News That Matters

Tag: तनाव

धूम्रपान की लत आैर तनाव से युवाओं के दिल काे खतरा

धूम्रपान की लत आैर तनाव से युवाओं के दिल काे खतरा

Health
धूम्रपान की लत, कामकाज और विभिन्न कारणों से होने वाले तनाव, अस्वास्थ्यकर आहार, अपर्याप्त शारीरिक श्रम व अधिक नमक एवं पैकेट वाले खाद्य पदार्थों के सेवन के कारण युवाओं में मुख्य तौर पर दिल के दौरे का जोखिम बढ़ रहा है। वहीं चिकित्सकों ने भी चेताया है कि जब तक कि कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाता तब तक युवाओं में दिल के दौरे का खतरा कम होने वाला नहीं है । नई दिल्ली स्थित कालरा हास्पीटल एंड श्री राम कार्डियो-थोरेसिक न्यूरोसाइंसेस सेंटर (एसआरसीएनसी) के मेडिकल निदेशक एवं सीईओ डॉ. आर. एन. कालरा का कहना है कि युवाओं में दिल के दौरे का खतरा तब नहीं घटने वाला है जब तक कि कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाएगा। आज की समस्या यह है कि हम बहुत ही स्थूल जीवनशैली को अपना रहे हैं और ऐसी जीवनशैली में बहुत अधिक शारीरिक श्रम की गुंजाइश नहीं है। उन्होंने कहा, ''आज युवा मानसिक तथा शारीरिक तौर पर बहुत ही अधिक दबाव में है। इस समस
दवाओं के सेवन से केवल बाहरी तनाव होते हैं दूर

दवाओं के सेवन से केवल बाहरी तनाव होते हैं दूर

Punjabi Politics
काकोवाल रोड स्थित श्री प्रेम धाम आश्रम में श्री श्री 108 महंत स्वामी मुकेशानंद गिरी महाराज की अगुवाई में सत्संग का आयोजन हुआ। सत्संग में उन्होंने कहा कि गीता मानव को भगवान का दिया अनमोल उपहार है। गीता के श्लोक मानव को तनाव मुक्त कर सुखी जीवन व्यतीत करने के लिए प्रेरणा स्रोत है। दुनियावी दवाइयों के सेवन से बाहरी तनाव तो दूर होता है। लेकिन दवाएं मन को शांत नहीं कर पाती है। ठाकुर जी को भोग अर्पण कर प्रसाद बांटा गया। इस मौके पर बाबा गोपाल दास, बाबा दीपक मनचंदा, पं. सोहन लाल, रवि गोयल, विनोद गोयल, प्रेम सिंगला, सुमित गोयल, मनमोहन मित्तल, सुमित गोयल, राजन मोदी, सुदेश गोयल, इन्द्रपाल सिंह, अजय कुमार, राजिंदर नाथ, अंकुर कुमार, आंंनद कुमार, विमला रानी, मदनमोहन, बलवीर राम, सतीश कुमार, राम कृष्ण, प्रेम प्रकाश, भूषण कुमार, नारायण सिंह, तनुष अरोड़ा, सुमित भूटानी, डॉ. नेहा भूटानी, दुर
राग दरबारी और राग सहाना सुनिए; गुस्सा, तनाव कम होगा

राग दरबारी और राग सहाना सुनिए; गुस्सा, तनाव कम होगा

India
विजय उपाध्याय, लखनऊ.अगर आपको बात-बात पर गुस्सा आ जाता है, तो राग सहाना सुनिए। दिमाग शांत होगा, गुस्सा कम होगा। अगर तनाव हावी रहता है तो रात में राग दरबारी का लुत्फ उठाइए। तनाव छूमंतर हो जाएगा। यही नहीं, डायबिटीज या दिल से जुड़ी कोई बीमारी है तो भी अलग-अलग राग इन बीमारियों से लड़ने में आपकी मदद कर सकते हैं। अलग-अलग राग का इंसान के दिलो-दिमाग पर पड़ने वाले इन असरों पर आईआईटी-कानपुर ने अध्ययन किया है। उसी अध्ययन से ये नतीजे निकले।ये भी निष्कर्ष निकला कि- दोपहर में राग भीमपलासी सुनना दिमाग को शांत रखने, तनाव को कम करने में मददगार होता है। पेट से जुड़ी कोई समस्या है तो राग पूरिया धनाश्री, एसिडिटी है तो राग दीपक और राग जौनपुरी सुनना चाहिए। हृदय रोग है तो सारंग वर्ग के राग, कल्याणी और चारुकेसी। सिरदर्द है तो राग आसावरी, पूरवी और राग तोड़ी सुन सकते हैं।आईआईटी में मस्तिष्क के न्यूरॉन
तनाव दूर कर मन की एकाग्ररता बढ़ाता है सुखासन

