News That Matters

Tag: लाशों

राजनाथ सिंह ने कहा- लाशों के गिनती करने का काम युद्धवीर नहीं गिद्धवीर करते हैं

राजनाथ सिंह ने कहा- लाशों के गिनती करने का काम युद्धवीर नहीं गिद्धवीर करते हैं

Delhi
नई दिल्ली.लाशों के गिनती करने का काम युद्धवीर नहीं गिद्धवीर करते हैं। लोकसभा चुनाव में जीत की महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए कांग्रेस, सपा, बसपा, आप से लेकर समूचा विपक्ष देश की सुरक्षा से खिलवाड़ कर सेना का मनोबल तोड़ रहा है। इसलिए पाकिस्तानी अखबारों और चैनलों पर भारतीय विपक्षी नेताओं के बड़ी-बड़ी फोटो छापी और दिखाई जा रही हैं। यह बात गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को ‘मैं भी चौकीदार’ कार्यक्रम के तहत पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर में आयोजित एक रैली को संबोधित करते हुए कही।राजनाथ ने बालाकोट में वायु सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर विपक्ष द्वारा सबूत मांगने पर उसे आड़े हाथों लिया। राजनाथ ने कहा कि 1971 की लड़ाई में जब पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए थे तब अटल जी ने संसद में इंदिराजी की प्रशंसा की थी। पर अब विपक्ष अपनी भूमिका भूल रहा है। उसे सेना के श
Poisonous Liquor Tragedy: 33 घंटे, नौ डॉक्टर, 90 लाशों का पोस्टमार्टम

Poisonous Liquor Tragedy: 33 घंटे, नौ डॉक्टर, 90 लाशों का पोस्टमार्टम

India
सहारनपुर जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ.एसके वार्ष्णेय टूथब्रश कर रहे थे। ईएमओ डॉ. कुणाल जैन का फोन आया। बोले, सर जल्दी अस्पताल आ जाइये। एसएसपी भी आए हैं। यहां कोई शराब कांड हो गया है। तुरंत ही ट्रैक सूट... Live Hindustan Rss feed
दर्दनाक हादसे में 12 लोगों की मौत, फर्श पर बिछी लाशों में अपनों को पहचान बिलख उठे लोग, कहीं पड़ा था पैर-कहीं हाथ, रोंगटे खड़े कर देने वाला था सीन

दर्दनाक हादसे में 12 लोगों की मौत, फर्श पर बिछी लाशों में अपनों को पहचान बिलख उठे लोग, कहीं पड़ा था पैर-कहीं हाथ, रोंगटे खड़े कर देने वाला था सीन

Haryana
सोनीपत/ गोहाना (हरियाणा)।रोहतक-पानीपत हाईवे पर रविवार शाम रोहतक की तरफ से आ रहे ओवर स्पीड ट्राले ने डिवाइडर तोड़कर कार व क्रूजर को टक्कर मार दी। भीषण हादसे में 12 लोगों की मौत हो गई, जबकि 9 गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को खानपुर मेडिकल कॉलेज से रोहतक पीजीआई रेफर किया गया है। क्रूजर सवार यूपी के 17 लोग अपने उस्ताद नौसाद की मौत के बाद कांधला गए थे। वहां से मिट्‌टी देकर लौट रहे थे, तभी भीषण हादसा हुआ। गाड़ियों के परखचे उड़ गए। क्रूजर सवार 17 में से 11 और कार सवार चार लोगों में से रोहतक के रामकरण की मौके पर ही मौत हो गई।उस्ताद की मौत के बाद मिट्टी देने गए थे लोग...शामली के आजम ने बताया कि उसका भाई क्रूजर में था। वह भी अपने उस्ताद व्यापारी को मिट्‌टी देने कांधला गया था। सभी उसी के पास काम करते थे। शव को मिट्‌टी देकर सभी वापस भिवानी जा रहे थे। भिवानी में सभी फे
फर्श पर बिछी लाशों के बीच अपनों की तलाश, कहीं पड़ा था पैर, कहीं पर हाथ

