News That Matters

Tag: ध्यान

पत्नी आए दिन सेल्फी खींच फेसबुक-व्हाट्सएप पर डालती थी, बच्चे का भी नहीं रखती थी ध्यान, पति के टोकने के बाद भी नहीं मानी वो, एक दिन पति को छोड़कर बेटे को लेकर चली गई वो

पत्नी आए दिन सेल्फी खींच फेसबुक-व्हाट्सएप पर डालती थी, बच्चे का भी नहीं रखती थी ध्यान, पति के टोकने के बाद भी नहीं मानी वो, एक दिन पति को छोड़कर बेटे को लेकर चली गई वो

Punjabi Politics
संगरूर (पंजाब)।दंपति जीवन में खुशी का एकमात्र मंत्र है विश्वास। अगर इसमें कमी आ जाए तो रिश्तों में दूरियां बनते एक पल नहीं लगती, जिसके बाद पलभर में हंसता-खेलता परिवार बिखर जाता है। हंसते-खेलते परिवारों व नवविवाहितों के प्रेम संबंधों पर सोशल मीडिया और मोबाइल फोन भारी पड़ रहा है। हालात ऐसे हैं कि शादी के कुछ ही माह में पति-पत्नी की तकरार घर के बंद कमरे से निकल कर थानों में पहुंचने लगती है। संगरूर के वूमेन सेल के आंकड़ों पर गौर करें तो घरेलू विवाद के ज्यादा कारण पति-पत्नी का आपस में विश्वास न होना व सोशल मीडिया है, जिनके कारण मन मुटाव इतना बढ़ जाता है कि तलाक तक की नौबत आ जाती है। हालांकि वूमेन सेल काउंसलिंग के जरिये पिछले वर्ष 325 घरों को बिखरने से बचा चुका है।बच्चे पर भी ध्यान नहीं दे पाती थी महिला, रहती थी खटपटशहर की रहने वाली एक युवती ने अपनी पसंद के लड़के के साथ शादी क
प्रेग्नेंसी के दौरान रखें इन जटिलताओं का ध्यान

प्रेग्नेंसी के दौरान रखें इन जटिलताओं का ध्यान

Health
पॉलीहाइड्रॉम्नियोस रोग क्या है?गर्भावस्था में इसके मामले बेहद कम या कह सकते हैं कि 2-3 प्रतिशत ही सामने आते हैं। लेकिन जितने भी आते हैं उनमें प्रेग्नेंसी के दौरान जटिलताओं की आशंका बढ़ जाती है। इस रोग में गर्भस्थ शिशु के आसपास गर्भाशय में सामान्य से अधिक मात्रा में एम्नियोटिक फ्लूड बनता है। गर्भधारण के 12 दिनों बाद यह पानी सामान्यत: बनता है।तरल की मात्रा क्यों बढ़ती है?ज्यादातर मामलों में इसके कारण अज्ञात हैं। लेकिन कई बार गर्भ में जुड़वा शिशु, अन्नप्रणाली, छोटी आंत, पेट या डायफ्राम संबंधी समस्या या न्यूरोलॉजिकल दिक्कत से भी तरल की मात्रा अधिक हो जाती है। 2-3 प्रतिशत मामलों में डायबिटीज की फैमिली हिस्ट्री से भी यह समस्या हो सकती है। एम्नियोटिक फ्लूड क्यों जरूरी?यह तरल शिशु को सपोर्ट करने के अलावा उसके विभिन्न अंगों के विकास, मूवमेंट और शरीर के तापमान को बनाए रखता है। समस्या की जटिलताएं क्य
सप्लीमेंट्स लेते समय रखें इन बातों का ध्यान

