News That Matters

Tag: ज्ञान

रामपुरा प्राइमरी स्कूल में पहुंचे डीईओ, बच्चों का जांचा ज्ञान, किचन में मिड-डे मील परखा

रामपुरा प्राइमरी स्कूल में पहुंचे डीईओ, बच्चों का जांचा ज्ञान, किचन में मिड-डे मील परखा

Haryana
सरकारी प्राइमरी स्कूल-8 रामपुरा का शुक्रवार को डीईओ आनंद चौधरी ने औचक निरीक्षण किया। सबसे पहले उन्होंने कक्षाओं में जाकर सक्षम की तैयारी की जांच की। बच्चों से पाठ्यक्रम के अनुरूप सवाल जवाब किए। अध्यापकों को कहा कि सभी बच्चों को मुख्यधारा में लाने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास करें। डीईओ चौधरी ने रसोई में जाकर बच्चों के लिए बन रहे मिड डे मील की गुणवत्ता को परखा साथ ही अनाज व खाद्य पदार्थों के रख-रखाव का भी निरीक्षण किया। उन्होंने सभी बच्चों व अध्यापकों को जल संरक्षण का संदेश देते हुए कहा कि जल बचाओ जीवन, जल नहीं तो कल नहीं। स्कूल से जल संरक्षण की रैली को झंडी दिखाकर रवाना किया। डीईओ ने विद्यालय में बने वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम की सराहना की। विद्यालय प्रभारी महेंद्र सिंह कलेर ने बताया कि यह वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम समाजसेवी सुशील बजाज व श्री राम की सहयोग से बनाया गया है। इस
गुरु बिना नहीं मिलता ज्ञान: मलिक

गुरु बिना नहीं मिलता ज्ञान: मलिक

Haryana
उचाना | शिवानिया पब्लिक स्कूल उचाना मंडी में गुरु पूूर्णिमा बड़े हर्षोल्लास से मनाई गई। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि स्कूल संरक्षक डॉ. नफे सिंह खटकड़ रहे। विद्यार्थियों ने गुरु के प्रति अपने विचार कार्यक्रम में कविता, गीतों के माध्यम से रखे। प्रधानाचार्य, स्कूल संरक्षक एवं शिक्षकों का तिलक लगाकर गुरु पूर्णिमा पर विद्यार्थियों ने अभिवादन किया। मलिक ने कहा कि यह सत्य है कि भगवान बनने की पात्रता हर पत्थर में नहीं होती लेकिन जो पत्थर भी भगवान बनता है उसके लिए शिल्पकार जरूरी चाहिए। जो कांट-छांट कर उसके दैवीय रूप को प्रकट कर सकें। उसी शिल्पकार को गुरु कहा जाता है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
बंद अलमारियों में पड़ीं किताबों के खजाने से बढ़ाया जाएगा स्टूडेंट्स का ज्ञान

बंद अलमारियों में पड़ीं किताबों के खजाने से बढ़ाया जाएगा स्टूडेंट्स का ज्ञान

Punjab
मनदीप सिंह| नवांशहर .आज के डिजिटल दौर में विद्यार्थियों के हाथों में मोबाइल, टैबलेट व कंप्यूटर आने की वजह से भले ही ज्ञान का दायरा बड़ा हो गया है, मगर डिजिटल दुनिया में वे सही ज्ञान अर्जित कर रहे हैं या इंटरनेट पर गलत बेवसाइट पर अपना ध्यान लगा रहे हैं, इसके बारे में पता लगाना मुश्किल है। इस डिजिटल युग में बच्चों में किताबें पढ़ने व उन्हें किताबों के जरिए सही ज्ञान देकर न केवल बंद दुनिया के दरवाजे खोलने बल्कि उन्हें किताबों से दोस्ती करवाने के लिए शिक्षा विभाग की तरफ से पहल की जा रही है। इसके तहत शिक्षा विभाग 15 जुलाई से 15 अगस्त तक लाइब्रेरी लंगर के रूप में मना रहा है।इसके तहत हरेक स्कूल प्रबंधन को निर्देश जारी किए गए हैं कि वे सालों से लाइब्रेरियों की अलमारियों में बंद पड़ी ज्ञान वर्धक किताबों को अलमारियों से निकालें और बच्चों की पाठन कैपेसिटी के अनुसार उन्हें पढ़ने के लिए
बच्चे को कंप्यूटर का ज्ञान स्कूल लेवल से ही होना जरूरी: कपूर