फर्श पर बिछी लाशों के बीच अपनों की तलाश, कहीं पड़ा था पैर, कहीं पर हाथ

Haryana
गोहाना। रविवार शाम गोहाना-पानीपत रोड पर मुंडलाना गांव के पास हुए हादसे का सीन जिस किसी ने देखा उसके रोंगटे खड़े हो गए। कोई वार्ड के बाहर रो रहा था तो कोई सड़क पर पड़ा चीख रहा था। अपनों की मौत की सूचना पर यूपी से परिजन कुछ ही घंटों में खानपुर मेडिकल काॅलेज में पहुंच गए। यहां जिस किसी ने फर्श पर बिछी लाशों की बीच जाकर अपनों को पहचाना बिलख उठा। हाईवे पर हादसे के बाद सड़क पर कहीं हाथ पड़े थे तो कहीं पर पैर। लोगों ने शवों को इकट्‌ठा कर मेडिकल कॉलेज पहुंचाया। यूपी के जिन 11 युवकों की मौत हुई है सभी फेरी लगाकर कपड़ा बेचते थे। सभी जरूरतमंद परिवार से होने के कारण अब परिवार पर एक और आर्थिक मार पड़ी है।सैदाब के शव को देखकर मामा के सीने में दर्द उठा, वार्ड में लिटाया: सैदाब की मौत के बाद मामा गुफरान इमरजेंसी वार्ड में पहुंचा। उसने जैसे ही सैदाब का शव देखा सीने में दर्द हो उठ गया। परिजनों
दिल्ली में रेलवे ट्रैक पर बैठकर शराब पी रहे 3 लोग, तेज रफ्तार ट्रेन कटकर मौत, लाशों की हुई ऐसी हालत पहचानना भी हुआ मुश्किल

दिल्ली में रेलवे ट्रैक पर बैठकर शराब पी रहे 3 लोग, तेज रफ्तार ट्रेन कटकर मौत, लाशों की हुई ऐसी हालत पहचानना भी हुआ मुश्किल

India
नेशनल डेस्क/ नई दिल्ली: दिल्ली के नांगलोई इलाके में आज (सोमवार) सुबह दर्दनाक हादसा हो गया, जहां तीन लोगों की ट्रेन से कट कर मौत हो गई। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सुबह करीब 7.15 बजे नांगलोई रेलवे ट्रैक पर बैठकर तीन लोग शराब पी रहे थे, तभी बीकानेर-दिल्ली एक्सप्रेस की चपेट में आ गए। उत्तर रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार ने बताया कि मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है।हॉर्न बजाने के बाद भी ट्रैक से नहीं हटेलोकल पुलिस के मुताबिक हादसे के शिकार तीनों लोगों ने शराब पी रखी थी, वे सुबह करीब सवा सात बजे पटरियों पर बैठे हुए थे जब बीकानेर-दिल्ली एक्सप्रेस वहां से निकली और वे लोग उसकी चपेट में आ गए, पुलिस ने बताया कि ट्रेन ड्राइवर ने हॉर्न बजाया था लेकिन वो लोग पटरियों से नहीं हटे।At about 7:15 hrs today, 3 persons trespassing the tracks were runover by Train no 12446 Bikaner-Delhi exp near N
अमृतसर हादसा: 60 से ज्यादा लाशों के बीच से जिंदा सामने आया 13 साल का बच्चा

