News That Matters

Tag: तरह

देश के लिए शहादत और जज्बा एक… लेकिन पैरामिलिट्री फोर्स को सेना की तरह नहीं मिलती कैंटीन, अस्पताल, बोर्ड और पेंशन

देश के लिए शहादत और जज्बा एक… लेकिन पैरामिलिट्री फोर्स को सेना की तरह नहीं मिलती कैंटीन, अस्पताल, बोर्ड और पेंशन

Haryana
राेहतक/झज्जर | जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार शाम सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत की वजह से पूरे देश में लोगों की आंखों में गुस्सा दिखाई दिया। रोहतक में एक दर्जन से ज्यादा जगह श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई और आतंकवाद के खिलाफ सख्त कदम उठाने की सरकार से अपील की गई। वहीं, पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों ने सवाल उठाया कि सरकार जवानों में भी भेदभाव कर रही है। पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों को सेना की तरह सुविधाएं नहीं मिल रही। अब तो पेंशन तक बंद है। न हर जिले में कैंटीन की सुविधा है और न ही मेडिकल और अर्द्धसैनिक बल के बोर्ड की, जबकि वे भी देश की रक्षा के लिए अपना लहू बहाते हैं। पैरा मिलिट्री फोर्स का संचालन गृहमंत्रालय करता है, जबकि सेना राष्ट्रपति के अधीन होती है। इन दोनों के सेवा नियमों में अंतर है। 70 साल के संघर्ष के बाद झज्जर को मिली कैंटीन सेना
शहादत व जवानों में भेदभाव क्यों… सेना की तरह दें पैरामिलिट्री फोर्स को सुविधाएं

शहादत व जवानों में भेदभाव क्यों… सेना की तरह दें पैरामिलिट्री फोर्स को सुविधाएं

Haryana
प्रधानमंत्री, भारत सरकार विषय : सीआईएसएफ के जवानों से भेदभाव। आदरणीय प्रधानमंत्री जी, मैं हरियाणा के झज्जर स्थित गांव खातीवास का 63 साल का बुजुर्ग वीरेंद्र सिंह हूं। प्रधानमंत्री जी पुलवामा में जो आतंकवादी हमला सीआरपीएफ के जवानों पर हुआ, उसे सुनकर और मीडिया में देखकर मन दुखी हुआ। मेरे दुख का कारण यह है कि 2016 में सीआईएसएफ की टुकड़ी पर छत्तीसगढ़ में हमला हुआ था। इसमें मेरा 26 वर्षीय बेटा दीपक यादव भी शहीद हो गया। अब देश में सबसे बड़ा अातंकी हमला हुअा है। इतनी बड़ी संख्या में एक साथ सीआरपीएफ के जवानों के शहीद होने ने मेरी आत्मा को झकझोर दिया है। आखिर कब तक भारत मां के लाल शहीद होते रहेंगे। पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों के परिवारों को तो और भी देख-तकलीफ से गुजरना पड़ता है क्योंकि उन्हें सेना की तरह पूरी सुविधाएं नहीं मिलती। हम घर में पति-प|ी दोनाें अकेले हैं। पैरामिलिट्
इस तरह बदले अपना वर्कआउट, हाेगा ज्यादा फायदा

