News That Matters

Tag: भ्रष्ट

कश्मीर को केंद्र से 56 साल में 51 हजार करोड़ रु. मिले, स्वास्थ्य, पढ़ाई और रोजगार में पिछड़ा; 5वां सबसे भ्रष्ट राज्य

कश्मीर को केंद्र से 56 साल में 51 हजार करोड़ रु. मिले, स्वास्थ्य, पढ़ाई और रोजगार में पिछड़ा; 5वां सबसे भ्रष्ट राज्य

India
भास्कर नेटवर्क.केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधान बदल दिए हैं और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया है। इसके अलावा अनुच्छेद-35ए को भी खत्म कर दिया है। ऐसे में बहस छिड़ी है कि इससे जम्मू-कश्मीर की सूरत कितनी बदलेगी? इसे क्या फायदा या नुकसान होगा?जहां तक केंद्र से मदद का सवाल है तो 1951 से 1956 तक की पहली पंचवर्षीय योजना से लेकर 2007 से 2012 की योजना तक व देश में 57 लाख करोड़ रुपए खर्च हुए हैं, इनमें से 51 हजार करोड़ रुपए अकेले जम्मू-कश्मीर पर खर्च किए गएयानी पूरे देश पर होने वाले खर्च का करीब 1%। जम्मू व कश्मीर, छत्तीसगढ़ और असम देश के तीन ऐसे राज्य हैं जहां पीएम उज्ज्वला योजना को सर्वाधिक सफलता से लागू किया गया है।इसके बावजूद हालात यह है कि राज्य शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार जैसे बुनियादी माम
सीएम ने मंत्रियों को दिए भ्रष्ट अफसरों की सूची बनाने के निर्देश

सीएम ने मंत्रियों को दिए भ्रष्ट अफसरों की सूची बनाने के निर्देश

Delhi
भ्रष्ट और दागी अफसरों को कंपल्सरी रिटायरमेंट देने के एलजी अनिल बैजल की ओर से दिए निर्देश के बाद दिल्ली सरकार एक्शन मोड में आ गई है। इस मुद्दे पर सीएम अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को एलजी के साथ चर्चा की। सीएम ने मुख्य सचिव से भी विमर्श किया। इसके बाद सभी मंत्रियों को अपने-अपने विभागों में ऐसे अधिकारियों एवं कर्मचारियों की एक सूची तैयार करने का निर्देश दिया है ताकि उन्हें कंपल्सरी रिटायरमेंट दिया जा सके। हाल ही में एलजी अनिल बैजल ने दिल्ली में तैनात भ्रष्ट अधिकारयों पर कार्रवाई के निर्देश दिए थे। उन्होंने सीएस, पुलिस आयुक्त, डीडीए उपाध्यक्ष और तीनों निगमों के आयुक्तों को पत्र लिखा था। जिसमें सेंट्रल सिविल सर्विसेस (पेंशन) रूल्स, 1972 के फंडामेंटल रूल 56 (जे) के तहत एक माह की कार्रवाई की रिपोर्ट देने के निर्देश दिया। इसी के तहत केंद्र सरकार भी
कामचाेर हो गए हैं टीचर: भ्रष्टाचार विरोधी मंच कुछ लोग भ्रष्ट, हम उनकी निंदा करते हैं: शिक्षक

कामचाेर हो गए हैं टीचर: भ्रष्टाचार विरोधी मंच कुछ लोग भ्रष्ट, हम उनकी निंदा करते हैं: शिक्षक

Haryana
हरियाणा भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा और संयुक्त शिक्षक संघर्ष समिति के सदस्य मंगलवार को लघु सचिवालय में आमने-सामने आ गए। भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा टीचरों के खिलाफ प्रदर्शन करने पहुंचा था। इस दौरान वहां पर टीचर भी पहुंचे थे, लेकिन खुद के खिलाफ प्रदर्शन होता देख टीचर वहां से दूर चले गए। मोर्चा के सदस्यों के जाने के बाद वे भी डीसी से मिलने पहुंचे। इस दौरान टीचर्स ने कहा कि भ्रष्टाचार विरोधी होने का दावा करने वाले कुछ लोग वास्तव में भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। हम ऐसे भ्रष्ट लोगों की निंदा करते हैं। टीचरों का इशारा हरियाणा भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा की तरफ था। वहीं मोर्चा के प्रांतीय अध्यक्ष जयचंद चौहान ने कहा कि टीचर कामचोर हो चुके हैं। इसलिए वे बच्चों को पढ़ाना छाेड़कर प्रदर्शन करने में लगे हैं। उन्होंने डीसी से मांग की कि ऐसे शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। टीचर बोले, हमें एडी
ममता ने कहा- भाजपा भ्रष्ट और लालची, उसमें शामिल होने वाले नेता तृणमूल का कचरा