सप्लीमेंट्स लेते समय रखें इन बातों का ध्यान

Health
ज्यादा मात्रा में लेते हैं कैल्शियम तो दो भागों में करें विभाजित कैल्शियम आपके शरीर के आयरन, जिंक और मैग्नीशियम के अवशोषण को प्रभावित कर सकता है। डायटीशियन आयरन की खुराक या मल्टीविटामिन की तुलना में भोजन में कैल्शियम की खुराक लेने की सलाह देते हैं। जब आप एक बार में 600 मिलीग्राम या उससे कम कैल्शियम लेते हैं, तो आपका शरीर कैल्शियम को अधिक प्रभावी ढंग से अवशोषित करता है। यदि आप प्रति दिन कैल्शियम अधिक मात्रा में ले रहे हैं, तो इसे सुबह और शाम दो भागों में विभाजित करना पड़ेगा। फाइबर ऐसा पोषक तत्व है जिसे अन्य सप्लीमेंट्स व दवाओं के अलावा लेना चाहिए।मल्टीविटामिन और अन्य सप्लीमेंट्स को लेना आवश्यक है? यह बहस का मुद्दा है। कई स्थितियों में पूरक आहार (सप्लीमेंट) की सलाह दी जाती है। गर्भवती महिला के न्यूरल ट्यूब दोष के जोखिम को कम करने के लिए फोलिक एसिड दिया जाता है। विकासशील देशों में बच्चे जिन्ह
लोकसभा चुनाव: सीधे मुकाबले वाले राज्यों में कांग्रेस का ज्यादा ध्यान

लोकसभा चुनाव: सीधे मुकाबले वाले राज्यों में कांग्रेस का ज्यादा ध्यान

India
लोकसभा चुनाव में कांग्रेस सभी प्रदेशों में अलग-अलग प्रचार रणनीति अपना रही है। पार्टी उन राज्यों पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही है, जहां उसका भाजपा से सीधा मुकाबला है। ऐसे प्रदेशों में कांग्रेस का रुख... Live Hindustan Rss feed
प्लास्टर के दौरान रखें इन बातों का ध्यान

प्लास्टर के दौरान रखें इन बातों का ध्यान

Health
फे्रक्चर होने पर प्राथमिक उपचार क्या किया जाए ? जिस जगह की हड्डी टूट गई हो, उस अंग को स्पिलिंट (खपच्ची, पट्टी) लगाकर हिलने न दें। अगर खून बह रहा हो तो इस पर पट्टी बांध दें और मरीज को फौरन नजदीकी डॉक्टर के पास या अस्पताल लेकर जाएं। प्लास्टर लगने के बाद क्या सावधानी रखें ?जिस अंग पर प्लास्टर लगा हो उसे लटकाए नहीं। अंगुलियों का निरंतर व्यायाम करें। प्लास्टर को पानी से बचाएं। मरीज को किसी भी प्रकार की दिक्कत जैसे अंगुलियों में सूजन, नीली पडऩा या खुजली हो तो डॉक्टर को फौरन दिखाएं। किन उपायों से विकलांगता से बचा जा सकता है ?सर्वप्रथम पहलवानों व नीम-हकीम से इलाज न करवाएं। हड्डी के डॉक्टर से ही इस संबंध में सलाह लें व इलाज करवाएं। हड्डी जुड़ने के उपचार के बाद विशेषज्ञ की सलाह से व्यायाम (फिजियोथैरेपी) करें। घुटने के जोड़ों को जल्दी खराब होने से कैसे बचाएं ?वजन न बढऩे दें। उकड़ू या लंबे समय तक आलती
खांसी का सिरप लेते समय इन बातों का रखें ध्यान

खांसी का सिरप लेते समय इन बातों का रखें ध्यान

Health
जब हमें खांसी होती है तो सामान्यत: हम कैमिस्ट से कफ सिरप लेकर बिना डॉक्टरी सलाह के ही पी लेते हैं। लेकिन कफ सीरप का प्रयोग विशेषज्ञ की सलाहानुसार ही किया जाना चाहिए क्योंकि यह अलग-अलग कारणों से विभिन्न प्रकार की हो सकती है। एंटीबायोटिक : बैक्टीरिया के संक्रमण से खांसी होने पर इसे एंटीबायोटिक से नियंत्रित किया जाता है। कफ सप्रेसेंट्स : ये दवाएं कफ के लिए असरदार हैं। एंटी-हिस्टामाइन्स : एलर्जी, खाने की चीज या दवा के रिएक्शन से खांसी होने पर एंटी-हिस्टामाइन्स कारगर मानी जाती है। एक्सपेक्टोरैंट्स : वैट-कफ से परेशानी होने पर एक्सपेक्टोरैंट्स टैबलेट या सिरप उपयोगी हैं। ये भी जानना है जरूरी - ब्रोंकोडाइलेटर्स : ये अस्थमा के रोगियों को दी जाती हैं। खांसी की वजह से प्रभावित श्वासनली को आराम पहुंचाती हैं।डीकंजेस्टेंट : नाक बंद होकर खांसी होने पर डीकंजेस्टेंट दवाएं काम करती हैं। ये सूजी हुई रक्त वाहि
जोड़ों के दर्द में रखें इन बातों का ध्यान

