News That Matters

Tag: ‘सेहत

जंकफूड के जहर से सेहत खराब न करें

जंकफूड के जहर से सेहत खराब न करें

Health
जंकफूड का चलन तेजी से बढ़ रहा है लेकिन स्वाद के चक्कर में लोग सेहत को भूल रहे हैं, नतीजतन 50 साल की उम्र के बाद होने वाले रोग अब बच्चों और युवाओं में भी होने लगे हैं। जानते हैं इसके बारे में। जंकफूड है जहर -बर्गर, नूडल्स और पिज्जा आदि को बनाने के लिए मैदा, अधिक मात्रा में नमक, तेल व मसालों का प्रयोग होता है, साथ ही साफ-सफाई भी संदिग्ध रहती है। ऐसा जंकफूड पेट तो भरता है लेकिन इससे पोषक तत्व नहीं मिल पाते। रोगों का खतरा -विभिन्न स्टडी बताती हैं कि लगातार ऐसा भोजन करते रहने से मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं जिससे मोटापा, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल व ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं होने लगती हैं। जो बच्चे ऐसी चीजें खाते हैं उनका दिमागी और शारीरिक विकास भी प्रभावित होता है, एकाग्रता में कमी, तनाव व पेट संबंधी तकलीफ होने लगती हैं। घर का बना - जब घर पर इन्हें बनाएं तो मैदे की जगह आटा या रागी के आटे का प्रयोग
लड्डू खा कर सुधारें अपनी सेहत, जानें इनके फायदे

लड्डू खा कर सुधारें अपनी सेहत, जानें इनके फायदे

Health
त्योहार, उत्सव, पार्टी या अन्य कोई कार्यक्रम हो, मिठाइयों का चलन खासा प्रचलित है। लेकिन इन मिठाइयों में मिलावट और क्वालिटी को लेकर लोग चिंतित रहते हैं। मीठे के साथ सेहत का एक विकल्प हर्बल लड्डू हो सकते हैं। ये आयुर्वेदिक लड्डू कई रोगों में फायदेमंद रहते हैं और फूड सप्लीमेंट का भी काम करते हैं। जानते हैं इनके बारे में- दानामेथी लड्डू - ये लड्डू गेहूं का आटा, दानामेथी, देसी घी, सौंठ, कालीमिर्च, हल्दी और गुड़ के मिश्रण से तैयार किए जाते हैं।लाभ - ये बुजुर्ग लोगों की हड्डियों को मजबूत बनाते हैं जिससे जोड़ों के दर्द में लाभ होता है। इन्हें खाने से पाचनतंत्र दुरुस्त रहता है और पेट संबंधी परेशानियां नहीं होती। इनसे शारीरिक कमजोरी भी दूर होती है।मात्राइसका एक लड्डू सुबह व एक लड्डू रात को सोते समय दूध के साथ लेने से शरीर को एनर्जी मिलती है और पेट साफ होता है। इन लड्डुओं का प्रयोग अक्टूबर से मार्च त
कहीं अपनी सेहत काे ताे नहीं भूल रहे आप? यहां जानिए जवाब

कहीं अपनी सेहत काे ताे नहीं भूल रहे आप? यहां जानिए जवाब

Health
क्या आपकी सेहत पर काम भारी है? अपने काम और जिम्मेदारियों की आड़ में कहीं आप सेहत को भूल तो नहीं रहे। नीचे दिए गए सवालों से जानिए अपनी वास्तविक स्थिति :- 1. कोई मनोरंजक जिम्मेदारी और सेहत में से एक को चुनना हो तो आप जिम्मेदारी चुनते हैं? अ: सहमत ब: असहमत 2. आप मानते हैं कि दो-चार दिन सेहत को भूल जाने से खास फर्क नहीं पड़ता? अ: सहमत ब: असहमत 3. आपकी छुट्टियां और वीकएंड आराम करने व टीवी देखने में बीतते हैं? अ: सहमत ब: असहमत 4. आप अक्सर कहते हैं कि मेरी सेहत तो भली चंगी है मुझे बीमारियों की कोई फिक्र नहीं? अ: सहमत ब: असहमत 5. सेहत के नाम पर आप घंटों बहस कर सकते हैं, लेकिन घंटे भर की एक्सरसाइज करने से हिचकिचाते हैं? अ: सहमत ब: असहमत 6. पेशेवर कामों को दिया समय अपेक्षा से अधिक होता है? अ: सहमत ब: असहमत 7. काम का बोझ आपकी दिनचर्या को महीने में दो से ज्यादा बार बिगाड़ देता है? अ: सहमत ब: असहमत
लोहे के बर्तनों में खाना बनाना सेहत के लिए फायदेमंद, जानें इसके बारे में