बच्चे को कंप्यूटर का ज्ञान स्कूल लेवल से ही होना जरूरी: कपूर

Haryana
यमुनानगर| जोड़ियाे स्थित ब्लूम बर्ग स्कूल में एडमिशन लेने वाले छात्राओं के सम्मान में कार्यक्रम हुआ। वहीं कंप्यूटर लैब का भी उद्घाटन किया गया। प्रिंसिपल अनु कपूर ने कहा कि स्कूल में इस तरह के कार्यक्रम जरूरी है। किसी भी शुभ कार्यक्रम को करने से पहले सम्मान करना हमारी संस्कृति रही है। इस संस्कृति से बच्चों को भी अवगत कराना जरूरी है। उनका कहना है कि कंप्यूटर का युग है। हर काम कंप्यूटर से होता है। इसलिए हर बच्चे को कंप्यूटर का ज्ञान स्कूल लेवल से ही होना जरूरी है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
मानव जीवन में ही ब्रहम ज्ञान की प्राप्ति से चौरासी के बंधन से छुटकारा पाया जाना संभव: महा सिंह

मानव जीवन में ही ब्रहम ज्ञान की प्राप्ति से चौरासी के बंधन से छुटकारा पाया जाना संभव: महा सिंह

Haryana
लाजपत नगर एरिया के पास संत समागम का आयोजन किया गया। करनाल के छापर से आए महात्मा महा सिंह की अध्यक्षता में आयोजित हुए समागम की शुरुअात पावन पवित्र अवतार बाणी के शबद गायन से हुई। मंच संचालन महात्मा जेके नारंग ने किया। महात्मा महा सिंह ने साध संगत को संबाेधित करते हुए कहा कि मानव जीवन में ही हम ब्रहम ज्ञान प्राप्त कर चौरासी के बंधन से छुटकारा पा सकते हैं। ब्रह्ज्ञान की दात पाकर ही हम लोक सुखी परलोक सुहेला कर सकते हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि जब हम ज्ञान लेते है तो हमें यह पता चल जाता है कि हम शरीर नहीं अपितु आत्मा है इस परमात्मा का अंश और हमें मृत्यु के पश्चात इस परमात्मा में जाना है तो मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है। उन्होंने बताया कि परमात्मा की जानकारी कर के परमात्मा की भक्ति करने से ही मोक्ष की प्राप्ति संभव है। इस अवसर पर अनेक वक्ताओं ने अपने विचारों, गीतों व कविताओं

सचिन तेंदुलकर ने शाहरुख खान को दिया ड्राइविंग का ज्ञान, किंग खान ने कर दी ये मांग

Indian Sports
क्रिकेट के भगवान ससचिन तेंदुलकर ने शाहरुख खान को ड्राइविंग का ज्ञान दिया था जिस पर एक्टर किंग खान ने कर दी फिश करी की मांग। Jagran Hindi News - cricket:headlines
गुरु के बिना ज्ञान नहीं मिलता, वही शिष्य को सच्चे मार्ग पर ले जाता है : महंत गंगानंद

गुरु के बिना ज्ञान नहीं मिलता, वही शिष्य को सच्चे मार्ग पर ले जाता है : महंत गंगानंद

Punjab
स्थानीय खोसला मोहल्ला में स्थित प्राचीन डेरा गोसाईं मंदिर में वार्षिक मेले व भंडारे का आयोजन डेरे के गद्दीनशीन महंत गंगानंद पुरी की अध्यक्षता में करवाया गया। मंदिर में झंडा चढ़ाने के बाद हवन करवाया गया, जिसमें श्रद्धालुओं ने पारिवारिक सुख-समृद्धि के लिए आहुति डाली। इसके बाद महिला संकीर्तन मंडली ने प्रभु महिमा का गुणगान किया। अन्य रस्में अदा करने के बाद भंडारे की शुरुआत की गई। गद्दीनशीन महंत गंगानंद पुरी ने कहा कि गुरु की सेवा करना सबसे उत्तम सेवा है। गुरु के बिना ज्ञान की प्राप्ति नहीं होती, इसीलिए हमें गुरु सेवा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि गुरु ही शिष्य को सच्चे मार्ग की तरफ लेकर जाता है, गुरु ही ज्ञान का मार्ग मनुष्य को दिखाता है। इस अवसर पर पुष्पा शर्मा, सतीश शर्मा, इंद्रेश शर्मा, रमन शर्मा, चाणक्य शर्मा, दीपक दिगवा, राजीव खोसला, संजीव खोसला, ममता खोसला, वंदना, नवीन
राज्यस्तरीय सामान्य ज्ञान परीक्षा 13 जुलाई को होगी

