News That Matters

Tag: लें

रेलवे ने निकाली 1.30 लाख पदों पर बंपर भर्ती, इच्छुक उम्मीदवार लें पूरी जानकारी

Indian Education
रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) ने 1.30 लाख खाली पदों को भरने के लिए विज्ञापन जारी किया है। पदों से संबंधित पूरी जानकारी आरआरबी की आधिकारिक अधिसूचना पर जल्द जारी कर दी जाएगी। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
अस्थमा, खांसी, जुकाम और कफ के लिए जान लें ये घरेलू नुस्खे

अस्थमा, खांसी, जुकाम और कफ के लिए जान लें ये घरेलू नुस्खे

Health
आयुर्वेद चिकित्सा में अस्थमा का इलाज प्रमुख लक्षणों को आधार मानकर किया जाता है। यदि मरीज को अत्यधिक कफ बने या फेफड़ों में सूजन हो तो मुलैठी के पाउडर को 500 मिलिग्राम से लेकर एक ग्राम की मात्रा में थोड़े शहद या वसावलेह (अड़ूसा व अन्य हर्बल औषधियों से तैयार चटनी) के साथ मिलाकर चटनी के रूप में रोगी को चाटने के लिए दें इससे आराम मिलता है। दो ग्राम की मात्रा में अड़ूसा, कटेरी व कायफल तीनों को लेकर मोटा पाउडर पीस लें। इसे दो कप पानी में उबालें। बाद में गुनगुना होने पर शहद मिलाकर दिन में किसी भी समय पी सकते हैं। जड़ी-बूटियों से तैयार गुर्जव्याधि काढ़े को 10-20 ग्राम की मात्रा में लेकर तीन कप पानी में उबाल लें। एक कप शेष रहने पर इसे छानकर दिन में किसी भी समय पी लें, कफ की समस्या में आराम मिलेगा। एक चम्मच अदरक के रस में दो चम्मच शहद व 1/2 चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर सुबह-शाम रोगी को चटाने से कफ दूर हो
योगा शुरू करने से पहले जरूर जान लें ये बातें

योगा शुरू करने से पहले जरूर जान लें ये बातें

Health
योगा का लाभ देखते हुए बड़ी संख्या में लोग इसकी ओर आकर्षित होने लगे हैं। योग शुरू करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है। आइये जानते हैं इनके बारे में योग अभ्यास सूर्योदय से आधा घंटा पहले या सूर्योदय से एक घंटा बाद तक करने से ज्यादा लाभ होता है क्योंकि इस दौरान वातावरण में प्रदूषण की मात्रा काफी कम होती है। योग कभी भी जल्दबाजी में ना करें। आप जितनी चेतना से इसे करेंगे, उतना लाभ होगा।गर्भवती महिलाओं को योगा विशेषज्ञ की देखरेख में ही इसे करना चाहिए।योगा के नियमित अभ्यास से शरीर में लचीलापन आता है। इस दौरान बात न करें, न ही मुंह से सांस लें। जब तक किसी क्रिया को करने के लिए मुंह से सांस लेने के लिए कहा न जाए।योगाभ्यास करने वाले लोगों को शाकाहारी भोजन करना चाहिए क्योंकि यह पाचन की दृष्टि व प्राकृतिक गुणों से उत्तम होता है।जमीन पर कंबल या चटाई बिछाकर ही योगा करना चाहिए।योगाभ्यास स
बच्चों की नाक बहने को गंभीरता से लें

बच्चों की नाक बहने को गंभीरता से लें

Health
फैमिली हिस्ट्री, दूसरों के धूम्रपान का धुआं, परफ्यूम और कॉइल की गंध, धूलकणों से एलर्जी व वायरल इंफेक्शन के कारण बच्चों में अस्थमा हो सकता है। इस रोग में बच्चे के साथ-साथ माता-पिता को भी कई सावधानी रखनी पड़ती है। आइए जानते हैं उनके बारे में। लक्षण : शुरुआत में नाक बहना और फिर हल्की खांसी आने से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। गंभीर स्थिति में बच्चे का शरीर नीला पड़ जाता है और उसे बोलने में परेशानी होती है। इलाज : आमतौर पर बचपन में स्पायरोमेट्री जांच से यह पता चल जाता है कि बच्चे को अस्थमा है कि नहीं। बच्चे को रोग की गंभीरता के अनुसार पंप के माध्यम से दवाइयां दी जाती हैं। यदि बच्चे को अनुवांशिक रूप से अस्थमा न हो तो दवाओं व देखभाल से इस रोग को नियंत्रित किया जाता है। माता-पिता को चाहिए कि वे स्कूल में बच्चे के रोग के बारे में बता दें ताकि अस्थमा का अटैक आने पर समयानुसार दवा या इन्हेलर का प

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ग्रुप-डी के परिणाम किए जारी, लें पूरी जानकारी

Indian Education
इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ग्रुप-डी 2018 परीक्षा के परिणाम को घोषित कर दिया गया है। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती 41520 पदों के परीक्षा परिणाम जारी, लें पूरी जानकारी

