News That Matters

Tag: तंबाकू

अर्थशास्त्रियों ने तंबाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने की मांग की

अर्थशास्त्रियों ने तंबाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने की मांग की

Health
नई दिल्ली। अर्थशास्त्रियों, डॉक्टरों और लोक स्वास्थ्य के क्षेत्र में सक्रिय संगटनों ने जीएसटी परिषद से अनुरोध किया है कि सिगरेट और बीड़ी जैसे तंबाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाया जाए। इनका कहना है कि इससे मिलने वाले राजस्व को सरकार हाल में आई केरल की बाढ़ जैसी आपदा के लिए उपयोग कर सकती है। वोलंट्री हेल्थ एसोसिएशन ऑफ इंडिया (वीएचएआई) की मुख्य कार्यकारी भावना बी मुखोपाध्याय ने कहा, “बीड़ी सहित सभी तंबाकू उत्पादों पर अतिरिक्त उपकर लगाने से लोक स्वास्थ्य और राजस्व प्राप्ति दोनों को बड़ी कामयाबी मिलेगी। इस कदम से जहां सरकार को राजस्व मिलेगा, वहीं लाखों तंबाकू उपयोग करने वाले इस लत को छोड़ेंगे। साथ ही बहुत से युवाओं को तंबाकू का इस्तेमाल शुरू करने से रोका जा सकेगा।” इनका कहना है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) सिफारिश करता है कि सभी देश तंबाकू उत्पादों पर खुदरा मूल्य का न्यूनतम 75% फी
छात्रों को बताए तंबाकू के दुष्प्रभाव

छात्रों को बताए तंबाकू के दुष्प्रभाव

Punjabi Politics
प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मानित करते डॉ. जीवन प्रकाश व अन्य। पठानकोट | सरकारी हाई स्कूल भड़ोली कलां में तंबाकू के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूकता के लिए स्वास्थ विभाग की ओर से मुख्याध्यापक रामस्वरूप की अध्यक्षता में सेमिनार किया गया। डॉ. जीवन प्रकाश व हेल्थ इंस्पेक्टर अविनाश शर्मा ने बच्चों को तंबाकू के दुष्प्रभाव बताए। उन्होंने कहा कि तंबाकू एक धीमा जहर है, जिसके सेवन से शरीर खोखला हो जाता है इसके सेवन से मुंह, गले, जीभ, फेफड़ों का कैंसर होता है। इसके सेवन से सांस संबंधी रोग होते हैं। इस मौके पर भाषण प्रतियोगिता करवाई गई, जिसमें राखी ने पहला, कशिश ने दूसरा तथा मनु ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। विजेताओं को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रेम चंद, राकेश कुमार, लक्ष्मी कांत, यशपाल, राजेश्वर, सीमा, पूनम, हरजीत, निधि शर्मा, गुरप्रीत, अनुरेखा व राजेश कुमारी मौजूद थे।
केरल की मदद के लिए लक्जरी कारों और तंबाकू पर बढ़ाया जा सकता है सेस

केरल की मदद के लिए लक्जरी कारों और तंबाकू पर बढ़ाया जा सकता है सेस

Delhi
बाढ़ से नुकसान के बाद केरल को मदद के लिए लक्जरी कारों और तंबाकू जैसे डिमेरिट गुड्स पर सेस बढ़ाया जा सकता है। इस पर विचार के लिए जीएसटी काउंसिल ने एक समिति बनाई है। सूत्रों ने बताया कि समिति की सिफारिशों के आधार पर भविष्य में किसी भी राज्य के लिए सेस का फॉर्मूला तय हो सकता है। केरल के वित्त मंत्री थॉमस आइजैक 20 सितंबर को वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिले थे और कुछ समय के लिए राज्य में अतिरिक्त सेस लगाने का अनुरोध किया था। काउंसिल की 30वीं बैठक के बाद जेटली ने कहा कि जीएसटी कानून में काउंसिल की सहमति के बाद अतिरिक्त सेस लगाने का प्रावधान है। केरल के वित्त मंत्री ने कहा, कानून काउंसिल को थोड़े समय के लिए टैक्स लगाने की इजाजत देता है। उन्होंने कहा कि कुछ चीजों पर 1% अतिरिक्त टैक्स लगाने पर चर्चा हुई, लेकिन इस पर विस्तार से बात नहीं हुई। बिहार के वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी स
तंबाकू की लत बना रही है आपको कैंसर का शिकार