अमृतसर हादसा: 60 से ज्यादा लाशों के बीच से जिंदा सामने आया 13 साल का बच्चा

Punjab
अमृतसर, पंजाब। यह किसी करिश्मे से कम नहीं है! अमृतसर ट्रेन हादसे में अपने 13 साल के बेटे को मरा जानकर उसकी याद में एक माता-पिता रोज आंसू बहाते थे। अचानक उन्हें दिल्ली से कॉल आया। इस एक कॉल ने मातम को जश्न के माहौल में बदल दिया। उल्लेखनीय है कि 19 अक्टूबर को दशहरा पर अमृतसर में हुए ट्रेन हादसे में 60 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।-फूल सिंह का बेटा अर्शदीप हादसे के बाद जब घर नहीं लौटा, तो मां-बाप ने दिल पर पत्थर रखकर यह मान लिया कि शायद उनके जिगर का टुकड़ा कभी नहीं लौटेगा। हालांकि इस बीच उन्होंने लाशों के ढेर में अपने बच्चे को ढूंढा। हॉस्पिटल भी बार-बार जाते रहे। लेकिन हर बार निराशा हाथ लगी। उनका परिवार भी घटनास्थल जोड़ा फाटक के पास रहता है।-इस बीच मंजू गुप्ता नाम की लड़की ने उनकी मदद करते हुए अर्शदीप का फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड किया। दिल्ली में काम करने वाली साथ नाम क
सीनियर डिप्टी मेयर ने कहा, गलती करने वाले को 62 लोगों की लाशों का बोझ उठाना पड़ेगा

सीनियर डिप्टी मेयर ने कहा, गलती करने वाले को 62 लोगों की लाशों का बोझ उठाना पड़ेगा

Punjab
नगर निगम के सीनियर डिप्टी मेयर और वार्ड-84 के कांग्रेसी पार्षद रमन बख्शी ने कहा है कि जौड़ा फाटक पर रावण दहन के दौरान दशहरा कमेटी के आयोजकों और अलग-अलग विभागों के अफसरों के स्तर पर जो-जो कमियां रहीं, उन्हें लेकर संबंधित लोगों के खिलाफ केस दर्ज होगा। जिन्होंने गलती की है, उन्हें 62 लोगों की लाशों का बोझ उठाना पड़ेगा, वरना भगवान भी उन्हें माफ नहीं करेंगे। बख्शी ने कहा-मुख्यमंत्री 4 हफ्ते में जांच करने के निर्देश देकर गए हैं। दशहरे का आयोजन करने वालों और इस मामले में कोताही बरतने वाले अफसरों के खिलाफ एफआईआर अवश्य दर्ज होगी और पीड़ितों को इंसाफ मिलेगा। अगर ऐसा नहीं हुआ तो शहरवासियों के मन तृप्त नहीं होंगे। अफसरों और आयोजकों को अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए थी। बख्शी ने कहा कि पार्टीबाजी अलग बात है लेकिन सबसे पहले अमृतसर है। इतने बड़े हादसे के बाद सभी जगह इंसाफ के लिए गुहार ल
अृमतसर टेन हादसा: ट्रेन के पहियों में फंसे थे लाशों के टुकड़े, उनका क्या किया कोई नहीं बता रहा

अृमतसर टेन हादसा: ट्रेन के पहियों में फंसे थे लाशों के टुकड़े, उनका क्या किया कोई नहीं बता रहा

Punjabi Politics
अमृतसर। शुक्रवार को जौड़ा फाटक के पास दशहरा देख रहे लोगों के ट्रेन से कटने के बाद उनके शरीर के अंग आधे किलोमीटर एरिया में बिखर गए थे। घटना के 5 घंटे बाद तक पुलिसकर्मी उन्हें यहां से संभालते दिखे थे। इसके अगले दो दिनों तक लोग अपने पारिवारिक सदस्यों के शवों की शिनाख्त और उनके अलग हो चुके हिस्सों को इकट्ठा करने में लगे रहे।उधर शुक्रवार रात हादसे के बाद जब डीएमयू ट्रेन अमृतसर पहुंची तो उसके साथ कई मानवीय अंग चिपके हुए थे।लोगों के शरीर के टुकड़ेट्रेन में फंसे हुए थेसूत्रों के अनुसार, एक हाथ, टांग और कुछ लोगों के शरीर के दूसरे अंग ट्रेन और उसके निचले हिस्सों में फंसे हुए थे। घटना के कुछ समय बाद रेलवे ने इस डीएमयू ट्रेन को अमृतसर स्टेशन के तीन नंबर प्लेटफार्म से हटाकर बॉर्डर एरिया के एक स्टेशन पर भेज दिया। उधर ट्रेन के साथ अटके अंगों की जानकारी अभी तक जिला प्रशासन के किसी अधिका
अमृतसर रेल हादसाः जख्मियों की हालत देख डॉक्टर भी रो पड़े, 6 घंट तक चारों तरफ खून और लाशों से भरा रहा अस्पताल