इस तरह बदले अपना वर्कआउट, हाेगा ज्यादा फायदा

Health
अगर आप वर्कआउट के पुराने तरीकों से ऊब चुके हैं और अपने एक्सरसाइज शिड्यूल में कुछ ऐसे व्यायाम जोड़ने की सोच रहे हैं, जिनमें आपको बोरियत महसूस न हो तो अपनी जरूरत के मुताबिक आजमा सकते हैं दुनिया में प्रचलित ये अनूठे और मजेदार वर्कआउट्स। इन सभी प्रकार के व्यायाम को करने से पहले जरूरी है कि आप किसी योगा विशेषज्ञ की सलाह लें और उसकी देखरेख में ही इन्हें आजमाएं। पैडल बोर्ड योगासमुद्र के किनारे और पानी में सर्फिंग के लिए इस्तेमाल होने वाले बोर्ड पर अनेक प्रकार के योगासन करना पैडल बोर्ड योगा कहलाता है। यह योगा भारत में ऋषिकेश से चलन में आया था जो फिलहाल यूथ में काफी प्रचलित है। इससे एकाग्रता बढ़ती है और शरीर में संतुलन व लचीलापन आता है। ट्रोगा योगायह वर्कआउट ट्रेडमिल वॉक (करीब 5 किमी प्रति घंटे की गति से) व रेगुलर योगा का फ्यूजन यानी ट्रोगा है। ट्रेडमिल वॉक से स्टेमिना बढ़ता है और हाथों की स्ट्रेचि

विश्व कप में खेलने का है सपना, धोनी की तरह मैच फिनिशर बनना चाहता है यह क्रिकेटर…

Indian Sports
ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड दौरे पर हार्दिक पांड्या कि जगह टीम इंडिया में शामिल किए गए ऑलराउंडर विजय शंकर ने अपने शानदार प्रदर्शन से विश्वकप 2019 में शामिल होने का मजबूत दावा पेश किया है। विजय शंकर इसका पूरा श्रय भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और ... खेल-संसार
पटवारखाने घरों-दुकानों में सही तो बाकी सरकारी दफ्तर भी उसी तरह से चलाए जाएं : शिव सेना

पटवारखाने घरों-दुकानों में सही तो बाकी सरकारी दफ्तर भी उसी तरह से चलाए जाएं : शिव सेना

Punjabi Politics
गली-कूचों, घरों-दुकानों में बने पटवारखानों में पटवारियों की मनमर्जी, भ्रष्टाचार के विरोध में शिवसेना ने बुधवार को डीसी दफ्तर के बाहर धरना दिया। हाथ में पोस्टर पकड़े शिवसैनिकों ने डीसी को एहसास कराना चाहा कि अगर यहां वहां बने पटवारखानों की तरह पुलिस थाने भी निजी घरों-दुकानों में खुल गए तो क्या होगा। शिव सेना पंजाब के राष्ट्रीय चैयरमैन राजीव टंडन यहां वहां मनमर्जी से खोले गए पटवारखाने सही हैं तो सभी सरकार दफ्तर भी गली-कूचों, घरों-दुकानों में ही खोल दिए जाएं। करीब आधे घंटे तक चले प्रदर्शन में शिवसेना पंजाब के सदस्यों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और नुक्कड़ नाटक किया। इस मौके पर टकसाली नेता संदीप थापर, उप-प्रमुख राकेश अरोड़ा, जिला प्रधान विशेष मलिक, अमर टक्कर, रोहित साहनी, रोहित जोशी, रिषभ कनौजिया, शक्ति डाबी, अरुण बंटी, भानु प्रताप, कुलभुषण गोयल, डॉ. राजेंद्र चौधरी, रा
पारित विधेयक में किसी तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिए : किरोड़ी सिंह बैंसला

पारित विधेयक में किसी तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिए : किरोड़ी सिंह बैंसला

Rajasthan
जयपुर। राजस्थान में एक बार फिर से गुर्जर आरक्षण का मामला फिर से गर्मा गया है राजस्थान में पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन आज भी जारी है। जिसके चलते सरकार ने इस मसले को सुझलाने के लिए कई प्रयास किए लेकिन बात नहीं बनी इसके बाद सरकार ने गुर्जरों को आरक्षण देने के मसले पर अपनी और से एक कदम आगे बढ़ाते हुए आरक्षण विधेयक विधानसभा में पेश किया। मंत्री बीडी कल्ला ने आरक्षण विधेयक को सदन में रखा और उसके बाद यह विधेयक विधानसभा में पारित भी हो गया है। इसके बाद गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि वह समाज के लोगों से विचारविमर्श के बाद ही आंदोलन के बारे में फैसला करेंगे। अपनी बात को आगे करते हुए किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा है की 'सब कुछ ठीक रहा तो यह हमें स्वीकार है। लेकिन इसमें किसी तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिए। हम विधेयक में किये गये प्रावधान
खुशखबरी, अब खाते-पीते इस तरह से घटा सकते हैं वजन

