News That Matters

Tag: फायदों

जानें मीठी नीम व सूरजमुखी के फायदों के बारे मेंं

जानें मीठी नीम व सूरजमुखी के फायदों के बारे मेंं

Health
पेट की परेशानी दूर करे मीठा नीम मीठे नीम की पत्तियां (करी पत्ता) खाने में खुशबू व स्वाद बढ़ाने के साथ स्वास्थ्य के लिहाज से भी गुणकारी हैं। लंदन के किंग्स कॉलेज में हुए शोध के अनुसार यह खून में ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित करने में सहायक है।मीठे नीम की 10-20 पत्तियों को दो सौ मिलिलीटर पानी में उबालें। आधा बचनेे पर इसे छान लें। दो-दो चम्मच 15-15 मिनट के अंतराल पर लेने से उल्टी की समस्या दूर होती है।ताजा व कोमल पत्तियां चबाकर खाने से पेट में मरोड़ व पेचिश में आराम मिलता है।मूंग की दाल में तड़का लगाकर खाने से अपच में लाभ होता है। वात व पित्त के रोगों को भगाए सूरजमुखी सूरजमुखी कफ-वात संबंधी परेशानियों में लाभकारी है। इसके पंचाग (जड़, तना, पत्ती, फल, फूल) में कैंसरोधी तत्त्व पाए जाते हैं। इसके ताजा पत्तों को मसलने से तेल निकलता है जिसमें लहसुन तथा सरसों के समान गुण पाए जाते हैं।सूरजमुखी के बीजों
पोषण से भरपूर मूंगफली के इन 7 फायदों के बारे में नहीं जानते होंगे आप

पोषण से भरपूर मूंगफली के इन 7 फायदों के बारे में नहीं जानते होंगे आप

Health
मूंगफली हर किसी के बीच काफी लोकप्रिय है। इसकी पौष्टिकता के कारण इसे सस्ता बादाम भी कहा जाता है। अलग-अलग नामों से लोकप्रिय मूंगफली कई तरह से फायदेमंद है। स्वाद और पोषण से भरपूर मूंगफली न सिर्फ दिमाग... Live Hindustan Rss feed
संपूर्ण आहार है केला, जानें इसके फायदों के बारे में

संपूर्ण आहार है केला, जानें इसके फायदों के बारे में

Health
आयुर्वेद के अनुसार पके केले में कैल्शियम के अलावा एक अन्य गुणकारी तत्त्व व फॉस्फोरस आदि भी होते हैं। यह मस्तिष्क की क्षमता को बढ़ाता है। आइये जानते हैं केले के फायदों के बारे में... गर्भावस्था, प्रौढ़ावस्था में केला कैल्शियम की कमी को दूर करता है। यह मस्तिष्क की क्षमता को विकसित करता है। साथ ही गर्भावस्था के दौरान होने वाले शिशु के लिए भी लाभकारी है। इसमें कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, विटामिन और खनिज तत्व, विटामिन ए, सी, डी व आयरन, पोटेशियम, मैग्नीशियम, सोडियम आदि खनिज होने के कारण यह पौष्टिक व संतुलित आहार है। इससे पाचनक्रिया दुरुस्त होती है व रक्त में वृद्धि होती है। पढ़ने वाले छात्रों के लिए केला बहुत शक्तिवर्धक है। केले में प्रोटीन की मात्रा कम होती है। इसलिए केला खाने के बाद दूध अवश्य पीना चाहिए। केला संपूर्ण आहार है। खाने के वक्त यदि दो केले खा लिए जाएं तो उस वक्त के खाने की पूर्ति हो जा
Health Tips : एलर्जी से राहत दिलाए काली मिर्च, इन फायदों को जानकर हैरान हो जाएंगे

Health Tips : एलर्जी से राहत दिलाए काली मिर्च, इन फायदों को जानकर हैरान हो जाएंगे

Health
गर्म मसाले में प्रमुखता से शामिल काली मिर्च अनेक औषधीय गुणों से भी भरपूर होती है। यह पेट से लेकर त्वचा तक की समस्या में अनेक तरह से काम आती है। काली मिर्च के ढेर सारे फायदों के बारे में जानकारी दे... Live Hindustan Rss feed
जानिए केले से होने वाले फायदों के बारे में

