News That Matters

Tag: तनाव

डेरा प्रेमी की हत्या के बाद पंजाब में तनाव का माहौल, केस दर्ज होने के बाद ही करेंगे अंतिम संस्कार

डेरा प्रेमी की हत्या के बाद पंजाब में तनाव का माहौल, केस दर्ज होने के बाद ही करेंगे अंतिम संस्कार

Punjabi Politics
नाभा (पटियाला). गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में साजिश के मुख्य आरोपी डेरा प्रेमी व गुरमीत राम रहीम के समर्थक महिंदरपाल सिंह उर्फ बिट्टू की हत्या के बाद पंजाब के विभिन्न इलाकों में तनाव का माहौल है। नाभा, कोटकपूरा, बरगाड़ी, संगरूर और कई अन्य जगह भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। रैपिड एक्‍शन फोर्स और बीएसएफ के जवान भी तैनात किए गए हैं। पुलिस और प्रशासन के उच्‍च अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं और हालात पर नजर रखे हुए हैं। इसी बीच डेरा प्रेमियों का ऐलान है कि केस दर्ज होने और आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने की स्थिति तक बिट्‌टू का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा।के मुताबिक, शनिवार को बिट्टू जेल में चल रहे निर्माण स्थल के पास घूम रहा था, तभी गुरसेवक और मनिंदर सिंह ने उस पर ईंट पत्थर और सरिये से हमला कर दिया। दोनों उसे तब तक पीटते रहे जब तक वह बेसुध होकर गिर नहीं गया
योग विशेष—2 : युवा करें ये आसन, तनाव घटेगा और मांसपेशियां मजबूत होंगी

योग विशेष—2 : युवा करें ये आसन, तनाव घटेगा और मांसपेशियां मजबूत होंगी

Health
युवाओं की खराब सेहत के पीछे बिगड़ती जीवनशैली व गलत खानपान प्रमुख वजह है। तनाव, अवसाद से युवा ग्रसित हो रहे हैं। 1. पश्चिमोत्तासन से शरीर का लचीलापन बढ़तापैरों को सीधा कर सामने जमीन पर फैलाएं। स्वांस लेते हुए दोनों हाथों को आगे की ओर झुकते हुए दोनों हाथों से अंगूठे पकड़ें और सिर को घुटनों से लगाएं। इससे एसिडिटी, दर्द, मरोड़ अपच की समस्या दूर होती है। जिनका शरीर लचीला न हो वे तेजी में इसे न करें। 2. अर्ध मत्सेन्द्रासन किडनी के लिए फायदेमंद दाएं पैर के पंजे को कूल्हे के पास लाकर बाएं पैर के पंजे को दाएं घुटने के पीछे रखें। गर्दन को बाएं पैर की तरह क्षमतानुसार पीछे की ओर ले जाएं। फिर दाएं हाथ से बाएं पैर के पंजे को पकड़ लें। फेफड़े, किडनी व पाचन के लिए फायदेमंद है। गर्दन और कमर दर्द में यह आसन न करें। 3. हलासन से भूख बढ़ती, मांसपेशियां मजबूत शरीर की स्थिति हल की तरह बनने के कारण इसे हलासन कहते
जब बच्चे भी होने लगें तनाव के शिकार

जब बच्चे भी होने लगें तनाव के शिकार

Health
बच्चा चिंताग्रस्त दिखें तो मनोवैज्ञानिक या बुजुर्गों से परामर्श लेंतनाव कभी बड़ों की परेशानी थी लेकिन अब बच्चों को भी यह परेशान करने लगा है। माता-पिता या उनके बीच के तनाव बच्चों को भी सताते हैं। परिवार के आर्थिक हालात, किसी नजदीकी व्यक्ति का निधन होना, परीक्षा का पेपर बिगडऩा, टीवी देखने से रोकना या दोस्त से अनबन होना उनमें तनाव की स्थिति बना देता है। अगर बच्चा चिंताग्रस्त दिखें तो मनोवैज्ञानिक या बुजुर्गों से परामर्श लें। लक्षण : बात-बात पर गुस्सा होनाबच्चों के खाने-पीने की आदत बदल जाती है। बात-बात पर गुस्सा करना, चिल्लाना, भूख न लगना, सिर व पेट दर्द, बेड वेटिंग करने की समस्या रहना। इसके अलावा गहरी नींद न आना, हकलाना, सुबकना व दूसरों से मिलने से बचना जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं।उपाय : दूसरों से न करें तुलनाअभिभावक बच्चों को आश्वस्त करें कि वे सुरक्षित हैं। बच्चों को हिंसक व डरावने टीवी श
ज्यादा तनाव से कमजोर होगा शरीर का ये महत्तवपूर्ण हिस्सा

