News That Matters

Tag: बारिश”

हत्या के बाद रेलवे ट्रैक पर फेंका शव, जलाने की कोशिश बारिश में नाकाम, आग बुझी

हत्या के बाद रेलवे ट्रैक पर फेंका शव, जलाने की कोशिश बारिश में नाकाम, आग बुझी

Punjab
अमृतसर. अमृतसर में बदमाशों ने एक युवक की तेजधार हथियारों से हत्या करने के बाद शव को खुर्द-बुर्द करने के लिए रेलवे ट्रैक पर फेंक उसमें आग लगा दी। संयोग से बारिश हो गई, जिसके चलते आग बुझ गई। हालांकि चेहरा फिर भी झुलसा हुआ है। मौके पर पहुंचे जीआरपी थाना प्रभारी सुखविंदर सिंह मल्ली और छेहरटा थाना प्रभारी राजविदर कौर ने बताया कि फिलहाल मरने वाले युवक की पहचान नहीं हो पाई है।घटनास्थल के पास बनी काॅलोनी में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं।घटना अमृतसर के कोट खालसा-खंडवाला रेलवे ट्रैक पर बुधवार तड़के की है। इलाके के लोगों ने पुलिस को बताया कि ट्रैक पर एक युवक का शव पड़ा हुआ है। पुलिस ने जांच की तो पाया कि शव पर तेजधार हथियारों के कई निशान थे। मृतक की जेब से तीन सौ रुपए नकद व बीड़ी का बंडल बरामद हुआ है। एक तरफ मरने वाले की चप्पलें और टोपी भी पड़ी हुई थी। आशंका जताई जा रही है कि
पूर्वी हवा और हल्की बारिश में रात की गर्मी से मिली राहत, प्रदूषण भी धुला

पूर्वी हवा और हल्की बारिश में रात की गर्मी से मिली राहत, प्रदूषण भी धुला

Delhi
दिल्ली-एनसीआर में सोमवार को शुरू हुई बारिश मंगलवार को भी छिटपुट हुई। पूर्वी हवा और हल्की बारिश के बीच रात के तापमान में बड़ी गिरावट देखने को मिली। रविवार को न्यूनतम तापमान (रात का पारा) सामान्य से 3 डिग्री ऊपर 30 डिग्री दर्ज हुआ था तो मंगलवार को ये तापमान सामान्य से 3 डिग्री नीचे 24 डिग्री रहा। अगर 16 जुलाई के न्यूनतम तापमान की बात करें तो 2011 से अभी तक न्यूनतम तापमान 24 डिग्री पहली बार गया है। इससे पहले 2016 में 25 डिग्री तक रात का तापमान नीचे गिरा था। मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री नीचे 33.4 डिग्री दर्ज किया गया। शाम साढ़े पांच तक बारिश 2.8 मिमी हुई। पालम, लोधी रोड, रिज, नजफगढ़, स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में बारिश दर्ज हुई लेकिन एनसीआर के फरीदाबाद में दूसरे दिन बारिश नहीं हुई। हवा में नमी की मात्रा 67-98% के बीच रही। मंगलवार को
भारी बारिश से स्कूलों में भरा पानी, बच्चों और टीचर्स को हुई परेशानी

भारी बारिश से स्कूलों में भरा पानी, बच्चों और टीचर्स को हुई परेशानी

Punjab
सनौर|बिंजल एरिया में पड़ते स्कूल अौंजा, मेहताबगढ़, रत्ताखेड़ा, बिंजल, धगडोली, अहरु कला ,अहरु खुर्द, खांसा, मोहलगढ़, बांगड़ा, खतौली के स्कूलों में पानी भर गया है। जिस वजह से बच्चों और टीचर्स को स्कूल पहुंचने में परेशानी हुई। मगर साहिब सरकारी स्कूल, िबंजल सरकारी स्कूल, गणेशपुरा, बड़ला के सरकारी स्कूलों में बारिश का पानी भर गया है। बारिश के कारण सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल िबंजल का स्टाफ ड्यूटी पर नहीं पहुंच पाया। स्कूल के 11 अध्यापकों ने जिला शिक्षा अफसर के कार्यालय में जाकर हाजिरी लगाई। स्कूलों के आगे भरा पानी, निकासी भी नहीं पातड़ां|लगातार हो रही बारिश से स्टूडेंट्स को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। लोगों ने बताया कि शहर में पानी की निकासी का कोई प्रबंध न होने के कारण लोगों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। प्राचीन बाबा साेटे वाले के धार्मिक स्थान पर जाने के
बारिश से भगता में गौशाला का लेंटर गिरा, 35 गायों की मौत

