News That Matters

Tag: दर्द

रेयरः पेट दर्द के बाद लड़की का हुआ ऑपरेशन, फिर जो निकला पेट से डॉक्टर्स के भी उड़ गए होश

रेयरः पेट दर्द के बाद लड़की का हुआ ऑपरेशन, फिर जो निकला पेट से डॉक्टर्स के भी उड़ गए होश

Rajasthan
वीडियो डेस्क. राजस्थान के धौलपुर जिले में डॉक्टर्स के पास एक ऐसा मामला आया, जिससे वो हैरान रह गए। यहां के सरमथुरा गांव की एक लड़की पेट दर्द की शिकायत लेकर डॉक्टर्स के पास पहुंची। टेस्ट में पता चला कि उसके पेट में गांठ है और ऑपरेशन करना पड़ेगा। 7-8 दिन बाद जब डॉक्टर्स ने ऑपरेशन के लिए लड़की का पेट खोला तो अंदर जो था उसे देखकर उनके होश उड़ गए। उसके खाने की थैली में से 1 किलो का बालों का गुच्छा निकला। पूछने पर लड़की ने डॉक्टर्स को बताया कि वो बाल खाती थी। सर्जरी करने वाले डॉक्टर के अनुसार ऐसे मामले बहुत रेयर देखने को मिलते हैं। वहीं, बाल खाने की आदत भी मानसिक विकृति है।डॉ. ने बताया, लाखों में एक ऑपरेशन इस तरह का होता है। यह काफी रेयर सर्जरी मानी जाती है। इलाज समय पर नहीं किया जाए तो मरीज की जान पर खतरा हो जाता है। लड़की की हालत में अब सुधार है।डरे हुए थे लड़की के पिता, हिम
शोषणः माता-पिता से अपना दर्द बताने की हिम्मत न कर पाई 10वीं की छात्रा, EXAM के दौरान आंसरशीट में वो सबकुछ लिख डाला जो दर्द उसके अपने दे रहे थे

शोषणः माता-पिता से अपना दर्द बताने की हिम्मत न कर पाई 10वीं की छात्रा, EXAM के दौरान आंसरशीट में वो सबकुछ लिख डाला जो दर्द उसके अपने दे रहे थे

Haryana
गुड़गांव. पुलिस ने बादशाहपुर गांव में रहने वाली 10वीं की स्टूडेंट के यौन शोषण और छेड़छाड़ के आरोप में उसके चाचा और 16 वर्षीय चचेरे भाई को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बुधवार को बताया कि 23 वर्षीय चाचा को जेल भेज दिया गया है जबकि चचेरे भाई को फरीदाबाद स्थित बाल सुधार गृह भेजा गया है। इस संबंध में गत मंगलवार को बादशाहपुर पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया था।पीड़ित स्टूडेंट ने स्कूल में एक अक्टूबर को परीक्षा के दौरान अपनी आंसरशीट में अपने साथ हो रहे यौन शोषण की बात लिखी थी। इस पर स्कूल प्रबंधन की ओर से पुलिस को जानकारी दी गई थी। पुलिस ने स्कूल से बाल कल्याण समिति के अधिकारियों को इस बारे में सूचित करने के लिए कहा था। पीड़िता की शिकायत के अनुसार, वो यह सब अपने माता-पिता को बताने की हिम्मत नहीं कर पा रही थी। इसलिए उसको यह रास्ता सूझा। उसका चचेरे भाई जो
Alert : एस्केलेटर में फंस गया बच्चे का हाथ, दर्द से चीख उठा मासूम, तुरंत ले जाना पड़ा अस्पताल… एक्सपर्ट ने बताया एस्केलेटर पर चढ़ते-उतरते समय कौन सी बातें जरूर करें फॉलो

Alert : एस्केलेटर में फंस गया बच्चे का हाथ, दर्द से चीख उठा मासूम, तुरंत ले जाना पड़ा अस्पताल… एक्सपर्ट ने बताया एस्केलेटर पर चढ़ते-उतरते समय कौन सी बातें जरूर करें फॉलो

India
न्यूज डेस्क। उत्तरप्रदेश के आगरा में शनिवार को एक दर्दनाक हादसा हुआ। आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर लगे एस्केलेटर में एक बच्चे का हाथ फंस गया। बच्चे के चीखने पर रेलवे कर्मचारी ने तुरंत एस्केलेटर को बंद कर दिया। इसके बाद बच्चे के हाथ को बाहर निकाला गया। अच्छी बात यह रही कि बच्चे का हाथ बच गया है उसे अभी रेलवे के ही हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया है। लिफ्ट, एस्केलेटर में कई बार ऐसी घटनाएं हो जाती हैं। कुछ सावधानियों का ध्यान न रखा जाए तो यह जान तक ले सकती हैं। हमने ओमेगा एलिवेटर (इंदौर) के इंजीनियर स्वप्निल जोशी ने बात कर जाना कि आखिर एस्केलेटर का यूज करते समय कौन-सी बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए। जिससे हादसे से बचा जा सके।एक्सपर्ट ने बताया...एस्केलेटर का यूज करते समय क्या ध्यान रखना चाहिए....- इंजीनियर जोशी ने बताया कि एस्केलेटर में दोनों तरफ सहारे के लिए जो रेलिंग लगी होती है
रेयर केस: पेट दर्द की शिकायत के बाद हॉस्पिटल पहुंची लड़की, ऑपरेशन के दौरान दिखा कुछ ऐसा कि डॉक्टर्स भी रह गए हैरान