तनाव दूर कर मन की एकाग्ररता बढ़ाता है सुखासन

Health
आज की भागदाैड भरी जिंदगी में तनाव से दूर रहना मुश्किल जरूर है पर नामुकिन नहीं है। प्राचीन काल से ही तनाव काे दूर रखने के कर्इ सूत्र, याेग, आसन आदि हमें मिलते हैं जिन्हें अपनाकर हम तनाव काे अपने जीवन से बाहर निकाल सकते हैं। एेसा ही एक आसन है सुखासन।योग शस्त्र के अनुसार सुखासन मन को शांति प्रदान कर तनाव दूर करने वाला आसन माना जाता है। सुखासन दो शब्दाें सुख + आसन से मिलकर बना है। जिसका अर्थ है सुख देने वाला आसन। सुखासन से जहां मानसिक शांति मिलती है वहीं यह शरीर के अन्य हिस्साें को मजबूत बनाता है। तो आइए जानते हैं कि कैसे किया जाता है सुखासन :- सबसे पहले समतल जमीन पर चटार्इ बिछाकर आलथी पालथी मारकर बैठ जाएं। अब अपने सिर व गर्दन को एक सीध में रखें।अपनी रीढ़ की हड्डी को भी सीधा रखें। अपने दोनाें कंधाें काे ढीला छोड़कर उन्हें एक सीध में रखें। फिर अपनी सांस को बिना जोर लगाए अंदर की आेर ले फिर बाहर

स्कूली बच्चे होंगे तनावमुक्त- भारतीय बच्चों को तनाव से बचाने की मुहिम में उतरा यूनेस्को

India
इस पूरे प्रोजेक्ट पर काम कर रहे यूनेस्को एमजीआईईपी के अधिकारियों के मुताबिक फिलहाल इसे लेकर वह दो साल तक अध्ययन करेंगे। Jagran Hindi News - news:national
सेहत के लिए जरूरी है मालिश, तनाव, कब्ज, साइनस से मिलता है छुटकारा

सेहत के लिए जरूरी है मालिश, तनाव, कब्ज, साइनस से मिलता है छुटकारा

Health
मालिश की पूरी प्रक्रिया ऐसी है कि इससे न सिर्फ सुकून मिलता है बल्कि कई प्रकार के अन्य फायदे भी होते हैं। आपको बता दें कि मालिश, हमारे शरीर की मांसपेशियों में रक्त संचार को तेज करता है। इसके साथ ही मालिश से मांसपेशियों में गर्माहट भी आती है। इससे लेक्टिक एसिड भी दूर होता है। अाइए जानते है मालिश के फायदे :- तनाव: हाथ-पैर के अंगूठे पर 15-20 सेकंड तक प्रेशर दें। दिन में ऐसा 2-3 बार करने से तनाव कम होता है। कब्ज: दिन में 2-3 बार पिंडलियों की मालिश 3-5 मिनट तक करने से कब्ज नहीं रहती।साइनस: इस तकलीफ में 15-20 सेकंड तक हाथ की अंगुलियों के पोरों को दबाएं। छींकें आना बंद हो जाएंगी।खांसी: दोनों हाथों को आपस में 1-2 मिनट रगड़ें। दिन में ऐसा 2-3 बार करने पर आराम होगा।पेट दर्द: टखनों को हल्के हाथ से दबाने से पेट दर्द ठीक हो जाता है। ऐसा दिन में पांच बार करना चाहिए। Patrika : India's Leading Hindi News
अपने लिए निकालें आधे घंटे का समय, तनाव रहेगा कोसों दूर