राज्यस्तरीय सामान्य ज्ञान परीक्षा 13 जुलाई को होगी

Rajasthan
टोंक | राजकीय महाविद्यालय में 13 जुलाई को राज्यस्तरीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता की लिखित परीक्षा आयोजित की जाएगी। परीक्षा में नियमित विद्यार्थियों के अलावा नव प्रवेशित विद्यार्थी भाग ले सकते हैं। इसके लिए रजिस्ट्रेशन फार्म भरकर कॉलेज में जमा करवाए। प्राचार्य ने बताया कि बीए, बीएससी व बी कॉम द्वितिय व तृतीय वर्ष के लिए आवेदन कर चुके प्रवेशार्थी 24 जून तक अपने प्रमाण पत्र महाविद्यालय में जांच करवा ले और 25 जून तक ई-मित्र पर फीस जमा करवा दे। स्नातकोत्तर उत्तरार्द्ध के विद्यार्थी 26 जून तक ई-मित्र पर फीस जमा करा सकेंगे। उन्होंने बताया कि कॉलेज में 1 जुलाई से कक्षाएं शुरु होगी। इसलिए प्रवेशित विद्यार्थी महाविद्यालय में उपस्थित हो। ममता जाट एकता मंच की प्रदेश महासचिव मनोनीत टोंक | राष्ट्रीय जाट एकता मंच महिला प्रकोष्ठ प्रदेशाध्यक्ष यशोदा चौधरी व प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष महि
ग्रीष्मकालीन कार्यक्रम में संगीत, आर्ट एंड क्राफ्ट का लिया ज्ञान

ग्रीष्मकालीन कार्यक्रम में संगीत, आर्ट एंड क्राफ्ट का लिया ज्ञान

Haryana
यमुनानगर| सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मॉडल कॉलोनी में प्रधानाचार्य राम प्रकाश की अध्यक्षता में पांच दिवसीय ग्रीष्मकालीन एक्टिविटी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। संगीत अध्यापक अभिषेक सिंह, जसविन्द्र, राजन व आर्ट एंड क्राफ्ट की अध्यापिका गीता रानी ने बच्चों को एक्टिविटी करवाईं। इन अध्यापकों ने बताया कि हरियाणा शिक्षा विभाग के आदेश अनुसार यह एक्टिविटी सभी सरकारी स्कूलों में कराई जानी है और यह एक्टिविटी स्कूल में जून की छुटि्टयों में करवाई जाएंगी। इसमें बच्चों को कला, संगीत क्ले मॉडलिंग, पोस्टर मेकिंग सिखाई जाएगी। म्यूजिक टीचर अभिषेक ने बताया कि शिक्षा विभाग की यह योजना बहुत बढ़िया है इसके माध्यम से विद्यार्थियों को कुछ नया व कुछ अलग सीखने को मिलता है। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Yamunanagar News - haryana news
नए सत्र से व्यावहारिक ज्ञान भी पढ़ेंगे डॉक्टर, टीचर बताएंगे कि यदि मरीज की डेथ होने वाली हो तो अटेंडेंट से कैसा व्यवहार करें

नए सत्र से व्यावहारिक ज्ञान भी पढ़ेंगे डॉक्टर, टीचर बताएंगे कि यदि मरीज की डेथ होने वाली हो तो अटेंडेंट से कैसा व्यवहार करें

Punjabi Politics
देश के 500 से ज्यादा मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस के लिए इस सत्र यानी एक अगस्त से एडमिशन पाने वाले 70 हजार स्टूडेंट्स को बदला हुआ पाठ्यक्रम मिलेगा। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) के स्तर पर इस पाठ्यक्रम को लागू करने के लिए तैयारी युद्ध स्तर पर चल रही है। पूरे देश में 20 रीजनल सेंटर बनाए गए हैं। इनमें मेडिकल कॉलेजों के मास्टर ट्रेनर की ट्रेनिंग चल रही है। जो अपने कॉलेजों में लौटकर फैकल्टी को ट्रेनिंग देंगे। जानकारों की मानें तो आजादी के बाद पहली बार चिकित्सा शिक्षा में पाठ्यक्रम में अमना बड़ा बदलाव किया जा रहा है। अब तक मेडिकल कॉलेजों में नॉलेज बेस्ड एजुकेशन पर फोकस होता है, लेकिन नए पाठ्यक्रम में पहले साल से स्टूडेंट्स की स्किल्स, एटीट्यूड, वैल्यूज और रेस्पोंसिवनेस आदि पर फोकस किया गया है। अहमदाबाद स्थित रीजनल सेंटर से ट्रेनिंग लेकर आए कोटा मेडिकल कॉलेज की मेडिकल एजुक