News That Matters

Tag: नदी

सरयू नदी में एक ही परिवार के 5 छात्रों की डूबकर मौत, सभी होली मनाने घर आए थे

सरयू नदी में एक ही परिवार के 5 छात्रों की डूबकर मौत, सभी होली मनाने घर आए थे

India
गोरखपुर. यहां केबेलघाट इलाके में सरयू नदी में बुधवार शाम नहाने पांच छात्रों की डूबकर मौत हो गई।देर रात तक सभी शव बरामद कर लिए गए। सभी छात्र होली मनाने के लिए घर आए थे।ये भी पढ़ेंहादसे के बाद राहत बचाव काम में जुटे सिपाही समेत पांच को रोडवेस बस ने रौंदा, मौतबेइली खुर्द गांव निवासी कृष्णमुरारी शुक्लका 14 वर्षीय बेटा सत्यम 8वीं का छात्र था। उनके भाई मदन मुरारी शुक्लका 19 वर्षीय बेटा बीएससी का छात्र था। दोनों गोरखपुर से तीन दिन पहले होली की छुट्टी पर घर आए थे। गांव के ही ध्रुवनारायण शुक्ला का 16 वर्षीय बेटा नितेश भी होली पर ही गांव गया था। ध्रुवनारायण के भाई दिनेश शुक्ल का बेटा 17 वर्षीय बेटा अमन बेलघाट में इंटरमीडिएट का छात्र था। उरुवा थाना क्षेत्र स्थित परसा तिवारी निवासी सूर्यपति त्रिपाठी का 18 वर्षीय बेटा आदर्श मुंबई में मेडिकल का छात्र था। दो दिन पहले वह भी अपने ननिहाल
नदी में डूबी महिला, समय पर नहीं मिली एम्बुलेंस और ऑक्सीजन, मौत

नदी में डूबी महिला, समय पर नहीं मिली एम्बुलेंस और ऑक्सीजन, मौत

Rajasthan
बिजौलिया/तिलस्वां(भीलवाड़ा).तिलस्वां महादेव मेले में दर्शन करने मां के साथ आई महिला की शनिवार को ऐरू नदी में डूबने से मौत हो गई। वह घाट पर मां के साथ नहाने पहुंची। पांव फिसलने से बेटी नदी में डूब गई। लोगों ने उसे बाहर निकाला। एंबुलेंस को बुलाया, लेकिन नहीं आई।अचेत अवस्था में महिला को ग्रामीण तिलस्वां उप स्वास्थ्य केंद्र ले गए। यहां ऑक्सीजन सिलेंडर भी नहीं था। एक घंटे बाद एंबुलेंस पहुंची। इसके बाद महिला को बिजौलिया रैफर किया गया। जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। सीएचसी प्रभारी डॉ. मनीष सक्सेना ने बताया कि महिला को दोपहर 2:15 बजे बिजौलिया लेकर आए, लेकिन करीब आधे घंटे पहले वह दम तोड़ चुकी थी। इधर, लोगों का कहना है कि डूबने से अचेत हुई महिला को समय पर सीएचसी पहुंचा दिया जाता तो उसकी जान बच सकती थी। एसडीएम ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।बिजौलिया थाना प्रभारी बलदेवराम
लूणी नदी केस में एनजीटी ने सरकार पर ~30 करोड़ का जुर्माना लगाया

लूणी नदी केस में एनजीटी ने सरकार पर ~30 करोड़ का जुर्माना लगाया

Rajasthan
जोधपुर.बाड़मेर के बालोतरा में टेक्सटाइल इंडस्ट्री से लूणी नदी को हुए नुकसान के केस में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने राज्य सरकार पर 30 करोड़ का जुर्माना लगाया है। साथ ही कहा कि जब तक एनजीटी की ओर से नियुक्त कमिश्नरों की ओर से गिनाई कमियां पूरी नहीं होती है तब तक बालोतरा की इंडस्ट्री को बंद रखा जाए।एनजीटी ने बालोतरा, बिठूजा और जसाेल की टेक्सटाइल इंडस्ट्री को लूणी नदी के पॉल्यूशन का सबसे बड़ा कारण मानते हुए जुर्माना लगाया गया है। बुधवार को दिल्ली में हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस राघवेंद्र एस राठौड़ ने निर्णय सुनाया कि लूणी नदी के प्रदूषण युक्त होने में सबसे बड़ा कारण टेक्सटाइल इंडस्ट्री है। एनजीटी के निर्णय में सबसे अहम है कि अब तक टेक्सटाइल इंडस्ट्री के कारण लूणी नदी को जो नुकसान हुआ है, उसके लिए राज्य सरकार पर 30 करोड़ का जुर्माना लगाया है। यह राशि सरकार को एक माह के भीतर सें

नदी में उगने वाली इस घास से बन रही चटाई और दवाई, हजारों ग्रामीणों को मिल रहा रोजगार

India
छत्तीसगढ़ के एक हिस्से से निकलकर 290 किलोमीटर का सफर करते हुए महानदी में मिलने वाली शिवनाथ नदी भी हजारों ग्रामीणों को रोजगार दे रही है। Jagran Hindi News - news:national
नंदी सवार भोले से लिया आशीर्वाद

नंदी सवार भोले से लिया आशीर्वाद

Punjab
समाना| घग्गा रोड के दुकानदारों ने शिवरात्रि पर नंदी सवार शिवभोले व उसकी बारात का अभिनन्दन किया। उन्होंने व्रेड पकौड़ा और चाय की सेवा की। यहां विजय कुमार, पवन शास्त्री, विनोद कुमार, भूषण कुमार, जनक राज, भजन सिंह, बंसी लाल, मौजूद रहे। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Dainik Bhaskar

