News That Matters

Tag: सर्दी

अल नीनो से बिगड़ेंगे हालात, इस बार की सर्दी उत्तर भारतीयों की सांसों पर और पड़ेगी भारी

India
अल नीनो केवल मानसून को ही नहीं प्रभावित करता है यह वायु प्रदूषण भी बढ़ाता है। वैज्ञानिकों ने चेताया है कि उत्‍तर भारत में इस बार की सर्दियां भारी पड़ने वाली हैं। Jagran Hindi News - news:national
बार-बार सर्दी, कब्ज व थकान बढ़ रही तो थायरॉइड डिसआर्डर

बार-बार सर्दी, कब्ज व थकान बढ़ रही तो थायरॉइड डिसआर्डर

Health
थायरॉइड ग्रंथि से दो प्रकार के हार्मोन निकलते हैं। थायरॉक्सिन टी-4 में चार आयोडीन और ट्राईआयोडोथाइरीन टी-3 में तीन आयोडीन होते हैं। टी-4 जरूरत के अनुसार टी-3 में बदल जाते हैं। शरीर में इन दोनों के लेवल को टीएसएच (थायरॉइड स्टीमुलेटिन हार्मोन) नियंत्रित करता है। थायरॉइड की वजह से अस्थमा, कोलेस्ट्रॉल, डिप्रेशन, डायबिटीज, अनिद्रा और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ता है। ऐसे मरीज जिन्हें खाना निगलने, सांस लेने में दिक्कत होती है उनकी थायरॉइड ग्रंथि की सर्जरी से निकाल दिया जाता है। पहचानें ये बदलाव भूख कम लगती है, वजन बढ़ता है।- दिल की धड़कन कम हो जाती है।- गले के पास सूजन हो जाती है।- आलस्य व जल्द थकान आती है। - ज्यादा कमजोरी, अवसाद होता है - अपेक्षाकृत पसीना कम आता है। - त्वचा रूखी व बेजान हो जाती है। - गर्मी में भी ठंड ज्यादा लगती है। - बाल दोमुंहे व ज्यादा झड़ते हैं।- याद्दाश्त में कमी आ जाती ह
सरकारी स्कूलों में अब एक जुलाई से ही नया सत्र, सर्दी की छुट्टियां भी 7 दिन की होगी

सरकारी स्कूलों में अब एक जुलाई से ही नया सत्र, सर्दी की छुट्टियां भी 7 दिन की होगी

Rajasthan
जयपुर/बीकानेर.पाठ्यक्रम में बदलाव को लेकर विवाद अभी थमा भी नहीं था कि शिक्षा विभाग ने मंगलवार को एक आदेश में ही भाजपा सरकार के 5 फैसले बदल दिए। शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट कर बताया कि अब 2019-20 का शिक्षण सत्र अब एक मई की बजाय एक जुलाई से शुरू होगा।इसके अलावा सर्दी की छुट्टियां भी 25 दिसंबर से 31 दिसंबर तक सात दिन की ही होंगी। पिछली भाजपा सरकार ने नया सत्र एक मई से तय किया था, जबकि सर्दी की छुट्टियां 25 दिसंबर से 7 जनवरी तक तय की थी। इसके अलावा राज्य में 21 जून काे मनाया जाने वाला योग दिवस भी बंद हो जाएगा। पिछली भाजपा सरकार के समय स्कूल 19 जून से खुलते थे लेकिन अब 24 जून से स्कूल खुलने से 21 जून काे स्कूलाें में छुट्टी रहेगी। भाजपा सरकार में सत्र का समापन 30 अप्रैल को होता था लेकिन अब 16 मई को होगा। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hin
गर्मी में रात के पारे ने कराया सर्दी का अहसास, न्यूनतम 17.50 दर्ज

गर्मी में रात के पारे ने कराया सर्दी का अहसास, न्यूनतम 17.50 दर्ज

Delhi
दिल्ली-एनसीआर में मौसम ने बुधवार रात से गुरुवार सुबह के बीच गर्मी में सर्दी का अहसास कराया। दिन में धूप निकली लेकिन दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर-पश्चिम भारत में दो दिन चली आंधी-बारिश के बीच दिन में भी मौसम सुहाना ही रहा। न्यूनतम तापमान सामान्य से 5 डिग्री नीचे 17.5 डिग्री व अधिकतम तापमान सामान्य से 6 डिग्री नीचे 30.7 डिग्री दर्ज किया गया। मौसम विभाग के आंकड़े बता रहे हैं कि अप्रैल के महीने में न्यूनतम तापमान पिछले 10 साल में सिर्फ 4 बार गिरा है। वो भी 15 अप्रैल के बाद 18 डिग्री से नीचे नहीं आया। यह एक रिकार्ड है। दिल्ली में मंगलवार व बुधवार को आंधी के साथ हल्की बारिश, एनसीआर से सटे इलाके में ओले गिरने के अलावा पहाड़ों में बर्फ पड़ने के कारण सर्दी की तरह ठंडी हवा चली। इससे सर्दी महसूस हुई। बुधवार सुबह से गुरुवार सुबह के बीच बारिश सिर्फ 0.5 मिमी हुई। हवा में नमी की मात्रा 41 से
सर्दी, जुकाम व खांसी में कारगर हैं ये घरेलू नुस्खे