अमृतसर रेल हादसाः जख्मियों की हालत देख डॉक्टर भी रो पड़े, 6 घंट तक चारों तरफ खून और लाशों से भरा रहा अस्पताल

Punjab
अमृतसर.शहर के जोड़ा बाजार में शुक्रवार शाम करीब 6:50 बजे रेलवे ट्रैक पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे लोग दो ट्रेनों की चपेट में आ गए। हादसे में 70 लोगों की मौत हो गई। 142 जख्मी हुए हैं। रावण दहन का कार्यक्रम पटरियों के पास ही हो रहा था। वहां कोई बैरिकैडिंग नहीं थी। तेज पटाखों के शोर में ट्रेनों की आवाज दब गई और लोग हादसे का शिकार हो गए। इस घटना के बाद 13 ट्रेनें रद्द की गईं। घटना के शोक में शहर में आज स्कूल-कॉलेज और दफ्तरों की छुट्टी कर दी गई है। अमृतसर रेलवे प्रशासन ने हेल्पलाइन नंबर 0183- 2223171 और 0183-2564485 जारी किए हैं।जख्मियों की कराह से डाॅक्टर भी रो पड़ेघटना के आधे घंटे में ही सिविल अस्पताल घायलों का पहुंचना शुरू हो गया। दर्द से कराह रहे घायलों को देख स्टा फ का भी दि ल पस ीज गया। डॉक्टर व नर्स भी समझ नहीं पा रहे थे, किसे फस्ट एड दें। घायलों के लि ए बैड कम पड़ रहे
अमृतसर ट्रेन हादसा: दशहरा देख रहे 250 से ज्यादा लोगों को 5 सेंकड में काटते हुए निकली दो ट्रेनें, 70 की मौते, लाशों के टुकड़े आधा KM इलाके तक बिखरे थे

अमृतसर ट्रेन हादसा: दशहरा देख रहे 250 से ज्यादा लोगों को 5 सेंकड में काटते हुए निकली दो ट्रेनें, 70 की मौते, लाशों के टुकड़े आधा KM इलाके तक बिखरे थे

Punjab
अमृतसरअमृतसर में शुक्रवार शाम को दशहरे पर पंजाब में देश का ऐसा सबसे बड़ा हादसा हुआ। जौड़ा फाटक के पास पुराने धाेबी घाट पर ट्रैक पर खड़े रावण दहन देख रहे लोगों को पहले पठानकोट-अमृतसर डीएमयू ने और फिर हावड़ा मेल ने 250 लोगो को कुचल डाला, जिससे 70 लोगों की मौत हो गई, 142 जख्मी हो गए, जबकि प्रशासन ने 66 मौतों की पुष्टि की है। कुछ को हल्की चोटें आईं। मरने वालों की तादाद बढ़ सकती है। हादसे के वक्त करीब 500 लोग ट्रैक पर मौजूद थे। करीब 250 लोगों को 5 सेकंड में काटती हुई दोनों ट्रेनें निकल गईं। शवों के टुकड़े आधा किमी इलाके में बिखरे थे।मेले में करीब 4000 लोग मौजूद थेरेलवे ट्रैक से 100 मीटर से भी कम दूरी पर कार्यक्रम था। गौरतलब है कि यहां रावण दहन अक्सर शाम करीब 5:30 बजे होता है। लेकिन चीफ गेस्ट नवजोत कौर सिद्धू एक घंटा लेट पहुंची थीं। इस वजह से पुतला दहन करीब 6:45 बजे हुआ और उसी समय