News That Matters

Tag: ये

होली में रंग जमा देंगे ये 5 वाटरप्रूफ ब्लूटूथ स्पीकर्स, शुरुआती कीमत 325 रुपये

Indian Technology
Bluetooth wireless waterproof speakers: SoundBot SB518 Bluetooth स्पीकर को आप सिर्फ 999 रुपये में खरीद सकते हैं। इस स्पीकर पर पानी के हल्के छींटे और रंगों का असर नहीं होगा। इसमें 5 वाट का स्पीकर है Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
ट्रेन में सफर करने वालों के लिए अच्छी खबर, खाने को लेकर रेलवे ने लिया ये फैसला

ट्रेन में सफर करने वालों के लिए अच्छी खबर, खाने को लेकर रेलवे ने लिया ये फैसला

India
उच्च गुणवत्ता व स्वच्छता के लिए अप्रैल महीने से ट्रेनों में आपूर्ति होने वाले खाने के प्रत्येक पैकेट में क्यूआर कोड स्टीकर लगाना अनिवार्य होने जा रहा है। रेलवे किचन में चस्पा होने वाले स्टीकर की मदद... Live Hindustan Rss feed
मां बनने के बाद की कमजाेरी जड़ से दूर करता है ये पौष्टिक आहार

मां बनने के बाद की कमजाेरी जड़ से दूर करता है ये पौष्टिक आहार

Health
डिलीवरी के बाद मांओं को कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कब्ज, कमजोरी, शरीर में दर्द आदि से बचने और सेहत को बेहतर बनाने के लिए दादी-नानी प्रसूता को कई तरह की पोषक चीजें खिलाती हैं।आइए जानते हैं इनके बारे में - खजूर के लड्डू :खजूर में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो कब्ज को दूर करता है। इसमें मौजूद आयरन खून बढ़ाने में मददगार है। इसे खाने से थकान व कमजोरी कम होती है। सौंफ का पानी :प्रसव के बाद पाचन प्रक्रिया सही रखने के लिए सौंफ का पानी फायदेमंद है। गोंद के लड्डू :खाने वाली गोंद, मूंग की दाल, सोयाबीन का आटा और ड्राईफ्रूट्स को मिलाकर लड्डू बनाएं। इनसे मां के शरीर को प्रोटीन व अन्य पोषक तत्त्व मिलेंगे। अजवाइन का परांठा : गेहूं से बना अजवाइन का परांठा फाइबर का अच्छा स्रोत है। इससे गर्भाशय की समस्याएं ठीक होती हैं साथ ही पाचनक्रिया दुरुस्त रहती है। व्यायाम जरूर

JEE Main 2019 प्रवेश पत्रों के लिए पढ़ें ये खबर, जरूरी तिथि आई सामने

Indian Education
नेशनल टेस्टिंग एजेंसी NTA को उम्मीद है की JEE Main 2019 अप्रैल परीक्षा के एडमिट कार्ड कल यानि 20 मार्च, 2019 को जारी कर दिए जाएगें। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

उम्र से बड़े दिखते हैं जूही चावला के पति, ये 4 कपल्स भी लगते हैं ODD

Entertainment
मुंबई. बॉलीवुड की बेहतरीन एक्ट्रेसेस में गिनी जाने वाली जूही चावला 48 साल की हो गई हैं। 13 नवंबर 1967 को उनका जन्म अंबाला (हरियाणा) में हुआ था। जूही का जिक्र आते ही उनका खिलखिलाता चेहरा आंखों के सामने आता है। वे आज भले ही फिल्मों में सक्रिय नहीं हैं, मगर इसमें कोई शक नहीं कि उन्होंने बॉलीवुड में एक अलग ही मुकाम हासिल किया है। यूं तो जूही ने अपने करियर में कई तरह के रोल किए, लेकिन उनकी जिंदादिल कॉमेडी को फैन्स आज भी याद करते हैं।जूही चावला शादी कर चुकी हैं। उन्होंने साधारण से दिखने वाले इंडिया के नामी बिजनेसमैन जय मेहता को 1997 में अपना हमसफर बनाया, जो जूही से उम्र में कुछ ज्यादा ही बड़े नजर आते हैं। जय जूही से लगभग सात साल बड़े हैं। जूही चाहतीं तो अपने किसी को-स्टार के साथ शादी कर सकती थीं, लेकिन उन्होंने एक गैर फिल्मी शख्स को अपना हमसफर बनाना ज्यादा पसंद किया।शादी के बाद
#Holi – होली के मौके पर कैमिकल रंगों से एेसे बचें महिलाएं, जानें ये खास बातें

