News That Matters

Tag: तुलसी

तुलसी जयंती समारोह का शुभारंभ आज

तुलसी जयंती समारोह का शुभारंभ आज

Rajasthan
अजमेर| संत शिरोमणि गोस्वामी तुलसीदास जी के 522वें जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में तुलसी जयंती समारोह समिति द्वारा शनिवार काे श्री राम चरित मानस संपूर्ण पारायण पाठ 108 आसनों पर प्रारंभ किया जाएगा। प्रचार मंत्री अशोक टाक ने बताया कि शनिवार सुबह 10 बजे देव पूजा हाेगी। पाठ का समापन 28 जुलाई काे शाम 6 बजे होगा। श्री राम धर्मशाला में 29 जुलाई से 6 अगस्त तक श्री राम कथा साध्वी करुणागिरी हरिद्वार द्वारा मधुर संगीतमय वाणी में श्री राम कथा का रसास्वादन कराएंगी। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
भारत विकास परिषद ने 500 लाेगाें काे बांटे तुलसी के पौधे

भारत विकास परिषद ने 500 लाेगाें काे बांटे तुलसी के पौधे

Punjab
समाना|भारत विकास परिषद ने प्रधान मास्टर राकेश कुमार की अगुवाई में लोगों को तुलसी के 500 पौधे बांटे। देवी देवालय मंदिर में एक समारोह किया गया। भारत विकास परिषद सरपरस्त विजय डाबर ने कहा कि जहां तुलसी से हमारी धार्मिक भावनाएं जुड़ी हैं वहीं इस पौधे से डेंगू जैसा बुखार नहीं होता। यहां रिकी गर्ग, संदीप लक्की मौजूद रहे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Samana News - bharat vikas parishad distributed basil plants of 500 bags Dainik Bhaskar
समाना डिस्ट्रीब्यूटर एसो. ने बांटे तुलसी पौधे

समाना डिस्ट्रीब्यूटर एसो. ने बांटे तुलसी पौधे

Punjab
समाना | डेंगू व मलेरिया से लेाग बचे रहें, इसलिए समाना डिस्ट्रीब्यूटर एसोसिएशन ने प्रधान संदीप लक्की की तरफ से 400 श्यामा तुलसी के पौधे बांटे। इसके लिए लक्ष्मी नारायण मंदिर में समारोह किया गया। यहां प्रिंसिपल डॉ मोहन लाल शर्मा, अश्वनी गुप्ता, विजय डाबर, विनय गर्ग, मुकेश गोयल, नसीब चंद, राकेश कुमार, हरीश, राजेश मौजूद रहे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Samana News - samana distributor aso basil plants distributed by Dainik Bhaskar
देश ही नहीं विदेशों में भी पहचान रखती है राधाकुण्ड की ये हस्त निर्मित तुलसी चंदन मालायें

देश ही नहीं विदेशों में भी पहचान रखती है राधाकुण्ड की ये हस्त निर्मित तुलसी चंदन मालायें

Rajasthan
मनीष शर्मा/भरतपुर.भारतीय संस्कृति में तुलसी व चंदन को भगवान का सबसे प्रिय माना जाता है। तुलसी चंदन माला को गुरू शिष्य परंपरा का प्रतीक भी माना गया है। जिले केसमीपवर्ती मेंमथुरा के राधाकुण्ड में हस्त निर्मित तुलसी व चंदन की माला का बड़ाही महत्व है। यहां के बंगाली कारीगर ग्राहक की संतुष्टि के लिये उनके सामने ही माला व कंठी तैयार करके भी दे देते है। देशी विदेशी कृष्ण भक्तों में यहां की कंठी मालाओं का खासा क्रेज भी है।राधाकुण्ड मे ऐतिहासिक राधाकुण्ड व कृष्ण कुण्ड के ऊपर सड़क किनारे फुटपाथ पर लगी इन कारीगरो की कंठी मालाओं की दूकानों से खरीददार भी गिरिराज परिक्रमा करते हुये कंठी मालायेंखरीद लेते है। यहां बनाई गई तुलसी, कमल गट्टी, लाल चंन्दन, पथरी माला, आदि लकड़ी की मालाऐं विदेशों तक सप्लाई होती है। देशी-विदेशी भक्त मुड़िया मेला सहित कार्तिक मास मे एक माह यहां रह कर नियम सेवा कर
तुलसी की चाय पीएं, सर्दी-जुकाम से मिलेगी राहत