जानिए केले से होने वाले फायदों के बारे में

Health
सालभर मिलने वाला केला केवल फल ही नहीं बल्कि एनर्जी से भरपूर खाद्य पदार्थ है। जानते हैं इसके गुणों के बारे में। केला पाचन क्रिया को मजबूत करता है। अल्सर के मरीजों के लिए यह काफी फायदेमंद होता है।इसमें आयरन भरपूर मात्रा में होता है जिससे खून में हीमोग्लोबिन की कमी नहीं रहती। यह तनाव भी कम करता है।केले में ट्रिप्टोफेन अमिनो एसिड होता है जिससे मूड रिलेक्स होता है और मन खुश रहता है।दिल के मरीजों के लिए केला बहुत फायदेमंद होता है। रोजाना दो केले शहद के साथ खाने से लाभ होगा।अगर नाक से खून निकलने की समस्या है तो केले को चीनी मिले दूध के साथ एक सप्ताह तक इस्तेमाल कीजिए। नकसीर के रोग में आराम मिलेगा। वजन बढ़ाने के लिए केला बहुत मददगार होता है। रोजाना केले का शेक पीने से लाभ होगा।बच्चों के विकास के लिए केला फायदेमंद है क्योंकि इसमें मिनरल और विटामिन होता है। इसमें विटामिन-सी, बी 6 व फाइबर होता है जो
जान लें नाशपाती के फायदों के बारे में

जान लें नाशपाती के फायदों के बारे में

Health
नाशपाती के सेवन से कई तरह के रोगों से दूर रहा जा सकता है। नाशपाती में मौजूद पैक्टिन नामक घुलनशील फाइबर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है। आयुर्वेद के अनुसार नाशपाती पचने में हल्की, रोगी को जल्दी ऊर्जा देने वाली, प्यास बुझाने वाली और त्रिदोष नाशक है। नाशपाती में प्रचुर मात्रा में आयरन पाया जाता है, जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है। अगर कोई एनीमिया से पीड़ित हो तो उसे नाशपाती का सेवन करना चाहिए। नाशपाती में हाइड्रोऑक्सीनॉमिक एसिड होता है जो पेट के कैंसर को रोकने में मदद करता है। फाइबर पेट के कैंसर को बढ़ने से रोकता है व बड़ी आंत को ठीक रखता है।नाशपाती में बोरोन तत्व होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है।इसके सेवन से हार्ट स्ट्रोक का खतरा 50 फीसदी कम होता है व शरीर का ग्लूकोज ऊर्जा में बदल जाता है। नाशपाती में एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी की अच्छी मात्रा पाई जाती है, जिसकी वजह से रो
साइकिलिंग से संवारे सेहत, जानें इसके फायदों के बारे में

साइकिलिंग से संवारे सेहत, जानें इसके फायदों के बारे में

Health
नियमित साइकिलिंग से त्वचा अल्ट्रा वॉयलेट किरणों के दुष्प्रभाव से बचती है जिससे बढ़ती उम्र चेहरे पर दिखाई नहीं देती। साइकिलिंग जैसी कसरत से रक्त का संचार तेज होता है और त्वचा की कोशिकाओं को ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन व पोषक तत्व मिलते हैं। आंतों के कैंसर से बचाव - जो लोग साइकिलिंग करते हैं, उनकी बड़ी आंत में खाद्य पदार्थों की गतिविधि तेज होकर पाचन आसान हो जाता है। वहीं हार्ले स्ट्रीट के गेस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट का कहना है साइक्लिंग आंतों के कैंसर का खतरा घटाती है। इससे हार्ट रेट बढ़ती है और सांस तेज चलती है जिससे आंतों को लाभ होता है। संक्रमण नहीं सताता - साइकिलिंग इम्यून सेल्स को सक्रिय करती है और संक्रमण से लड़नें की क्षमता बढ़ाती है। इंडोर साइकिलिंग की बजाय बाहर अभ्यास करना ज्यादा फायदेमंद होता है। इससे आपको ताजा वातावरण में रहते हुए बिना बोरियत के वर्कआउट करने का मौका मिलता है। नींद न आने क
जान लें आंवला और अजवाइन के फायदों के बारे में

