News That Matters

Tag: लें

टॉन्सिल होने पर लें ये होम्योपैथी की दवाएं

टॉन्सिल होने पर लें ये होम्योपैथी की दवाएं

Health
खाने-पीने में होती दिक्कतबच्चों में टॉन्सिल की समस्या आम है। इसके कारण खाने-पीने में तो दिक्कत होती ही है। साथ ही उनकी ग्रोथ पर भी असर पड़ता है। होम्योपैथी मेें ऐसी कई दवाएं हैं जिससे फायदा मिलता है। ये भी पढ़ें: बीमारियों से बचाव वाली दवाएं रिपीट करके लेनी होती हैं कोई साइड इन्फेंट्स नहींहोम्यापैथी की दवा का कोई साइड इन्फेंट्स नहीं होता है। इसका नियमित रूप से प्रयोग करने से बीमारी ठीक होती है। दवा को पोटेंसी के आधार पर लिया जाता है। दवा को विशेषज्ञ की सलाह पर लेना चाहिए। ये भी पढ़ें: पाइल्स, फिस्टुला और फिशर से पीड़ित है, तो ऐसे होता होम्योपैथी में इलाजये दवाएं हैं कारगरटॉन्सिल होने पर बैराइटा कार्ब, सोरिनम, मेडोराइनम, बैसीलीनम, हीपर सल्फ्यूरिस, कैल्केरिया आयोडेटा व कैल्केरिया फ्लोरिका दवा दी जाती है। हालांकि विशेषज्ञ दवा मरीज के लक्षणों के आधार पर देते हैं। टॉन्सिल होने पर ठंडे, खट्टे व

NEET 2019 परीक्षा के लिए प्रवेश पत्रों का है इंतजार तो जान लें ये बात

Indian Education
राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा, NEET 2019 के एडमिट कार्ड आज ntaneet.nic.in पर जारी किए जाने हैं। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
गले का इंफेक्शन दूर करने के लिए जान लें ये उपाय

गले का इंफेक्शन दूर करने के लिए जान लें ये उपाय

Health
गले का संक्रमण अक्सर परेशानी की वजह बनता है। इन उपायों को आजमाकर इसे ठीक किया जा सकता है- गरारों से सूजन दूर : गले के संक्रमण से छुटकारा पाने का यह बेहतरीन तरीका है। चुटकीभर नमक मिला गुनगुना पानी गले में इंफेक्शन की वजह से आयी सूजन को कम करता है। भाप लेने से भी आराम : गर्म पानी की भाप लेना गले में इंफेक्शन के लिए तो सहायक है, साथ ही इससे बंद नैसल पैसेजेज खुलते हैं जिससे सांस लेने में आसानी होती है। ये उपाय भी कारगर : गले में नमी बनाए रखने के लिए पानी और जूस जैसे तरल पदार्थ लें। हलवा, जई व ओट्स जैसी चीजें भी खा सकते हैं। अदरक, इलायची व काली मिर्च वाली चाय गले की खराश में बेहद आराम पहुंचाती है। साथ ही इस चाय में एंटीबैक्टीरियल गुण भी हैं। इसे पीने से खराश दूर होती है। ध्यान रहे: आराम न मिलने या समस्या बढ़ने पर देर किए बगैर विशेषज्ञ से परामर्श करें। Patrika : India's Leading Hindi News Porta
इन बीमारियों के लिए जान लें ये घरेलू नुस्खे, तुरंत होगा फायदा