तुलसी की चाय पीएं, सर्दी-जुकाम से मिलेगी राहत

Health
शरीर टूट रहा हो या जब बुखार हो तो पुदीने और तुलसी का रस बराबर मात्रा में मिलाकर थोड़ा गुड़ डालकर पी लें, इससे आराम मिलेगा। दिन में दो से तीन बार पी सकते हैं। ये उपाय करें जुकाम, खांसी होने पर अदरक और तुलसी की गरम चाय पीने से भी राहत मिलती है। इसमें काली मिर्च डाल सकते हैं।तुलसी की सूखी पत्तियों को पीसकर उबटन चेहरे पर लगाने से झाइयां दूर होती हैं। त्वचा में निखार आता है।दांतों में कीड़ा लगने पर तुलसी के रस में थोड़ा कर्पूर मिलाकर रुई से भिगोकर उस जगह रखने से कीड़े नष्ट हो जाते हैं। इसके अलावा मुंह की दुर्गंध में भी फायदेमंद है। खुजली हो तो ये करें बारिश के मौसम में तुलसी का रस खुजली वाली जगह पर लगाकर मालिश करें। रस की कुछ बूंदे पीने से भी खुुजली में आराम मिलता है। मलेरिया में तुलसी व काली मिर्च का काढ़ा बनाकर पीने से मलेरिया जल्दी ठीक हो जाता है। इससे पेट में कीड भी मर जाते हैं। Patrika
इम्यूनिटी बूस्ट करें गिलाेय, तुलसी करेगी कब्ज की छुट्टी

इम्यूनिटी बूस्ट करें गिलाेय, तुलसी करेगी कब्ज की छुट्टी

Health
प्रकृति में एेसे कर्इ पाैष्टिक पेड़-पाैधे माेजूद है जाे हमें सेहतमंद बनाएं रखने के लिए एनर्जी बूस्टर का काम करते हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में :- गिलोय : इस पौधे का प्रयोग इम्यूनिटी बढ़ाने, पीलिया, पैरों में जलन, मौसमी रोगों और एनीमिया में किया जाता है। ऐसे करें प्रयोग : कुछ पत्ते घी और शहद के साथ मिलाकर लेने से खून की कमी दूर होती है। इसकी पत्तियों को उबालकर भी पी सकते हैं। पैरों में जलन होने पर पत्तियों के पेस्ट को सुबह-शाम तलवों पर लगाएं। तुलसी : खांसी, जुकाम, निमोनिया, कब्ज, बच्चों में पसलियां चलने, बुखार, अस्थमा, पेट से जुड़े रोगों में यह खासतौर पर उपयोगी है। ऐसे करें प्रयोग : 15 तुलसी की पत्तियों को उबालकर काढ़ा बनाएं, इसमें चुटकीभर सेंधा नमक डालकर पीएं। सांस संबंधी रोग मेें शहद, अदरक व तुलसी को मिलाकर बनाया गया काढ़ा पीने से राहत मिलती है। मीठा नीम : कढ़ी पत्ता यानी मीठा नीम हाई
तुलसी को उबाल कर कभी न सेवन करें, सेहत को होगा बहुत नुकसान