Indian Education
UP Police सिपाही भर्ती परीक्षा का परिणाम जारी कर दिया गया है। यूपी पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड (UPPRPB) 2018 में आयोजित हुई, कांस्टेबल पदों की भर्ती परीक्षा के परिणाम अधिकारिक वेबसाइट uppbpb.gov.in पर घोषित कर दिए गए हैं।  Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
कब्ज में आराम के लिए जान लें इन नुस्खों के बारे में

कब्ज में आराम के लिए जान लें इन नुस्खों के बारे में

Health
नित्य कर्म में शौच से निवृत्त होने की राहत एक अच्छे दिन की शुरुआत की पहली निशानी है। तनाव, अनिद्रा, व्यायाम न करना, दवाओं के अधिक सेवन, फाइबर वाला भोजन न करनेे, मधुमेह या फिर बढ़ती उम्र से कब्ज हो सकती है। ऐसे में इन उपायों का प्रयोग किया जा सकता है। 2-3 छोटी हरड़ को चबाने से कब्ज में आराम मिलता है। बिना छिलके वाली उड़द की दाल कब्ज करती है इसलिए इसे दिन के समय खाएं या इसके स्थान पर छिलके वाली दालों का प्रयोग कर सकते हैं। अंजीर, पपीता और मुनक्का कब्ज में लाभदायक होता है लेकिन डायबिटीज वाले इन्हें न खाएं। ये भी आजमाएं - कैर के अचार को बनाने के लिए इसे राई के पानी में या छाछ में 4-5 दिन के लिए भिगो दें और गलने के बाद प्रयोग करें। लेसवा (लसोड़ा) को उबालकर अचार या सब्जी के रूप में इस्तेमाल करने से भी कब्ज दूर होती है। एलोवेरा के गूदे की सब्जी या सलाद खाने से भी कब्ज दूर होता है। Patrika : Indi
अपनी मर्जी से न लें पीसकर दवाइयां, हाेता है ये नुकसान

अपनी मर्जी से न लें पीसकर दवाइयां, हाेता है ये नुकसान

Health
कई बार मरीज जब टैबलेट या कैप्सूल लेने में दिक्कत महसूस करते हैं तो उसे पीस लेते हैं या कैप्सूल खोलकर उसके दाने या पाउडर किसी अन्य चीज में मिलाकर ले लेते हैं। ऐसा करना गलत है क्योंकि कई दवाएं धीरे-धीरे घुलकर शरीर के उस हिस्से पर असर छोड़ती हैं, जहां उनकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है। जो दवाएं तुरंत असर के लिए होती हैं, वे पेट में जाकर फौरन घुल जाती हैं और रक्त में मिलकर काम शुरू कर देती हैं। जबकि एस्प्रिन और ओमेप्राजोल जैसी दवाओं में विशेष एसिड रेजिस्टेंस कोटिंग होती है। ये पेट से होकर गुजरती जरूर हैं लेकिन घुलती छोटी आंत में हैं। इन दवाओं को तोडऩे पर इनकी कोटिंग नष्ट होने से ये बेअसर हो जाती हैं। ध्यान रहें ये बातेंमेनोपॉज के बाद ओस्टियोपोरोसिस के इलाज के लिए दी जाने वाली दवाओं को अगर चबाया या चूसा जाए तो ये भोजन नली को नुकसान पहुंचा सकती हैं। इन दुष्प्रभावों से बचने के लिए जरूरी है कि दवाओं

RRB Group d परीक्षा के परिणामों का कर रहे हैं इंतजार तो जान लें ये बात

Indian Education
RRB Group d:  आरआरबी ग्रुप डी परीक्षा परिणाम 17 फरवरी, 2019 को यानी आज आधिकारिक वेबसाइट पर घोषित होने की उम्मीद है। Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala
कहीं आप भी तो नहीं खाते एेसा भोजन, फूड सेफ्टी के लिए जान लें ये खास बातें

कहीं आप भी तो नहीं खाते एेसा भोजन, फूड सेफ्टी के लिए जान लें ये खास बातें

Health
विशेषज्ञों के अनुसार दूषित खाद्य पदार्थ खाने से 200 से ज्यादा रोग हो सकते हैं। जानते हैं इससे जुड़े विभिन्न पहलुओं के बारे में। खाद्य सुरक्षा जरूरी - भोजन को इस प्रकार तैयार और स्टोर करना ताकि खानपान से जुड़ी बीमारियों को रोका जा सके, खाद्य सुरक्षा कहलाता है। फल-सब्जियों पर प्रभाव - फलों व सब्जियों का आकार बढ़ाने के लिए इंजेक्शन लगाए जाते हैं, कीटनाशकों का अधिक मात्रा में प्रयोग कर फसलों का उत्पादन बढ़ाया जाता है। चीकू, पपीता, आम, केला, सेब व तरबूज ऐसे फल हैं जिन्हें जल्दी पकाने के लिए सबसे ज्यादा रसायनों का प्रयोग होता है। दूध के लिए ध्यान रहे - अक्सर लोग एक बार मार्केट से दूध लाने के बाद इसे उबालते रहते हैं जिससे यह गाढ़ा हो जाता है। ऐसा दूध बढ़ते बच्चों के लिए तो सही होता है क्योंकि उन्हें प्रोटीन और कैलोरी ज्यादा चाहिए होती है। लेकिन ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और कोलेस्ट्रॉल या हृदय रोग होन