बारिश से भगता में गौशाला का लेंटर गिरा, 35 गायों की मौत

Punjabi Politics
मंगलवार काे जिले में माॅनसून की हुई पहली मूसलाधार बरसात के कारण गांव भगता भाईका में गौशाला के शैड का लैंटर गिरने से मलबे में दबकर 35 गऊओं की माैत हाे गई, जबकि 30 गऊओं के जख्मी हाेने का समाचार है जिसमें दाे की हालत गंभीर है। सूचना मिलने पर गाै भक्तों के अलावा प्रशासन ने मौके पर पहुंचकर राहत कार्य शुरू किए। कस्बा भगता भाईका के कोठागुरू रोड में स्थित श्री महेश मुनि गौशाला में गऊओं के लिए शैड डाला गया है। जिसमें करीब 200 गऊओं काे रखने की व्यवस्था है। मंगलवार काे हुई तेज बारिश के कारण शैड का लैंटर गिर गया। गौशाला कमेटी के प्रधान सरपंच जरनैल सिंह ने बताया कि सोमवार और मंगलवार की रात करीब डेढ़ बजे गौशाला में एक एकड़ में आठ साल पहले डाला गया 60 फुट चौड़ा और 200 फुट लंबा लैंटर गिर गया। जिस कारण उसके नीचे करीब 70 गाय अा गई। शाम चार बजे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन में लैंटर के द्यनीचे दबी
बारिश में खतरनाक हुए बिजली पोल, खेलते हुए बच्चे का हाथ लगा तो वहीं चिपक गया

बारिश में खतरनाक हुए बिजली पोल, खेलते हुए बच्चे का हाथ लगा तो वहीं चिपक गया

Haryana
गन्नौर (सोनीपत). बारिश के दिनों में बिजली पोल खतरनाक साबित हो रहे हैं। यहां मंगलवार शाम ज्ञान दीप स्कूल के नजदीकगली में आठ साल के बच्चे को खेलते-खेलते बिजली के पोल छू जाने पर करंट लग गया। बिजली के पोल से चिपके बच्चे को बचाने आई महिला को भी करंट का झटका लगा तो वह दूर जा गिरी। इसके बाद आसपास के लोगों ने पोल से चिपके बच्चे को डंडा मारकर हटाया।करंट लगने से बेसुध बच्चे को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। फिलहाल बच्चे के स्वास्थ्य में सुधार है। गनीमत ये रही कि बड़ा हादसा होने से टल गया। बच्चे को खेलने से लेकर करंट लगने के बाद पोल से हटाने की फुटेज पड़ोस में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।ऐसे हुआ पूरा घटनाक्रमबच्चा बिजली के पोल के पास बैठा था। दो बच्चे उसे पकड़ने के लिए गए तो वह अंदर घर में चला गया। बच्चे वापस आए तो वह बाहर निकलकर बिजली के पोल से छू गया। एक महिला निकलकर आई त

Weather Update: पंजाब, हरियाणा, उत्‍तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी, कर्नाटक में यलो अलर्ट जारी

India
Weather Update आंध्र प्रदेश महाराष्‍ट्र गोवा पंजाब हरियाणा उत्‍तर प्रदेश और ओडिशा में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो सकती है। कर्नाटक में यलो अलर्ट जारी किया गया है। Jagran Hindi News - news:national
बिहार, असम और उत्तर प्रदेश में बाढ़ से 65 की मौत, केरल में 24 घंटे में 20 सेमी बारिश की चेतावनी

बिहार, असम और उत्तर प्रदेश में बाढ़ से 65 की मौत, केरल में 24 घंटे में 20 सेमी बारिश की चेतावनी

India
नई दिल्ली. बिहार, असम और उत्तर प्रदेश बाढ़ से बेहाल हैं। मंगलवार शाम तक बिहार के 16 जिलों में 34 और असम के 33 जिलों में 17 लोगों की मौत की खबर है। जबकि उत्तर प्रदेश में 14 लोग जान गंवा चुके हैं। असम और बिहार के 72 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। वहीं, मौसम विभाग ने केरल में अगले 24 घंटों में 204 मिमी (करीब 20 सेमी) बारिश की चेतावनी दी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनको 4 लाख रुपए सहायता राशि देने की घोषणा की।उत्तर बिहार में बूढ़ी गंडक समेत छह नदियां खतरे के निशान से ऊपर है। बिहार केदरभंगा में 2, मुजफ्फरपुर में4, मोतिहारी में 1, सीतामढ़ी में 2, शिवहर में 8, मधुबनी में 6, पूर्णिया में 9 और कटिहार में 2 की मौत हुई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुताबिक- 796 जवानों के साथ एनडीआरएफ की 26 टीमों ने अब तक 1.25 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है
सावन से पहले ही झूमा मानसून; 15 दिन में 147.9 एमएम बारिश रिकाॅर्ड