खुशखबरी, अब खाते-पीते इस तरह से घटा सकते हैं वजन

Health
अनियमित दिनचर्या व आलस यदि लगातार बना रहे तो मोटापे के रूप में नजर आने लगता है। हर किसी के लिए संभव नहीं कि वह जिम जाकर वर्कआउट करे। ऐसे में इन चीजों को भोजन में शामिल कर वजन कंट्रोल किया जा सकता है। जानते हैं इनके बारे में :- दालचीनी :इससे वजन कम करने व शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है। इसकी खुशबू व स्वाद को बढ़ाने वाला सिनेमोनलडिहाइड तत्व खून की कमी को पूरा करता है। ध्यान रखें : डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, लिवर संबंधी रोग, गर्भवती व फीड कराने वाली महिलाएं और एंटीबायोटिक दवाएं लेने वाले मरीज विशेषज्ञ की सलाह से इसका प्रयोग करें।प्रयोग : दालचीनी की 1/4 चम्मच से ज्यादा मात्रा न लें। ग्रीन टी : इसमें मौजूद केटेजिन्स पेट की चर्बी को गलाता है। इसमें पाया जाने वाला कैफीन हृदय गति को बढ़ाकर कैलोरी बर्न करता है। ध्यान रखें : आंत व पेट संबंधी परेशानी, हाई ब्लड प्रेशर, गर्भवती व स्तनपान कराने वाली

LinkedIn में आया बड़ा अपडेट, अब फेसबुक की तरह कर सकेंगे लाइव

Indian Technology
LinkedIn के इस फीचर के बारे में जानकारी देते हुए LinkedIn के प्रोडक्ट मैनेजर पीट डेविस ने कहा कि वीडियो इस समय सबसे ज्यादा मांग में हैं और इसका विकास काफी तेजी से हो रही है। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
हो जाएं सावधान, इस तरह के फूड्स सेहत के लिए हैं खतरनाक

हो जाएं सावधान, इस तरह के फूड्स सेहत के लिए हैं खतरनाक

Health
प्रोसेस्ड फूड वह खाद्य पदार्थ होता है जिसे सुरक्षित रखने या सुविधा के लिए उसके स्वरूप को बदल दिया जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस तरह के खाद्य पदार्थ सेहत के लिए उपयोगी नहीं होते क्योंकि इनमें चीनी, नमक या वसा की मात्रा अधिक होती है। स्नैक्स, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, ब्रेड, रेडी टू ईट फूड और कोल्ड ड्रिंक्स प्रोसेस्ड फूड के उदाहरण हैं। जानते हैं इस प्रकार के खाद्य पदार्थ से जुड़े तथ्यों के बारे में। कई बीमारियों की वजह - विशेषज्ञों के अनुसार प्रोसेस्ड फूड में अधिक मात्रा में कैमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है ताकि इन्हें लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सके लेकिन इनसे पेट संबंधी समस्याएं, मोटापा, रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी, जोड़ों के दर्द और शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। ये लोग रखें विशेष ध्यान - जिन लोगों को डायबिटीज, ब्लड प्रेशर हाई या लो की समस्या हो और किडनी के रोगियों को प
प्रियंका के यूपी रोड शो के बीच रॉबर्ट वाड्रा ने कुछ इस तरह कही भावुक बातें

प्रियंका के यूपी रोड शो के बीच रॉबर्ट वाड्रा ने कुछ इस तरह कही भावुक बातें

India
हाल ही में कांग्रेस के महासचिव पद पर नवनियुक्त कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की बहन प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) उत्तर प्रदेश में रोड शो कर आने वाले लोकसभा चुनाव से कुछ... Live Hindustan Rss feed