जान लें आंवला और अजवाइन के फायदों के बारे में

Health
एंटी-इन्फ्लैमेट्री और एंटी ऑक्सीडेंट गुणों के कारण आंवला विषाक्त पदार्थों को निकालकर पेटदर्द में राहत देता है। आंवला पाचन शक्ति को मजबूत बनाकर अपच, एसिडिटी और कब्ज को दूर करता है। आंवले को उबालकर टुकड़ों में काट लें। उसमें नमक मिलाकर धूप में सुखा लें। जैसे ही आपको बदहजमी जैसे लक्षण महसूस हों, तुरंत यह आंवला चबाएं। वैसे आप इसे मार्केट से भी खरीद सकते हैं। एसिडिटी से राहत के लिए खाली पेट आंवले का रस पिएं। आंवले को उबालकर और मिक्सी में पीसकर इसका रस तैयार कर सकते हैं।दो-तीन टुकड़े ताजे आंवले खाने से बदहजमी की समस्या नहीं होती।गैस्ट्रिक व एसिडिटी की समस्या को दूर करने के लिए दिन में एक बार एक चम्मच आंवले का मुरब्बा जरूर खाएं।आंवले के अलावा अजवाइन पेट की समस्याओं के लिए प्रभावी होती है। इसमें थाइमोल नामक तत्व होता है जो एसिडिटी से राहत दिलाता है और पाचन शक्ति बढ़ाता है। समान मात्रा में अजवाइन व
जानें अमरूद और करेले के फायदों के बारे में

जानें अमरूद और करेले के फायदों के बारे में

Health
अमरूद का फल ही नहीं पत्ते भी लाभकारी हैं। आइए जानते हैं इनके फायदों के बारे में। दांतदर्द और मसूढ़ों की सूजन में आराम के लिए इसके 15-20 ताजा पत्ते पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तो इसमें सेंधा नमक या फिटकरी मिलाएं और ठंडा होने पर कुल्ला करें।अमरूद के पत्तों पर कत्था लगाकर चबाने से मुंह के छाले ठीक होते हैं।माइग्रेन के दर्द में इसके पत्तों का लेप सूर्योदय से पहले माथे पर लगाने से आराम मिलता है।गठिया रोगी इसके कुछ पत्तों को पीसकर दर्द वाली जगह पर लेप लगाएं। अमरूद के कुछ पत्तों को पानी में उबालें व इन्हें पीस लें। इस लेप को फुंसियों पर लगाने से आराम मिलेगा।अमरूद के पत्तों से तैयार किए गए 10 ग्राम काढ़े को पीने से जी घबराने और उल्टी की समस्या नहीं रहती। विशेषज्ञ की सलाह से खाएं करेला - करेला प्रकृति का वरदान है जिसे डायबिटीज के मरीज को खाने की सलाह दी जाती है लेकिन इसे प्रयोग करने के संबं
सर्दी में करें इन तेलों का इस्तेमाल, जानें इनके फायदों के बारे में

सर्दी में करें इन तेलों का इस्तेमाल, जानें इनके फायदों के बारे में

Health
तिल का तेल - तिल विटामिन ए व ई से भरपूर होता है। तिल के हल्के गर्म तेल को त्वचा पर लगाने से निखार आता है। इस तेल की सिर में मालिश करने से बाल लंबे होते हैं। तिल के तेल में थोड़ा सोंठ पाउडर व एक चुटकी हींग पाउडर डालकर गर्म कर लें। ठंडा होने पर इस मिश्रण से मालिश करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है। राई का तेल - इस मौसम में बच्चों की मालिश राई के तेल से करने से निमोनिया व सर्दी के अन्य रोगों में लाभ मिलता है। नारियल का तेल - नारियल के तेल में कर्पूर मिलाकर त्वचा पर लगाने से दाद, खाज, खुजली की परेशानियां दूर होती हैं। त्वचा के जलने पर नारियल का तेल लगाने से निशान नहीं पड़ते। मूंगफली का तेल - यह तेल खाने में स्वादिष्ट और पचने में हल्का होता है। इससे शरीर को प्रोटीन मिलता है। यह रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम कर हृदय रोगों से बचाता है। जोड़ों के दर्द में इस तेल की मालिश से लाभ होता ह