ममता ने कहा- भाजपा भ्रष्ट और लालची, उसमें शामिल होने वाले नेता तृणमूल का कचरा

India
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के भाजपा में शामिल होने को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को भाजपा पर निशाना साधा।ममता ने कहाकि तृणमूल कमजोर पार्टी नहीं है। 15-20 पार्षद पैसा लेकर पार्टी छोड़ देते हैं तो मुझे परवाह नहीं। उन्होंने कहा कि भ्रष्ट और लालची भाजपा तृणमूल के कचरे को इकट्ठा कर रही है।सोमवार को तृणमूल के नौपारा से विधायक सुनील सिंह की अगुआई में 12 पार्षदों ने दिल्ली में भाजपा की सदस्यता ली थी।लोकसभा चुनाव के बादतृणमूल के चार विधायक और 50 से ज्यादा पार्षदभाजपा में शामिल हो चुके हैं।ममता ने कहा किअगर पार्टी के और भी विधायक तृणमूल छोड़ना चाहते हैं,तो वे छोड़ सकते हैं। हम पार्टी में चोर नहीं चाहते। यदि एक व्यक्ति पार्टी छोड़ेगा तो मैं 500 और तैयार कर लूंगी।सर्वदलीय बैठक में ममता भाग नहीं लेंगीमुख्यमंत्री बनर्जी बुधवार को दिल्ली में होने
मुक्तसर के मनहर ने हरा माता-पिता व शिक्षकों का मन, भ्रष्ट सिस्टम से लड़ना चाहता है टॉपर

मुक्तसर के मनहर ने हरा माता-पिता व शिक्षकों का मन, भ्रष्ट सिस्टम से लड़ना चाहता है टॉपर

Punjabi Politics
मुक्तसर.आईसीएसई बोर्ड द्वारा घोषित 10वीं के परिणाम में मुक्तसर के मनहर बंसल ने भारत में से प्रथम स्थान प्राप्त किया है। हालांकि मुंबई की जूही रूपेश कजारिया भी मनहर के बराबर 99.6 प्रतिशत अंकों के साथ टॉपर है।स्कूल में पहुंचे मनहर के पिता डाॅ. मदन मोहन व माता डॉ. वंदना के साथ स्कूल स्टाफ व उसकी श्रेणी के विद्यार्थियों ने इस खुशी को सांझा किया।मनहर ने 11वीं ऑटर्स में दिल्ली के आरकेपुरम स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में दाखिला लिया है व वह अर्थशास्त्र, पॉलीटिक्ल साइंस, कानूनी पढ़ाई के विषयों के साथ 11वीं कर रहा है। मनहर आईएएस अधिकारी बनना चाहता है। दसवीं के परिणाम की बात करें तो मनहर ने मैथ, साइंस, हिस्ट्री व फिजिकल एजुकेशन में 100 में से 100 नंबर लिए हैं, जबकि अंग्रेजी में 100 में से 98 नंबर हैं।अनुशासन में रहना व ईमानदारी मनहर के गुणमनहर के पिता डॉ. मदन मोहनव माता डॉ. वदना ने
याचिका: अदालती आदेश काे गलत पेश करना चुनाव का भ्रष्ट तरीका घोषित हो

याचिका: अदालती आदेश काे गलत पेश करना चुनाव का भ्रष्ट तरीका घोषित हो

Delhi
नई दिल्ली| सुप्रीम काेर्ट में एक याचिका दायर कर मांग की गई है कि चुनाव लड़ रहे उम्मीदवाराें द्वारा चुनावी फायदे के लिए अदालती फैसले गलत तरीके से पेश करने काे जनप्रतिनिधित्व कानून के तहत भ्रष्ट तरीका घाेषित किया जाए। साथ ही मांग की गई है कि चुनाव अायाेग काे एेसी शक्तियां दी जाएं कि वह धर्म, जाति, नस्ल, समुदाय या भाषा के अाधार पर वाेट मांगने वालाें के खिलाफ शिकायतें उपयुक्त जांच एजेंसियाें के पास भेज सके। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today New Delhi News - petition the corrupt way of election is to declare the court order wrong Dainik Bhaskar

कोर्ट का आदेश गलत ढंग से पेश करने को ‘चुनाव का भ्रष्‍ट तरीका’ घोषित करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में याचिका

India
सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल हुई है जिसमें चुनावी लाभ के लिए अदालत के आदेश को गलत ढंग पेश करने को चुनाव का भ्रष्‍ट तरीका करार देने की मांग की गई है। Jagran Hindi News - news:national

सीवीसी को 79 भ्रष्ट कर्मियों के खिलाफ अभियोजन के लिए मंजूरी का इंतजार

India
सीवीसी के ताजा आंकड़ों के मुताबिक विभिन्न सरकारी विभागों की ओर से कुल 41 मामलों में मंजूरियां लंबित हैं जिनमें उक्त अधिकारी शामिल हैं। Jagran Hindi News - news:national

CBI ने भ्रष्ट सरकारी अधिकारियों पर कसा शिकंजा, 3 साल में 4100 कर्मियों पर दर्ज हुए केस

India
सीबीआइ ने पिछले तीन सालों में 4100 से अधिक सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले दर्ज किए हैं। Jagran Hindi News - news:national