#Holi – होली के मौके पर कैमिकल रंगों से एेसे बचें महिलाएं, जानें ये खास बातें

Health
#Holi, holi, Holi - यूं तो रंगों का त्योहार होली हमें ऊर्जा देता है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान जरूरी है कि कैमिकल युक्त रंगों से परहेज किया जाए वर्ना गर्भस्थ शिशु को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आइए जानते हैं गर्भावस्था में रंगों से होने वाले दुष्परिणामों के बारे में। प्रेग्नेंसी : इस अवस्था में महिला की रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा मजबूत नहीं होती। साथ ही त्वचा भी काफी संवेदनशील हो जाती है। इसलिए होली के दौरान कैमिकल युक्त रंगों के प्रयोग से बचें। लाल रंग : इसमें मौजूद मर्करी सल्फेट महिला के शरीर में प्रवेश कर गर्भनाल के माध्यम से भू्रण के विकास को प्रभावित करता है जिससे बच्चे में शारीरिक विकृति या नर्व सिस्टम डैमेज होने का खतरा बढ़ जाता है। काला रंग : इस रंग में मौजूद लीड ऑक्साइड गर्भनाल के जरिए गर्भस्थ शिशु तक पहुंचकर मिसकैरेज, प्री मैच्योर डिलीवरी या बच्चे के कम वजन का
लोकसभा चुनाव को लेकर राहुल गांधी ने दिया बड़ा बयान, कहा ये चुनाव विचारधाराओं की लड़ाई

लोकसभा चुनाव को लेकर राहुल गांधी ने दिया बड़ा बयान, कहा ये चुनाव विचारधाराओं की लड़ाई

Rajasthan
इंटरनेट डेस्क। 2019 का लोकसभा चुनाव भाजपा और कांग्रेस के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ हैै। कांग्रेस इस चुनाव में जीतकर यह दिखानें कि कोशिश में है कि मोदी लहर खत्म हो चुकी है और देश की जनता का विश्वास कांग्रेस पर बढ़ रहा है। उधर भाजपा एक बार फिर सत्ता हांसिल कर कांग्रेस को यह दिखाना चाहती है की देश में मोदी और भाजपा ही सबकुछ है। लोकसभा चुनावः कांग्रेस ने 56 उम्मीदवारों की पांचवीं सूची की जारी, जांगीपुर से पूर्व राष्ट्रपति के बेटे को मिला टिकट इधर कल कलबुर्गी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव विचारधाराओं की लड़ाई है। उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस किसी अन्य पार्टी से नहीं लड़ रही है बल्कि वो एक विचारधारा से लड़ रही है। आपकों बता दें की राहुल गांधी ने सोमवार को परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं

IIT खड़गपुर JAM M. Sc. 2019 परीक्षा के परिणाम जारी, ये रहा डायरेक्ट लिंक

Indian Education
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर ने आज IIT JAM M. Sc. 2019 के परिणाम जारी कर दिए गए हैं। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
बिना दवा खाए कंट्रोल हो सकता है बीपी, जानें ये टिप्स

बिना दवा खाए कंट्रोल हो सकता है बीपी, जानें ये टिप्स

Health
एक अध्ययन के मुताबिक संतुलित डाइट व हैल्दी लाइफस्टाइल से ब्लड प्रेशर की समस्या नियंत्रित हो सकती है। जानते हैं इसके बारे में। शारीरिक गतिविधि : मोटापा हाई बीपी का एक बड़ा कारण है। मोटापा कम करके आप बीपी की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। मोटापा कम करने के लिए शारीरिक रूप से सक्रिय रहना जरूरी है। नियमित वॉक व एक्सरसाइज करें। घरेलू कार्य करें। लिफ्ट के बजाए सीढ़ियों का प्रयोग करें। संतुलित आहर लें। नमक कम खाएं : विशेषज्ञों के अनुसार नमक से हाई बीपी का सीधा संबंध है। इसलिए नमक कम खाएं व भोजन में ऊपर से इसे न डालें। फल व सब्जी लें : दैनिक खुराक में पर्याप्त मात्रा में फल औऱ सब्जियां खाने की आदत डालें। इनमें पोटेशियम, मैग्नीशियम व फाइबर होते हैं, जो रक्तचाप कम करने में मददगार साबित होते हैं। शराब-सिगरेट से तौबा : इनसे रक्त धमनियों का लचीलापन कम होकर उनमें सिकुड़न पैदा हो सकती है। Patrika : Ind
सेहत काे नहीं लगता उबाला हुआ दूध, ये है सही तरीका

सेहत काे नहीं लगता उबाला हुआ दूध, ये है सही तरीका

Health
आमतौर पर हम दूध को उबाल आने तक गर्म करते हैं लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि पूरी तरह उबाला गया दूध सेहत के लिहाज से उतना फायदेमंद नहीं होता। इसके पूरा लाभ के लिए इसे पाश्च्युरीकृत करके पीना चाहिए। वजह : दूध में 'केसीन' एवं 'वे' दो तरह के प्रोटीन, विटामिन (ए, डी, ई, के) और कैल्शियम होते हैं। जब हम दूध को उबाल आने तक गर्म करते हैं तो इससे विटामिन व कैल्शियम की मात्रा नष्ट हो जाती है। साथ ही दोनों प्रोटीन अवस्था बदल लेते हैं। इससे दूध में इनका असर घट जाता है। ऐसे करें पाश्च्युरीकृत :दूध निकलने के बाद उसे 72 डिग्री सेल्सियस पर करीब 15 सेकंड तक गर्म करना चाहिए यानी दूध में उबाल आने के कुछ मिनट पहले ही उसे उतार लें और तुरंत किसी ठंडे स्थान पर रखें। गर्म करके ठंडा कर देने से दूध पाश्च्युरीकृत हो जाता है। पाश्च्युरीकृत दूध में उसके पौष्टिक गुण तो रहते ही हैं, सूक्ष्माणु (जीवाणु-कीटाणु) भी नहीं पन