ज्यादा तनाव से कमजोर होगा शरीर का ये महत्तवपूर्ण हिस्सा

Health
आज के दौर में तनाव कई बीमारियों की वजह बनता जा रहा है। अत्यधिक तनाव के कारण कुछ युवाओं में ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या देखी गई है। इस रोग का खतरा शहरी महिलाओं में भी काम और परिवार की देखभाल के चलते तेजी से बढ़ रहा है। नींद की कमी, शारीरिक गतिविधि का अभाव और घंटों काम करना आदि तनाव का रूप लेने लगता है। इससे बचने के लिए गहरी सांस लेने से जुड़े योग कपालभाति व भ्रामरी करने के साथ म्यूजिक थैरेपी ले सकते हैं। तनाव का बुरा असर शरीर-दिमाग दोनों पर पड़ता है। पहला, जब तनाव ज्यादा होता है तो बॉडी में रिलीज होने वाले कार्टिसोल हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है। जिससे हड्डी की कोशिकाओं के निर्माण में बाधा आती है। वास्तव में बॉडी कार्टिसोल के पीएच संतुलन को प्रभावहीन करने के लिए हड्डियों से कैल्शियम जारी करती है। दूसरा, तनाव ज्यादा होने पर व्यक्ति की दिनचर्या बिगड़ जाती है जिससे नींद, समय पर भोजन और एक्सरसाइज का
पंजाबी सिंगर सुक्खा की बंद कमरे से मिली लाश, पत्नी से तलाक के बाद तनाव में थे

पंजाबी सिंगर सुक्खा की बंद कमरे से मिली लाश, पत्नी से तलाक के बाद तनाव में थे

Punjabi Politics
जालंधर. मशहूर पंजाबी सिंगर सुखविंदर सिंह मान उर्फ सुक्खा दिल्लीवाला की मौत हो गई है। उसका शव बुधवार देर रात जालंधर के गोल्डन एवेन्यू स्थित घर से बरामद हुआ। बताया जा रहा है कि पत्नी से तलाक के बाद सक्खा पिछले कुछ दिनों से तनाव में थे। उन्हें शराब की लत भी लग गई थी। कुछ दिनों बाद ही सुक्खा कोइंग्लैंड में शो करने के लिए जानाथा।सुक्खा के साथ रहने वाले मुखविंदर सिंह ने बताया कि वह भी गोल्डन एवेन्यू में उनके साथ रहते थे। लेकिन, कुछ दिन पहले जरूरी काम से गांव चला गया था। उन्होंने बताया कि2 दिन पहले तक सुक्खा से उनकी बातचीत हुई।बुधवार सुबह उन्होंने फोन किया तो सुक्खा नेरिसीव नहीं किया। इसके बाद उन्होंने पड़ोस मेंरहने वाले एक युवक को सुक्खा के घर भेजा।युवक ने मुखविंदर को बताया किघर का दरवाजा अंदर से बंद है। मुखविंदर के मुताबिक,इसके बादउसने युवक कोदीवार फांद कर अंदर जाने को कहा।
जालंधर में शिवसैनिकों ने खालिस्तान के पोस्टर फाड़े, लुधियाना में भी तनाव का माहौल

जालंधर में शिवसैनिकों ने खालिस्तान के पोस्टर फाड़े, लुधियाना में भी तनाव का माहौल

Punjab
जालंधर/लुधियाना. ऑपरेशन ब्लू स्टार कीबरसी पर गुरुवार को जहां अमृतसर में सिख समुदाय के लोगों में टकराव हो गया, वहीं जालंधर और लुधियाना में सिखों के गर्म ख्याली गुट केहिंदूवादी विचाराधारा वाली पार्टी शिवसेना के साथ विवाद हो गया।सिख पंथ के लोगों ने जरनैल सिंह भिंडरावाला के समर्थन में नारे लगाए, वहीं शिवसेना ने भी शौर्य दिवस मनाया। इसी बीच दोनों गुटों में टकराव की स्थिति पैदा हो गई, लेकिन पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए तुरंत हालात पर काबू पा लिया।लुधियाना से मिली जानकारी के अनुसार शौर्य दिवस मना रही शिवसेना ने आतंकवाद और खालिस्तान के खिलाफ नारेलगाए। इन लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, बेअंत सिंह और केपीएस की आत्मिक शांति के लिए हवन-यज्ञ करवाया। दूसरी ओर यहां भिंडरावाला समर्थकों ने भी नारे लगाए।सभी का नुकसान हुआ था काले दौर मेंइस दौरान शिवसेना पंजाब के प्रधान राजीव टं
मशीनी युग व्यक्ति के जीवन में तनाव जैसी समस्याओं का मूल आधार

