद नियमित क्रिया-कलापों के लिए कुर्सी का इस्तेमाल ही ठीक रहता है। लेकिन अगर आपका घुटना पूरा मुड़ता है तो आप पाल्थी मारकर भी बैठ सकते हैं। नियमित रूप से जमीन पर बैठने से बचें। सीढ़ियां चढ़ने के लिए रेलिंग का सहारा लेना चाहिए। नियमित व्यायाम व चेकअप - ऑपरेशन के 4-6 हफ्ते बाद आप घूमने का समय बढ़ाएं और 25-30 मिनट सुबह व शाम व्यायाम करें। मांसपेशियों की ताकत बढ़ाने के लिए घुटने व कूल्हे के व्यायाम करें। घुटना प्रत्यारोपण कराने वाले मरीज साल में एक बार डॉक्ट
ऐसे लोगों से तो भगवान भी हाथ जोड़ लें, यह पुलिसवाला फिर क्या चीज है!

ऐसे लोगों से तो भगवान भी हाथ जोड़ लें, यह पुलिसवाला फिर क्या चीज है!

Haryana
पानीपत/जोधपुर/झज्जर। ये तस्वीरें और वीडियो लोगों के ट्रैफिक सेंस की असलियत बयां करते हैं। बाइक पर बैठीं 5 सवारियों वाली तस्वीर पानीपत की है। वहीं 7 सवारियों वाली तस्वीर जोधपुर की। इन सबसे अलग झज्जर में एक पुलिसवाली ने अपने ही पति को पकड़ लिया, क्योंकि वो हेलमेट नहीं पहने था।- एक बाइक पर 5 सवारियों वाली तस्वीर पानीपत के जीटी रोड स्थित संजय चौक की है। यहां पुलिसवाले ने बाइकवाले के सामने हाथ जोड़ लिए। बाद में उसे प्यार से समझाया।-ऐसी ही एक तस्वीर राजस्थान के जोधपुर से सामने आई थी। यहां एक बाइक पर 7 सवारियां बैठीं थीं-4 बच्चे, 2 महिलाएं व 1 पुरुष।-उधर, हरियाणा के झज्जर में अंबेडकर चौक पर ट्रैफिक चेकिंग के दौरान अजीब वाक्या देखने को मिला था। ड्यूटी कर रही एक लेडी पुलिसकर्मी ने बाइक से जा रहे पति को कहा- स्टॉप। पति कुछ समझता इससे पहले पुलिसकर्मी पत्नी ने पूछा- आपका हेलमेट कहां
अध्यात्म से नाता जोड़ चरित्रवान बने युवा पीढ़ी

अध्यात्म से नाता जोड़ चरित्रवान बने युवा पीढ़ी

Punjabi Politics
दिव्य ज्योति जागृति संस्थान और युवा परिवार सेवा समिति की ओर से अमृतसर बाईपास आश्रम में यूथ को जगाने के लिए वर्कशाप हुई। स्वामी सज्जनानंद महाराज ने युवाओं से स्वामी विवेकानंद के जीवन चरित्रों से जुड़े रहस्यों के बारे में बता सभी में जागृति भरी। उन्होंने माहौल ऐसा बना मानों वक्त तो क्या सांसें भी थम सी गई...भजन गाया। संस्थान के म्यूजिकल बैंड ने ‘अब नया रक्त लेकर उत्साह चल पड़ा है-हाथ थाम युग पुरुष का ये कारवां चल पड़ा’ पर परफार्मेंस देकर युवाओं के सुनहरी देश के बदलाव में अपना अहम योगदान देने का आह्वान किया। युवा परिवार सेवा समिति संगठन मंत्री डा. राजबीर ने कहा कि देश को अगर बचाना है तो युवाओं को अध्यात्म से नाता जोड़ना ही पड़ेगा। फिर से ध्रुव, प्रह्लाद, योगानंद का इतिहास दोहराना पड़ेगा। जो कि केवल आत्म जागृति से ही संभव है। साध्वी उर्मिला भारती ने युवाओं को स्वामी विवेका
जानिए कृत्रिम जोड़ रिप्लेसमेंट के बारे में

जानिए कृत्रिम जोड़ रिप्लेसमेंट के बारे में

Health
फिलहाल भारत में सबसे ज्यादा हिप और नी (घुटने) के रिप्लेसमेंट हो रहे हैं। जोड़ों को मुलायम रबड़ जैसा कार्टिलेज कवर करता है। जो उम्र के साथ घिस जाता है। जोड़ों को लचकदार बनाने और उनमें सामंजस्य रखने के लिए उनमें लिसलिसा पदार्थ होता है। यह हड्डियों के लिए इंजन ऑयल का काम करता है। अगर यह कम हो जाए तो हड्डियां आपस में रगड़ खाती हैं तो जोड़ कमजोर हो जाते हैं और दर्द होने लगता है। इसलिए रिप्लेसमेंट सर्जरी करानी पड़ सकती है। पहले जहां 60-70 साल की उम्र में बुजुर्गों को जोड़ों का इलाज और उन्हें बदलवाने की जरूरत होती थी, वहीं अब 40 की उम्र में भी कई लोगों को कूल्हे और घुटने की सर्जरी करानी पड़ रही है। जोड़ प्रत्यारोपण विशेषज्ञ के मुताबिक जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी ने काफी तरक्की की है लेकिन बदले गए जोड़ों की भी एक उम्र होती है। मरीज के हिसाब से भी ये अलग-अलग समय तक चल पाते हैं। मैटल के जोड़ - मैटल से
माछीवाड़ा साहिब का सालाना जोड़ मेला शुरू, श्री झाड़ साहिब से पहुंचे नगर कीर्तन का फूलों की वर्षा से स्वागत

माछीवाड़ा साहिब का सालाना जोड़ मेला शुरू, श्री झाड़ साहिब से पहुंचे नगर कीर्तन का फूलों की वर्षा से स्वागत

Punjab
श्री माछीवाड़ा साहिब| दश्म पिता श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी की आमद की याद में माछीवाड़ा के ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री चरन कमल साहिब में लगते तीन दिवसीय जोड़ मेला आखंड पाठों की लड़ी के साथ शुरू हो गया। हज़ारों की संख्या में देश विदेश से श्रद्धालू पहुंचे और संगत की तरफ से गुरु साहिब की एितहासिक निशानियां पवित्र जंड साहिब इसके नीचे गुरु जी ने टिंड का सिरहाना लगा कर आराम किया और वह कुआं जिसका मीठा जल गुरु साहिब ने छका आदि के भी दर्शन किए। ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री झाड़ साहब से नगर कीर्तन श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की छत्र छाया और पांच प्यारों के नेतृत्व मेें शुरू हआ। नगर कीर्तन की शुरुआत मौके शिरोमणी कमेटी मेंबर बीबी हरजतिन्दर कौर पवात, सीनियर अकाली नेता हरजतिन्दर सिंह पवात, मैनेजर गुरदीप सिंह कंग भी मौजूद थे। यह नगर कीर्तन गाँव पवात, सहजो माजरा, रतीपुर में संगत को दर्शन देता हुआ