सर्दी, जुकाम व खांसी में कारगर हैं ये घरेलू नुस्खे

Health
बदलते मौसम में थोड़ी सी लापरवाही से आप खांसी-जुकाम की चपेट में आ जाते हैं। ऐसे में कुछ घरेलू नुस्खों को अपनाकर आप इन मौसमी बीमारियों से राहत पा सकते हैं- इलाइची : इलाइची को पीसकर रुमाल पर लगाकर सूंघने से जुकाम और खांसी में आराम मिलता है।अदरक : अदरक को गर्म पानी में उबालकर एक चौथाई रह जाने पर छान लें। इसे खांड (गुड़ का बूरा) मिले एक कप गर्म दूध में मिलाकर सुबह-शाम पीने से खांसी, जुकाम और सिरदर्द में राहत मिलती है। मेथी: मेथी की पत्तियों की सब्जी सुबह-शाम खाने और बीजों को एक चम्मच मात्रा में गर्म दूध के साथ लेना सर्दी-जुकाम में लाभकारी है।जायफल: जायफल पिसा हुआ एक चुटकी मात्रा में लेकर दूध में मिलाकर लेने से सर्दी का असर कम हो जाता है। कर्पूर: इसका छोटा टुकड़ा रुमाल में लपेटकर थोड़ी-थोड़ी देर में सूंघने से बंद नाक खुल जाती है।केसर: इसे दूध में उबालकर दिन में तीन बार नियमित रूप से पीने से सर्द
मार्च का महीना आधा बीतने के बाद भी सुबह-शाम हल्की सर्दी, स्वाइन फ्लू अभी भी सक्रिय

मार्च का महीना आधा बीतने के बाद भी सुबह-शाम हल्की सर्दी, स्वाइन फ्लू अभी भी सक्रिय

Haryana
मार्च आधा बीतने के बाद सुबह व रात को ठंड होने की वजह से स्वाइन फ्लू का एच1 एन1 वायरस अभी भी सक्रिय है। यही कारण है कि देशभर में जनवरी से 10 मार्च तक यानी 69 दिन में 605 लोगों को जान गंवानी पड़ी। 19 हजार 385 रोगी सामने आए। हरियाणा में वायरस ने उपरोक्त दिन में 14 की जान लील ली और 982 रोग ग्रस्त हुए हैं। अगर पूरे सर्द सीजन की बात करें तो देश में वायरस ने 1718 लोगों की जान ली है और 34 हजार 377 बीमार हुए हैं। चौंकाने वाली बात यह कि प्रदेश में पिछले एक दशक में इस बार रोगियों का आंकड़ा 1 हजार के पार हुआ। 1043 रोगी बीमार व 21 की मौत हो चुकी है। इससे पहले रोगियों की संख्या 500 से 600 के बीच रही है। स्वाइन फ्लू से सबसे ज्यादा प्रभावित राजस्थान और गुजरात हुए हैं। यहां क्रमश: 383 और 215 लोगों की मौत हुई है। स्वाइन फ्लू से जनवरी से 10 मार्च तक यानि 69 दिन में 605 लोगों की मौत और 193
मौसम ने फिर बदली करवट, रुक-रुककर बारिश से बढ़ी सर्दी, हवाओं ने कंपाया

मौसम ने फिर बदली करवट, रुक-रुककर बारिश से बढ़ी सर्दी, हवाओं ने कंपाया

Rajasthan
शनिवार को पूरे दिन बारिश का दौर रुक-रुककर चलता रहा। न्यूनतम पारे में गिरावट से सर्दी का अहसास हुआ। सिटी रिपोर्टर| अजमेर उत्तर भारत में मौसम लगातार करवट बदल रहा है, इससे अजमेर के मौसम का मिजाज भी बदल गया है। अजमेर व आसपास के कई हिस्सों में बारिश होने से वापस ठंड बढ़ गई है। दिन-रात के तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है। मंगलवार से रुक-रुक कर बारिश का दौर चल रहा है, मौसम विभाग ने बताया कि अगले चौबीस घंटों में बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक अधिकतम तापमान 20.8 डिग्री सैल्सियस दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान 16.4 डिग्री सैल्सियस दर्ज किया गया। जिले में बारिश 0.5 एमएम दर्ज की गई। जबकि एक दिन पहले यानि शुक्रवार को अधिकतम तापमान 23.8 डिग्री सैल्सियस आैर न्यूनतम तापमान 10.9 डिग्री सैल्सियस दर्ज किया गया था। एक ही दिन में न्यूनतम तापमान में हालांकि 5.5 डिग्री सैल्सि
जानिए, सर्दी में कैंसर मरीजों के खानपान पर विशेष ध्यान रखना क्यों जरूरी है