लोहे के बर्तनों में खाना बनाना सेहत के लिए फायदेमंद, जानें इसके बारे में

Health
लोहे की कढ़ाई में खाना बनाना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। पुराने समय में लोहे की कढ़ाई व लोहे के अन्य बर्तनों का इस्तेमाल भोजन बनाने में किया जाता था, लेकिन अब बाजार में कई अन्य धातुओं से बनी कढ़ाईयां आ गई हैं, लेकिन सेहत के नजरिये देखा जाए तो लोहे की कढ़ाई में बना भोजन अच्छा माना जाता है। आइये जानते हैं इससे जुड़ी बातें- एनीमिया में उपयोगी - जब हम लोहे के बर्तन में खाना बनाते हैं तो इसके अंश भोजन में मिलकर शरीर में पहुंचते हैं जो रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाते हैं और इससे एनीमिया (खून की कमी) जैसी समस्या दूर होती है। इन सब्जियों को पकाएं - पालक, आंवला, टमाटर जैसी आयरन वाली चीजों को जब इनमें पकाया जाता है तो इस पोषक तत्व में और भी इजाफा होता है। सावधानी बरतें - आजकल लोग रंगत और खाने को अच्छा दिखाने के लिए एल्युमीनियम के बर्तनों का इस्तेमाल करने लगे हैं। लेकिन लंबे समय तक इन बर्त
सोच और व्यवहार में सेहत को लेकर चिंता है तो एेसे जानें

सोच और व्यवहार में सेहत को लेकर चिंता है तो एेसे जानें

Health
सोच और व्यवहार में सेहत को लेकर चिंता है तो यह क्विज आपके काम की हो सकती है। नीचे दिए सवालों से सहमत या असहमत होकर आप समझ सकते हैं कि ऐसा क्यों हुआ ? 1. आपके साथ कुछ अप्रिय घट जाए तो खुद को कमजोर और असहाय समझने लगते हैं?अ: सहमत ब: असहमत 2. अपने से जुड़े किसी अप्रिय सच को मान लेना अक्सर एक तरह से अपमान का विषय बनता है?अ: सहमत ब: असहमत 3. आप उन्हीं बातों पर सहमत होते हैं, जिनमें आपको अपना फायदा नजर आता है?अ: सहमत ब: असहमत 4. बीते कल में जो कुछ घटा, उसे लेकर तनाव में रहते हैं और नई शुरुआत से घबराते हैं?अ: सहमत ब: असहमत 5. उन मौकों पर पीछे हट जाते हैं जहां वाकई आपको कुछ कर दिखाने की जरूरत होती है?अ: सहमत ब: असहमत 6. आपकी फितरत कुछ ऐसी है कि सच या सही बात कहने वाले को आप नापसंद करते हैं?अ: सहमत ब: असहमत 7. चाहते हैं कि जीवन में संकट कम और सुविधाएं ज्यादा हों, लेकिन मेहनत नहीं करते ?अ: सहमत ब: अ
Fitness samachar – अंकुरित दालें खाएं आैर परफेक्ट सेहत बनाएं

Fitness samachar – अंकुरित दालें खाएं आैर परफेक्ट सेहत बनाएं

Health
अंकुरित दालों में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है इसलिए अगर आप वजन को लेकर चिंतित हैं और कैलोरीज घटाने का आसान तरीका ढ़ूंढ़ रहे हैं तो ये दालें आपकी मदद कर सकती हैं।ये फाइबर का एक प्राकृतिक स्रोत हैं। फाइबर पाचनतंत्र को स्वस्थ रखता है और नाश्ते व लंच के बीच के समय में आपको बार-बार भूख का अहसास नहीं होने देता। अंकुरित दालों में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन होता है जो सेहत के लिए फायदेमंद होता है। ये दालें बढ़ते बच्चों के विकास के लिए भी उपयोगी होती हैं क्योंकि इनसे पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन मिल जाता है। ये दालें रक्त को शुद्ध करने में लाभकारी होती हैं और त्वचा से लेकर आपके बालों को निखारने में मदद करती हैं।अगर आप बाल झड़ने की समस्या से परेशान हैं तो एक कटोरी अंकुरित दाल रोजाना नाश्ते में लें। अंकुरित दालें ऑक्सीजन का एक बहुत अच्छा स्रोत हैं। ऑक्सीजन युक्त खाद्य पदार्थ शरीर में उपस्थित तरह
सेहत को लेकर कितने नेगेटिव या पॉजिटिव हैं आप, यहां जानिए

सेहत को लेकर कितने नेगेटिव या पॉजिटिव हैं आप, यहां जानिए

Health
सेहत को लेकर मन में विचार हर रोज आते हैं लेकिन जरूरी है कि उस सोच को सकारात्मक ढंग से लिया जाए। आइए जानते हैं कि क्या आप भी सेहत को लेकर सिर्फ उलझन में रहते हैं? 1. आप कई समस्याओं से जूझ रहे हैं इसलिए सेहत के बारे में नेगेटिव विचार ही आते हैं? अ: सहमत ब: असहमत 2. आप सोचते हैं मेरी सेहत तो अच्छी है और बनी रहेगी, इस बारे में ज्यादा विचार करने की जरूरत नहीं? अ: सहमत ब: असहमत 3. सेहत के बारे में कोई विचार बनाते समय आपको लोगों और दिखावे की चिंता ज्यादा रहती है? अ: सहमत ब: असहमत 4. आप दूसरों के आगे खुद को बढ़ा-चढ़ाकर सेहतमंद दिखाने से कभी परहेज नहीं करते? अ: सहमत ब: असहमत 5. आपके हिसाब से बीमारी सिर्फ तन की होती है, मन पर आप कभी ध्यान नहीं देते? अ: सहमत ब: असहमत 6. आप केवल उन्हीं लोगों से प्रभावित होते हैं जो सेहत के नाम पर कुछ करने की बजाय बचते हैं? अ: सहमत ब: असहमत 7. आप अपनी सेहत के सच
आंखों की सेहत के लिए जान लें ये ’20-20-20′ का फॉर्मूला

आंखों की सेहत के लिए जान लें ये ’20-20-20′ का फॉर्मूला

Health
आंखें हमारे शरीर का बेहद अहम हिस्सा होती हैं। विशेषज्ञों के अनुसार शरीर के अन्य अंगों की तरह इनका भी व्यायाम जरूरी होता है। आइए जानते हैं आंखों के लिए आवश्यक व्यायाम के बारे में। जब हमारी आंखें दूर की वस्तु को देखती हैं तो उस समय ये सीधी रहती हैं लेकिन जब नजदीक में काम करती हैं तो उस समय मीडियल रेक्टस मांसपेशी दोनों आंखों को अंदर की तरफ घुमाती है। लगातार पढ़ाई करने के बाद आंखों की मांसपेशियां थक जाती हैं और तनाव व सिरदर्द होने लगता है जिसे कन्वर्जेंस इंसफीसिएंसी कहते हैं। फुल फेस मसाज : गर्म पानी में एक तौलिए को भिगोएं और निचोड़कर इस तौलिए को चेहरे पर रखें और नाक, गर्दन व गाल पर अच्छे से फिराएं। इसके बाद अंगुलियों के पोरों से माथे और बंद आंखों की मसाज करें। पामिंग : कुर्सी पर बैठ जाएं, हथेलियों को रगड़कर गर्म करें, अब इन्हें दोनों आंखों पर रखें। आईबॉल पर प्रेशर न देते हुए धीरे से गहरी सांस
सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है आयरन से भरपूर सरसों का साग

सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है आयरन से भरपूर सरसों का साग

Health
सरसों के साग में कैलोरी, फैट्स, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, शुगर, पोटेशियम, विटामिन ए, सी, डी, बी 12, मैग्नीशियम, आयरन और कैल्शियम होता है।इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं जो न सिर्फ शरीर से विषैले पदार्थों को दूर करते हैं बल्कि रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाते हैं। अाइए जानते हैं सरसाें का साग खाने के फायदाें के बारे में :- - सरसों का साग खाने से कोलेस्ट्रॉल लेवल, ब्लैडर, पेट, फेफड़े, प्रोस्टेट और ओवरी के कैंसर का खतरा कम होता है।इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है जो शरीर की मेटाबॉलिक क्रियाओं को नियंत्रित रखने में मदद करता है। - साग में कैलोरी कम होती है जिससे वजन नियंत्रित रहता है। इसमें मौजूद कैल्शियम और पोटेशियम हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। यह हड्डियों से जुड़े रोगों के उपचार में भी फायदेमंद माना जाता है। - सरसों के साग में विटामिन ए होता है जो आंखों
हो जाएं सावधान, इस तरह के फूड्स सेहत के लिए हैं खतरनाक

हो जाएं सावधान, इस तरह के फूड्स सेहत के लिए हैं खतरनाक

Health
प्रोसेस्ड फूड वह खाद्य पदार्थ होता है जिसे सुरक्षित रखने या सुविधा के लिए उसके स्वरूप को बदल दिया जाता है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस तरह के खाद्य पदार्थ सेहत के लिए उपयोगी नहीं होते क्योंकि इनमें चीनी, नमक या वसा की मात्रा अधिक होती है। स्नैक्स, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, ब्रेड, रेडी टू ईट फूड और कोल्ड ड्रिंक्स प्रोसेस्ड फूड के उदाहरण हैं। जानते हैं इस प्रकार के खाद्य पदार्थ से जुड़े तथ्यों के बारे में। कई बीमारियों की वजह - विशेषज्ञों के अनुसार प्रोसेस्ड फूड में अधिक मात्रा में कैमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है ताकि इन्हें लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सके लेकिन इनसे पेट संबंधी समस्याएं, मोटापा, रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी, जोड़ों के दर्द और शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। ये लोग रखें विशेष ध्यान - जिन लोगों को डायबिटीज, ब्लड प्रेशर हाई या लो की समस्या हो और किडनी के रोगियों को प