टीएलसी कम करने की मेडिसिन | टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय | टीएलसी बढ़ने के लक्षण

हेलो दोस्तों आप सभी का स्वागत है हमारे इस नए आर्टिकल में तो आज हम फिर से लेकर आये है एक और आज के इस आर्टिकल में आपको टीएलसी कम करने की मेडिसिन कोनसी है , इसके साथ ही आपको इस ही आर्टिकल में आपको टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय क्या क्या है , आपको टीएलसी कम करने के लिए क्या खाना चाहिए इसकी भी जानकारी यही पर मिलने वाली है । इस आर्टिकल में आपको सब जानकारी ये बहुत ही आसान शब्दों में जानकारी देने की कोशिश करने वाले है तो आप ये आर्टिकल शरू से अंत तक जरूर पढ़ लीजिये क्यू की इस के रिलेटेड एक्स्ट्रा जानकारी भी आपको मिलने वाली है ।

टीएलसी परीक्षण | टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय

अभी हम देख लेते है की आखिर ये टीएलसी (टेस्ट) क्यू करते है तो आसान शब्दों में बात करे तो इस से खून के अंदर जो ल्यूकोसाइट्स की मात्रा होती है उससे बहुत ही आसानी से पता चल जाता है । अगर आपको पता नहीं ल्यूकोसाइट्स आखिर ये क्या होता है तो  सफ़ेद खून की कोशिकाएं जो होती है उसको ही टीएलसी भी कहते है और WBC’ काउंट भी कहा जाता है तो आप इन दोनों वर्ड में कंफ्यूज मत हो जाए WBC के भी दो अलग अलग टाइप होते है जिस में फेगोसाइटिक डब्ल्यूबीसी  ये एक टाइप हो गया और दूसरा ये इम्यून डब्ल्यूबीसी है । इन सब का एक ही काम होता है और वो है संक्रमण से लड़ना ।

किस कंडीशन में टीएलसी टेस्ट किया जाता है । टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय

टीएलसी टेस्ट ये डॉक्टर बॉडी में जब संक्रमण हो जाता है उसके इलाज के लिए उसके साथ ही खून से रिलेटेड कोई प्रॉब्लम है तो वो जानकार इसके इलाज के लिए इस टेस्ट को करने का सुझाव देते है ।

आपकी एक्स्ट्रा जानकारी बता देते है जब बॉडी के अंदर टीएलसी की तादात ये कम हो जाती है तब शरीर भी कमजोर होने लग जाता है यानि की बॉडी के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और उस कंडीशन में ल्युकोपिनिया ये बीमारी होने का चास ये सब से जयदा होता है और उसके साथ ही बल्ड कैंसर, हेपेटाइटिस होने का खतरा भी जयदा होता है इसलिए ये टेस्ट करणे की सुझाव ये सब से पहले देते है ।

1 सूजन
2 कंपकपी जैसी अन्य प्रकार की तमाम रोगों
3 एलर्जी
4 सिरदर्द
5 इम्युनिटी
6 बुखार
7 खून सम्बन्धी
8 संक्रमण

कितना टीएलसी खतरनाक है |  टीएलसी आखिर क्यू बढ़ जाता है

बेहद ही आम शब्दों में बात करे तो जब हमारी बॉडी को जीवाणु का संक्रमण ये हो जाता है या फिर बॉडी के किसी भी पार्ट पर चोट ये लग जाती है या फिर अंदरूनी चोट के कारन , और कोई कोई कंडीसन में तो जब दवा की जयदा खुराक ये सेवन की जाती है तो ऐसे कंडीशन में टीएलसी ये बढ़ जाता है । और बात रही महिलाओं की तो प्रेगनेंसी में टीएलसी बढ़ जाना नार्मल बात है ।

टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय | टीएलसी कम होने से क्या होता है

जैसी की हमने आपकप पहले ही बता दिया है टीएलसी ये हमारे बॉडी के लिए बहुत ही जरुरी है इसका बढ़ जाना भी सही नहीं है और कम होना भी बॉडी के लिए सही नहीं है । टीएलसी बढ़ जाने के बाद हमारा शरीर ये बेहद ही कमजोर होता है और इस कंडीशन में बल्ड कैंसर, हेपेटाइटिस से लेकर और भी दूसरी बिमारी होने का खतरा ते राहत है इसलिए समय रहते हुए टीएलसी को सही प्रमाण में आना जरुरी है तो अभी हम आपको कुछ टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय बता रहे है वो आप सही से पढ़ लीजिए ।

सब से पहले आप जो भी फल , सब्जी ले रहे हो उस में हद से जयदा उर्वरक या पेस्टिसाइड का इस्तेमाल किया है तो आप ऐसे फल , सब्जी से दूर ही रहिये और ऑर्गनिक की तरफ अगर जाते हो तो बेहद ही सही होगा ।

आज कल मार्किट में फल , सब्जी को फ्रेश दिखाने के लिए कुछ केमिकल और सेब , आम , जैसे फल पर कलर का इस्तेमाल ये करते है तो ऐसे फलो से ही आप दूर ही रहिये । आपको कोई भी चीज ये अचे से धो कर ही खा लेनी है और यही नहीं अगर आप डायरेक्ट पेड़ से भी तोड़ रहे हो तो भी धो लीजिये ।

आपको अपनी सेहत का ध्यान ये खुद रखना है आपको समय से भोजन सेवन कर लेना है , एक हेल्थी लाइफस्टाइल को अपनाना होगा अगर कुछ भी अजीब आ फील रहा है तो उसका इलाज खुद मत कीजिये किसी डॉक्टर की राय ये जरूर के लीजिये ।

अगर बॉडी में चोट लग गए है और वह से खून आ रहा है तो आप ऐसे कंडीसन में भी डॉक्टर की राय ले लीजिये क्यू की अक्सर ये छोटी छोटी प्रॉब्लम ही आगे चल कर बड़ी बीमारी का रूप लेती है इसलिए सावधानी ये ही सब से बेस्ट तरीका है ।

Also read Sabse Sasta Diet Plan 2022

कितना टीएलसी खतरनाक है | सामान्य टीएलसी काउंट कितना होना चाहिए

अभी हम आपको निचे एक लिस्ट बता दे रहे है उस में 8 अलग अलग हिसे है जिस में हमे उम्र के हिसाब से सामान्य टीएलसी काउंट कितना होना चाहिए इसकी जानकारी दी है तो आप देख कर अनुमान लगा सकते हो । और टीएलसी काउंट ये आपकी उम्र ये कितनी है इस पर निर्भर होती है तो एक 60 साल के इंसान का टीएलसी काउंट और 10 साल के बच्चे का टीएलसी काउंट ये अलग अलग होगा ।

जवान लोगों का 4500-10500/mm3
12 से 18 वर्ष वाले बच्चे 4500-13000/mm3
6 से 12 वर्ष वाले बच्चे 4500-14500/mm3
 1 से 6 वर्ष हो उस बच्चे 5000-17000/mm3
1 या 1 वर्ष से कम बच्चे 6000-17500
4 हफ्तों के बच्चे 6000-18000
दो हफ्तों के बच्चे 6000-21000
नवजात शिशु 10000-26000/mm3

टीएलसी कम करने की मेडिसिन | टीएलसी कम करने की आयुर्वेदिक दवा

हम आपको यहाँ पर कोई फिक्स ये ये दवा का नाम नहीं बताने वाले है की की हर किसी की बॉडी ये अलग होती है , पर ऐसे तरिके आपको जरूर बता देते है जिस से टीएलसी कम करने में मदत मिल सकती है ।

इस में सब से पहले तुलसी, नीम, लहसुन, चिरायता, कुटकी, हल्दी, त्रिफला, त्रिकुटा का सिर्फ  5 से 10 ml भी सेवन कर लेते तो आपकी सेहत के लिए बहुत जयदा फयदेमद हो सकती है ।

टीएलसी कम करने के उपाय in hindi’|  tlc kam karne ki medicine

सब से पहले ये बता देते है की टीएलसी कम करने की मेडिसिन ये बहुत सारे है तो आपके लिए कोनसी असरदार होगी ये आपको आपके डॉक्टर ही बता सकते है । आपकी उम्र कितनी है , आपको बीमारी कोनसी है , आपकी मेडिकल हिस्ट्री , आपका लिंग और बाकी सब बातो का ध्यान रख कर तय करते है की आपको कोनसी दवा सेवन करनी होगी इसलिए आप कभी भी खुद से ऐसे कोई भी दवा का इस्तेमाल मत कीजिये ये ऐसा करना सेहत के लिए और भी जयदा खतरनाक हो सकता है ।