तुलसी को उबाल कर कभी न सेवन करें, सेहत को होगा बहुत नुकसान

Health
एंटीऑक्सीडेंट्स का स्त्रोत तुलसी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है। जानें कैसे- घर की औषधि तुलसी हर तरह से सेहत के लिए अच्छी होती है। औषधीय गुणों व एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर तुलसी के पत्तों को मौसमी रोगों से बचाव के लिए रोजाना खाने या उबालकर बनाए गए काढ़े को पीने की सलाह देते हैं। लेकिन आयुर्वेद के अनुसार तुलसी के पत्ते तासीर में काफी गर्म होते हैं जिन्हें उबालना नहीं चाहिए। तुलसी में पारा होता है जिसे उबालने से इसकी तासीर और ज्यादा बढ़ जाती है। इसके बाद इसके प्रयोग से शरीर का तापमान भी बढ़ता है जिससे फोड़े-फुंसी, नकसीर, रक्तस्त्राव की समस्या हो सकती है। चाय या काढ़ा बनाने के बाद ऊपर से तुलसी के पत्तों को डालें। 2-3 पत्तों के छोटे-छोटे टुकड़े कर निगलकर ऊपर से आधा कप पानी पी लें। महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान कमर व पेट दर्द में राहत के लिए एक चम्मच तुलसी के रस का सेवन करें दर्द में
Health Tips: तुलसी का पौधा है काफी फायदेमंद, जानें इसके 10 फायदे

Health Tips: तुलसी का पौधा है काफी फायदेमंद, जानें इसके 10 फायदे

Health
भारत में कई घरों में तुलसी का पौधा पाया जाता है। वहीं, हिन्दू परिवारों में इस पौधे की पूजा भी की जाती है। इसके पीछे की एक वजह यह भी है कि तुलसी एक औषधीय पौधा माना जाता है, जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों... Live Hindustan Rss feed
जानिए तुलसी के औषधीय गुणों के बारे में

जानिए तुलसी के औषधीय गुणों के बारे में

Health
तुलसी सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। खासतौर पर बारिश के मौसम में तुलसी के प्रयोग से ठंड, जुकाम और गले से जुड़ी समस्याओं में राहत पाई जा सकती है। तुलसी संक्रमण को दूर कर तनाव और अन्य रोगों के खिलाफ प्राकृतिक प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है। शरीर टूट रहा हो या जब बुखार महसूस हो तो पुदीने और तुलसी का रस बराबर मात्रा में मिलाकर थोड़ा गुड़ डालकर पी लें, आराम मिलेगा। जुकाम, खांसी होने पर अदरक और तुलसी की गरम चाय पीने से भी राहत मिलती है।तुलसी की सूखी पत्तियों को पीसकर उबटन के रूप में चेहरे पर लगाने से करने से झाइयां दूर होती हैं।दांतों में कीड़ा लगने की परेशानी में तुलसी के रस में थोड़ा कपूर मिलाकर रुई से भिगोकर प्रभावित स्थान पर रखने से कीड़े नष्ट हो जाते हैं। तुलसी का रस निकालकर खुजली वाली जगह पर मालिश करें। इसके अलावा रस की कुछ बूंदे पीने से भी खुुजली में आराम मिलता है।मच्छर के काटने
सर्दी-जुकाम से राहत दे तुलसी, एलोवेरा करें खून साफ

सर्दी-जुकाम से राहत दे तुलसी, एलोवेरा करें खून साफ

Health
आयुर्वेद के अनुसार तुलसी और एलोवेरा किसी चमत्कारिक जड़ी-बूटी से कम नहीं।जहां भारतीय संस्कृति में तुलसी पूजनीय माना जाता है आैर आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है।वहीं एलोवेरा एक औषधीय पौधे के रूप में विख्यात है।आइए जानते हैं इसके फायदों के बारे में :- - तुलसी ऐसी औषधि है जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है। इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खॉसी, दंत रोग और श्वास सम्बंधी रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। तुलसी की कुछ पत्तियां चटनी की तरह पीस लें और 10-30 ग्राम मीठे दही में मिलाकर रोजाना सुबह खाली पेट तीन माह तक खाएं। ध्यान रहे कि दही खट्टा न हो। दही की जगह एक-दो चम्मच शहद मिला सकते हैं। - छोटे बच्चों को आधा ग्राम तुलसी की यह चटनी शहद में मिलाकर दें। खयाल रहे इसे दूध के साथ न दें। इस औषधि को दिनभर में एक बार सुबह के समय खाली पेट लें और आधे से एक घंटे बा