जोड़ों के दर्द में रखें इन बातों का ध्यान

Health
गलत आदतों को सुधारेउम्र व अन्य कारणों से घुटने खराब होने लगते हैं। कई बार कुछ गलत आदतों से भी घुटनों का दर्द बढ़ जाता है। घुटनों मेंं दर्द न हो इसका ध्यान रखने की जरूरत होती है। शरीर का अधिक वजन भी घुटने को नुकसान पहुंचाता है। बढ़ता है रिएक्शन फोर्सजमीन पर आलथी-पालथी मारकर बैठने, देशी टॉयलेट का उपयोग करने, सीढियों पर ज्यादा चढऩा और अच्छी क्वालिटी के जूते नहीं पहनने से भी घुटने में दर्द हो सकता है। लाइफस्टाइल व खानपान के कारण शरीर का वजन बढ़ता है। आलथी-पालथी मारकर जमीन पर बैठने के बाद जब वापस उठते हैं तो दो से तीन गुना शरीर का रिएक्शन फोर्स बढ़ता है। ऐसे में घुटनों पर जोर बढ़ जाता है और उसे नुकसान पहुंचता है। कैल्शियम, विटामिन डी व प्रोटीन की कमी से भी यह समस्या हो सकती है। घुटने में दर्द से बचने के लिए आहार में प्रोटीन व एंटीऑक्सीडेंट डाइट लें।पलंग पर बैठेनियमित कसरत करने वालों को भी जमीन

WhatsApp ग्रुप एडमिन ध्यान दें, फोन में यह सेटिंग कर दीजिए, कोई फॉरवर्ड नहीं कर पाएगा मैसेज

Indian Technology
WhatsApp’s latest update: WhatsApp के इस खास फीचर की जानकारी व्हाट्सऐप को ट्रैक करने वाली वेबसाइट WABetainfo.com ने अपने ब्लॉग में दी है। व्हाट्सऐप के इस फीचर की टेस्टिंग फिलहाल बीटा वर्जन पर हो रही है Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
मामला ध्यान में नहीं : मनप्रीत सिंह

मामला ध्यान में नहीं : मनप्रीत सिंह

Punjab
मामला ध्यान में नहीं : मनप्रीत सिंह इस संबंधित नगर कौंसिल तपा के ईओ मनप्रीत सिंह सिद्धू ने कहा कि मामला उनके ध्यान में नहीं है। कौंसिल के पास हड्डारोड़ी का कोई ठेकेदार नहीं है। जिसके चलते ये मुश्किल आ रही है, फिर भी नगर कौंसिल अपने सत्र पर इस समस्या का समाधान करेगी। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar
‘बच्चे पढ़ाई पर ध्यान दें और सोशल मीडिया से दूर रहें’

‘बच्चे पढ़ाई पर ध्यान दें और सोशल मीडिया से दूर रहें’

Haryana
थर्मल| डीएवी स्कूल थर्मल में हरियाणा पावर जेनरेशन कारपोरेशन लिमिटेड (एचपीजीसीएल)के चेयरमैन टीसी गुप्ता ने एक कार्यक्रम में बच्चों से अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने और सोशल मीडिया से दूर रहने काे कहा। अपने विचार सांझा करते हुए उन्होंने बताया कि जब वो पांचवीं कक्षा में दिल्ली के एक स्कूल में पढ़ते थे। तो वहां पर उपायुक्त आ गए और बताया गया कि वो आईएएस अफसर हैं। वो मध्यम वर्गीय परिवार से थे उन्होंने तभी दिल्ली के एक पुस्तकालय में जाकर ये जानकारी प्राप्त की कि आईएएस कैसे बना जाता है। उन्होंने तभी ठान लिया कि आईएएस बनना है। स्कूल के मेधावी छात्रों व खेलों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को सम्मानित किया। उन्होंने स्कूल के वार्षिक न्यूज लेटर का अनावरण भी किया। छात्राओं ने एक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया। इस अवसर पर प्राचार्या रितू दिलबागी, एचपीजीएल के डायरेक्टर विनोद कुम