जानिए, सर्दी में कैंसर मरीजों के खानपान पर विशेष ध्यान रखना क्यों जरूरी है

Health
सर्दी का मौसम कैंसर रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। इसकी वजह इस मौसम में नमी अधिक होती है और कैंसर के मरीजों में कीमोथैरेपी या दूसरी दवाइयों के कारण इम्युनिटी घट जाती है। जिससे उनमें संक्रमण का खतरा अधिक हो जाता है। सावधानी बरतने की जरूरत अधिक रहती है। सामान्य लोगों की तुलना में कैंसर मरीजों के शरीर को अधिक गर्म रखने की जरूरत रहती है। इसके लिए ऊनी कपड़े पहनें। सिर, हाथ, पैरों को ढककर रखें। ठंडी हवाओं से खुद का बचाव करें। ठंडी चीजें जैसे आइसक्रीम, कुल्फी आदि से परहेज रखेंं। आप मरीज नहीं तो बरतें ये सावधानी भोजन को दोबारा गर्म करने और रेड मीट खाने से बचें। पोषण युक्त आहार से खतरा कम किया जा सकता है। सब्जियां, फल, फली, साबुत अनाज खानपान में शामिल करें। एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स कैंसर कोशिकाओं को बढऩे से रोकते हैं। शक्कर कम लें। खानपान में हमेशा रखें : आहार में टमाटर, ब्रोकली, पत्तागोभी, लह
सर्दी से मामूली राहत, 2 डिग्री तक बढ़ा रात का पारा

सर्दी से मामूली राहत, 2 डिग्री तक बढ़ा रात का पारा

Rajasthan
जयपुर। राजस्थान में मौसम में उतार-चढ़ाव का दौर बना हुआ है। बीती रात कुछ स्थानों पर तापमान में दो डिग्री की बढ़ोतरी हुई। फतेहपुर सहित सभी स्थानों पर न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी हुई है।जयपुर में बीती रात न्यूनतम तापमान 9 डिग्री रहा जो एक रात पहले 7.8 डिग्री था। मौसम विभाग के अनुसार राज्य में अगले 24 घंटों में मौसम शुष्क रहेगा। जयपुर में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे।ये भी पढ़ेंतन भेदती हवा के साथ पलट कर लौटी सर्दी, जैसलमेर में छाए घने बादलझालावाड़ में बीते दो दिनों से न्यूनतम तापमान छह डिग्री रहा है। राज्य के एकमात्रा पर्वतीय स्थल माउंट आबू में बीती रात के तापमान में कोई अंतर नहीं आया। यहां न्यूनतम तापमान 0.4 डिग्री रहा। जैसलमेर के नोख में शनिवार सुबह खुले में खड़ी गाड़ियों की छतों पर बर्फ जम गई थी। आज यहां तापमान करीब दो डिग्री बढ़कर नौ डिग्री रहा।कहीं भी शीतलहर नहींमौसम विभाग के
सर्दी -2.2 डिग्री: पांच साल बाद नौ फरवरी को पारा जमाव बिंदु से नीचे

सर्दी -2.2 डिग्री: पांच साल बाद नौ फरवरी को पारा जमाव बिंदु से नीचे

Rajasthan
मौसम रिकार्ड में पहली बार नौ फरवरी को रात का पारा माइनस 2.2 डिग्री दर्ज हुआ।बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि के बाद उतरी-पश्चिमी हवा का दबाव बढ़ने से तापमान में लगातार गिरावट ओर सर्दी बढ़ी।सीकर/फतेहपुर।शीतलहर ने जनजीवन को ठिठुरा दिया है। फतेहपुर कृषि अनुसंधान केंद्र पर पांच साल बाद नौ फरवरी को पहली बार रात का पारा जमाव बिंदु के नीचे आया गया है। खास बात ये है कि केंद्र के मौसम रिकार्ड में पहली बार नौ फरवरी को रात का पारा माइनस 2.2 डिग्री दर्ज हुआ है। मौसम विशेषज्ञों का मानना है कि बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि के बाद उतरी-पश्चिमी हवा का दबाव बढ़ने से तापमान में लगातार गिरावट ओर सर्दी बढ़ी है। तापमान में गिरावट का दौर आठ फरवरी से ही जारी है। सात फरवरी को रात का पारा 6.8 डिग्री दर्ज हुआ था। इसके बाद तापमान लगातार गिर रहा है।आगे: हवा का दबाव कम होने व तापमान में बढ़ोतरी की संभावनामौ