तंबाकू की लत बना रही है आपको कैंसर का शिकार

Health
बदलती जीवनशैली और वातावरण में मौजूद विषाक्त कणों के कारण आज के समय में कैंसर जैसी बीमारी तेजी से सामने आ रही है। महिलाएंं भी इससे अछूती नहीं हैं। कैंसर के कई कारण हैं इनमें से एक प्रमुख कारक तंबाकू है। नेशनल इंस्टीटयूट ऑव कैंसर प्रिवेंशन एंड रिसर्च (एनआईसीपीआर) के अनुसार भारत में करीब 35 फीसदी वयस्क तंबाकू का सेवन करते हैं। वहीं युवा वर्ग में भी इसका आंकड़ा 30 फीसदी तक पहुंच चुका है। तम्बाकू में चार हजार तरह के कैमिकल मौजूद होते हैं जिसमें कई कैंसर कारक कैमिकल भी शामिल हैं। इन कैमिकल में निकोटिन नामक मुख्य कैमिकल मौजूद होता है जिसका सेवन करने पर व्यक्ति शारीरिक और मानसिक तौर पर इस कैमिकल का आदी हो जाता है। तंबाकू से महिलाओं में होने वाले प्रमुख कैंसरमुंह का कैंसरगले का कैंसरस्वर नलिका का कैंसर गर्भाशय ग्रीवा का कैंसरमस्तिष्क का कैंसरभोजन नलीफेफड़े का कैंसर तंबाकू से होने वाले अन्य रोगहदय र
सुप्रीम कोर्ट का तंबाकू उत्पादों पर चेतावनी के नए नियमों पर रोक से इनकार

सुप्रीम कोर्ट का तंबाकू उत्पादों पर चेतावनी के नए नियमों पर रोक से इनकार

India
सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को तंबाकू उत्पादों पर चेतावनी से संबंधित नए नियमों पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के नए संशोधित नियमों के अनुसार विनिर्माताओं के लिए सिगरेट और अन्य... Live Hindustan Rss feed
शरीर के हर अंग को नुकसान पहुंचाता तंबाकू

शरीर के हर अंग को नुकसान पहुंचाता तंबाकू

Health
तंबाकू से होने वाले कैंसर में मुंह, गले, गर्दन, नाक, सायनस, थायरॉइड व पैराथायरॉइड ग्रंथि के कैंसर आम हैं। इस रोग में शरीर के एक अंग की कोशिका असाधारण रूप से बढक़र अन्य अंगों के आसपास या उससे जुड़े ऊत्तकों में भी फैलने लगती है। तंबाकू न केवल ओरल कैंसर का कारण बनता है बल्कि यह पेट, लिवर, फेफड़े, लिम्फोमा जैसे कैंसर को भी जन्म देता है। ये हैं कारण धूम्रपान, शराब, तंबाकू या खैनी ओरल कैंसर का कारण बनते हैं जिससे मुंह, गले व गर्दन के हिस्से में कैंसर की कोशिकाओं को निर्माण होने लगता है। मुंह-गले कैंसर के लक्षण होंठ, मसूढ़े, गाल की झिल्ली, जीभ या तालू में हुए घाव को भरने में यदि तीन हफ्ते या इससे ज्यादा समय लगे तो कैंसर की आशंका रहती है। ऐसे में घावों से रक्तस्त्राव और भोजन निगलने में दिक्कत, आवाज में खरखराहट महसूस होना व गर्दन में गांठें बनती हैं। ध्यान रखें बीमारी बढ़ाने वाले कारणों से दूरी बनाए
तंबाकू की लत बना रही है आपको कैंसर का शिकार