कपालेश्वर महादेव मंदिर : अनूठा मंदिर जहां शिव के साथ नहीं हैं नंदी

Entertainment
दुनिया भर में नासिक को कुंभ के मेले की पहचाना जाता है। लेकिन यहां पर एक शिव मंदिर ऐसा है। जिसमें शिव के प्रिय वाहन नंदी उनके साथ नहीं हैं। इस मंदिर को लोग कपालेश्वर महादेव मंदिर के रूप में जानते हैं। मनोरंजन
मंदिर में हत्या कर शव नदी में फेंका, खून की लकीर से पता चला

मंदिर में हत्या कर शव नदी में फेंका, खून की लकीर से पता चला

Rajasthan
कोटड़ा (उदयपुर)। उदयपुर के कोटड़ा में बीती रात अज्ञात व्यक्ति की मंदिर में हत्या कर शव तालाब में फेंक दिया गया। सुबह मंदिर आने पर हत्या का पता चला। पुलिस ने ग्रामीणों की सहायता से नदी से शव को निकाला। मृतक की शिनाख्त नहीं हुई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।पुलिस के अनुसार कोटड़ा के महादेव (पीपलेश्वर) मंदिर में पुजारी ने खून के निशान देखे। यह देख वह घबरा गया तथा ग्रामीणों को सूचना दी। थोड़ी ही देर में वहां बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्र हो गए। खून के निशान पास ही बहने वाली नदी तक गए थे। पुजारी ने इसकी सूचना जिला परिषद सदस्य कैलाश लखारा को दी।कैलाश ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। सूचना पर डिप्टी निरंजन चारण तथा एसएचओ देवी सिंह वहां पहुंचे। पुलिस ने आकर ग्रामीणों की सहायता से नदी में शव की आशंका में तलाश की।नदी में पानी कम होने के कारण थोड़ी ही देर में शव मिल गया।मृतक के सिर में
2 साल से इस पर काम कर रहे थे IIT रुड़की के वैज्ञानिक, बस ये एक शर्त होनी चाहिए पूरी, नदी के बहते पानी से नई डिवाइस बना देगी बिजली…

2 साल से इस पर काम कर रहे थे IIT रुड़की के वैज्ञानिक, बस ये एक शर्त होनी चाहिए पूरी, नदी के बहते पानी से नई डिवाइस बना देगी बिजली…

Delhi
दिल्ली/रुड़की।वैज्ञानिकों ने एक ऐसी नई डिवाइस (New Device) बनाई है जो नदी केबहते पानी की धारा से बिजली (Electricity) पैदा कर सकती है। पिछले दो साल से IIT रुड़की के वैज्ञानिक (Scientist) दिल्ली की एक स्टार्टअप कंपनी के साथ मिलकर इस पर काम कर रहे थे। पानी पर तैरने वाली इस डिवाइस को फिलहालपरीक्षण के लिए रुड़कीमें ऊपरी गंगा नहर में लगाया गया है। आइए जानते हैं कैसे काम करती है ये डिवाइस...टरबाइन चालू करने के लिए होता है नदी के बहाव का इस्तेमाल- आईआईटी रुड़की (IIT Roorkee) के प्रोफेसर आरपी सैनी कहते हैं किपारंपरिक बांधों में टरबाइन (Turbine) को चालू करने के लिए ऊंचाई से गिरने वाले पानी का इस्तेमाल होताहै। जबकि इस नई डिवाइसमेंटरबाइन चालू करने के लिए नदी के स्थिर बहाव का इस्तेमाल होता है।- प्रो. सैनी के मुताबिक बराबर गति से बहने वाली हवा की तुलना में पानी के बहाव और उसकी सतह की ऊर
रावी नदी के पास खेतों में पहली बार देखा गया 8 फीट का बर्मी पायथन, एक घंटे में पकड़ा

रावी नदी के पास खेतों में पहली बार देखा गया 8 फीट का बर्मी पायथन, एक घंटे में पकड़ा

Punjab
अजनाला (अमृतसर). सरहदी तहसील अजनाला के दरिया रावी पर सटे हुए गांव रुढ़ेवाल में किसान के खेतों में बुधवार को फारेस्ट विभाग के मुलाजिमों ने 8 फीट लंबा अजगर काबू किया है। खेतों में घुसे इस अजगर को देख लोगों में अफरा-तफरी मच गई। इसके बाद तत्काल फारेस्ट विभाग को सूचित किया गया। विभाग के ब्लॉक अफसर हरजीत सिंह ने टीम के साथ और बड़ी मुश्किल से उसे पकड़ा गया।फिलहाल उसे गांव कमालपुर के जंगलों में छोड़ दिया गया है। विभाग के लोगों के मुताबिक यह अजगर अभी व्यस्क नहीं हुआ है, इसकी उम्र करीब 11 साल है।इस इलाके में पहली बार दिखे इस अजगर बारे माना जा रहा है कि यह कंडी इलाके की तरफ से इधर आया होगा।अजगरों की 5 प्रजातियों में से एक बर्मी पायथन: दुनिया में सरिसृप वर्ग से संबंधित अजगरों की पांच प्रमुख प्रजातियां होती हैं। इसमें से रेटिक्यूलेटेड पायथन लंबाई 22.8 फीट, ग्रीन एनॉकांडा लंबाई 22.5 फ