सावन से पहले ही झूमा मानसून; 15 दिन में 147.9 एमएम बारिश रिकाॅर्ड

Punjabi Politics
लुधियाना.सूबे में सावन शुरू होने से पहले ही मानसून झूम कर बरस रहा है। विभिन्न जिलों में पिछले 7 दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण रिकॉर्ड दर्ज कियागया है। मालवा जोन में तेज बारिश की वजह पंजाब व पाक के निकट वेदर सिस्टम बनना है, जिसे अरब सागर की तरफ से चल रही दक्षिणी-पूर्वी हवाओं से नमी की मात्रा भरपूर मिल रही है। 1 जून से लेकर 16 जुलाई तक 147.9 एमएम बारिश रिकार्ड हो चुकी है, जबकि अब तक सामान्य 135.0 से 18 एमएम बारिश ज्यादा है।वहीं, बठिंडा में पिछले 24 घंटों में अब तक की सीजन की सबसे ज्यादा बारिश 178.4 एमएम बारिश रिकार्ड हुई है, जो सूबे में किसी भी जिले की अब तक सबसे ज्यादा बारिश का आंकड़ा है। मौसम महकमे के मुताबिक अगले 48 घंटे अभी तेज बारिश के बताए गए हैं। जबकि 18 के बाद कुछ दिनों के लिए तेज बारिश नहीं होगी। लेकिन 22 से सूबे में फिर से बारिश होगी।एनडीआरएफ टीम से आम लो
24 घंटे में 106 एमएम बारिश, गोड् डे-गोड् डे पाणी

24 घंटे में 106 एमएम बारिश, गोड् डे-गोड् डे पाणी

Haryana
तीन दिन से लगातार हो रही बारिश से कई गांव में खेत जलमग्न हो गए हैं। धान की फसल पानी के बहाने में उखड़ गई है। सबसे ज्यादा दिक्कत उन गांव में है, जहां पर पानी का पहाड़ों की तरफ से आते हुए आगे जाता है। कैल से कलनौर तक निकले बाइपास हाइवे पर दोनों तरफ तीन-तीन तक पानी खड़ा है। किसानों का कहना है कि बाइपास हाइवे बनाते समय पानी निकासी का प्रबंध सही नहीं किया गया। इससे अब दिक्कत आ रही है। पिछले साल भी इसी तरह आसपास के गांव में कई एकड़ फसल खराब हो गई थी। इस बार भी ऐसे ही हालत बने हैं। उधर, शहर में भी कई जगह भारी बारिश का असर देखने को मिला। पंचायत भवन के पास हुडा सेक्टर में जाती रोड घंस गई। इसके साथ ही कई अन्य जगह पर भी रोड घंस गए। साढौरा में 60 अाैर रादौर में 78 एमएम बरसात हुई मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार सोमवार को जगाधरी में सबसे ज्यादा 106 एमएम बारिश हुई। वहीं छछरौली में
23 तक बारिश के आसार नहीं, ऊपरी हवा में सर्कुलेशन बनने से डवलप नहीं हाे पा रहा मानसून सिस्टम

23 तक बारिश के आसार नहीं, ऊपरी हवा में सर्कुलेशन बनने से डवलप नहीं हाे पा रहा मानसून सिस्टम

Rajasthan
जयपुर.आषाढ़ बीत चुका है। आज से सावन शुरू है। लेकिन मौसम विभाग की मानें तो 23 जुलाई तक मूसलाधार बारिश के आसार नहीं हैं। कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है।वजह :ऊपरी हवा में सर्कुलेशन बनने से डवलप नहीं हाे पा रहा मानसून सिस्टम।इस हफ्ते भी सिर्फ बूंदाबांदी के आसार हैं।पर निराश न होंं ... 2011 में जुलाई के बाद जमकर हुई थी बरसात2011 में जुलाई में 111.3 मिमी बारिश हुई थी। इसके बाद मानसून सक्रिय हुअा। सितम्बर तक 600 मिमी तक पहुंच गया। जबकि जयपुर में मानसून में 528.03 मिमी औसत बारिश है।वर्षा पर वायु परीक्षणगुरु पूर्णिमा पर प्रदेश के ज्योतिषविदों ने जयपुर के जंतर-मंतर पर वायु परीक्षण किया। फिर कहा- राजस्थान में मध्यम खंड वर्षा के योग हैं। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today तस्वीर सवाई मानसिंह स्टेडियम के बाहर की है। मानो प