इन बीमारियों के लिए जान लें ये घरेलू नुस्खे, तुरंत होगा फायदा

Health
सर्दी में जुकाम-खांसी व जोड़ों में दर्द जैसी समस्याएं अक्सर परेशान करती हैं। वहीं व्यस्त दिनचर्या के कारण डॉक्टर के चक्कर काटना मुमकिन नहीं हो पाता। इन नुस्खों को अपनाकर राहत मिल सकती है। खांसी-जुकाम व अस्थमा : तुलसी की 7 पत्तियां, 2 काली मिर्च व छोटा अदरक का टुकड़ा, 1 गिलास पानी में उबालें। आधा रहने पर छानकर गुनगुना पिएं। इसे दोपहर व शाम में खाना खाने के एक घंटे बाद लें। इसके अलावा 1 चम्मच अदरक के रस में डेढ़ चम्मच शहद मिलाकर दिन में 2 बार लेने से भी आराम मिलता है। जोड़ों में दर्द : सहजन की 25-30 पत्तियां 1 गिलास पानी में उबालें। आधा बचने पर छानकर रोजाना सोते समय गुनगुना पिएं। नाक बंद होने पर : नीलगिरि के तेल या पत्तों को पानी के साथ उबालकर उसकी भाप लें। भाप लेते समय सांस लंबी लें जिससे यह फेफड़ों तक पहुंचे। इसके बाद बादामरोगन या गाय के घी की 1-1 बूंद नाक में डालेंं। रूखी त्वचा व फटे होंठ

Tamil Nadu Board 2019: 12वीं के परिणामों का है इंतजार तो जान लें ये बात, नहीं तो पछताएंगे

Indian Education
TN 12th Result 2019: हायर सेकेंडरी सर्टिफिकेट (HSC) परीक्षा या कक्षा 12वीं के लिए तमिलनाडु बोर्ड परीक्षा परिणाम 19 अप्रैल को होने की उम्मीद है। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
दूसरी बार मां बनने की प्लानिंग से पहले जान लें ये बातें

दूसरी बार मां बनने की प्लानिंग से पहले जान लें ये बातें

Health
अगर आप दूसरा बेबी प्लान कर रही हैं तो कुछ खास बातों का जरूर ध्यान रखें ताकि कई तरह की समस्याओं से दूर रह सकें। पहले बच्चे और दूसरे बच्चे के बीच कम से कम 12 से 18 महीने का अंतर होना चाहिए। पहले बच्चे के बाद मां का शरीर काफी कमजोर हो जाता है। ऐसे में उसे दोबारा स्वस्थ बनाने के लिए शरीर में सभी पोषक तत्त्वों की भरपाई करना बहुत जरूरी होता है जो इससे कम अंतराल में कर पाना मुमकिन नहीं होता। दूसरी बार गर्भधारण कब होना चाहिए -दूसरी बार गर्भधारण के दौरान कुछ बातों को सुनिश्चित कर लेना बेहतर है जैसे-आप अक्सर कमजोरी, थकान और सुस्ती महसूस नहीं करती हैं।शरीर में किसी भी विटामिन की कमी से ग्रस्त नहीं हैं।खून की जांच करवाकर देख लें कि हीमोग्लोबिन का स्तर सही है या नहीं।ऐसे में किसी तरह का मानसिक तनाव भी होने वाले बच्चे पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है इसलिए एक बार यह सुनिश्चित जरूर कर लें कि मानसिक रूप से इस
जान लें गर्मियों में छाछ पीने के फायदे और नुकसान

जान लें गर्मियों में छाछ पीने के फायदे और नुकसान

Health
गर्मी के मौसम में पाचन तंत्र के लिए छाछ पीना फायदेमंद होता है। यह शरीर के लिए पौष्टिक तो है लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं इसलिए इसको लेने से पहले कुछ बातें जानना जरूरी हैं- गर्मियों में ऐसी चीजें लेनी चाहिए जो शरीर के तापमान को सामान्य बनाए रखें। छाछ की तासीर न सिर्फ ठंडी होती है बल्कि यह खट्टी भी होती है। ऐसे में गर्मियों में इसे नियमित पीना चाहिए। हालांकि आसानी से पचने वाली छाछ अपच, भूख न लगने, कब्ज आदि की समस्या में लाभदायक है लेकिन यह हड्डियों के लिए नुकसानदायक हो सकती है। यह जोड़ों में अकडऩ की समस्या बढ़ाती है साथ ही मांसपेशियों व नसों में रक्तसंचार में अवरोध पैदा करती है। सही समय : दोपहर 2 बजे से पहले एक बार में इसकी 300 मिली. (एक गिलास) की मात्रा ले सकते हैं। इसके बाद न लें। कौन न पिएं : सांस की तकलीफ वाले मरीज इससे परहेज करें क्योंकि इससे उनकी परेशानी बढ़ सकती है। वे गर्मियों में भी
जान लें गर्मियों में छाछ पीने के फायदे और नुकसान