रेयर केस: पेट दर्द की शिकायत के बाद हॉस्पिटल पहुंची लड़की, ऑपरेशन के दौरान दिखा कुछ ऐसा कि डॉक्टर्स भी रह गए हैरान

Rajasthan
धौलपुर. जिला अस्पताल के इतिहास में संभवत: यह पहला जटिल ऑपरेशन होगा। जब एक 16 साल की लड़की के पेट दर्द की शिकायत पर ऑपरेशन कर दो किलो वजनी बालों के गुच्छों की गांठ डॉक्टर्स की टीम ने निकाली है। जिसमें 24 सेंटीमीटर, 10 सेंटीमीटर आकार का बालों का गुच्छा नजर आया। जिला अस्पताल के एक्सपर्ट डॉ. आशीष शर्मा ने बताया, लाखों में एक ऑपरेशन इस तरह का होता है। यह काफी रेयर सर्जरी मानी जाती है। इलाज समय पर नहीं किया जाए तो मरीज की जान पर खतरा हो जाता है। पेट दर्द में समय रहते गांठ को पकड़कर यह ऑपरेशन किया गया। लड़की की हालत में अब सुधार है।डॉ आशीष शर्मा और डॉ बीएम मंगल ने यह सफल ऑपरेशन किया। डॉ मंगल ने बताया, 5 दिन पहले लड़की पेट दर्द की शिकायत लेकर दिखाने आई थी। जांच में पता चला कि लड़की ट्रॉइकोबेझार नामक दुर्लभ गंभीर बीमारी से पीड़ित है। तब दोनों डॉक्टर्स ने तुरंत ऑपरेशन करना उचित सम
इमरजेंसी में 15 दिन से दर्द, अस्थमा, बीपी, यूरीन के इंजेक्शन नहीं, मरीज परेशान-अफसर बेखबर

इमरजेंसी में 15 दिन से दर्द, अस्थमा, बीपी, यूरीन के इंजेक्शन नहीं, मरीज परेशान-अफसर बेखबर

Rajasthan
आरएनटी मेडिकल कॉलेज के अधीन संचालित संभाग के सबसे बड़े एमबी हॉस्पिटल की इमरजेंसी में 15 दिनों से दर्द, अस्थमा, बीपी, यूरीन, उल्टी को नियंत्रित करने वाले अतिआवश्यक इंजेक्शन नहीं हैं। जबकि यहां सड़क हादसों, मारपीट, पथरी, हृदयाघात, अस्थमा के लगभग 300 गंभीर मरीज रोज इलाज के लिए आते हैं। डॉक्टर डाइक्लोफिनेक सोडियम, डेरीफाइलिन, हाईड्रोकॉर्टिसोन, लेसिक्स, मेटोक्लोप्राेमाइड इंजेक्शन नहीं लगा पाने के कारण इन परेशानियों से तुरंत राहत नहीं दे पा रहे हैं। हैरानी की बात यह है कि अस्पताल अधीक्षक डॉ. विनय जोशी को तो पता तक नहीं था कि ये इमरजेंसी इंजेक्शन खत्म हो गए हैं। भास्कर ने शुक्रवार दोपहर 1.40 बजे डॉ. जोशी को बताया तो वे बोले- ऐसा हो नहीं सकता। उन्होंने अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. रमेश जोशी को इमरजेंसी में भेजा। उपाधीक्षक डॉ. जोशी की पड़ताल में भी ये इंजेक्शन नहीं मिले। डॉ. जोशी ने नर्
जीका वायरस में मरीज के हाथ-पैरों में रहता है दर्द, हाे सकता है लकवा भी