अपने लिए निकालें आधे घंटे का समय, तनाव रहेगा कोसों दूर

Health
बदलती लाइफस्टाइल की वजह से आजकल हर कोई तनाव में रहता है लेकिन छोटी-छोटी बातों का ख्याल रख तनाव को मैनेज किया जा सकता है। समय निकालें:अपने लिए आधे घंटे का समय निकालें। इस दौरान अपनी कार्यक्षमता का आंकलन करें। लक्ष्यों को तय करें और इनके प्रति सकारात्मक सोच अपनाएं। बढ़िया खाएं:ताजे फल-सब्जियां खाएं व पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं। व्यायाम करें:व्यायाम करें, फिल्में देखें व खुद को ट्रीट दें, इससे स्ट्रेस कैमिकल नष्ट होते हैं। ऐसा न करें: नशीले पदार्थों के सेवन और धू्रमपान से दूर रहें। सेविंग: पैसों की कमी से तनाव होता है, इसलिए सेविंग करें। संगीत:टीवी सीरियल देखने की बजाय म्यूजिक सुनें क्योंकि संगीत सुकून देता है। शेयरिंग:अपनी भावनाएं दूसरों के साथ शेयर करें। रिलेशन:किसी को भी दोषी ठहराने से पहले खुद को उसकी जगह रखकर सोचें। मसाज:हफ्ते में एक बार मसाज करें। रक्त का प्रवाह सही रहेगा और मूड भी अ
काम से पहले तनाव हो, तो नौकरी बदलने का वक्त आ गया है

काम से पहले तनाव हो, तो नौकरी बदलने का वक्त आ गया है

Delhi
कार्यस्थल पर अपने मैनेजर से परेशान हैं, तो क्या उपाय किए जा सकते हैं, जानिए हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू से। ये भी जानिए कि अलग दृष्टिकोण वाले लोगों से मिलना क्यों जरूरी है। नई दिल्ली, रविवार, 18 नवंबर, 2018 नई दिल्ली, रविवार, 18 नवंबर, 2018 Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
‘शरीर पर अधिक चर्बी, धूम्रपान, व्यायाम की कमी और तनाव से भी बढ़ जाती है शुगर की संभावना’

‘शरीर पर अधिक चर्बी, धूम्रपान, व्यायाम की कमी और तनाव से भी बढ़ जाती है शुगर की संभावना’

Haryana
बुधवार को कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में विश्व मधुमेह दिवस पर ओपीडी ब्लाॅक में जन स्वास्थ्य जागरूकता मुहिम की आेर से कार्यक्रम का आयोजन किया। संस्थान के निदेशक डॉ. सुरेंद्र कश्यप ने लोगोें को मधुमेह के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि शुगर की बीमारी को गंभीरता से लेना चाहिए। मधुमेह की सही जानकारी और सही इलाज से रोगी लंबे समय तक एक बेहतरीन जीवन जी सकता है। कार्यक्रम में कम्युनिटी मेडिसिन के एसोसिएट प्रोफेसर और जन स्वास्थ्य जागरूकता के नोडल अधिकारी डॉ राजेश गर्ग ने संचालन करते हुए जानकारी दी कि इस वर्ष विश्व मधुमेह दिवस का मुख्य विषय परिवार और मधुमेह रखा गया है। क्योंकि ये बीमारी एक व्यक्ति को ही नहीं अपितु उसके पूरे परिवार को भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर प्रभावित करती है। चार में से एक पारिवारिक सदस्य ही शुगर के बारे में सही जानकारी तक पहुंच रख पाता है। लोगों क
रोजाना आधा घंटे की बागवानी घटाएगी वजन, तनाव करेगी दूर

रोजाना आधा घंटे की बागवानी घटाएगी वजन, तनाव करेगी दूर

Health
बागवानी करके हम अपने पसंद की पौष्टिक साग-सब्जियां, फल और फूल तो उगा ही सकते हैं, अपनी सेहत भी सुधार सकते हैं। बागवानी शरीर के साथ-साथ दिमाग के लिए भी बेहतरीन एक्सरसाइज है। बगीचे से निकलने वाली सुगंध में सकारात्मक ऊर्जा होती है। अगर आप रोजाना आधा घंटा भी बगीचे में काम करते हैं तो अपने वजन पर काबू पा सकते हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया की रिपोर्ट के मुताबिक जहां बागवानी से एरोबिक्स और जॉगिंग जितना फायदा होता है। इससे कंधे, बाजुओं, पांव, गले, पेट और पीठ की मांसपेशियों की एक्सरसाइज होती है।वहीं सिटी यूनिवर्सिटी लंदन, फूड पॉलिसी सेंटर में प्रोफेसर टिम लैंग का कहना है कि नियमित रूप से पेड़-पौधों और पशु-पक्ष‍ियों और प्राकृतिक वातावरण के संपर्क में रहना आपकी फिजिकल और मानसिक स्वास्थ्य में वृद्धि करता है। आधे घंटे में कैलोरी बर्न कुदाल चलाने से... पुरुष : 97 महिला : 150 हाथ से घास-फूस निकालने या