News That Matters

Tag: मानसून

मानसून सामान्य रहने की उम्मीद में सेंसेक्स-निफ्टी नई ऊंचाई पर पहुंचे

मानसून सामान्य रहने की उम्मीद में सेंसेक्स-निफ्टी नई ऊंचाई पर पहुंचे

Delhi
कंपनियों के तिमाही नतीजों की अच्छी शुरुआत और मानसून की चिंता कम होने से देश के बाजारों में मंगलवार को चौथे दिन रही। सेंसेक्स 369.80 अंक (0.95%) बढ़कर 39,275.64 की रिकॉर्ड ऊंचाई पर बंद हुआ। कारोबार में इसने 39,364.34 की नई ऊंचाई को छुआ। निफ्टी में 96.80 अंक (0.83%) की बढ़त रही। यह 11,787.15 की रिकॉर्ड ऊंचाई पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान इसने 11,810.95 की नई ऊंचाई छुई। सेंसेक्स 39,364.34 और निफ्टी 11,810.95 की ऊंचाई पर पहुंचा विदेशी निवेश, तिमाही नतीजों का भी सकारात्मक असर मानसून : निजी एजेंसी स्काईमेट ने इस साल मानसून सामान्य से कम का अनुमान जताया था। लेकिन मौसम विभाग ने इसके सामान्य रहने का अनुमान व्यक्त किया है। विदेशी निवेश : एफआईआई इस साल 15 अप्रैल तक बाजार में 65,000 करोड़ रुपए लगा चुके हैं। वैश्विक संकेत : चीन ने पिछले हफ्ते निर्यात और बैंकिंग के मजबूत आंकड़े जारी कि

इस बार आपके लिए, किसानों और देश की अर्थव्यवस्था के लिए खुशखबरी लेकर आएगा मानसून

India
अर्थव्यवस्था में मानसून की अहमियत का अंदाजा महज इस बात से लगाया जा सकता है कि सामान्य से कम की एक भविष्यवाणी से अक्सर सेंसेक्स धड़ाम हो जाया करता है। Jagran Hindi News - news:national
इस साल सामान्य के करीब रहेगा मानसून, 96% हाे सकती है बारिश

इस साल सामान्य के करीब रहेगा मानसून, 96% हाे सकती है बारिश

Delhi
नई दिल्ली.देश में इस साल मानसून सामान्य रहने का अनुमान है। मानसून के चार महीने के दौरान दीर्घावधि औसत की 96 प्रतिशत बारिश होगी। मौसम विभाग ने सोमवार को इस साल के दक्षिण-पश्चिम मानसून का पहला पूर्वानुमान जारी किया। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम. राजीवन नायर और भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक केजे रमेश ने प्रेस काॅन्फ्रेंस में इस साल मानसून का पूर्वानुमान जारी किया।ये भी पढ़ेंइस साल मानसून सामान्य से कम रहने का अनुमान, 93% बारिश की संभावनाउन्हाेंने बताया कि इस साल मानसून के दौरान जून से सितंबर तक वर्षा लगभग सामान्य रहने का अनुमान है। दीर्घावधि औसत का 96 प्रतिशत बारिश होगी। मानसून के चार माह में कुल 89 सेमी बारिश हाेने का अनुमान है। नायर ने कहा, ‘दक्षिण पश्चिम मानसून अभी तक सामान्य है। एेसे में मानसून के सामान्य रहने की संभावना है।’ मानसून का दूसरा पूर्वानुमान मई के अंत
इस साल मानसून के सामान्य रहने के आसार, 96% बारिश होने की संभावना: मौसम विभाग

इस साल मानसून के सामान्य रहने के आसार, 96% बारिश होने की संभावना: मौसम विभाग

India
नई दिल्ली. देश में इस साल मानसून सामान्य रहने का अनुमान है और मानसून के चार महीने के दौरान दीर्घावधि औसत की 96 प्रतिशत बारिश होगी। मौसम विभाग ने सोमवार को इस साल के दक्षिण-पश्चिम मानसून का पहला पूर्वानुमान जारी किया।पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव डॉ. एम. राजीवन और भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक डॉ. के. जे. रमेश ने बताया कि इस साल मानसून के दौरान जून से सितंबर तक वर्षा लगभग सामान्य रहने का अनुमान है। दीर्घावधि औसत का 96 प्रतिशत बारिश होने का पूर्वानुमान है। वर्ष 1951 से 2000 तक मानसून के दौरान देश में औसत बारिश 890 मिलीमीटर है।खरीफ की फसल के लिए लाभकारी होगा मानसूनउन्होंने बताया कि इस साल मानसून के दौरान अलनीनो की स्थितियां कमजोर रहने और मानसून के अंतिम दो महीनों में इसकी तीव्रता कम रहने के आसार हैं। इस बार मानसूनी बारिश का वितरण भी अच्छा रहेगा जो आगामी खरीफ मौसम की फसल