जान लें गर्मियों में छाछ पीने के फायदे और नुकसान

Health
गर्मी के मौसम में पाचन तंत्र के लिए छाछ पीना फायदेमंद होता है। यह शरीर के लिए पौष्टिक तो है लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं इसलिए इसको लेने से पहले कुछ बातें जानना जरूरी हैं- गर्मियों में ऐसी चीजें लेनी चाहिए जो शरीर के तापमान को सामान्य बनाए रखें। छाछ की तासीर न सिर्फ ठंडी होती है बल्कि यह खट्टी भी होती है। ऐसे में गर्मियों में इसे नियमित पीना चाहिए। हालांकि आसानी से पचने वाली छाछ अपच, भूख न लगने, कब्ज आदि की समस्या में लाभदायक है लेकिन यह हड्डियों के लिए नुकसानदायक हो सकती है। यह जोड़ों में अकडऩ की समस्या बढ़ाती है साथ ही मांसपेशियों व नसों में रक्तसंचार में अवरोध पैदा करती है। सही समय : दोपहर 2 बजे से पहले एक बार में इसकी 300 मिली. (एक गिलास) की मात्रा ले सकते हैं। इसके बाद न लें। कौन न पिएं : सांस की तकलीफ वाले मरीज इससे परहेज करें क्योंकि इससे उनकी परेशानी बढ़ सकती है। वे गर्मियों में भी
सामान्य बीमारियों के लिए जान लें कारगर घरेलू उपाय

सामान्य बीमारियों के लिए जान लें कारगर घरेलू उपाय

Health
खांसी, जुकाम व बुखार जैसी परेशानियां आम हैं। कुछ घरेलू उपाय इन बीमारियों के इलाज में मददगार हो सकते हैं। आइये जानते हैं इनके बारे में। जुकाम : त्रिकूट चूर्ण (सौंठ, छोटी पीपल, काली मिर्च) गुड़ के साथ मिलाकर गोलियां बनाएं। दिन में 3-4 बार इनका धीरे-धीरे रस लेने से जुकाम में आराम मिलेगा। मुंह के छाले : रात में सोते समय 1 चम्मच देसी घी या फिर 2 चुटकी हल्दी 1 गिलास पानी में उबालकर गरारे करने से छालों मेें आराम मिलता है। खांसी : काली मिर्च, दालचीनी, इलायची व लौंग को पीसकर तुलसी व अदरक के रस में मिलाएं व शहद के साथ दिन में ३ बार लें। एसिडिटी: चुटकीभर काला नमक व अदरक के छोटे टुकड़े को मुंह में डालकर धीरे-धीरे रस लेने से एसिडिटी ठीक होती है। सामान्य बुखार : आधा ग्राम मीठा सोडा व 1 चम्मच शहद, 1 कप गुनगुने दूध में मिलाकर पीने से सामान्य बुखार उतर जाता है। गले की खराबी : मुलैठी व काली मिर्च को भूनकर ग

300 रुपये में 50 इंच का स्मार्ट टीवी, खरीदने से पहले जान लें शर्तें

Indian Technology
mendy टीवी ने अखबार में एक विज्ञापन दिया है। इस विज्ञापन को देखकर ऐसा लग रहा है कि एलईडी टीवी सिर्फ 300 रुपये में मिलेगी। कई लोग विज्ञापन को देखकर बहुत खुश भी हैं कि सिर्फ 300 रुपये में एलईडी टीवी मिल रही है, Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala