News That Matters

Tag: सर्दी

जानिए, सर्दी में कैंसर मरीजों के खानपान पर विशेष ध्यान रखना क्यों जरूरी है

जानिए, सर्दी में कैंसर मरीजों के खानपान पर विशेष ध्यान रखना क्यों जरूरी है

Health
सर्दी का मौसम कैंसर रोगियों के लिए खतरनाक हो सकता है। इसकी वजह इस मौसम में नमी अधिक होती है और कैंसर के मरीजों में कीमोथैरेपी या दूसरी दवाइयों के कारण इम्युनिटी घट जाती है। जिससे उनमें संक्रमण का खतरा अधिक हो जाता है। सावधानी बरतने की जरूरत अधिक रहती है। सामान्य लोगों की तुलना में कैंसर मरीजों के शरीर को अधिक गर्म रखने की जरूरत रहती है। इसके लिए ऊनी कपड़े पहनें। सिर, हाथ, पैरों को ढककर रखें। ठंडी हवाओं से खुद का बचाव करें। ठंडी चीजें जैसे आइसक्रीम, कुल्फी आदि से परहेज रखेंं। आप मरीज नहीं तो बरतें ये सावधानी भोजन को दोबारा गर्म करने और रेड मीट खाने से बचें। पोषण युक्त आहार से खतरा कम किया जा सकता है। सब्जियां, फल, फली, साबुत अनाज खानपान में शामिल करें। एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स कैंसर कोशिकाओं को बढऩे से रोकते हैं। शक्कर कम लें। खानपान में हमेशा रखें : आहार में टमाटर, ब्रोकली, पत्तागोभी, लह
सर्दी से मामूली राहत, 2 डिग्री तक बढ़ा रात का पारा

सर्दी से मामूली राहत, 2 डिग्री तक बढ़ा रात का पारा

Rajasthan
जयपुर। राजस्थान में मौसम में उतार-चढ़ाव का दौर बना हुआ है। बीती रात कुछ स्थानों पर तापमान में दो डिग्री की बढ़ोतरी हुई। फतेहपुर सहित सभी स्थानों पर न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी हुई है।जयपुर में बीती रात न्यूनतम तापमान 9 डिग्री रहा जो एक रात पहले 7.8 डिग्री था। मौसम विभाग के अनुसार राज्य में अगले 24 घंटों में मौसम शुष्क रहेगा। जयपुर में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे।ये भी पढ़ेंतन भेदती हवा के साथ पलट कर लौटी सर्दी, जैसलमेर में छाए घने बादलझालावाड़ में बीते दो दिनों से न्यूनतम तापमान छह डिग्री रहा है। राज्य के एकमात्रा पर्वतीय स्थल माउंट आबू में बीती रात के तापमान में कोई अंतर नहीं आया। यहां न्यूनतम तापमान 0.4 डिग्री रहा। जैसलमेर के नोख में शनिवार सुबह खुले में खड़ी गाड़ियों की छतों पर बर्फ जम गई थी। आज यहां तापमान करीब दो डिग्री बढ़कर नौ डिग्री रहा।कहीं भी शीतलहर नहींमौसम विभाग के
सर्दी -2.2 डिग्री: पांच साल बाद नौ फरवरी को पारा जमाव बिंदु से नीचे

सर्दी -2.2 डिग्री: पांच साल बाद नौ फरवरी को पारा जमाव बिंदु से नीचे

Rajasthan
मौसम रिकार्ड में पहली बार नौ फरवरी को रात का पारा माइनस 2.2 डिग्री दर्ज हुआ।बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि के बाद उतरी-पश्चिमी हवा का दबाव बढ़ने से तापमान में लगातार गिरावट ओर सर्दी बढ़ी।सीकर/फतेहपुर।शीतलहर ने जनजीवन को ठिठुरा दिया है। फतेहपुर कृषि अनुसंधान केंद्र पर पांच साल बाद नौ फरवरी को पहली बार रात का पारा जमाव बिंदु के नीचे आया गया है। खास बात ये है कि केंद्र के मौसम रिकार्ड में पहली बार नौ फरवरी को रात का पारा माइनस 2.2 डिग्री दर्ज हुआ है। मौसम विशेषज्ञों का मानना है कि बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि के बाद उतरी-पश्चिमी हवा का दबाव बढ़ने से तापमान में लगातार गिरावट ओर सर्दी बढ़ी है। तापमान में गिरावट का दौर आठ फरवरी से ही जारी है। सात फरवरी को रात का पारा 6.8 डिग्री दर्ज हुआ था। इसके बाद तापमान लगातार गिर रहा है।आगे: हवा का दबाव कम होने व तापमान में बढ़ोतरी की संभावनामौ
अलवर-भरतपुर-गंगानगर में बारिश-ओलों से बढ़ी सर्दी, सरसों की फसल को नुकसान

अलवर-भरतपुर-गंगानगर में बारिश-ओलों से बढ़ी सर्दी, सरसों की फसल को नुकसान

Rajasthan
जयपुर. राजस्थान में गुरुवार को एक बार फिर मौसम पलटा और दोपहर बाद अलवर के कोटकासिम, बीबीगंज,भरतपुर के कुम्हेर व श्रीगंगानगर शहर,रायसिंहनगर व आस-पास के गावों सहित कुछ स्थानों पर बारिश के साथ ओले गिरे। यहां चली तेज हवा से गलन का अहसास हुआ और जाती सर्दी फिर लौट आई।श्रीगंगानगर व आस-पास के इलाकों में करीब पांच मिनट बरसात हुई। यहां तीन-चार मिनट चने के आकार केओले गिरे।राज्य में बीते 24 घंटे में कुछ स्थानों पर तापमान में दो से तीन डिग्री तक की बढ़ोतरी तो कुछ स्थानों पर इतनी ही कमी आई है। सीकर में तापमान बीती रात करीब दो डिग्री गिरकर 8.5 तो माउंट आबू में में भी 2 डिग्री गिरावट के साथ 5.4 डिग्री सेल्सियस रहा।फसलों को नुकसानबरसात व ओलों से सरसों की फसल को नुकसान पहुंचा है। किसानों के अनुसारचने व गेहूं की फसल को इतना नुकसान नहीं हुआ लेकिन सरसों के फूल तैयार हैं।मौसम विभाग ने अगले 24
राजस्थान में सर्दी का कहर जारी, इस जिले के विद्यालयों में अवकाश घोषित

राजस्थान में सर्दी का कहर जारी, इस जिले के विद्यालयों में अवकाश घोषित

Rajasthan
जयपुर। राजस्थान में लोगों को अभी भी सर्दी से राहत नहीं मिली है जबकि फरवरी का महीना शुरू हो चुका है। इन दिनों मौसम लगातार करवटें ले रहा है। कभी मावठ तो कभी कोहरे के कारण यहां का जनजीवन लगातार प्रभावित हो रहा है। कोहरे के कारण सुबह पास की वस्तुएं भी साफ नजर नहीं आ रही है। फिर रहने के लिए खेलों के साथ ही बच्चों के लिए ये भी जरुरी पिछले कुछ दिनों से राजस्थान के अधिकांश जिलों में रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। दिन में सर्द हवाएं धूजणी छुड़ा रही है। राजस्थान के नागौर जिले में भी सर्दी का प्रभाव बरकरार है। इसी को देखते हुए नागौर में कलेक्टर दिनेश कुमार यादव ने प्राइमरी स्कूलों में अवकाश की घोषणा कर दी है। एक बार फिर से शुरू होंगे ये दो बड़े विश्वविद्यालय, केबिनेट ने लिया निर्णय कलेक्टर की इस घोषणा के बाद जिले में कक्षा 1 से 5 तक के लिए 4 से 9 फरवरी तक सभी सरकारी व निजी स्कूलों
जयपुर मैराथन : सर्दी को धता बता हजारों लोगों ने लगाई दौड़, दिया क्लीन सिटी का संदेश

जयपुर मैराथन : सर्दी को धता बता हजारों लोगों ने लगाई दौड़, दिया क्लीन सिटी का संदेश

Rajasthan
जयपुर। रविवार की सुबह कुछ अलग थी। यहां हजारों लोगों ने फिटनेस और क्लीन सिटी का संदेश दिया। मौका था एयू बैंक जयपुर मैराथन पॉवर्ड बाय दैनिक भास्कर का। मैराथन सुबह 4 बजे अल्बर्ट हॉल से शुरू हुई। इसके लिए दुनियाभर से करीब 52 हजार लोगों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था।ये भी पढ़ेंमैराथन में धावक ने सड़क पर बेसहारा पपी को देखा तो उठा लिया और साथ लेकर 30 किमी दौड़ लगाईसुबह 4 बजे से 42.195 किमी. की दौड़ शुरू हो हुई। इसके बाद 10 किमी की दौड़ सुबह 6.45 बजे, ड्रीम रन 6 किमी सुबह 8 बजे, हाफ मैराथन और पुलिस कप- 21.097 किमी. सुबह 5 बजे से शुरू हुई। सुबह 7:30 बजे तक 42 किमी. रन पूरी हुई।रूट पर वाटर स्टेशन, ऑरेंज स्टेशन, मेडिकल स्टेशन सहित जरूरी सुविधाओं की व्यवस्था भी गई थी। इसके साथ ही 19 चीयरअप जोन बनाए गए थे। वहीं 14 विमन रनर मैराथन ने लीड किया।रनर्स के लिए वर्कशॉपइससे पहले शनिवार को रनर्स के
सर्दी में सुबह के समय होने वाले रोगों से बचें