पर इसके अलाव हम आपकों कुछ ऐसी एक्स्ट्रा बाते बता देते है जिस का सेवन करने से टीएलसी कम होने में मदत मिल जाएगी । विटामिन ए और विटामिन सी एवम विटामिन ई  का सेवन करने से TLC कम हुआ है तो उसको फिर से संतुलित करने में मदत मिल जाती है । अभी आपके दिमाग में ख्याल आया होगा आखिर ये सब विटामिन्स कहा से मिल सकते है तो अंगूर, मुनक्का, आंवला, गेंहू के जवारे का रस, टमाटर, पत्ता गोभी, लौकी, निम्बू, गाजर, सेब, शहतूत  जैसे रोज के आम फल , फ्रूट्स से मिल जाते है ।

मसाले में इस्तेमाल होने वाले लौंग, दालचीनी, जीरा, अजवायन, अदरक, तुलसी जैसे तत्व से भी आपको जयदा फायदा मिल सकता है इसके साथ ये एक बात बता देते है की इसका एक दिन सेवन करने से आपको रिजल्ट नहीं मिलेगा आपको एक काफी अचे समय तक सेवन करना होगा तब ही आपको रिजल्ट देखने को मिल जायेगा । आपको कोई भी दवा या फिर नुस्खा ये सेवन करने से पहले आपको डॉक्टर की सलाह ये जरूर लेनी चाहिए ।

कॉपर

कॉपर ये हमारे शरीर के लिए बहुत ही महतवपूर्ण तत्व है जो की आपको कॉपर सप्लीमेंट से मिल ही जायेगा उसके साथ ही साथ मांस, हरी पत्तेदार सब्ज़ियों और अनाज से भी आपको बहुत ही आसानी से मिल जाता है । ये कॉपर हमारे बॉडी के इतना जरुरी इसलिए है क्यू की जब कॉपर ये संख्या ये कम हो जाती है तब बॉडी में स़फेद रक्त कोशिकाओं  का बैलेंस ये बिघड जाता है और इसकी वजह से इसकी काउंट भी कम होने लग जाती है ।

ज़िंक | टीएलसी कम करने के लिए क्या खाना चाहिए

ओेएस्टर मछली, रेड मीट, सी फूड, सेम और नट्स में पाया जाने वाला जिक स़फेद रक्त कोशिकाओं को सही से वर्क करने में मदत करता है और हेअल्थी भी करता है इसलिए बॉडी के लिए जिक ये बहुत ही जरुरी होता है ।

विटामिन्स

गाजर, टमाटर, ऑलिव ऑयल, बादाम, रसीले व खट्टे फल, हरी पत्तेदार सब्ज़ियों  में बड़ी संख्या में पाए जाने वाले विटामिन ए, सी और ई के कारन स़फेद रक्त कोशिकाओं के काउंट को बढ़ने में मदत मिलती है और बॉडी की इम्मुनिटी को भी बढ़ाने का काम ये विटामिन्स करते है इसलिए अछि सेहत के लिए फल , सब्जी का सवाब करने की सलाह ये डॉक्टर देते है ।

टीएलसी बढ़ने के लक्षण

अगर सच सच बात करे तो इसके लक्षण ये बहुत ही आम होते है इसलिए आप बिना टेस्ट के सही से जान नहीं सकते हो फिर भी कुछ आपको टीएलसी बढ़ने के लक्षण बता देते है वो आप निचे देख सकते हो ।

1 ठंड लगना या पसीना आना
2 खांसी और गले में ख़राश
3 सूजन और लाल चकत्ते
4 मुंह में छाले
5 सांस लेने में तकलीफ़
6 तेज़ बुखार, बदन दर्द
7 वज़न कम होना

तो ये थी टीएलसी कम करने की मेडिसिन कोनसी है , टीएलसी कम करने के घरेलू उपाय क्या है और उसके कैसे इस्तेमाल करते है इसके साथ ही साथ हमने आपको टीएलसी कम करने के लिए क्या खाना चाहिए के साथ बाकी की भी जानकारी दी है तो ये जो भी जानकारी दी है वो सिर्फ और सिर्फ आपकी एक्स्ट्रा जानकारी के लिए ही लिखी है तो आप सिर्फ ये आर्टिकल को पढ़ कर या फिर इंटरनेट का कोई और वीडियो या फिर आर्टिकल को पढ़ कर खुद से कोई भी दवा और नुस्के का उपयोग ये मत कीजिये ऐसा करना आपकी सेहत के लिए खनतनाक हो सकता है । कोई भी दवा और नुस्खा करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ले लीजिये ।

Leave a Comment