News That Matters

Tag: वजह

सचिन ने गुरु आचरेकर को याद किया, लिखा- आज जो हूं, आपकी वजह से

सचिन ने गुरु आचरेकर को याद किया, लिखा- आज जो हूं, आपकी वजह से

Indian Sports
खेल डेस्क. गुरु पूर्णिमा मंगलवार को है।इस मौके परसचिन ने अपने गुरु औरकोच रमाकांत आचरेकर को याद किया। उन्होंने ट्वीट में लिखा, "गुरु वह है जो छात्र में अज्ञानता के अंधकार को दूर करता है। शुक्रिया आचरेकर सर, मेरा गुरु होने के लिए। आज मैं जो कुछ भी हूं, वो आपके मार्गदर्शन की वजह से हूं।" आचरेकर का इससाल 2 जनवरी को 87 साल की उम्र में निधन हुआ था।रमाकांत आचरेकर मुंबई के दादर के शिवाजी पार्क में युवा क्रिकेटरों को कोचिंग देते थे। वह मुंबई क्रिकेट टीम के लिए चयनकर्ता भी रह चुके थे। उन्होंने शिवाजी पार्क में कामथ मेमोरियल क्रिकेट क्लब की स्थापना की। कई क्रिकेटरों को कोचिंग दी, जिनमें सचिन तेंदुलकर, अजीत आगरकर, चन्द्रकांत पण्डित, विनोद कांबली और प्रवीण आमरे शामिल हैं। इस क्लब का संचालन वर्तमान में उनकी बेटी कल्पना मूरकर और दामाद दीपक मूरकर कर रहे हैं।क्रिकेट कोचिंग में आचरेकर की
सिर में लगातार चक्कर आने की वजह है बैलेंस डिसऑर्डर, जानें इसके बारे में

सिर में लगातार चक्कर आने की वजह है बैलेंस डिसऑर्डर, जानें इसके बारे में

Health
अक्सर ऑफिस या घर पर मीटिंग के दौरान या सीढ़ियां उतरने-चढ़ते समय अचानक आपको आस-पास सबकुछ घूमता महसूस होने के साथ चक्कर आएं तो यह बैलेंस डिसऑर्डर के लक्षण भी हो सकते हैं। ब्लड प्रेशर में उतार-चढ़ाव -बैलेंस डिसऑर्डर की स्थिति में मरीज को ये लक्षण महसूस हो सकते हैं जैसे अचानक गिर जाना या गिरने जैसा अहसास, चक्कर या सिर घूमने जैसा लगना या सिर में हल्कापन लगना, उल्टी-दस्त, कुछ समय के लिए धुंधला दिखाई देना, हृदय की धड़कनें तेज होना व ब्लड प्रेशर में उतार-चढ़ाव, डर, घबराहट व बेचैनी महसूस होना आदि। कान से जुड़ी समस्या -बैलेंस डिसऑर्डर के कई कारण हो सकते हैं जिनमें कुछ विशेष दवाओं को नियमित लेना भी हो सकता है। मेडिकली बैलेंस डिसऑर्डर की समस्या कान के उस अंदरूनी हिस्से से जुड़ी है जो शरीर का संतुलन बनाए रखने का काम करता है। ये भी हैं कारण -कई परेशानियों जैसे कान में किसी प्रकार का वायरल इंफेक्शन, सिर

ये संस्थान स्टूडेंट्स को वापस कर रहा है उनकी फीस, जानें क्या है वजह

Indian Education
भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) बेंगलुरू के स्टूडेंट्स के लिए राहत की खबर है। इस संस्थान को कई कोर्सेज को गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) के Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala

इस वजह से बेटे को अपनी फिल्में नहीं दिखाना चाहते हैं तुषार कपूर

Entertainment
बॉलीवुड एक्टर तुषार कपूर ने अपना फिल्मी करियर साल 2000 में 'मुझे कुछ कहना है' से शुरू किया था। हाल ही में तुषार कपूर ने एकता कपूर की वेब सीरीज बू सबकी फटेगी से डिजिटल डेब्यू किया है। इस हॉरर कॉमेडी सीरीज को मिली जुली प्रतिक्रियाएं मिली हैं। मनोरंजन

न्यूजीलैंड के ही इस खिलाड़ी की वजह से हारी कीवी टीम, इंग्लैंड बना वर्ल्ड कप चैंपियन

Indian Sports
World Cup 2019 Winner England न्यूजीलैंड के इस विभीषण ने इंग्लैंड को वर्ल्ड कप चैंपियन बना दिया और कीवी खिलाड़ी देखते रह गए। Jagran Hindi News - cricket:headlines

World Cup फाइनल में अंपायर की इस गलती की वजह से हारी न्यूजीलैंड, ICC पर उठे सवाल

Indian Sports
World Cup 2019 के फाइनल में खराब अंपायरिंग देखने को मिली जो न्यूजीलैंड के खिलाफ गई और इंग्लैंड ने बाजी मारकर विश्व कप जीत लिया। Jagran Hindi News - cricket:headlines
यहां कर्मचारियों से मांगा जाता है देसी मुर्गा! जानें वजह

यहां कर्मचारियों से मांगा जाता है देसी मुर्गा! जानें वजह

India
झारखंड के पूर्वी सिंहभूमि जिले के चाकुलिया के बीडीओ लेखराज नाग को रोज देसी मुर्गा चाहिए। वह भी छोटे साइज का। इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। बड़ी बात यह है कि मुर्गा उन्हें मुफ्त में चाहिए। और... Live Hindustan Rss feed
संसद में शपथ ग्रहण के बाद नुसरत जहां ने छुए थे स्पीकर के पैर, जानें इसकी वजह

संसद में शपथ ग्रहण के बाद नुसरत जहां ने छुए थे स्पीकर के पैर, जानें इसकी वजह

Entertainment
लोकसभा चुनाव 2019 में जीत के बाद से ही बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां काफी सुर्खियों में हैं। बता दें कि नुसरत ने अपनी शपथ ग्रहण के बाद स्पीकर के पास जाकर उनके पैर छुए थे जो काफी चर्चा में था। अब हाल ही... Live Hindustan Rss feed
सहायक कोच के पद से हटाए जा सकते हैं बांगड़, बल्लेबाजी क्रम मजबूत न कर पाना वजह

सहायक कोच के पद से हटाए जा सकते हैं बांगड़, बल्लेबाजी क्रम मजबूत न कर पाना वजह

Indian Sports
बर्मिंघम. भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री समेत कोचिंग स्टाफ के करार को विश्व कप के बाद 45 दिनों के लिए बढ़ाया जा सकता है। हालांकि, सहायक कोच संजय बांगड़ को उनके पद से हटाया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के एक धड़े का मानना है कि बांगड़ भारतीय बल्लेबाजी क्रम की परेशानियों को लंबे समय तक नहीं सुधार पाए। उन्हें और बेहतर तरीके से काम करना था।दरअसल, बांगड़ सहायक कोच होने के साथ-साथ टीम के बल्लेबाजी कोच भी हैं। उनकी कोचिंग में टीम के बल्लेबाजी क्रम में कई बार बदलाव हुए। खासकर मध्यक्रम में तो वर्ल्ड कप से पहले तक बदलाव किए गए। दावा किया गया है कि नंबर-4 पायदान पर एक मजबूत बल्लेबाज को न चुन पाना भी बीसीसीआई को नागावार गुजरा है। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने न्यूज एजेंसी से नाम न उजागर करने की शर्त पर कहा, “गेंदबाजी कोच भरत अरुण