तंबाकू की लत बना रही है आपको कैंसर का शिकार

Health
बदलती जीवनशैली और वातावरण में मौजूद विषाक्त कणों के कारण आज के समय में कैंसर जैसी बीमारी तेजी से सामने आ रही है। महिलाएंं भी इससे अछूती नहीं हैं। कैंसर के कई कारण हैं इनमें से एक प्रमुख कारक तंबाकू है। नेशनल इंस्टीटयूट ऑव कैंसर प्रिवेंशन एंड रिसर्च (एनआईसीपीआर) के अनुसार भारत में करीब 35 फीसदी वयस्क तंबाकू का सेवन करते हैं। वहीं युवा वर्ग में भी इसका आंकड़ा 30 फीसदी तक पहुंच चुका है। तम्बाकू में चार हजार तरह के कैमिकल मौजूद होते हैं जिसमें कई कैंसर कारक कैमिकल भी शामिल हैं। इन कैमिकल में निकोटिन नामक मुख्य कैमिकल मौजूद होता है जिसका सेवन करने पर व्यक्ति शारीरिक और मानसिक तौर पर इस कैमिकल का आदी हो जाता है। तंबाकू से महिलाओं में होने वाले प्रमुख कैंसरमुंह का कैंसरगले का कैंसरस्वर नलिका का कैंसर गर्भाशय ग्रीवा का कैंसरमस्तिष्क का कैंसरभोजन नलीफेफड़े का कैंसर तंबाकू से होने वाले अन्य रोगहदय र
सर्वे: यूपी-झारखंड के 40 फीसदी वयस्क तंबाकू के आदी

सर्वे: यूपी-झारखंड के 40 फीसदी वयस्क तंबाकू के आदी

Health
देश में तंबाकू के उपभोग में लगातार कमी आ रही है। लेकिन उत्तर-पूर्व और हिंदी भाषी राज्यों में तंबाकू उपभोग अब भी खतरनाक स्तर पर बना हुआ है। ‘ग्लोबल एडल्ट टोबैको’ सर्वे के दूसरे चरण की... Live Hindustan Rss feed
हर साल 70 लाख से अधिक की जान ले लेता है तंबाकू : WHO

हर साल 70 लाख से अधिक की जान ले लेता है तंबाकू : WHO

Health
वर्ल्ड नो टोबैको डेविश्व में हर साल तंबाकू उत्पादों से 70 लाख से अधिक लोगों की मौत हो रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की गुरुवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि 30 लाख लोग इसके कारण... Live Hindustan Rss feed
नशे को कहें ना,ये औषधियां तंबाकू से रखेंगी दूर

नशे को कहें ना,ये औषधियां तंबाकू से रखेंगी दूर

Health
स्मोकिंग और तंबाकू की लत से सेहत को होने वाले नुकसान के बारे मेें लोगों को जागरुक करने के लिए हर साल ३१ मई को नो-टोबैको डे मनाया जाता है। युवाओं में स्मोकिंग और तंबाकू से बने उत्पादों का अधिक इस्तेमाल उन्हें खोखला कर रहा है। इसके साथ ही शरीर में जहर भी घोल रहा है। एक रिसर्च में भी यह बात साबित हो चुकी है, भारतीय लोग धूम्रपान में सबसे आगे होते है। दिनभर में एक शख्स लगभग ८.२ सिगरेट फूंकता है जो सेहत के लिए बेहत खतरनाक है। लगातार तंबाकू के सेवन से इसमें मौजूद जहरीला तत्व निकोटीन मुंह के रास्ते गला, सांस की नली, फेफड़ों तक पहुंचता है। यह कैंसर का कारण भी बनता है। इससे हृदय रोग, फेफड़े से जुड़ी बीमारियां, अनिद्रा, अल्सर की आशंका भी बढ़ती है। इसलिए इससे दूरी बेहद जरूरी है। आयुर्वेद कुछ ऐसी औषधियां हैं जो इसकी तलब को कम करती हैं ताकि इससे धीरे-धीरे दूरी बनाई जा सके। दालचीनी तम्बाकू की लत को छुड़