मशीनी युग व्यक्ति के जीवन में तनाव जैसी समस्याओं का मूल आधार

Punjabi Politics
दिव्य ज्योति जागृति संस्थान द्वारा करवाए गए धार्मिक समागम में संबोधित करते हुए श्री आशुतोष महाराज की शिष्या साध्वी सर्व भारती ने कहा कि आध्यात्मिक विचारों का उद्देश्य भक्तों को मनोवैज्ञानिक, बौद्धिक एवं आध्यात्मिक विचारों से परिपोषित कर उनकी जीवनशैली में सकारात्मक बदलाव लाना है। आधुनिक युग, यंत्र उपकरणों से युक्त एक मशीनी युग है। आज यह मशीनीकरण व्यक्ति के जीवन में तनाव, नकारात्मकता जैसी कई अन्य समस्याओं का मूल आधार है। यदि जीव इन समस्याओं से निजात पाना चाहता है तो उसे अध्यात्म का चयन करना होगा। भक्ति का मार्ग ही ऐसा मार्ग है, जिस पर चल कर व्यक्ति विवेक पूर्ण अनुशासित जीवन व्यतीत कर सकता है। उन्होंने अनुशासन एवं समर्पण के विषय को समझाते हुए बताया कि जब एक पूर्ण संत द्वारा शिष्य अपने भीतर ईश्वर का साक्षात्कार करता है और फिर सतगुरु पर पूर्ण विश्वास रखते हुए उनकी प्रत्येक आ
तनाव मुक्त जीवन जीने का किया अाह्वान

तनाव मुक्त जीवन जीने का किया अाह्वान

Haryana
पानीपत| एसडीवीएम सिटी में 15 दिनाें से चल रही हाेबी क्लासेज के शनिवार काे हुए समापन पर विद्यार्थियाें काे तनाव मुक्त जीवन जीने का अाह्वान किया गया। विद्यार्थियाें काे जीवन में संगीत व हंसने का महत्व भी बताया गया। प्रिंसिपल मीनाक्षी श्राफ ने कहा कि शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियाें काे अन्य विधाअाें से भी जाेड़ना बहुत जरूरी है। शिक्षा काे तनाव में लेने की जरूरत नहीं है। अाज के दाैर में विद्यार्थी सिर्फ माेबाइल तक ही सीमित हाेने की काेशिश में रहते हैं। जीवन में खेलाें का बहुत महत्व है। इस अवसर पर स्कूल के चेयरमैन सतीश चंद्रा, वाइस चेयरमैन राजीव गर्ग, पंकज गाेयल, अभय सिंगला व एडमिनिस्ट्रेटर रेणुका सिंगला माैजूद रहीं। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
कलेश व बेरोजगारी से हो सकता है तनाव मनोचिकित्सक की सलाह लें : डाॅ. ऊषा

कलेश व बेरोजगारी से हो सकता है तनाव मनोचिकित्सक की सलाह लें : डाॅ. ऊषा

Punjab
स्थानीय सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल में प्राइमरी हेल्थ सेंटर राहों द्वारा नेशनल मेंटल हेल्थ प्रोग्राम के तहत आउटरीच कैंप लगाया गया। कैंप में एसएमओ डाॅ. ऊषा किरन और डाॅ. गुरविंद्रा ने विद्यार्थियों को नेशनल मेंटल हेल्थ प्रोग्राम के बारे में बताते हुए तनाव व इसके कारणों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तनाव पारिवारिक कलेश, काम के तरीके, बेरोजगारी व अन्य कारणों से हो सकता है। यह शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से व्यक्ति को प्रभावित करता है। तनाव के कारण व्यक्ति कई बीमारियों से घिर जाता है। तनाव पर काबू पाने के लिए इसकी वजह पहचानने और इसके समन्वय की जरूरत है। इसके अलावा व्यक्ति को कसरत व सैर करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि तनाव से संबंधित समस्याओं के लिए डाॅक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए। स्वास्थ्य अधिकारियों ने विद्यार्थियों को नशे के दुष्प्रभावों की जानकारी देते हुए इसे जड़ से खत