सर्दी में सुबह के समय होने वाले रोगों से बचें

Health
गले में सूजन व दर्द - सर्दियों में अक्सर सुबह उठने पर गले में हल्का दर्द और सूजन की शिकायत होती है। इसका कारण कमरे में ड्राई एयर होना है। कभी-कभी नाक बंद होने की वजह से हम मुंह से सांस लेने लगते हैं, जिससे गला सूख जाता है। कोशिश करें कि कमरे को ज्यादा गर्म न रखें ताकि उसमें उचित नमी रहे। इसके अलावा भाप लेने से भी समस्या दूर हो सकती है। रात को सोते समय बिस्तर के पास ही पानी रखें और गला सूखने पर पिएं। जोड़ों के दर्द की समस्या - गठिया का दर्द अक्सर देर रात या तड़के में ज्यादा होता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस समय जॉइंट ठंडे हो जाते हैं। इसलिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं क्योंकि कम पानी पीने की वजह से खून में यूरिक एसिड बढ़ जाता है और दर्द होने लगता है। जब हो जाए सिरदर्द - माइग्रेन व सिरदर्द अक्सर सुबह ही शुरू होता है। नींद से अचानक जगने की वजह से सुबह 4 बजे से लेकर 8 बजे के बीच यह दर्द
4 डिग्री तक गिरा प्रदेश का तापमान, शीतलहर के कारण बढ़ी सर्दी

4 डिग्री तक गिरा प्रदेश का तापमान, शीतलहर के कारण बढ़ी सर्दी

Rajasthan
जयपुर. राज्य में लगातार पड़ रही सर्दी के बाद तापमान में बढ़ोतरी हो रही है। इसके साथ ही शनिवार सुबह कई इलाकों में शीतलहर चलने से ठंड बढ़ गई। वहीं कुछ इलाकों में कोहरा भी छाया है। बीती रात माउंट आबू में पारा करीब चार डिग्री गिरकर 1.5 डिग्री सेल्सियस पर जा पहुंचा। वहीं जयपुर में भी पारा करीब 4 डिग्री गिरकर 7.8 डिग्री पहुंच गया। प्रदेश के बाकी हिस्सों में पारा 5 डिग्री के ऊपर बना है।जयपुर में भी घटा रात का तापमानजयपुर में भी बीती रात शीतलहर चलने के कारण ठिठुरन बढ़ गई है।। सुबह घने बादल छाए रहे। राज्य में सबसे अधिक तापमान 8.6 डिग्री फालौदी में रहा। सबसे कम तापमान माउंट आबू में 1.5 डिग्री रहा।मौसम विभाग की माने तो हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर के आसपास घना कोहरा छाने की संभावना है। इसके साथ राज्य में कहीं भी शीतलहर की चेतावनी जारी नहीं की है। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के
सर्दी के मौसम में होने वाली तमाम समस्याओं के लिए जान लें ये लाभदायक उपाए

सर्दी के मौसम में होने वाली तमाम समस्याओं के लिए जान लें ये लाभदायक उपाए

Health
चाहे सर्दी से गर्मी हो या गर्मी से बरसात, मौसम बदलने के साथ ही शरीर में अलग-अलग तरह के परिवर्तन दिखने लगते हैं। बदलता मौसम अपने साथ कुछ छोटी-मोटी बीमारियां भी लेकर आता है। ऐसे में अगर शरीर का ध्यान नहीं रखा जाए तो यह किसी बड़ी तकलीफ का कारण बन सकता है। सर्दी के दिनों में व्यायाम करने में आलस न अपनाएं। एक्सरसाइज करते समय पसीना आने पर फौरन गर्म कपड़े न उतारें। स्किन ड्राइनेस - सर्दियां शुरू होते ही शरीर में जो पहला बदलाव होता है, वह है स्किन ड्राइनेस। ड्राई स्किन को मॉइश्चर नहीं किया जाए तो त्वचा में खुजली और लाल चकते होने लगते हैं। त्वचा रूखी होकर फटने लगती है। कई बार फटी त्वचा से खून भी निकलने लगता है।कारण : ठंडक बढऩे व वातावरण में नमी कम होने से।उपाय : नहाने के बाद मॉइश्चराइजर, वैसलीन या नारियल तेल लगाएं। निमोनिया और बुखार - बदलते मौसम के साथ सिर भारी रहने, शरीर गर्म होने, गला जाम होने जै