जीका वायरस में मरीज के हाथ-पैरों में रहता है दर्द, हाे सकता है लकवा भी

Health
अफ्रीका एवं दक्षिण एशिया के कुछ देशों में शुरू हुआ जीका वायरस अब दुनिया के लगभग 86 देशों में फैल चुका है। भारत में इसका पहला मरीज अहमदाबाद में मिला था।जयपुर में पिछले दिनों एक बुजुर्ग महिला में जीका वायरस की पुष्टि हुई थी। यह महिला हाथ-पैरों में दर्द की शिकायत के साथ अस्पताल में भर्ती हुई थी। इस महिला की डेंगू, स्वाइन फ्लू व चिकनगुनिया की जांच रिपोर्ट सामान्य थी लेकिन पुणे की लैब में भेजे गए सैम्पल की जांच में जीका वायरस की पुष्टि हुई थी। अस्पताल में इलाज के बाद अब महिला की स्थिति सामान्य बताई जा रही है। इसमें जीका वायरस संबंधी लक्षण नहीं दिख रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि जीका वायरस से प्रभावित मरीज के जोड़ों में भी दर्द हो सकता है। हालांकि अधिकतर मरीज में धीरे-धीरे ये लक्षण ठीक हो जाते हैं लेकिन कुछेक में थोड़ी समस्या रह सकता है। हाथ-पैरों में दर्द रह सकता है। जीका वायरस से मरीज को हा

#MeToo: हर दर्द को मिलेगा न्‍याय, कमेटी बनाने की तैयारी में सरकार

India
,metoo कैंपेन में बड़े-बड़े नाम के खुलासे के बाद अब सरकार हरकत में आ गई है। सरकार ने अब कमेटी बनाने का निर्णय लिया है जो कमेटी इस मामले में महिलाओं के प्रति हो रहे अत्याचार की जांच करेगी। Jagran Hindi News - news:national
देश में हर छठा व्यक्ति आॅर्थराइटिस से परेशान, युवाओं के भी घुटनों में होनेे लगा दर्द

देश में हर छठा व्यक्ति आॅर्थराइटिस से परेशान, युवाओं के भी घुटनों में होनेे लगा दर्द

Delhi
नोएडा.अब युवाओं में भी ऑर्थराइटिस की दिक्कत सामने आ रही है। खासकर 25 से 35 साल की आयु वर्ग के युवकों में घुटने में परेशानी होने की बात आ रही है। जिसके लिए खराब दिनचर्या, खानपान, टेंशन, मोटापा और आनुवांशिकी मुख्य वजह है। विश्व ऑर्थराइटिस दिवस को लेकर गुरुवार को नोएडा सेक्टर-62 में हुए कार्यक्रम में डॉ. प्रताप चौहान ने कहा कि देश में प्रत्येक छठा व्यक्ति इस बीमारी से पीड़ित है।2012 से 2018 के बीच हुए एक सर्वे से पता चला है कि देश में सबसे ज्यादा यूपी में जोड़ों के दर्द से पीड़ित लोग हैं। जोड़ों में दर्द को आयुर्वेद से आसानी से 6 से 8 महीने के इलाज से दूर किया जा सकता है। 12 अक्टूबर को विश्व ऑर्थराइटिस दिवस है। गुरुवार को नोएडा में अलग-अलग स्थानों पर ऑर्थराइटिस के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम हुए।मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल भी खतरनाकयदि आप मोबाइल फोन का ज्यादा इस्

#Metoo: पूनम पांडे ने भी बयां किया अपना दर्द, इशारा शक्ति कपूर की ओर!

Entertainment
देश में चल रहे #Metoo कैंपेन में अब बॉलीवुड की बोल्ड गर्ल पूनम पांडे का नाम भी जुड़ गया हैं। पूनम ने इस कैंपेन के जरिए एक बॉलीवुड अभिनेता पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। मनोरंजन
B Aware – पेट में अक्सर रहता है दर्द ताे फूड इंटॉलरेंस की हाे सकती है दिक्कत

B Aware – पेट में अक्सर रहता है दर्द ताे फूड इंटॉलरेंस की हाे सकती है दिक्कत

Health
घर का पका शुद्ध, सुपाच्य और सादा-स्वादिष्ट खाना छोड़कर सड़क पर लगे ठेलों, ढाबों, रेस्तरां या फास्टफूड सेंटर्स में ऑर्डर देकर खाना मंगाने या सैर सपाटे के दौरान यहां-वहां भोजन करने की आदत ने इन दिनों पाचन संबंधी रोगों के मामले बढ़ा दिए हैं। कई हैल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार मार्केट की अशुद्ध व बासी, डिब्बा बंद, प्रोसेस्ड व केमिकल युक्त चीजों से लोगों में फूड एलर्जी, सेंसिटिविटी और इंटॉलरेंस की समस्या लगातार बढ़ रही है। जो पेट, सांस व त्वचा रोगों का कारण बनती हैं। फूड इंटॉलरेंस के ज्यादातर मामले डेयरी प्रोडक्ट्स या ग्लूटेन से जुड़े हैं। लेकिन कुछ मामलों में यह विभिन्न फूड्स से भी हो सकता है। ये हैं लक्षणपेट में दर्द, पेट फूलना, इरिटेबल बाउल सिंड्रोम, डायरिया, थकान, माइग्रेन, एकाग्रता में कमी या जोड़ों में दर्द आदि समस्याएं होती हैं। इससे ऑटोइम्यून डिजीज भी होती हैं। इसके दुष्प्रभाव से इंफर्टिलिटी