भारत में इस साल सामान्‍य रहेगा मानसून: मौसम विभाग

India
भारत में इस साल मानसून सामान्‍य रहेगा। हालांकि मौसम का अनुमान लगाने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट ने इस माह के शुरुआत में मानसून के सामान्य से नीचे रहने का अनुमान लगाया था। Jagran Hindi News - news:national

इस वर्ष ‘सामान्य’ से कम रहेगा मानसून- स्काईमेट

India
स्काईमेट ने बताया कि इस साल मानसून की बारिश सामान्य से कम हो सकती है।अल नीनो को सामान्य बारिश से नीचे संभावित बारिश के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। Jagran Hindi News - news:national

भारत में इस बार मजबूत रहेगा मानसून, किसानों को नहीं होगी खेती में परेशानी

India
देश के वरिष्ठ मौसम अधिकारी ने कहा कि भारत की 2.6 ट्रिलियन डालर की अर्थव्यवस्था कृषि पर ज्यादा आधारित है इसलिए अर्थव्यवस्था की मजबूती के लिए मजबूत मानसून का होना अत्यावश्यक है। Jagran Hindi News - news:national
उदयपुर का सबसे ऊंचा मानसून पैलेस, 132 साल पहले बादलों को देखने के लिए बनवाया था

उदयपुर का सबसे ऊंचा मानसून पैलेस, 132 साल पहले बादलों को देखने के लिए बनवाया था

Rajasthan
उदयपुर. शहर केटूरिस्ट मैप में "मानसून पैलेस" के नाम से पहचान रखने वाला "सज्जनगढ़ का किला"समुद्री तल से 3100 फीट ऊंचाई पर है। शहर में इससे ज्यादा ऊंचाई पर कोई भी इमारत नहीं है। यह उदयपुर की सबसे ऊंची पहाड़ी की चोटी पर बनाया गया।करीब 132 साल पहलेमेवाड़ के राजा सज्जन सिंह नेखास तौर पर मानसून के बादलों को देखने और बारिश का अनुमान लगानेके लिए बनवाया था,जो कि उदयपुर की एक अद्भुत महलनुमा इमारत है।अरावली रेंज के बंसदारा चोटी पर समुद्र स्तर से 944 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। मेवाड़ राजवंश के महाराणा सज्जन सिंह 1884 में महल का निर्माण बरसात के बादल देखने के लिये करवाया था। यह सुंदर महल सफेद संगमरमर से निर्मित है। यहां सनसेट का खूबसूरत नजारा देखने के लिए रोजना सैकड़ों टूरिस्ट पहुंचते हैं।इस जगह से शहर के बीचोंबीच बसीपिछोला झील और आसपास का इलाकादेखा जा सकता हैं। महल मेंबने कई फीट ऊंचे
मानसून विदा होने के साथ ही गर्मी दिखा रही तेवर

मानसून विदा होने के साथ ही गर्मी दिखा रही तेवर

Rajasthan
जयपुर। पूर्वी और पश्चिमी राजस्थान से मानसून विदा होने के बाद अब गर्मी परेशान करने लगी है। गुरुवार को जोधपुर के फलौदी में अधिकतम तापमान 40.5 डिग्री दर्ज किया गया जो राज्य में सार्वाधिक था। पिछले 10 दिनों से गर्मी के तेवर तीखे बने हुए हैं।वहीं बाड़मेर में 40.8 डिग्री, जैसलमेर में 39.9 डिग्री, चूरू में 39.8 डिग्री, जोधपुर सिटी में 39.1 डिग्री तापमान दर्ज किया गया। गर्मी से दिन का अधिकतम तापमान 36 डिग्री तक पहुंच गया है। मौसम विभाग ने गर्मी के कारण राज्य में बूंदाबांदी की संवनाएं जताई हैं। मौसम विभाग के अनुसार पूर्वी और पश्चिमीराजस्थान से मानसून विदा हो चुका है। हालांकि पिछले माह के आखिरी दिनों में राज्य में कुछ स्थानों पर बरसात हुई थी,लेकिन यह तूफान 'डे' के असर से हुई थीं।सितंबर के आखिरी सप्ताह में हुई बरसात के कारण जमीन में अभी तक नमी बनी हुई है। वैज्ञानिकों का मानना है कि